तनोट माता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
तनोट माता मंदिर
Tanot-mata(raju-suthar).jpg
धर्म संबंधी जानकारी
सम्बद्धताHinduism
अवस्थिति जानकारी
अवस्थितिजैसलमेर, भारत

तनोट माँ (तन्नोट माँ) का मन्दिर जैसलमेर जिले से लगभग एक सौ तीस कि॰मी॰ की दूरी पर स्थित हैं। तनोट राय को हिंगलाज माँ का ही एक रूप कहा कहा जाता है। हिंगलाज माता जो वर्तमान में बलूचिस्तान जो पाकिस्तान में है , वहाँ स्थापित है। भाटी राजपूत नरेश तणुराव ने वि॰सं॰ 828 में तनोट का मंदिर बनवाकर मूर्ति को स्थापित किया था। इसी बीच भाटी तथा जैसलमेर के पड़ौसी इलाकों के लोग आज भी इस माता को पूजते आ रहे हैं।

भारत-पाक लड़ाई और माता का चमत्कार[संपादित करें]

माना गया है कि भारत और पाकिस्तान के मध्य जो सितम्बर 1965 को लड़ाई हुई थी , उसमें पाकिस्तान के सैनिकों ने मंदिर पर कई बम गिराए थे लेकिन माँ की कृपा से एक भी बम नहीं फट सका था। तभी से सीमा सुरक्षा बल के जवान इस मन्दिर के प्रति काफी श्रद्धा भाव रखते हैं। [1]

इतिहास[संपादित करें]

मंदिर के एक पुजारी ने मंदिर के इतिहास के बारे में उल्लेख किया कि बहुत समय पहले एक मामड़िया चारण नाम का एक चारण था, जिनके कोई 'बेटा-बेटी' अर्थात कोई संतान नहीं थी, वह संतान प्राप्ति के लिए लगभग सात बार हिंगलाज माता की पूरी तरह से पैदल यात्रा की। एक रात को जब उस चारण (गढवी ) को स्वप्न में आकर माता ने पूछा कि तुम्हें बेटा चाहिए या बेटी , तो चारण ने कहा कि आप ही मेरे घर पर जन्म ले लो।

हिंगलाज माता की कृपा से उस चारण के घर पर सात पुत्रियों और एक पुत्र ने जन्म लिया। इनमें से एक आवड मा थी जिनको तनोट माता के नाम से जाना जाता है।

घुमने के लिए हैं अच्छी जगह[संपादित करें]

दोस्तों अगर आप तनोत माता के दरबार में धोक देने आने वाले हैं यह आपके लिए एक अच्छा प्लेस हो सकता हैं. तनोत माता आने से पहले आपको इस के बारे जानकारी होनी चाहिए की आप तनोत माता कैसे पहुचेंगे ( How to reach tanot mata ). तनोत माता के दरबार में आने के लिए आपको जैसलमेर से गाडी या आप अपनी खुद की गाडी लेकर आ सकते हैं. इस जगह पर आने के बाद आपको शांति की अनुभूति मिलती हैं.

तनोत माता को रक्षा की देवी भी कहा जाता हैं. ऐसा माना जाता हैं की भारत और पाकिस्तान के बीच में हुए घमासान युद्ध के दोहरान माता के दरबार में पाकिस्तान की और से कई बम फेंके गये हैं पर माता जी मंदिर को कुछ नही हुआ. इसी करते हैं चमत्कार.

सन्दर्भ[संपादित करें]

तनोटमाता का जन्म स्थान चालकना बाडमेर राजस्थान माना जाता है वि. से. 808 में मामड़ जी घर जन्म हुआ