त्रिभुवन अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(त्रिभुवन विमानस्थल से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
त्रिभुवन अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र

त्रिभुवन अन्तर्राष्ट्रिय विमानस्थल
Tribhuvan International Airport Logo.svg
2009-03 Kathmandu 10.jpg
विवरण
विमानक्षेत्र प्रकारसार्वजनिक
संचालनकर्तानेपाल नागर विमानन प्राधिकरण, नेपाल नागर विमानन प्राधिकरण (CAAN)
सेवाएँ (नगर)काठमांडु, नेपाल
वायुसेवा केन्द्र
समुद्र तल से ऊँचाई4,390 फ़ीट / 1,338 मी॰
वेबसाइटwww.tiairport.com.np
मानचित्र
KTM की नेपाल के मानचित्र पर अवस्थिति
KTM
KTM
नेपाल में स्थान
उड़ानपट्टियाँ
दिशा लम्बाई सतह
मी॰ फ़ीट
02/20 3,050 10,007 कंक्रीट
सांख्यिकी (2009)
यात्री3,405,015
यात्री संख्या वृद्धि 08–09Increase18.8%
विमान यातायात91,884
यातायात वृद्धि 08–09Increase10.0%
स्रोत: CAAN[1] and DAFIF[2][3]

त्रिभुवन अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र (नेपाली : त्रिभुवन अन्तर्राष्ट्रिय विमानस्थल, (आईएटीए: KTMआईसीएओ: VNKT)) काठमांडु, नेपाल का अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र है। यह नेपाल का एकमात्र अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र है और यहां एक अन्तर्देशीय तथा एक अन्तर्राष्ट्रीय टर्मिनल हैं। यह विमानक्षेत्र काठमांडु घाटी में बसे शहर के केन्द्र से लगभग ६ कि.मी दूर स्थित है। यहां रेडिसन होटल, काठमांडु प्रथम एवं बिज़नेस श्रेणी यात्री लाउंज का संचालन करता है एवं कुछ वायुसेवाओं तथा स्टार एलाइंस गोल्ड कार्ड धारकों के लिये थाई एयरवेज़ बिज़नेस श्रेणी का लाउंज संचालित करता है। हाल ही में हुए अन्तर्राष्ट्रीय टर्मिनल के एक विस्तार के कारण वायुसेवाओं को जाने वाली दूरी कम हो गयी है। वर्तमान में लगभग ३० वायुसेवाओं द्वारा नेपाल को एशिया, यूरोप तथा मध्य पूर्व के कई गंतव्यों से जोड़ा जाता है।

An evening view of Tribhuvan International Airport visible from the boarding area

इतिहास[संपादित करें]

इस विमानक्षेत्र का आरंभ गौचर विमानक्षेत्र के नाम से हुआ था, जो काठामांडु का एक क्षेत्र था, जहां यह विमानक्षेत्र बना था। नेपाल में आधिकारिक रूप से विमानन का आरंभ १९४९ में एक लोन ४-सीटर बीचक्राफ़्ट बोनान्ज़ा विमान के अवतरण से हुआ था। इसमें एक भारतीय राजदूत सवार थे। गौचर एवं कोलकाता के बीच पहली चार्टर उड़ान हिमालयन एविएशन के एक डैकोटा विमान में २० फ़रवरी १९५० को चली थी।[4]

१९५५ में विमानक्षेत्र का उद्घाटन महाराज महेन्द्र द्वारा किया गया और इसे पुनर्नामकरण कर महाराज के पिता के नाम पर त्रिभुवन विमानक्षेत्र कर दिया गया। विमानक्षेत्र का नाम पुनः १९६४ में बदलकर वर्तमान त्रिभुवन अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र कर दिया गया। १९५७ में मूल घास उड़ानपट्टी को कंक्रीट से बनाया गया और १९६७ में 3,750 फीट (1,140 मी॰) से बढ़ाकर लंबाई 6,600 फीट (2,000 मी॰) कर दी गयी। १९७५ में पुनः उड़ानपट्टी की लंबाई 6,600 फीट (2,000 मी॰) से बढ़ाकर 10,000 फीट (3,000 मी॰) की गयी।[4]

१९६७ में प्रथम जेट विमान की उड़ान जो त्रिभिवन विमानक्षेत्र में अवतरित हुई लुफ़्थान्सा की एक बोइंग ७०७ थी जो 6,600 फीट (2,000 मी॰) उड़ानपट्टी पर उतरी थी। नेपाल एयरलाइंस कार्पोरेशन ने अपना जेट प्रचालन १९७२ में बोइंग ७२७ विमान से आरंभ किया।[4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "त्रिभुवन अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र". नेपाल नागर विमानन प्राधिकरण. मूल से 28 सितंबर 2007 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 नवंबर 2012.
  2. VNKT विमानक्षेत्र सूचना वर्ल्ड एयरपोर्ट डाटा पर। आंकड़े अक्टूबर २००६ तक अद्यतित। . Source: DAFIF.
  3. KTM / VNKT की विमानक्षेत्र जानकारी ग्रेटर सर्कल मैपर पर। आंकड़े अक्टूबर, २००६ तक अद्यतित। Source: DAFIF.
  4. "CAA Nepal". मूल से 24 जुलाई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 नवंबर 2012.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]