त्रिकारणशुद्धि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
विचार, वचन और कर्म की एकता और पवित्रता

त्रिकारणशुद्धि, संस्कृत भाषा का एक शब्द है, जो (1) विचार (2) शब्द और (3) कर्म - तीनों के बीच की एकता (और उस एकता की पवित्रता) को दर्शाता है। इसे विचार, भाषण, और कर्म की शुद्धता और सद्भाव के रूप में भी समझा जाता है।[1] अंग्रेज़ी की कहावत 'Talk your Thought, Walk your Talk' के पीछे का गूढ़ अर्थ भी इससे मिलता-जुलता है।

त्रिकारणशुद्धि का नेतृत्व-कुशलता से संबंध शोध का विषय रहा है।[2][3] भारतीय आध्यात्म में भी इस संबंध की व्याख्या की गई है। यह व्याख्या महान लोगों (महात्माओँ) के संदर्भ में कुछ इस रूप में की गई है-

"मनस्सेकम्, वाचस्सेकम, 'कर्मण्येकम् महात्मानम्"।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Rousseau, Barbara (2013). Your Conscious Classroom: The Power of Self-Reflection. Bloomington, IN: Balboa Press. पृ॰ 62.
  2. Sankar R N, Ajith (2012). "Ascertaining Linkages between Trikaranasuddhi and 'Tapping Spirituality as the Context of Leadership'". SSRN 2212138. Cite journal requires |journal= (मदद)
  3. Sankar R N, Ajith (2013-02-18). "Building a Case for Linking Trikarana Suddhi with the Emerging Theme of Spirituality at Work and as a Context for Leadership". SSRN 2220587. Cite journal requires |journal= (मदद)