थाली बोली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पंजाबी बोलियाँ

थाली बोली पाकिस्तानी के प्रांतों पंजाब और खैबर पख्तूनख्वा के कुछ हिस्सों में बोली जाने वाली लाह्न्डा बोली है। इसका व्यापक क्षेत्र सिंधु नदी के पूर्वी छोर पर टैंक से मुज़फ़्फ़रगढ़ तक शुरू होता है और बन्नू से सिंधु नदी के पश्चिमी छोर पर डीआई खान तक चलता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] यह बोली को सरैकी की उत्तरी बोली के रूप में वर्गीकृत किया जाता है[1] इसका नाम थल रेगिस्तान से रखा गया है। [2]

थाली पंजाब प्रांत के निम्नलिखित जिलों और किबर पख्तूनखा प्रांत के जिलों में बोली जाती है:[कृपया उद्धरण जोड़ें] [ उद्धरण वांछित ]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Wagha 1997, पृ॰प॰ 229–31.
  2. Singh 1970, पृ॰ 142.

ग्रन्थसूची[संपादित करें]

  • Grierson, George A. (1919). "Thali". Linguistic Survey of India. Volume VIII , Part 1, Indo-Aryan family. North-western group. Specimens of Sindhī and Lahndā. Calcutta: Office of the Superintendent of Government Printing, India.
  • Masica, Colin P. (1991). The Indo-Aryan languages. Cambridge language surveys. Cambridge University Press. ISBN 978-0-521-23420-7.
  • Rensch, Calvin R. (1992). "The Language Environment of Hindko-Speaking People". In O'Leary, Clare F.; Rensch, Calvin R.; Hallberg, Calinda E. Hindko and Gujari. Sociolinguistic Survey of Northern Pakistan. Islamabad: National Institute of Pakistan Studies, Quaid-i-Azam University and Summer Institute of Linguistics. ISBN 969-8023-13-5.
  • Shackle, Christopher (1976). The Siraiki language of central Pakistan : a reference grammar. London: School of Oriental and African Studies.
  • Singh, Atam (1970). "An introduction to the dialects of Punjabi". Pākhā sanjam. 3 (1). आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0556-4417. The account of Thali here is based entirely on Grierson's Linguistic Survey of India.
  • Wagha. The development of Siraiki language in Pakistan (Thesis). http://ethos.bl.uk/OrderDetails.do?uin=uk.bl.ethos.267685.  (requires registration).