डेबिट कार्ड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

डेबिट कार्ड (बैंक कार्ड या चेक कार्ड वा विकलन पत्रक के नामabid ali vlage0 datoony से भी जाना जाता है), एक पलास्टिक कार्ड है, जो खरीददारी करते समय भुगतान की वैकल्पिक पद्धति प्रदान करता है। कार्यात्मक रूप से, इसे इलेक्ट्रॉनिक चेक कहा जा सकता है, क्योंकि पैसे बैंक खाते से या तो सीधे निकाले जा सकते हैं या शेष राशि कार्ड के ज़रिए भी निकाली जा सकती है। कुछ मामलों में, कार्ड को खास तरह से केवल इंटरनेट के लिए इस तरह डिजाइन किया जाता है कि भौतिक रूप से कोई कार्ड होता ही नहीं है।[1][2]

डेबिट कार्ड का उपयोग कुछ देशों में व्यापक हो चुका है और इसने चेक की जगह ले ली है और कुछ मामलों में बड़ी मात्रा में नकदी का लेनदेन भी होता है। क्रेडिट कार्ड की तरह डेबिट कार्ड का उपयोग टेलीफोन और इंटरनेट के ज़रिये खरीददारी के लिए भी होता है, लेकिन क्रेडिट कार्ड की राशि वाहक के द्वारा बाद की तरीख में भुगतान करने के बजाए वाहक के बैंक खाते से स्थानांतरित होते हैं।

डेबिट कार्ड की सहायता से आप तुरंत नकदी निकाल सकते हैं, क्योंकि यह एटीएम (ATM) कार्ड और चेक गारंटी कार्ड की तरह प्रयुक्त होता है। जहां ग्राहक खरीददारी के साथ साथ नकदी भी निकाल सकते हैं, वहां व्यापारी अपने ग्राहक को "कैशबैक"/"कैश आउट" की सुविधाएं देने की पेशकश कर सकता है।

अनुक्रम

क्रेडिट या डेबिट?[संपादित करें]

"क्रेडिट या डेबिट?" डेबिट कार्ड का उपयोग करते समय यह सवाल अक्सर संयुक्त राज्य अमेरिका में सुना जाता है। US में, बिक्री के समय कोई क्रेडिट या डेबिट कुछ भी चुन ले, धन राशि तो हमेशा कार्डधारक के चेकिंग खाते से ही आते हैं। वैसे बहुसंख्यक US उपभोक्ताओं को इन दोनों में कोई फर्क नजर नहीं आता है। चूंकि धन राशि हमेशा कार्डधारक के चेकिंग खाते से आएगी, इसीलिए बिक्री के समय "क्रेडिट" और "डेबिट" का फर्क तो जरूर ही होगा।

जब कार्डधारक "क्रेडिट" चुनता है तो लेनदेन की प्रक्रिया "ऑफलाइन" होती है। बिक्री के समय, कोई व्यापारी अनुज्ञा प्राप्त करने के लिए कार्ड को संसाधित कर सकता है या नहीं भी कर सकता है। अनुज्ञा एक ऐसी गारंटी है, जिसके जरिये व्यापारी को राशि का भुगतान हो जाएगा. एक सामान्य क्रेडिट कार्ड लेनदेन में, राशि तब तक कार्डधारक के खाते से नहीं निकाली जाती है जब ‍तक कि व्यापारी उसके क्रेडिट कार्ड के सभी लेनदेन का निपट नहीं लेता है, इसके बाद कार्डधारक के चेकिंग खाते से खरीदारी की राशि के एवज में भुगतान मांगा जाता है। चार्ज की गयी राशि कार्डधारक के खाते में भेजने में कितने दिनों का समय लग जाए, यह व्यापारी पर निर्भर करता है।

कार्डधारक जब "डेबिट" का चुनाव करता है तो लेनदेन की प्रक्रिया "ऑनलाइन" होती है। बिक्री के समय, कार्डधारक खरीददारी को अपने "पिन" से प्रमाणित करता है, रकम की जांच हो जाती है और जब मंजूरी मिल जाती है तो तुरंत कार्डधारक के चेकिंग खाते से व्यापारी के खाते में रकम स्थानांतरित हो जाती है।

ज्यादातर US उपभोक्ता क्रेडिट बनाम डेबिट के प्रति उदासीन रहते हैं, जबकि इनमें महत्वपूर्ण अंतर होता है और उन सबको इस बारे में पता होना चाहिए। सबसे जरूरी बात यह है कि किन्हीं परिस्थितियों में क्रेडिट के तौर पर हुई लेनदेन की प्रक्रिया विवादित हो सकती है, फिर चाहे वह डेबिट कार्ड हो या फिर क्रेडिट. एक डेबिट कार्ड को लेकर जिस तरह के विवाद होते हैं, क्रेडिट कार्ड को लेकर भी उसी तरह के विवाद हो सकते हैं: कार्डधारक के पक्ष में जब तक विवाद सुलझ नहीं जाता है, चार्ज खाते में उसी तरह रह जाता है। डेबिट कार्डधारक के लिए इसके मायने यह है कि तब तक वह रकम से दूर रहता है जब तक कि उसके पक्ष में विवाद सुलझ नहीं जाता है और उसे वह रकम फिर से अदा कर दी जाती. बहरहाल, एक क्रेडिट कार्डधारक, अगर उसने पहले ही विवादित शेष रकम का भुगतान न कर दिया हो, तो मामले के सुलझने तक उसे ऐसा करने की जरूरत नहीं होती है। अगर उसके पक्ष में मामला सुलझ जाता है, तभी विवादित चार्ज उसके खाते से काट लिया जाएगा, या अगर उसने पहले से ही विवादित राशि का भुगतान कर दिया है तो वह राशि उसे फिर से लौटा दी जाएगी. बहरहाल, कुल मिलाकर, डेबिट के रूप में लेनदेन की प्रक्रिया में बड़ी विषमता है, जो धोखाधड़ी को छोड़कर दूसरी किसी भी परिस्थिति में विवादित नहीं हो सकता है।

डेबिट या क्रेडिट कार्ड का चुनाव करने में एक दूसरा फर्क यह है कि जब डेबिट कार्ड के जरिए लेनदेन किया जाता है तब इसके साथ शुल्क भी जुड़ता है। बहुत सारे बैंक अपने डेबिट कार्ड और चेकिंग खाते के साथ पुरस्कार पैकेज की भी पेशकश करते हैं। ये पुरस्कार पैकेज आमतौर पर अंक पद्धति के रूप में होते हैं, जैसे X राशि का डॉलर खर्च किए जाने पर आपको X राशि के अंक प्राप्त होते हैं, जो कि किसी भी समय कैश बैक, संगीत, कॉफी, एयरलाइन मीलों वगैरह के लिए चुकता किए जाने योग्य होता है। हालांकि ये पुरस्कार केवल तभी जोड़े जाते हैं जब कोई क्रेडिट का चुनाव डेबिट कार्ड के लेनदेन में करता है। कई बैंक डेबिट कार्ड पर क्रेडिट लेनदेन एक छोटा-सा शुल्क के लिए लेते हैं, तो जहां आपको आपके डेबिट कार्ड पर अंक प्राप्त होता है, वहीं बैंक आपको इसके लिए शुल्क भी चार्ज कर सकता है।

डेबिट कार्ड पद्धति के प्रकार[संपादित करें]

डेबिट कार्ड
एक ठेठ डेबिट कार्ड के सामने का एक उदाहरण: इसुइंग बैंक लोगो EMV चिपहोलोग्रामकार्ड नंबरकार्ड ब्रांड लोगो एक्स्पिरेशन डाटाकार्डहोल्डर्स नेम
एक ठेठ डेबिट कार्ड का रिवर्स साइड: मैग्नेटिक स्ट्राइपसिग्नेचर स्ट्रिपकार्ड सेक्युरिटी कोड

मौजूदा समय में डेबिट कार्ड की लेनदेन प्रक्रिया तीन तरह से होती है: ऑनलाइन डेबिट (पिन डेबिट के रूप में भी जाना जाता है), ऑफलाइन डेबिट (हस्ताक्षर डेबिट के रूप में भी जाना जाता है) और इलेक्ट्रॉनिक पर्स कार्ड सिस्टम .[3] ध्यान देने की बात यह है कि एक भौतिक कार्ड में ऑनलाइन डेबिट कार्ड, ऑफलाइन डेबिट कार्ड और इलेक्ट्रॉनिक पर्स कार्ड के कार्य शामिल हैं।

हालांकि बहुत सारे डेबिट कार्ड वीसा कार्ड या मास्टरकार्ड ब्रांड के होते हैं, इसके अलावा भी बहुत तरह के डेबिट कार्ड होते हैं, ये सभी केवल देश या क्षेत्र विशेष में स्वीकार्य हैं, उदाहरण के लिए, स्विच (अब माइस्ट्रो) और सोलो यूनाइटेट किंगडम में, इंटरैक कनाडा में, कार्टे ब्लू फ्रांस में, लेजर आयरलैंड में, EC इलेक्ट्रॉनिक चेक (पूर्व में यूरोचेक के नाम से जाना जाता था) जर्मनी में और EFTPOS कार्ड ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में. सीमा पार अनुकूलता की जरूरत और हाल ही में यूरो के आगमन से इनमें से बहुत सारे कार्डों (जैसे स्विट्ज़रलैंड के "EC डाइरकी", ऑस्ट्रिया के "बैंकोमैटकास" और स्विच यूनाइटेड किंगडम में) के नेटवर्क को अंतर्राष्ट्रीय पहचान माइस्टरो लोगो, जो कि मास्टर कार्ड ब्रांड है, के साथ रि-ब्रांडेड किया गया है। कुछ डेबिट कार्ड माइस्टरो के साथ ही साथ राष्ट्रीय कार्ड (पूर्व) के लोगों दोहरे ब्रांड के होते हैं (उदाहरण स्वरूप EC कार्ड जर्मनी में, लेजर कार्ड आयरलैंड में, स्विच और सोलो UK में, पिनपैस कार्ड नीदरलैंड में, बैकोटैक्ट कार्ड बेलजियम में वगैरह.). डेबिट कार्ड पद्धति अपने ऑपरेटरों को ग्राहकों की खरीददारी की निगरानी करते हुए अपने उत्पाद पैकेज का और भी प्रभावशाली तरीके से उपयोग करने की अनुमति देता है। इन पद्धतियों का एक उदाहरण एम्बेड इंटरनेशनल द्वारा ECS है।

ऑनलाइन डेबिट पद्धति[संपादित करें]

ऑनलाइन डेबिट कार्ड के हर लेनदेन पर इलेक्ट्रॉनिक अनुज्ञप्ति की जरूरत होती है और डेबिट उपयोगकर्ता के खाते में तुरंत दिखाई दे देता है। हो सकता है लेनदेन को पर्सनल आईडेंटिफिकेशन नंबर (PIN) अनुज्ञप्ति पद्धति से अतिरिक्त सुरक्षित हो और कुछ ऑनलाइन कार्ड को हरेक लेनदेन में ऐसी अनुज्ञप्ति की जरूरत होती है, स्वचालित टेलर मशीन (ATM) कार्डों में अनिवार्य रूप से यह जरूरी है। ऑनलाइन डेबिट कार्ड के उपयोग में एक दिक्कत यह है कि इसमें प्वाइंट ऑफ सेल (POS) में इलेक्ट्रॉनिक अनुज्ञप्ति उपकरण जरूरी है और कभी-कभी पिन नंबर डालने के लिए एक अलग पिनपैड की जरूरत होती है, हालांकि बहुत सारे देशों में यह हर तरह के कार्ड के जरिए लेनदेन में आम होता जा रहा है। कुल मिलाकर ऑनलाइन डेबिट को इसके सुरक्षित अनुज्ञप्ति पद्धति और लाइव स्थिति के कारण ऑफलाइन डेबिट कार्ड से कहीं ज्यादा श्रेष्ट माना जाता है, जो केवल ऑनलाइन डेबिट कार्ड के मामले में लेनदेन पर प्रक्रमण विलंबन के साथ समस्याओं का निदान कर देता है।

ऑफलाइन डेबिट पद्धति[संपादित करें]

ऑफलाइन डेबिट कार्डों में प्रमुख क्रेडिट कार्डों (जैसे वीसा या मास्टर कार्ड) या प्रमुख डेबिट कार्डों (जैसे यूनाइटेड किंगडम और दूसरे देशों में माइस्टरो, लेकिन संयुक्त राज्य अमेरिका में नहीं) का लोगो होता है और बिक्री के समय क्रेडिट कार्ट की तरह (भुगतानकर्ता के हस्ताक्षर के साथ) इसका इस्तेमाल होता है। इस तरह के डेबिट कार्ड में दैनिक सीमा हो सकती है और/या जिससे धन निकाला जाता है उस चालू/जांच खाते की शेष रकम के बराबर एक अधिकतम सीमा हो सकती है। ऑफलाइन डेबिट कार्ड से किए गए लेनदेन में उपयोगकर्ता के शेष खाते में इसका प्रभाव दिखने में 2-3 दिन लग जाता है। कुछ देशों और कुछ बैंकों और व्यापारी सेवा संगठनों में "क्रेडिट" या ऑफलाइन डेबिट लेनदेन अंकित मूल्य के परे क्रेता की लागत के बगैर लेनदेन होता है, जबकि "डेबिट" या ऑनलाइन डेबिट लेनदेन के लिए एक छोटी-सा शुल्क मांगा जा सकता है (हालांकि यह अक्सर खुदरा विक्रेता द्वारा समाविष्ट कर लिया जाता है). अन्य अंतर इस प्रकार हैं कि डेबिट क्रेता डेबिट खरीददारी की रकम के अतिरिक्त नकद भी निकाल सकता है (बशर्ते व्यापारी इस काम का समर्थन करता है तो), व्यापारी के नजरिए से, "क्रेडिट" (ऑफलाइन) डेबिट लेनदेन की तुलना में ऑनलाइन डेबिट लेनदेन पर व्यापारी छोटी-सी रकम का भुगतान करता है।

इलेक्ट्रॉनिक पर्स कार्ड पद्धति[संपादित करें]

इलेक्ट्रॉनिक पर्स पद्धति पर आधारित स्मार्ट कार्ड (जिसमें इसका मूल्य कार्ड चिप पर ही संग्रहित होता है, खाते के रिकॉर्ड पर दर्ज नहीं होता, इसीलिए नेटवर्क कनेक्टिविटी की जरूरत के बगैर मशीन कार्ड को स्वीकार कर लेता है) का उपयोग पूरे यूरोप में 1990 के दशक के मध्य से हो रहा है, उल्लेखनीय रूप से जर्मनी (गेल्डकार्टे), ऑस्ट्रिया (क्विक), नीदरलैंड (चिपनिप), बेल्जियम और स्विट्जरलैंड (कैश) में. ऑस्ट्रिया और जर्मनी में, सभी वर्तमान बैंक कार्ड अब इलेक्ट्रॉनिक पर्स में शामिल हो गए हैं।

प्रीपेड डेबिट कार्ड[संपादित करें]

प्रीपेड डेबिट कार्ड, रिलोडेबल डेबिट कार्ड या रिलोडेबल प्रीपेड कार्ड भी कहलाता है, अक्सर आवर्ती भगुतान के लिए उपयोग किया जाता है।[4] भुगतानकर्ता कार्डधारक के कार्ड में धन डाल देता है। प्रीपेड डेबिट कार्ड या तो ऑफलाइन डेबिट पद्धति में उपयोग किए जाते हैं या ऑनलाइन डेबिट पद्धति धन का उपयोग के लिए किए जाते हैं। विशेषरूप से US-आधारित कंपनियां विदेश में बहुत ही बड़ी संख्या में भुगतान प्राप्तकर्ता के लिए प्रीपेड डेबिट कार्ड पर बगैर देर किए और अंतर्राष्ट्रीय चेक के लिये शुल्क जोड़े या बैंक हस्तांतरण के बगैर अंतर्राष्ट्रीय भुगतान वितरण की अनुमति देती हैं।[5] वेब-आधारित सेवा, जैसे स्टॉक फोटोग्राफी वेबसाइट (आईस्टॉकफोटो) (istockphoto), आउटसोर्सड सेवाएं (ओडेस्क) (oDesk) और संबद्ध नेटवर्क (मीडियाविच) (MediaWhiz) सभी ने अपने योगदानकर्ताओं/स्वतंत्र योगदानकताओं/विक्रेताओं के लिए प्रीपेड डेबिट कार्ट की पेशकश करने की शुरूआत कर दी है।

लाभ और हानि[संपादित करें]

डेबिट या चेक कार्ड, जैसा कि ये बड़े पैमाने पर चल पड़े हैं, से उपभोक्ता और खुदरा विक्रेता के लिए बहुत सारे फायदे और नुक्सानों का पता चला है।

निम्नलिखित आरोप U.S.A. में केवल ताजा स्थिति के आधार पर दिखाई देते हैं, कृपया इसे सावधानीपूर्वक पढ़े, क्योंकि यह अन्य देशों में यह लागू नहीं भी हो सकता है।

लाभ इस प्रकार हैं:

  • एक उपभोक्ता जो क्रेडिट योग्य नहीं है और क्रेडिट कार्ड प्राप्त करना जिनके लिए यह मुश्किल या असंभव हैं वे अधिक आसानी से एक डेबिट कार्ड प्राप्त कर सकते हैं, जो उन्हें प्लास्टिक लेनदेन की अनुमति देता है।
  • खाते में मौजूद रकम में डेबिट कार्ड का उपयोग सीमित है, इसका इस्तेमाल करने या ब्याज लगने, विलंब शुल्क या क्रिडिट कार्ड के लिए विशेष शुल्क के फलस्वरूप उधारी का पहाड़ खड़ा हो जाने से ग्राहकों को बचाने के लिए इससे (ऑफलाइन भुगतान को छोड़कर) जोड़ दिया गया है।
  • अधिकांश लेनदेन के लिए, चेक लिखने से पूरी तरह से बचने के लिए एक चेक कार्ड का इस्तेमाल किया जा सकता है। चेक कार्ड से उपयोगकर्ता के खाते से मौके पर ही रकम डेबिट हो जाती है, जिससे खरीद के समय सौदे को अंतिम रूप देने और भुगतान की आवश्यकता को दरकिनार करने के लिए एक बाद की तारीख में एक क्रेडिट कार्ड के बिल के भुगतान के लिए, या खाताधारक के व्यक्तिगत जानकारी युक्त एक असुरक्षित चेक लिखने से बच जाता है।
  • क्रेडिट कार्ड की तरह, व्यक्तिगत चेक की तुलना में कम पहचान और छानबीन के कारण डेबिट कार्ड व्यापारियों द्वारा स्वीकृत है, जिससे जल्दी और कम से कम अनुचित दखलंदाजी से लेनदेन हो जाता है। व्यक्तिगत चेक के विपरीत, व्यापारी आमतौर पर यह विश्वास नहीं करते कि डेबिट कार्ड के जरिए भुगतान होने पर बाद में वह अस्वीकृत न हो जाए.
  • क्रेडिट कार्ड के विपरीत, जो उच्च शुल्क और ब्याज दर चार्ज करता है, जब अग्रिम नकद प्राप्त करता है, एक डेबिट कार्ड का इस्तेमाल एटीएम (ATM) से या एक पिन-आधारित लेनदेन से विदेशी ATM शुल्क की तुलना में बगैर कोई अतिरिक्त शुल्क अदा किए नकद प्राप्त हो जाता है।

नकद या क्रेडिट की तुलना में डेबिट कार्ड के कई नुकसान हैं:

  • पूर्व-अनुज्ञप्ति के आधार पर अब बहुत सारे बैंक सीमा-परे शुल्क या अपर्याप्त धनराशि शुल्क चार्ज करते हैं और यहां तक कि प्रयास के बावजूद व्यापारी द्वारा लेनदेन से इंकार कर दिया जाता है (उनमें से कुछ को ग्राहक द्वारा नहीं भी पहचाना जा सकता है).
  • कई व्यापारी भूलवश से ऐसा विश्वास करते हैं कि डेबिट कार्ड (या नंबर) पेश किए जाने पर सहमति के बगैर उस तारीख में आदाता का नाम, रकम और मुद्रा के अपनी बकाया रकम को ग्राहक के खाते से "लिया" जा सकता है, इस प्रकार जमा से अधिक रुपया निकालने, सीमा पार कर जाने से दंड शुल्क लगाया जाता हैं, इस पर भी रकम उपलब्ध न होने पर नामंजूरी या ओवरड्राफ्ट और कुछ बैंकों द्वारा लेनदेन को अस्वीकार कर दिया जाता है।
  • कुछ देशों के डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड की तुलना में निम्न स्तर का सुरक्षा संरक्षण देते हैं।[6] उपयोगकर्ताओं के पिन की चोरी करने का काम हस्ताक्षर आधारित क्रेडिट लेनदेन के बजाए स्किमिंग उपकरण के जरिए पिन इनपुट से आसानी से पूरा किया जा सकता है। बहरहाल, क्रेडिट लेनदेन की तरह ही पिन इनपुट डेबिट लेनदेन के साथ भी स्किमिंग (skimming) उपकरण के जरिए उपयोगकर्ताओं के पिन कोड की चोरी आसानी से हो सकती है और जिस तरह चोर हस्ताक्षर-आधारित डेबिट लेनदेन का उपयोग करता है, उतनी ही आसानी से हस्ताक्षर-आधारित क्रेडिट लेनदेन की भी करता है।
  • कई जगहों में, कानून धोखाधड़ी से उपभोक्ता की सुरक्षा क्रेडिट कार्ड की तुलना में कम करता है। जबकि क्रेडिट कार्ड के धारक धोखाधड़ी से क्रेडिट कार्ड से किए गए न्यूनतम रकम की लेनदेन के लिए कानूनी तौर पर जिम्मेवार होता है, जिसे अक्सर बैंक द्वारा अनदेखा कर दिया जाता है, लेकिन धोखाधड़ी से किए गए डेबिट लेनदेन के लिए उपभोक्ता सैंकड़ों डॉलर या फिर धोखाधड़ी की पूरी रकम का देनदार हो सकता है। डेबिट कार्ड के साथ छूट प्राप्त करने का पात्र बनने के क्रम में बैंक को उपभोक्ता द्वारा धोखाधड़ी की सूचना देने के लिए कम समय (आमतौर पर दो दिन) होता है,[6] जबकि क्रेडिट कार्ड के मामले में यह समय 60 दिनों का हो सकता है। एक चोर, जो पिन के साथ डेबिट कार्ड प्राप्त कर लेता है या क्लोन कर लेता है उपभोक्ता का पूरा बैंक खाता साफ करने में सक्षम हो सकता है और उपभोक्ता किसी तरह की ममद नहीं मिलेगी.

संघीय तौर पर अनधिकृत कार्ड उपयोग (संयुक्त राज्य अमेरिका) के लिए अधिकतम देयता थोप दिया जाता है
रिपोर्ट कार्डधारक पर अधिकतम देयता
क्रेडिट कार्ड डेबिट कार्ड
उपयोग के पहले $0 $0
2 व्यावसायिक दिनों के अंदर $50 $50
2 दिनों के बाद, लेकिन 60 व्यावसायिक दिनों के पहले $50 $500
60 व्यावसायिक दिनों के बाद असीमित असीमित

[7][8]

  • UK और आयरलैंड, जैसे अन्य देशों में, एक उपभोक्ता जो क्रेडिट कार्ड से कोई सामग्री खरीदता है या सेवा प्राप्त करता है, अगर सामान या सेवा नहीं दिया जाता है या बिक्री के लिए अनुपयुक्त है तो वह क्रेडिट कार्ड जारी करनेवाले को इसकी शिकायत कर सकता है। रिटेलर द्वारा पहले प्रदान की गयी प्रक्रिया से जब वे बुरी तरह आमतौर पर थक जाते हैं, तब अगर खुदरा विक्रेता कारोबार से बाहर निकल जाता है तो इसकी जरूरत नहीं होती. जब डेबिट कार्ड का उपयोग किया जाता है तब यह संरक्षण कानून द्वारा प्रदान नहीं किया जाता, लेकिन एक समय सीमा तक लाभ के तौर पर कार्ड नेटवर्क उदाहरण के लिए वीसा डेबिट कार्ड द्वारा प्रदान की जाती है।
  • जब क्रेडिट कार्ड का उपयोग करके कोई लेनदेन की जाती है तब बैंक के पैसे खर्च होते हैं और इसीलिए, जहां धोखाधड़ी या विवाद होता है वहां अपने पैसों का दावा करने में बैंक का निहित स्वार्थ होता है। उपभोक्ता, जो खरीददारी से असंतुष्ट है, या जो व्यापारी द्वारा ठगा गया हो, बैंक उसके आरोपों को निरस्त करने के लिए लड़ सकता है। लेकिन जब डेबिट पर खरीददारी की जाती है, तब उपभोक्ता अपने पैसे खर्च करते/करती हैं और अगर धन प्राप्त करने की कोई अभिप्रेरणा है भी तो इसमें बैंक का कोई काम नहीं।
  • कुछ देशों में, कुछ खास तरह की खरीददारी में, जैसे गैसोलिन (पंप के जरिए भुगतान पद्धति), किराये पर लिया हुआ घर, या किराये पर लिया गया कार; बैंक के पास धन पर नियंत्रण रखने की गुंजाइश, एक तय समय के लिए वास्तविक खरीददारी की तुलना में कहीं अधिक होती है।[6] हालांकि, अन्य देशों, जैसे स्वीडन में ऐसा नहीं है। जब नियंत्रण हट जाता है, तब खाते में चेक समेत, कोई भी लेनदेन अस्वीकृत हो सकता है या ओवरड्राफ्ट शुल्क की कीमत पर भुगतान हो सकता है, बशर्ते उन वस्तुओं के भुगतान के लिए खाते में अतिरिक्त धन की कमी हो।
  • जब डेबिट कार्ड प्रमुख क्रेडिट कार्ड लोगो के साथ होता है तब जहां समकक्ष क्रेडिट कार्ड लिये जाते हैं वहां वस्तुतः वे लगभग सभी लेनदेन के लिए स्वीकार कर लिये जाते है, कुछ देशों में किराये पर कार की सुविधाओं एक प्रमुख अपवाद हैं।[9] कुछ देशों में किराये के कार की एजेंसियों को उपयोग के लिए वास्तविक क्रेडिट कार्ड की मांग करते हैं, या कम से कम, किराये पर लेने वालों द्वारा उपयोग की जा रही डेबिट कार्ड की ऋण पात्रता की वे जांच करेंगे। इन अनिर्दिष्ट देशों में, ऐसी कंपनियां उन्हें किराये के लिए मना कर देती है, जो उनकी जरूरतों के अनुकूल नहीं होते और जब तक इस तरह की चीजें होती हैं, खरीदादारी जिस देश में की जा रही है और/या ग्राहक जिस देश में रहता है, ऐसे क्रेडिट चेक वास्तव में किसी की साख को चोट पहुंचाते हैं।

उपभोक्ता संरक्षण[संपादित करें]

उपभोक्ता सुरक्षा इस्तेमाल किये गए अलग-अलग नेटवर्क पर निर्भर होता है। उदाहरण के लिए वीसा और मास्टर कार्ड व्यापारियों की ओर से न्यूनतम और अधिकतम खरीददारी, अधिभार और मनमाने ढंग से सुरक्षा प्रक्रियाओं का निषेध करता है। व्यापारी आमतौर पर क्रेडिट लेनदेन के लिए अधिक शुल्क चार्ज करते हैं, चूंकि डेबिट जिसमें धोखाधड़ी की संभावना होती है, के नेटवर्क लेनदेन में कम चार्ज करते हैं। जिसके फलस्वरूप डेबिट लेनदेन के वे "स्टीर" ग्राहक बन सकते हैं। चूंकि क्रेडिट कार्ड के उपभोक्ता के लिए पैसा उसके नियंत्रण से तुरंत बाहर नहीं निकल जाएगा, इस‍लिए विवादित आरोप से निपटना उनके लिए आसान हो जाता हैं। डेबिट कार्ड पर धोखाधड़ी के आरोप चालू खाटा के लिए समस्या का कारण हो सकते हैं, क्योंकि पैसा तुरंत निकल जाता है और जिसके कारण ओवरड्राफ्ट या चेक बाउंस हो सकता है। कुछ मामलों में डेबिट कार्ड जारी करनेवाला बैंक मामले का जब तक निपटारा नहीं हो जाता है, विवादित चार्ज को तुरंत वापस कर देंगे और कुछ अधिकार-क्षेत्र में, अनाधिकृत चार्ज के लिए उपभोक्ता की देनदारी डेबिट और क्रेडिट दोनों कार्ड के लिए एक जैसे हैं।

भारत और स्वीडन जैसे कुछ देशों में इस्तेमाल किया जानावाला नेटवर्क कोई भी हो, उपभोक्ता संरक्षण एक जैसे हैं। कुछ बैंक न्यूनतम और अधिकतम खरीददारी का परिमाण तय कर देते हैं, ऐसा ज्यादातर केवल-ऑनलाइन कार्ड के लिए होता है। हालांकि कार्ड के नेटवर्क से इसका कुछ लेनादेना नहीं है, बल्कि व्यक्ति की उम्र और क्रेडिट रिकॉर्डों के तहत ही बैंक इस पर निर्णय लेता है। कोई भी शुल्क जो ग्राहकों बैंक को अदा करने होते हैं, चाहे वह लेनदेन क्रेडिट के रूप में या डेबिट के रूप में किए गए हो, एक जैसे ही होते हैं; इसलिए लेनदेन के मोड का चुनाव कुछ भी क्यों न हो, इससे ग्राहकों के लिए किसी में भी कोई फायदा नहीं होता है। दुकान कानून के तहत जिसमें उसे ऐसा करने की अनुमित दी जाती है, सामान के मूल्य में या सेवा में अधिभार जोड़ सकता है। कार्ड जब स्वाइप किया जाता है उस समय बैंक खरीददारी पर विचार करता है, फिर चाहे खरीददारी का समझौता कभी भी क्यों न हुआ हो। लेनदेन के किसी भी प्रकार का उपयोग क्यों न किया गया हो, खरीददारी से ओवरड्राफ्ट हो ही सकता है, क्योंकि कार्ड को स्वाइप करते समय खाते में बची रकम पर गौर किया जाता है।

वित्तीय अभिगम्यता[संपादित करें]

डेबिट कार्ड और सुरक्षित क्रेडिट कार्ड कॉलेज छात्रों, जिन्होंने अभी तक क्रेडिट इतिहास स्थापित नहीं किया है, के बीच लोकप्रिय है। डेबिट कार्ड का उपयोग प्रवासी श्रमिकों द्वारा घर पर अपने परिवारों को जिनके पास संबद्ध डेबिट कार्ड हो, को रुपए भेजने के लिए किया जाता है।

ऑफ़लाइन डेबिट के अस्थगित लेखा-संबंधी मुद्दे[संपादित करें]

बहुत सारे देशों में ग्राहक के लिए डेबिट लेनदेन वास्तविक-समय में होनेवाला माना जाता है, अर्थात् व्यापारी की ओर से अनुज्ञप्ति का अनुरोध किए जाने के तुरंत बाद उनके खाते से रुपया निकाल जाता है, ऐसा ऑनलाइन डेबिट खरीददारी के मामले में ही होता है। हालांकि जब किसी खरीददारी में क्रेडिट (ऑफलाइन डेबिट) विकल्प का इस्तेमाल किया जाता है, ग्राहक के खाते से लेनदेन में अनुज्ञप्ति की गुंजाइश बहुत ही कम होती है, ग्राहक के खाते से पैसे असल में तब तक नहीं निकाले जा सकते, आमतौर पर कुछ दिनों के बाद, जब तक कि लेनदेन से संतुष्टि नहीं मिल जाती और ग्राहक के खाते की ठोस स्थिति का पता नहीं चल जाता. बहरहाल, पूर्व वाक्य हर तरह के लेनदेन पर लागू होता है, कम से कम तब जब यूरोपियन बैंक द्वारा लागू किए गए कार्ड का इस्तेमाल होता है। यह एक विशिष्ट क्रेडिट कार्ड लेनदेन के विपरीत है, हालांकि यह खाते में लेनदेन को भेजे जाने से पहले इसके लिए कुछ दिनों का अंतराल समय हो सकता है, जो उपभोक्ता के वास्तविक पैसे का फिर से भुगतान कर दिए जाने से पहले एक महीने या उससे ज्यादा के कई दिन हो सकते हैं।

इस वजह से, व्यापारी या बैंक द्वारा किए गए अनुकूल या दुर्भावनापूर्ण गड़बड़ी क्रेडिट कार्ड से लेनदेन (उदाहरण के लिए क्रेडिट सीमा के बाहर ऋण सुलभ नहीं होता) की तुलना में डेबिट लेनदेन में गंभीर समस्या का कारण हो सकता है (उदाहरण के लिए पैसा नहीं निकाला जा सकता; खाते से अधिक रकम निकालना). यह खासतौर पर संयुक्त राज्य अमेरिका में होता है, जहां हरेक राज्य में चेक संबंधी धोखा हुआ करता है, लेकिन आपकी क्रेडिट सीमा के ज्यादा नहीं होता।

इंटरनेट पर खरीददारी[संपादित करें]

डेबिट कार्ड का इस्तेमाल इंटरनेट पर भी किया जा सकता है। इंटरनेट लेनदेन ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों मोड पर किया जा सकता है, हालांकि दुकानों का केवल-ऑनलाइन कार्ड स्वीकार करना कुछ देशों (जैसे स्वीडन) में विरल ही है, जबकि यह अन्य देशों (जैसे कि नीदरलैंड) में आम है। तुलनात्मक रूप से, अगर ग्राहक घर का डच पता देता है तो पेपल (PayPal) ग्राहक को केवल-ऑनलाइन माइस्टरो कार्ड का उपयोग करने की पेशकश करता है, वही ग्राहक अगर स्वीडेन का पता देता है तो ऐसा नहीं होता है।

इंटरनेट खरीददारी ऑनलाइन या ऑफ़लाइन दोनों मोड में की जा सकती है और जब आप किसी दुकान में जहां आप अपना कार्ड इस्तेमाल करते हैं, उस मामले में यह कहना असंभव है (कम से कम ज्यादातर देशों में) कि किया गया लेनदेन ऑनलाइन या ऑफलाइन मोड में किया गया है (अगर एक 'केवल ऑनलाइन कार्ड' का उपयोग होता है, तो इस मामले में आपको पता है कि आपने ऑनलाइन मौड का इस्तेमाल किया है), क्योंकि मोड किसी रसीद या इसी तरह के किसी तरीके से इसका जिक्र नहीं करता है। इंटरनेट खरीददारी में न तो पिन कोड का उपयोग होता है और न ही पहचान के लिए हस्ताक्षर का. लेनदेन क्रेडिट या डेबिट दोनों ही कार्ड पर हो सकता है, (जो कभी-कभी रसीद में बता दिया जाता है, लेकिन हमेशा नहीं) और इससे कुछ लेनादेना नहीं होता है कि लेनदेन ऑनलाइन या ऑफलाइन मोड में हुआ है, क्योंकि ये दोनों क्रेडिट और डेबिट दोनों ही मोड में किए जा सकते हैं।

ओवरड्राफ्ट शुल्क[संपादित करें]

2007 के वाशिंगटन पोस्ट में – बैंकों के लाभकारी डेबिट कार्ट ओवरड्राफ्ट शुल्क पर - एक लेख में बताया गया कि डेबिट कार्ड जारी करनेवाले ग्राहकों को इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से ओवरड्राफ्ट शुल्क से उन्हें बचने की अनुमति देने की सूचना दे सकते हैं। बैंकिंग उद्योग के प्रवक्ता और प्रचारक नेसा फेडीज (Nessa Feddis) दावे के साथ कहते हैं कि मौजूदा तकनीक ओवरड्राफ्टों के निषेधात्मक-लागत की चेतावनी वास्तविक समय में देता है।[10] लेख दावा करता है कि "वित्तीय संस्थान यथापूर्व स्थिति में बदलाव नहीं चाहते हैं, क्योंकि ग्राहकों की गलतियों और उनकी गैर-जिम्मेदारी से वे अच्छा और आसानी से रुपए कमाते हैं।"[10]

दुनिया भर में डेबिट कार्ड[संपादित करें]

कुछ देशों में, बैंकों प्रत्येक डेबिट कार्ड के लेनदेन के लिए एक छोटे से शुल्क वसूली करते हैं। कुछ देशों (उदाहरण के लिए UK) में व्यापारियों में सभी लागत वहन करते है, ग्राहकों से चार्ज नहीं लेते हैं। ऐसे बहुत सारे लोग हैं जो सभी लेनदेन के लिए, चाहे वह कितना भी छोटा क्यों न हो, नियमित तौर पर डेबिट कार्ड का उपयोग करते हैं। कुछ (छोटे) खुदरा व्यापारी छोटे लेनदेन के लिए, जहां लेनदेन का शुल्क अदा करने से बिक्र पर लाभ-गुंजाइश कम हो जाती है, डेबिट कार्ड को स्वीकार करने से मना कर देते हैं, यह खुदरा विक्रेता के लिए अलाभकर लेनदेन है।

ऑस्ट्रेलिया[संपादित करें]

ऑस्ट्रेलिया में डेबिट कार्ड जारी करने वाले बैंक के आधार पर अलग अलग नामों से जाना जाता है: कॉमनवेल्थ बैंक ऑफ ऑस्ट्रेलिया: कीकार्ड (Keycard); वेस्टपैक बैंकिंग कार्पोरेशन: हैंडीकार्ड (Handycard); नेशनल ऑस्ट्रेलिया बैंक फ्लेक्सीकार्ड (FlexiCard); एएनजेड (ANZ) बैंक एक्सेस कार्ड (Access card); बेंडीगो बैंक कैशकार्ड (Cashcard).

एफ्टपोस (EFTPOS) ऑस्ट्रेलिया में बहुत लोकप्रिय है और वहां 1980 के दशक से ही परिचालन में है। एफ्टपोस (EFTPOS)-समर्थ कार्ड लगभग सभी क्रेडिट कार्ड स्वाइप (इलैक्ट्रॉनिक रीडर) टर्मिनलों में स्वीकार किए जाते हैं। विदेशी बैंकों द्वारा जारी किए गए मेस्ट्रो कार्ड सहित, उन्हें जारी करनेवाले बैंकों पर ध्यान दिए बिना, अधिकांश व्यवसाय उन्हें 450,000 विक्रय केंद्रों में स्वीकार करते हैं।[11]

एफ्टपोस (EFTPOS) कार्ड गिरोपोस्ट में भागीदार ऑस्ट्रेलिया पोस्ट आउटलेट के काउंटर पर नकदी जमा करने या निकालने के लिए भी इस्तेमाल किये जा सकते हैं, ठीक उसी तरह जैसे कि बैंक शाखा के बंद हो जाने के बाद भी बैंक शाखा में लेन-देन चला करता था। ऑस्ट्रेलिया में इलेक्ट्रॉनिक लेनदेन आम तौर पर टेल्स्ट्रा अर्जेन्ट (Telstra Argent) और ओप्ट्स ट्रांजैक्ट प्लस नेटवर्क (Optus Transact Plus network) के मार्फत संसाधित होते हैं - जिन्होंने पिछले कुछ वर्षों में पुराने ट्रानसेंड नेटवर्क (Transcend network) का स्थान लिया है। सबसे पुराना कीकार्ड केवल एफ्टपोस (EFTPOS) के लिए उपयोग योग्य था और एटीएम (ATM) या बैंक की शाखाओं में, जबकि नई डेबिट कार्ड प्रणाली क्रेडिट कार्ड की ही तरह काम करता है, केवल निर्दिष्ट बैंक खाते में धन का उपयोग करने को छोड़कर. इसका मतलब यह है कि, अन्य लाभ के बीच नई पद्धति की देरी के बिना इलेक्ट्रॉनिक खरीद के लिए उपयुक्त है 2 बैंक से पैसा बैंक स्थानान्तरण के लिए 4 दिनों के लिए।

इलेक्ट्रॉनिक क्रेडिट कार्ड लेनदेन अनुज्ञप्ति और पारंपरिक एफ्टपोस (EFTPOS) अनुज्ञप्ति कार्ड सिस्टम ऑस्ट्रेलिया दोनों ही संचालित करता है, इस दोनों के बीच अंतर यह है कि एफ्टपोस (EFTPOS) लेनदेन एक व्यक्तिगत पहचान संख्या (पिन) द्वारा अधिकृत हैं, जबकि क्रेडिट कार्ड लेनदेन आमतौर पर छपाई और एक रसीद पर हस्ताक्षर द्वारा अधिकृत हैं। यदि उपयोगकर्ता 3 बार सही पिन दर्ज करने में विफल रहता है तो परिणाम के रेंज में ताला लग जाएगा और तब फोन कॉल या शाखा में जाकर नए पिन के साथ पुन: सक्रिय करने की आवश्यकता होती है, कार्ड व्यापारी नष्ट कर दिया जाटा है या एटीएम के मामले में मशीन कार्ड अंदर ही रखा लेता है, उनमें से दोनों को एक नया कार्ड बनाने के आदेश की आवश्यकता होती है।

आमतौर पर क्रेडिट कार्ड लेनदेन की लागत उपयोगकर्ता की ओर से किसी शुल्क के बगैर व्यापारी वहन करता है, जबकि एफ्टपोस (EFTPOS) लेनदेन की लागत बैंक निकासी शुल्क के रूप में चार्ज उपभोक्ता पर लागू करता है।

एफ्टपोस (EFTPOS) और रिजर्व बैंक के क्रेडिट कार्डों द्वारा निपटान शुल्क अदायगी के नियमन के साथ वीसा और मास्टरकार्ड क्रेडिट कार्डों के आरंभ को ऑस्ट्रेलियाजइयों के बीच क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल की बढ़ती सर्वव्यापकता की निरंतरता और एफ्टपोस (EFTPOS) की आकर्षकता में एक सामान्य गिरावट के रूप में देखा जा रहा है। हालांकि निपटान शुल्क नियमन बैंकों की सक्षमता को भी दूर करता है, जो आम तौर पर वीसा, मास्टरकार्ड या बैंककार्ड के निमित्त खुदरा विक्रेताओं को व्यापारिक सेवाएं प्रदान करते हुए नकदी या एफ्टपोस (EFTPOS) के बजाय क्रेडिट कार्ड से भुगतान करने पर अतिरिक्त शुल्क लेने से रोकते हैं। हालांकि केवल शक्तिशाली बाजार क्षमता वाले कुछ ऑपरेटर ही ऐसा करते हैं, क्रेडिट कार्ड लेन-देन में लगने वाले शुल्क से पीछा छुडाने के लिए एफ्टपोस (EFTPOS) के इस्तेमाल में वृद्धि हुई है।

ब्राज़ील[संपादित करें]

ब्राजील में डेबिट कार्ड कार्टाओ डि डेबिटो (cartão de débito) (सिंगुलर) कहलाता है और चेक के स्थान पर यह बहुत ही लोकप्रिय हो रहा है[12]. वैसे देश में चेक अब भी असाधारण रूप से प्रचलित है।

कनाडा[संपादित करें]

कनाडा में राष्ट्रव्यापी एफ्टपोस (EFTPOS) पद्धति है, जिसे इंटरैक डायरेक्ट पेमेंट कहते हैं। 1994 में इसे शुरू किये जाने के बाद से, आईडीपी (IDP) देश में सबसे लोकप्रिय भुगतान पद्धति बन गयी है। पहले, 1980 के दशक के प्रारंभ से डेबिट कार्डों का इस्तेमाल एबीएम (ABM) उपयोग के लिए हुआ करता रहा। 1990 के दशक के प्रारंभ में, सुरक्षा को आंकने के लिए कनाडा के छह सबसे बड़े बैंकों में इंटरैक प्रणाली की सूक्ष्मता और संभाव्यता की पायलट परियोजनाएं आयोजित की गयीं। धीरे-धीरे 1990 के अगले दशकार्द्ध में, यह अनुमान लगाया गया कि लगभग 50% खुदरा ग्राहकों ने भुगतान के एक स्रोत के रूप में इंटरैक को अपना लिया है। खुदरा विक्रेता, खासकर अनेक कॉफी दुकानों जैसे छोटे खुदरा विक्रेताओं ने जल्द से जल्द सेवा प्रदान करने के लिए आईडीपी (IDP) के प्रस्ताव का विरोध किया। 2009 में, 99% खुदरा विक्रेताओं ने एक वैकल्पिक भुगतान रीति के रूप में आईडीपी (IDP) को स्वीकार कर लिया।

कनाडा में, डेबिट कार्ड का उल्लेख कभी-कभी "बैंक कार्ड" के रूप में किया जाता है। बैंक द्वारा ज़ारी किया गया एक क्लाइंट कार्ड होता है जो धन निकालने और दूसरे बैंक खाते से लेनदेन करने, जैसे धन स्थानांतरण, शेष राशि की जांच करने, बिलों का भुगतान करने इतयादि, के साथ ही साथ खरीददारी के लिए लेनदेन करनेवाले स्थान पर इंटरैक (Interac) नेटवर्क से जोड़ता है। 1994 में राष्ट्रीय स्तर पर इसकी शुरुआत से, इंटरैक डायरेक्ट पेमेंट (Interac Direct Payment) इतना अधिक प्रचलित हो गया कि 2001 तक कनाडा में नकदी के स्थान पर डेबिट कार्ड से ही कहीं अधिक लेन-देन होने लगे। [13] इस लोकप्रियता के आंशिक रूप से दो मुख्य कारक हो सकते हैं: नकदी लेकर नहीं चलने की सुविधा और नेटवर्क पर ऑटोमेटेड बैंक मशीनों (automated bank machines) (ABMs) और नेटवर्क पर डायरेक्ट पेमेंट (Direct Payment) व्यापारियों की उपलब्धता.

वास्तव में, डेबिट कार्ड के इस्तेमाल में विश्व भर में कनाडा के निवासी निर्विवाद रूप से अग्रणी हैं, जिन्होंने 2001 में प्रति व्यक्ति 71.7 डेबिट लेनदेन किये, जो उनके निकटतम देश के (फ्रांस के 60.3) उपभोक्ताओं से उल्लेखनीय रूप से ज्यादा है। जापान (अमेरिका 405 $) और स्विट्जरलैंड (US$ 100) के साथ कनाडा में डेबिट लेनदेन के औसत मूल्य (2001 में US$27) 11-देश की तुलना में सबसे कम थी, 93 पर था। इस प्रकार अन्य देशों के उपभोक्ताओं की तुलना में, कनाडा निवासी अक्सर अपने डेबिट कार्ड का उपयोग करते हैं, यहां तक कि छोटे से लेनदेन के लिए भी.

डेबिट कार्ड स्टोर-उपयोगी कार्ड के जैसा माना जा सकता है, जिसमें कार्ड जारी करनेवाला कार्डधारक को धन की एक निश्चित राशि का ऋण का प्रदान करता है। इस मायने में यह अलग है क्योंकि आमतौर पर ये बेनामी होते हैं और केवल जारी करनेवाले के यहां ही यह उपयोग योग्य हैं, जबकि डेबिट कार्ड सामान्य तौर पर निजी बैंक खातों के साथ जुड़े होते हैं और इसका इस्तेमाल कहीं भी परस्पर जुड़े (Interac) नेटवर्क में किया जा सकता है।

कनाडा में, बैंक कार्ड का इस्तेमाल केवल POS और ABMs में किया जा सकता है। चुनिंदा वित्तीय संस्थान अपने ग्राहकों को संयुक्त राज्य अमेरिका के NYCE नेटवर्क में इस्तेमाल करने की अनुमित देता है।[14]

कनाडा में उपभोक्ता संरक्षण[संपादित करें]

कनाडा में उपभोक्ता स्वैच्छिक कोड* के तहत संरक्षित होते हैं, द कैनेडियन कोड ऑफ प्रैक्टिस फॉर कंज्यूमर डेबिट कार्ड सर्विसेस[15] (कभी-कभी "डेबिट कार्ड कोड" कहा जाता है) के अंतर्गत सभी उपभोक्ता डेबिट कार्ड सेवा प्रदाता आते हैं। कोड के पालन की चौकसी कनाडा की वित्तीय उपभोक्ता एजेंसी (Financial Consumer Agency) (FCAC) करती है, जो उपभोक्ता के शिकायतों की जांच करती है।

FCAC की वेबसाइट के अनुसार, कोड में किए गए बदलाव, जो 2005 में प्रभावी हुए, के जरिये वित्तीय संस्थानों पर यह दायित्व दे दिया गया कि वे यह प्रमाणित करें कि लेनदेन संबंधित विवाद के लिए उपभोक्ता जिम्मेवार है और साथ ही वित्तीय संस्थान के लेनदेन संबंधी जांच के दौरान किसी खाते को कुछ दिनों के लिए अवरुद्ध कर सकने की सीमा भी बांध दी।

चिली[संपादित करें]

चिली में एफ्टपोस (EFTPOS) पद्धति है, जो रेडकैम्प्रा (Redcompra) (खरीददारी नेटवर्क) कहलाती है, वर्तमान समय में देश भर में कम से कम 23,000 प्रतिष्ठानों में इस्तेमाल होती है। इस पद्धति का उपयोग करते हुए सामान प्रमुख शहरी केंद्रों के ज्यादातर सुपरमार्केट, खुदरा दुकानों, पब और रेस्तरां से खरीदा जा सकता है।

कोलंबिया[संपादित करें]

कोलंबिया में जो प्रणाली है वह रेडेनबन-मल्टीकलर (Redeban-Multicolor) और क्रेडिबानको (Credibanco Visa) वीसा कहलाता है और वर्तमान समय में जिसका उपयोग 23,000 प्रतिष्ठानों में किया जाता हैं। इस प्रणाली का इस्तेमाल करते हुए शहरी केंद्रों के ज्यादातर सुपरमार्केट, खुदरा दुकानों, पबों और रेस्तरांओं से सामान खरीदे जा सकते हैं। कोलंबियाई डेबिट कार्ड माइस्ट्रो (पिन), वीसा इलेक्ट्रॉन (पिन), वीसा डेबिट (क्रेडिट की तरह) और मास्टरकार्ड-डेबिट (क्रेडिट की तरह) हैं।

डेनमार्क[संपादित करें]

डेनिश डेबिट कार्ड डैनकोर्ट (Dankort) 1 सितंबर 1983 को शुरू किया गया और शुरूआती लेनदेन कागजी होने के बावजूद डैनकोर्ट डेनमार्क में व्यापक रूप से स्वीकृ‍त हुआ। पहला एफ्टपोस (EFTPOS) टर्मिनल 1985 तक शुरू हो गया और 1985 ही वह साल था जब डैनकोर्ट (Dankort) के जरिए लेनदेन पहली बार 1 मिलियन को पार कर गया।[16] यह असामान्य बात नहीं है कि डैनकोर्ट (Dankort) ही केवल एक कार्ड है जिसे छोटे दुकानों द्वारा स्वीकार कर लिया गया, इसलिए ऐसे पर्यटकों के लिए यह कठिन हो गया जो नकदी के बिना यात्रा करते हैं।

विविध तथ्य और संख्याएं

  • 2007 में PBS, डैनकोर्ट (Dankort) प्रणाली के डेनिश ऑपरेटर कुल 737 मिलियन डैनकोर्ट (Dankort) लेनदेन संसाधित करते हैं।[17] इनमें से 4.5 मिलियन सिर्फ एक दिन, 21 दिसम्बर का है। यही मौजूदा रिकार्ड है।
  • 2007 के अंत में, 3,9 मिलियन डैनकोर्ट (Dankort) थे।[17]
  • 80,000 से अधिक डेनिश दुकानों में डैनकोर्ट (Dankort) एक टर्मिनल होता है। इंटरनेट की अन्य 11,000 दुकानें भी डैनकोर्ट (Dankort) स्वीकार करती हैं।[17]

फ्रांस[संपादित करें]

फ्रांस में डेबिट कार्ड के लिए बैंक सालाना शुल्क लेते हैं (कार्ड से भुगतान बैंकों के लिए बहुत ही लागत कुशल होने के बावजूद), फिर भी वे निजी ग्राहकों से चेक बुक या जांच प्रक्रिया के लिए चार्ज नहीं करते (बैंकों के लिए जांच बहुत ही खर्चीला होने के बावजूद). यह असंतुलन उस दिन से है जब 1990 के शुरूआत में फ्रांस का चिप और पिन डेबिट कार्ड की एकतरफा शुरूआत की गयी, इस तकनीक की लागत अब जितनी है तब इससे कहीं अधिक थी। यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका में जिस तरह के क्रेडिट कार्ड पाए जाते हैं वे फ्रांस में असामान्य हैं और अस्थगित डेबिट कार्ड के लगभग बराबर हैं, जो कि एक सामान्य डेबिट कार्ड की तरह संचालित होता है, सिवाय इसके कि खरीददारी के लिए होनेवाले सभी लेनदेन को महीने के आखिरी तक स्थगित रखा जाए, इसके कारण ग्राहक को 1 से 31 के बीच व्याज-मुक्त क्रेडिट दिया जाए. अस्थगित डेबिट के लिए सालाना शुल्क उनके लिए जो तुरंत डेबिट करते हैं, लगभग €10 से अधिक है। फ्रांस के ज्यादातर डेबिट कार्ड कार्टे ब्लू (Carte Bleue) लोगो से ब्रांडेड होते हैं, जो पूरे फ्रांस में स्वीकृत होने का भरोसा दिलाते है। ज्यादातर कार्डधारक अपने कार्डे ब्लू (Carte Bleue) में वीसा या मास्टरकार्ड लोगो प्राप्त करने के लिए सालाना अतिरिक्त शुल्क लगभग भुगतान करने का चुनाव करते हैं, ताकि कार्ड को अंतर्राष्ट्रीय स्वीकृति मिल जाए. कार्टे ब्लू (Carte Bleue) बगैर वीसा या मास्टरकार्ड लोगो के "कार्टे ब्लू नेशनल" के रूप में जाना जाता है और कार्टे ब्लू वीसा या मास्टरकार्ड लोगो के साथ "कार्टे ब्लू इंटरनेशनल" कहलाता है, या ज्यादातर बस "वीसा" या "मास्टरकार्ड" कहलाता है। फ्रांस में बहुत सारे छोटे व्यापारी कुछ निश्चित रकम की लेनदेन के लिए डेबिट कार्ड लेने से मना कर देते हैं, क्योंकि व्यापारी के बैंक प्रति लेनदेन के लिए न्यूनतम चाज करते हैं (यह न्यूनतम रकम 5€ से 15€ तक होता है, या कुछ विरल मामलों में इससे अधिक होता है। लेकिन अधिक से अधिक व्यापारी छोटी रकम के लिए डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं, क्योंकि आजकल डेबिट कार्ड का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर हो रहा है। फ्रांस के व्यापारी डेबिट और क्रेडिट कार्ड के बीच अंतर करते ही नहीं, इसीलिए दोनों को एक जैसी स्वीकृति मिली हुई है। व्यापारी लेनदेन के लिए न्यूनतम रकम तय कर दें, फ्रांस में यह कानूनी है, लेकिन व्यापारी को इसे साफ-साफ प्रदर्शित करना होता है।

जर्मनी[संपादित करें]

जर्मनी में डेबिट कार्ड को सालों साल से व्यापक रूप से स्वीकृति प्राप्त है। एफ्टपोस (EFTPOS) से पहले ही यह सुविधा थी, लेकिन यूरोचेक कार्ड के साथ यह लोकप्रिय हो गयी, असली चेक में हस्ताक्षर करने के अलावा शुरू में इसके साथ ही ग्राहकों को सुरक्षा उपाय के तहत कार्ड की भी जांच कराने की जरूरत पड़ती थी। ATM (एटीएम) टर्मिनल में और कार्ड-आधारित इलेक्ट्रॉनिक धन हस्तांतरण (जो गिरोकार्ड (Girocard) कहलाता है) के लिए भी इन कार्डों का उपयोग किया जा सकता है। ऐसे कार्डों का अब केवल इतना ही कार्य हैं: 2002 में लेनदेन के दौरान यूरो को डेयूटस्चे मार्क देकर यूरोचेक प्रणाली को (ब्रांड के साथ) छोड़ दिया गया है। 2005 तक, ज्यादातर दुकान और पेट्रोल के आउटलेट एफ्टपोस (EFTPOS) की सुविधाएं देते रहे। प्रक्रमण शुल्क व्यापारियों द्वारा भुगतान किया जाता है, नतीजा यह होता है कि कुछ व्यापार मालिक कुल बिक्री के एक तय रकम का भुगतान, आमतौर पर 5 से 10 यूरो के लिए, डेबिट कार्ड लेने से मना कर देते हैं।

प्रक्रमण शुल्क से बचने के लिए बहुत सारे व्यापारियों ने डेबिट कार्ड का उपयोग शुरू किया, जो तब कहलाता था इलेक्ट्रॉनिक डाइरेक्ट डेबिट जर्मन : Elektronisches Lastschriftverfahren, (संक्षेप में ELV.) बिक्री बिंदु टर्मिनल कार्ड में दिये गए नाम और खाते की संख्या को पढ़ता है, लेकिन ईसी (ec) नेटवर्क के लिए लेनदेन को नियंत्रित करने के बजाए यह सीधे प्रपत्र का मुद्रण करता है, जिसमें ग्राहक डेबिट नोट को प्राधिकृत करने के लिए हस्ताक्षर करता है। हालांकि यह प्रणाली नेटवर्क द्वारा किसी प्रकार के सत्यापन या भुगतान की गारंटी प्रदान करने से बचता है। इसके बाद, बिना कोई कारण दिए ग्राहक अपने बैंक को सूचित करते हुए नोट को वापस कर सकते हैं। इसका मतलब यह है कि लाभार्थी धोखाधड़ी और अतरलता का जोखिम उठाता है। कुछ व्यापार ट्रेडमार्क युक्त काली सूची वाले से परामर्श कर या बड़े लेनदेन की रकम के लिए इलेक्ट्रॉनिक कैश की शुरूआत करके जोखिम मोल लेते हैं।

2000 के आसपास, गेल्डकार्टे (Geldkarte) ("मुद्रा" कार्ड) नाम से एक इलेक्ट्रॉनिक पर्स कार्ड, की शुरूआत की गयी। इसने जारी किए गए सामान्य डेबिट कार्ड के साथ स्मार्ट कार्ड चिप को उपयोगी बनाया। इस चिप को 200 यूरो से चार्ज किया जा सकता है और मध्यम से लेकर छोटे-से भुगतान के माध्यम के रूप में इसका प्रचार किया गया, यहां तक कि कुछ यूरो या सेंट से भी कम भुगतान के लिए। इसका मुख्य कारक यह है कि बैंक द्वारा किसी भी तरह का प्रक्रमण शुल्क नहीं काटा जाता है। इसके आविष्कारकों को इसकी लोकप्रियता की जितनी उम्मीद थी, उतना इसे प्राप्त नहीं हुआ। हालांकि, चिप के रूप में इस बदलाव के कारण सिगरेट बेचनेवाली मशीन, जो जनवरी 2007 से जरूरी हो गया है, में उम्र के सत्यापन के जांच का जरिया बन गया है। इसके अलावा, जब "गेल्डकार्ट" (Geldkarte) से भुगतान किया जाए तो भुगतान में कुछ छूट का भी प्रस्ताव (उदाहरण के लिए सार्वजनिक परिवहन किराये में 10% की छूट) दिया जाता है। "गेल्डकार्टे" (Geldkarte) भुगतान में सभी तरह के सुरक्षा उपायों का अभाव है, क्योंकि यह उपयोगकर्ता को पिन दर्ज या बिक्री स्लिप पर हस्ताक्षर करने की आवश्यकता नहीं होती है: "गेल्डकार्टे" (Geldkarte) खो जाना बटुआ या पर्स खोने के बराबर है - जिस किसीको भी मिल जाए वह अपनी खरीददारी के भुगतान के लिए इसका उपयोग कर सकता है।

हांगकांग[संपादित करें]

एक लोकप्रिय भुगतान पद्धति है जिसका हांगकांग में व्यापक रूप से उपयोग होता है और जो डेबिट कार्ड जैसा ही है, EPS. EPS कहलाता है, भुगतान की पद्धति है जो ग्राहक को उनके कार्ड को डेबिट कार्ड की तरह इस्तेमाल करने देती है। हांगकांग के ज्यादातर बड़े बैंक ग्राहकों को EPS के साथ एटीएम कार्ड भी प्रदान करते हैं।

हंगरी[संपादित करें]

हंगरी में डेबिट कार्ड क्रेडिट कार्ड की तुलना में कहीं ज्यादा आम और लोकप्रिय है। हंगरी के बहुत से निवासी अपने डेबिट कार्ड ("betéti kártya") के लिए गलती से क्रेडिट कार्ड ("hitelkártya") शब्द का इस्तेमाल करते हैं।[18]

भारत[संपादित करें]

भारत में डेबिट कार्ड की लोकप्रियता सीमित है, क्योंकि व्यापारी हर लेनदेन के लिए शुल्क लेते हैं। इसलिए डेबिट कार्ड ज्यादातर एटीएम (ATM) लेनदेन के लिए इस्तेमाल किया जाता है। ज्यादातर बैंक वीसा (VISA) डेबिट कार्ड जारी करते हैं, जबकि कुछ बैंक (जैसे SBI माइस्ट्रो कार्ड जारी करते हैं। डेबिट कार्ड लेनदेन जारीकर्ता बैंक के बजाए सीधे वीसा (VISA) या मास्टरकार्ड नेटवर्क के जिरए होता है।

इटली[संपादित करें]

इटली में डेबिट कार्ड काफी लोकप्रिय हैं। यहां क्लासिक और प्रीपेड दोनों तरह के कार्ड हैं। इटली में मुख्य क्लासिक डेबिट कार्ड पागोबैनकोमैट (PagoBancomat) है: इस तरह के कार्ड अक्सर क्रेडिट कार्ड के साथ इतावली बैंक द्वारा जारी किए जाते हैं (ताकि आपके पास दोहरे मोडवाले कार्ड हों). यह कार्ड के मालिक को बैंक खाते से यह धन निकालने की अनुमति देता है और व्यापक रूप से यह ज्यादातर दुकानों में यह स्वीकृत है, हालांकि इंटरनेट पर यह केवल क्रेडिट कार्ड मोड की ही अनुमति देता है। प्रमुख डेबिट प्रीपेड कार्ड जारी किया जाता है पोस्टे इटालियाना S.p.A, द्वारा, जो पोस्टपे (Postepay) कहलाता है और वीसा इलेक्ट्रॉन (Visa Electron) सर्किट पर चलाता है। पोस्ट इटालियाना के एटीएमों (ATMs) (पोस्टमैट (Postamat)) का इस्तेमाल किया जा सकता है और दुनिया भर के वीसा इलेक्ट्रॉन अनुकूल बैंक के एटीएमों में इस्तेमाल किया जा सकता है। इंटरनेट पर या POS-आधारित लेनदेन के लिए इसका इस्तेमाल किया जाए तो कोई शुल्क नहीं लगता है। कार्ड अन्य कंपिनयों जैसे वोडाफोन कैशकार्ड (Vodafone CashCard), बैनका डि मिलानो (Banca di Milano) का कार्टा जिन्स (Carta Jeans) और कार्टा मॉनेटा ऑनलाइन (Carta Moneta Online) द्वारा जारी किए जाते हैं।

जापान[संपादित करें]

जापान के निवासी आमतौर इसका इस्तेमालcash cards (キャッシュカード kyasshu kādo?) डेबिट कार्ड के रूप में करते हैं, मूलत: वे केवल कैश मशीन पर इसका उपयोग करना चाहते हैं। इन कार्डों की कार्यक्षमता को आमतौर पर डेबिट के रूप में निर्दिष्ट किया गया है,J-Debit (ジェイデビット Jeidebitto?) और किन्हीं बैंकों के केवल नकद कार्ड का ही उपयोग किया जा सकता है। एक नकद कार्ड का आकार एक VISA (वीसा)/मास्टरकार्ड की ही तरह छोटा होता है। पहचान के लिए, इसके उपयोगकर्ता को भुगतान के समय अपने चार अंकों का पिन डालना होगा। 6 मार्च 2000 को जापान में जे-डेबिट (J-Debit) शुरू किया गया था।

2006 में जापान का पहला वीसा डेबिट सेवा शुरू करनेवाला बैंक सुरूगा बैंक (Suruga Bank) है। 2007 के अंत तक ईबैंक (Ebank) वीसा डेबिट सेवा की शुरूआत करेगा। [19]

कुवैत[संपादित करें]

कुवैत में सभी बैंक अपने खाता धारकों को एक डेबिट कार्ड प्रदान करते हैं। यह कार्ड केंट (KNET) के रूप में ब्रांडेड है, कुवैत में जो केंद्रीय संचालक है। केंट (KNET) कार्ड लेनदेन ग्राहक और व्यापारी दोनों के लिए निःशुल्क है तथा इसलिए भी केंट (KNET) डेबिट कार्डों का इस्तेमाल कम मूल्य के लिए लेनदेन के लिए होता है। केंट (KNET) कार्ड ज्यादातर माइस्ट्रो या वीसा इलेक्ट्रॉन के रूप में ब्रांडेड हैं, जिसके कारण इसका उपयोग कुवैत से बहार किसी भी टर्मिनल को सहयोग करनेवाले भुगतान योजनाओं में संभव होता है।

नीदरलैंड्स[संपादित करें]

[[नीदरलैंड|नीदरलैंड]] में एफ्टपोस (EFTPOS) पिन्नेन (pinnen) (pin ning) नाम से जाना जाता है, इस शब्द की व्युत्पत्ति एक व्यक्तिगत पहचान संख्या (Personal Identification Number) का उपयोग करने से हुई है। एटीएम लेनदेन में भी पिन (PINs) का उपयोग किया जाता है और यह शब्द विनिमेयता के अनुसार बहुत से लोगों द्वारा प्रयोग किया जाता है, हालांकि एफ्टपोस (EFTPOS) का आरंभ एक विपणन ब्रांड के रूप में ही किया गया था। यह प्रणाली 1987 में शुरू की गयी थी और 2006 में देश भर में इसके 166,375 वितरण टर्मिनल थे, जिनमें डेलिवरी सेवाओं द्वारा मोबाइल टर्मिनलों का इस्तेमाल और बाजार भी शामिल हैं। सभी बैंक करेंट खातों के साथ एफ्टपोस (EFTPOS) के लिए उपयुक्त डेबिट कार्ड प्रदान करते हैं।

पिन लेनदेन आमतौर पर ग्राहकों के लिए निःशुल्क होते हैं, लेकिन खुदरा विक्रेताओं से प्रति लेनदेन के लिए और मासिक शुल्क वसूला जाता है। सभी प्रमुख बैंकों की सदस्यता का संघ इक्वेंस (Equens) इस प्रणाली को संचालित करता है और अगस्त 2005 तक यह इसके लिए शुल्क भी लिया करता था। एकाधिकार के दुरुपयोग के आरोपों के कारण इसने अपने सदस्य बैंकों को संविदात्मक जिम्मेवारी सौंप दी, जो अब प्रतिस्पर्धात्मक अनुबंध प्रदान करते हैं। 2004 में इक्वेंस (Equens) के कानूनी पूर्वज, इंटरपे (Interpay) को 47 मिलियन यूरो (EUR) का जुर्माना लगाया गया था, लेकिन बाद में यह जुर्माना हटा दिया गया था और बैंकों के लिए संबंधित जुर्माने को 17 मिलियन यूरो से €14 मिलियन तक कम कर दिया गया। राशि के आधार पर प्रति-लेनदेन की फीस 5-10 यूरोसेंट्स के बीच है।

नीदरलैंड में क्रेडिट कार्ड का उपयोग बहुत कम है और ज्यादातर क्रेडिट कार्ड या तो एफ्टपोस (EFTPOS) के साथ उपयोग नहीं किया जा सकता, या ग्राहक से बहुत ज्यादा शुल्क वसूले जाते हैं। पूरे EU में एफ्टपोस (EFTPOS) का उपयोग अक्सर किया जा सकता है, हलाकि हमेशा नहीं। ज्यादातर डेबिट कार्ड माइस्ट्रो कार्ड हैं।

इलेक्ट्रॉनिक पर्स कार्ड्स (Electronic Purse Cards) (चिपनिप (Chipknip) कहलाता है) 1996 में पहली बार लाया गया, लेकिन यह कभी बहुत अधिक लोकप्रिय नहीं हुआ।

न्यूजीलैंड[संपादित करें]

न्यूजीलैंड में एफ्टपोस (EFTPOS) (बिक्री बिंदु (point of sale) पर इलेक्ट्रॉनिक तरीके से पैसे का हस्तानांतरण (electronic fund transfer)) पद्धति डेबिट कार्ड टर्मिनल के साथ प्रति व्यक्ति आबादी के हिसाब से अन्य देशों की तुलना में बहुत लोकप्रिय है[20] और लगभग 60% सभी खुदरा लेनदेन के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है।[21] एफ्टपोस (EFTPOS) के सबसे बड़े नेटवर्क प्रदाता के अनुसार, "न्यूजीलैंड में अन्य देशों की तुलना में एफ्टपोस (EFTPOS) का उपयोग दोगुना होता है।"[22]

न्यूजीलैंड के लिए यह कोई असमान्य बात नहीं है कि यहां एक से अधिक एफ्टपोस (EFTPOS) कार्ड हैं और बैंक पूरे महीने भर में असीमित (100 या उससे अधिक से अधिक) एफ्टपोस (EFTPOS) लेनदेन के लिए एक मासिक शुल्क तय कर देने की पेशकश करता है। एफ्टपोस (EFTPOS) पद्धति बहुत ही खास अवधि में मसलन; क्रिसमस के दौरान बहुत बड़ी मात्रा में होनेवाले लेनदेन को संभाल लेने में सक्षम है। नेटवर्क बहुत ही समृद्धि हैं और इसमें सुरक्षा सुनिश्चित करने और यहां तक कि लेनदेन की अधिकतम अवधि में विघटन के जोखिम को कम से कम करने के इसमें बहुत सारे सुरक्षा उपाय हैं।

दरअसल, समी खुदरा आउटलेटों, खासतौर पर सुपरमार्केटों, डेयरीज (सुविधाजनक दुकानों), सेवा केंद्रों और बारों में एफ्टपोस (EFTPOS) टर्मिनल हैं। टैक्सी प्रचालकों, कार्यक्रमों में किसी पते से कारोबार करनेवालों और यहां तक कि पिज्जा पहुंचाने वाले लोगों के पास मोबाइल एफ्टपोस (EFTPOS) टर्मिनल हैं।

न्यूजीलैंड निवासी छोटे और बड़े दोनों तरह के लेनदेन के लिए एफ्टपोस (EFTPOS) का इस्तेमाल करते हैं। न्यूजीलैंड वालों के लिए 50 NZD (न्यूजीलैंड) सेंट जैसे छोटी राशि के भुगतान के लिए एफ्टपोस (EFTPOS) का उपयोग कोई असामान्य बात नहीं है। क्योंकि न्यूजीलैंड में खर्च करने का एफ्टपोस (EFTPOS) एक अभिन्न हिस्सा है, कभी-कभार नेटवर्क में खराबी के कारण, जब तक नेटवर्क सेवा वापस शुरू नहीं होती तब तक मैन्युअल "जिप-जैप" स्वाइप मशीन से एफ्टपोस (EFTPOS) लेनदेन की प्रक्रिया में उन्हें जाना पड़ता है, जिन्हें बहुत ही अधिक विलंब होने पर यह दिक्कते पेश आती है और कारोबार में आय के नुकसान का यह कारण बनता है।[23] जैसा कि ऑस्ट्रेलिया और अन्य देशों में होता है, न्यूजीलैंड के व्यापारी आमतौर पर प्रति लेनदेन के लिए शुल्क अदा नहीं करते हैं। लेनदेन शुल्क आमतौर पर ग्राहक वहन करते हैं और खुदरा दुकानदार एक तय रकम मासिक उपकरण किराया शुल्क के रूप में अदा करते हैं। चूंकि छात्रों और 18 से नीचे की उम्र के बच्चों के बैंक खाते के लिए आमतौर पर इलेक्ट्रॉनिक लेनदेन शुल्क या तो लिये नहीं जाते या बहुत ही कम लिये जाते हैं, इस कारण एफ्टपोस (EFTPOS) का उपयोग युवा पीढि़यों द्वारा लगभग हर जगह किया जाता है। हाल के समय में, प्रमुख बैंकों ने बगैर एफ्टपोस (EFTPOS) लेनदेन शुल्क के बैंक खाते की पेशकश की शुरूआत की है।

बैंक ऑफ न्यूजीलैंड ने 1985 में न्यूजीलैंड में पेट्रोल स्टेशनों के साथ पायलट स्कीम के जरिए एफ्टपोस (EFTPOS) की पहली बार शुरूआत की।

एफ्टपोस (EFTPOS) दो प्राथमिक नेटवर्क के जरिए संचालित होता है। एक एफ्टपोस () NZ पर ANZ का मालिकाना है और दूसरा पेमार्क लिमिटेड (पूर्व में इलेक्ट्रॉनिक ट्रांजीशन सर्विसेज लिमिटेड) द्वारा संचालित होता है, जिसका मालिकाना ASB बैंक, वेस्टपैक और बैंक ऑफ न्यूजीलैंड का है। पेमार्क नेटवर्क न्यूजीलैंड में सभी एफ्टपोस (EFTPOS) लेनदेन का लगभग 75% पेमार्क एफ्टपोस (EFTPOS) नेटवर्क पर प्रक्रमण करता है और 73,000 बिक्री के बिंदु (points of sale) हैं।[24]

1989 में न्यूजीलैंड में जबसे भुगतान का इलेक्ट्रॉनिक तरीका चालू हुआ तबसे लेकर जुलाई 2008 के दौरान एफ्टपोस (EFTPOS) भुगतान ETSL/पेमार्क एफ्‍टपोस (EFTPOS) नेटवर्क पांच बिलियन तक पहुंच गया।[25]

9 मई 2007 को पेमेंट एक्सप्रेस (Payment Express) ने पहली बार IP/ ब्रॉडबैंड प्रमाणित टर्मिनल के रूप में मान्यता प्रदान की और एफ्‍टपोस (EFTPOS) लेनदेन को इंटरनेट पर सुरक्षित प्रसारित करने की अनुमति प्रदान की।

बहरहाल, न्यूजीलैंड में सार्वजनिक इंटनेट पर एफ्टपोस (EFTPOS) भुगतान से संबंधित सुरक्षा मामले और परंपरागत (डायल-अप) टर्मिनल प्रतिस्थापन के साथ जुड़ी लागत IP माधयम के विकास में रोड़ा बन गयी है। एक कंपनी, मर्चेंट IP सर्विसेज (Merchant IP Services) (MIPS) वैकल्पिक IP-POS समाधान की पेशकश करता हैं, जो ज्यादातर परंपरागत (डायल-अप) टर्मिनलों को बगैर टर्मिनल प्रतिस्थापन की जरूरत के सुरक्षित कनेक्शन की अनुमति देता है। PCI शिकायत और परंपरागत एप्टपोस (EFTPOS) टर्मिनल से जुड़े MIPS वेबनैक (WebNAC) से समृद्धि पेमार्क (Paymark) मान्यताप्राप्त MIPS IP-POS पद्धति बैंक को भुगतान सुरक्षित पहुंचाने से पहले डायल अप लेनदेन डेटा को IP में परिवर्तित करता है।

मार्च 2008 में न्यूजीलैंड में ऑनलाइन खरीददारी के लिए पहला डेबिट या "स्टोर वैल्यू" (stored value) पद्धति का निर्माण करने के लिए पेमार्क (paymark) ने वास्तविक वॉलट (wallet) भुगतान पद्धति पेगो (pago) के साथ साझेदारी की।

व्यंग्यात्मक रूप से कहने का तात्पर्य यह है कि कहने को तो दुनिया में तैयार की गयी शुरूआती प्रणालियों में से न्यूजीलैंड एफ्टपोस (eftpos) प्रणाली एक है और इसकी सफलता तथा लोकप्रियता के लिए इस प्रणाली में अन्य देशों में विकसित हुई तकनीक को शामिल करने के लिए कुछ भी नहीं किया गया। कार्ड केवल न्यूजीलैंड के भीतर ही इस्तेमाल किया जा सकता था और वह भी व्यापारी टर्मिनल में सशरीर उपस्थित होकर. इसके कारण ज्यादातर बैंकों ने एफ्टपोस कार्ड को माइस्ट्रो के सह-ब्रांड के रूप में जारी करना शुरू किया, ताकि विदेश में भी इसका उपयोग किया जा सके। 2009 में अनेक बैंकों ने एफ्टपोस कार्ड की शुरूआत आरंभ की, साथ ही न्यूजीलैंड एफ्टपोस सुविधा में वीसा डेबिट प्रणाली को भी शामिल किया गया, ताकि ग्राहक उनका इस्तेमाल ऑन-लाइन तथा विदेशों में भी कर सकें.

फिलीपींस[संपादित करें]

फिलीपींस में, सभी तीन राष्ट्रीय एटीएम (ATM) नेटवर्क संकाय मालिकाना पिन डेबिट प्रदान करते हैं। 1987 में एक्सप्रेस पेमेंट सिस्टम (Express Payment System) द्वारा पहली बार इसकी पेशकश की गयी, उसके बाद 1993 में पेलिंक (Paylink) के साथ मेगालिंक (Megalink) आया और 1994 में [[बिक्री बिंदु (Point-of-Sale) के साथ बैंकनेट|बिक्री बिंदु (Point-of-Sale) के साथ बैंकनेट]] (BancNet) की शुरुआत हुई।

एक्सप्रेस भुगतान सिस्टम (Express Payment System) या ईपीएस (EPS) अग्रणी प्रदाता था, जिसने बैंक ऑफ फिलीपाइन आइलैंड्स की ओर से 1987 में इस सेवा का आरंभ किया। 2005 में ईपीएस (EPS) सेवा का विस्तार करते हुए इसमें अन्य एक्सप्रेसनेट (Expressnet) सदस्यों, बंको डि ओरो तथा लैंड बैंक ऑफ फिलीपींस को शामिल किया गया। वे अपने कार्डधारकों के लिए फिलहाल 10,000 टर्मिनल चला रहे हैं।

1993 में मेगालिंक ने एफ्टपोस (EFTPOS) प्रणाली का शुभारंभ किया। टर्मिनल सेवाओं को संकाय की ओर से इक्विटेबल कार्ड नेटवर्क (Equitable Card Network) प्रदान की जाती हैं। 2000 टर्मिनलों में सेवा उपलब्ध है, ज्यादातर मनीला मेट्रो (Metro Manila) में.

बैंकनेट (BancNet) ने 1994 में अपने बिक्री बिंदु (Point of sale) के रूप में प्रथम संकाय-संचालित एफ्टपोस (EFTPOS) सेवा शुरू की। यह सेवा दूसरी व तीसरी श्रेणी की नगरपालिकाओं सहित पूरे फिलीपींस के 1,400 स्थानों में उपलब्ध है। 2005 में, बैंकनेट (BancNet) ने पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना के एकमात्र एटीएम (ATM) स्विच चाइना यूनियनपे (china UnionPay) को स्थानीय सुविधा प्रदान करने के लिए एक करार पर हस्ताक्षर किया। इससे 1.0 बिलियन चीनी एटीएम कार्डधारकों को सभी SM सुपरमाल (SM Supermalls) में एफ्टपोस और बैंकनेट एटीएम के उपयोग की सुविधा मिलेगी.

यूनियन बैंक ऑफ फिलीपींस (ई-वॉलट एंड एऑन), चाइनाट्र्स्ट (Chinatrust), इक्विकॉम सेविंग्स बैंक (Equicom Savings Bank) (की कार्ड और कैश कार्ड), बैंको डि ओरो (Banco De Oro), एचएसबीसी (HSBC), एचएसबीसी सेविंग्स बैंक (HSBC Savings Bank) तथा स्टर्लिंग बैंक ऑफ एशिया (Sterling Bank of Asia) (वीसा शॉपएनपे (ShopNPay) प्रीपेड तथा डेबिट कार्ड) वीसा डेबिट कार्ड जारी करते हैं। यूनियन बैंक ऑफ फिलीपींस के कार्ड, इक्विकॉम सेविंग्स बैंक व स्टर्लिंग बैंक ऑफ एशिया के ईवीएम (EMV) कार्ड का इस्तेमाल इंटरनेट खरीददारी में भी किया जा सकता है। स्टर्लिंग बैंक ऑफ एशिया ने अपना पहला प्रीपेड, ईवीएम (EMV) चिप के साथ डेबिट वीसा कार्ड जारी किया। मास्टरकार्ड डेबिट कार्डों को बैंको डि ओरो (Banco de Oro), सिक्यूरिटी बैंक (Security Bank) (कैशलिंक एंड कैश कार्ड) और स्मार्ट कम्युनिकेशन्स (Smart Communications) (स्मार्ट मनी) ने बैंको डि ओरो (Banco de Oro) के साथ मिलकर जारी किया। मास्टरकार्ड इलेक्ट्रॉनिक कार्ड BPI (एक्सप्रेस कैश) और सिक्योरिटी बैंक (कैशलिंक प्लस) द्वारा जारी किया। फिलीपींस में डेबिट कार्ड आधारित सभी वीसा (VISA) और मास्टरकार्ड समुद्भृत नहीं (non-embossed) होते और उनमें या तो "इलेक्ट्रॉनिक यूज ओनली" (वीसा/मास्टरकार्ड) या "केवल वहीँ स्वीकृत हैं जहां मास्टरकार्ड इलेक्ट्रॉनिक हों" (मास्टरकार्ड इलेक्ट्रॉनिक) चिह्नित होता है।

पोलैंड[संपादित करें]

पोलैंड में, व्यापक रूप से स्थानीय डेबिट कार्ड, जैसे कि पोलकार्ड (PolCard), ने वीसा या मास्टरकार्ड, या गैर-समुद्भृत वीसा इलेक्ट्रॉन अथवा माइस्ट्रो जैसे अंतरराष्ट्रीय कार्डों का स्थान ले लिया है। पोलैंड के अधिकांश बैंकों ने गैर-समुद्भृत कार्डों से इंटरनेट और मोटो (MOTO) लेनदेन पर रोक लगा रखी है, इसके लिए ग्राहकों को एक समुद्भृत कार्ड या एक केवल इंटरनेट/मोटो लेनदेन कार्ड खरीदने की जरुरत होती है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] गैर-समुद्भृत कार्डों से मोटो लेनदेन पर रोक नहीं लगाने वाले बैंकों की संख्या में हाल ही में वृद्धि शुरू हुई है।

रूस[संपादित करें]

वीसा और मास्टर कार्ड को छोड़ कर, सामान्य रूप में यहां कुछ स्थानीय भुगतान प्रणाली हैं जो स्मार्ट कार्ड प्रौद्योगिकी पर आधारित है।

  • स्बेरकार्ड (Sbercard). इस भुगतान पद्धति को 1995-1996 के आसपास स्बेरबैंक (Sberbank) द्वारा तैयार किया गया था। यह BGS स्मार्टकार्ड प्रणाली AG (BGS Smartcard Systems AG) स्मार्ट कार्ड पद्धति अर्थात् DUET का उपयोग करता है। 1990 से पहले USSR में स्बेरबैंक अकेला खुदरा बैंक हुआ करता था। डी फेक्टो (De facto) स्बेरबैंक की भुगतान पद्धति है।
  • जोलोत्या कोरोना (Zolotaya Korona). इस कार्ड का ब्रांड 1994 में बनाया गया था। जोलोत्या कोरोना CFT तकनीक पर आधारित है।
  • STB कार्ड. यह कार्ड परंपरागत चुंबकीय पट्टी तकनीक का इस्तेमाल करता है। 1998 के बाद (GKO संकट) STB बैंक की असफलता के साथ यह लगभग पूरी तरह ख़त्म हो गया।
  • यूनियन कार्ड. यह कार्ड भी परंपरागत चुंबकीय पट्टी तकनीक का इस्तेमाल करता है। इस कार्ड का ब्रांड पतन की ओर पर है। इन खातों को वीसा या मास्टरकार्ड खातों के रूप में फिर से इश्यू किया जा रहा है।

लगभग हर लेनदेन, ब्रांड या सिस्टम कोई भी हो, को एक तत्काल डेबिट लेनदेन के रूप में संसाधित किया जाता है। इन पद्धतियों के अंतर्गत गैर डेबिट लेनदेन की एक सीमा है, जब वीसा या मास्टरकार्ड खातों के साथ तुलना की जाती है तो यह बिलकुल सीमित हो जाती हैं।

सऊदी अरब[संपादित करें]

सउदी अरब में डेबिट कार्ड के सभी लेनदेन सउदी पेमेंट नेटवर्क (Saudi Payments Network) (SPAN) के जरिए होते हैं, इस राजशाही में यही एकमात्र इलेक्ट्रॉनिक भुगतान प्रणाली है और सउदी अरब मौद्रिक एजेंसी (Saudi Arabian Monetary Agency) (SAMA) द्वारा सभी बैंक इस नेटवर्क में पूरी तरह अनुकूल कार्ड जारी करने के लिए अपेक्षित हैं। यह पूरे देश भर में बिक्री बिंदुओं के टर्मिनलों (POS) को केंद्रीय भुगतान से जोड़ता है, जो कार्ड जारी करनेवाले स्थानीय बैंक, VISA, AMEX या मास्टर कार्ड के वित्तीय लेनदेन की दिशा को फिर से बदल देता है।

इसके साथ ही साथ, इसका उपयोग डेबिट कार्ड में है, नेटवर्क का इस्तेमाल एटीएम (ATM) और क्रेडिट कार्ड लेनदेन के लिए भी होता है।

सिंगापुर[संपादित करें]

सिंगापुर में नेटवर्क फॉर इलेक्ट्रॉनिक ट्रांसफर (Network for Electronic Transfers) (NETS) के द्वारा डेबिट सेवा का प्रबंधन होता है; जिसकी स्थापना केंद्रीकृत ई-भुगतान ऑपरेटरों की जरूरत को देखते हुए सिंगापुर के प्रमुख बैंकों - DBS, कैपेल बैंक, OCBC, OUB, POSB, टैट ली बैंक और UOB ने 1985 में की। डेबिट कार्ड का उपयोग करते हुए जब आप कुछ खरीदते हैं तो यह सीधे आपके बैंक से पैसे काट लेता है।

यूनाइटेड किंगडम[संपादित करें]

UK में डेबिट कार्ड (एक एकीकृत एफ्टपोस (EFTPOS) प्रणाली) खुदरा बाजार का प्रतिष्ठित हिस्सा है और इंटरनेट दुकानों द्वारा और ईंट तथा गारा दुकानों द्वारा इसे व्यापक रूप से स्वीकार किया गया। एफ्टपोस (EFTPOS) शब्द आमलोगों द्वारा व्यापक रूप से इस्तेमाल नहीं किया जाता है, डेबिट कार्ड (या स्विच, यहां तक कि जब वीसा कार्ड कहा जाता है) शब्द का प्रयोग सामान्य है। माइस्टरो सहित (पहले स्विच), सोलो, वीसा डेबिट (पहले वीसा डेल्टा) और वीसा इलेक्ट्रॉन कार्ड यहां आमतौर पर संचालित हैं। UK में बैंक ग्राहकों को एफ्टपोस (EFTPOS)_लेनदेन के लिए चार्ज नहीं करता, लेकिन कुछ खुदरा व्यापारी छोटा-सा चार्ज करते हैं, खासतौर पर जहां लेनदेन की रकम बहुत ही छोटी-सी होती है। UK ने संचालन के सभी डेबिट कार्डों को चिप (chip) और पिन (pin) (केवल चिप और सिग्नेचर (Signature) कार्ड को छोड़ कर) में परिवर्तित कर दिया है, ये सभी लेनदेन सुरक्षा में वृद्धि करने के लिए EMV मानक पर आधारित हैं, हालांकि इंटरनेट लेनदेन के लिए पिन की जरूरत नहीं होती है।

यूनाइटेड किंगडम में बैंकों ने 1980 के दशक के मध्य में खरीददारी के लिए बड़ी संख्या में चेक दिए जाने की प्रवणता, जिस पर कार्रवाई करना बैंक के लिए खर्चीला था, को कम करने के लिए डेबिट कार्ड जारी करना शुरू किया, पहला बैंक जिसने यह शुरू किया वह है बार्कलेस (Barclays), जिसने बार्कलेस कनेक्ट (Barclays Connect) कार्ड जारी किया। ज्यादातर देशों की तरह, यूनाइटेड किंगडम में क्रेडिट कार्ड स्वीकार करने के लिए व्यापारियों द्वारा भुगतान किया गया शुल्क लेनदेन की रकम का एक प्रतिशत होता है,[26] जो कार्डधारकों के ब्याज-मुक्त ऋण अवधि साथ ही साथ प्रोत्साहन योजना जैसे अंक, एयरमाइल्स, या कैशबैक के लिए धन मुहैया कराता है। डेबिट कार्डों में इस तरह की विशेषताएं आमतौर पर नहीं होती हैं और इसलिए व्यापारियों द्वारा डेबिट कार्ड स्वीकार करने के शुल्क के रूप में बहुत ही कम रकम निर्धारित है, फिर चाहे लेनदेन की रकम कितनी भी क्यों ना हो[26]. बहुत छोटी रकम के लिए, क्रेडिट कार्ड की तुलना में डेबिट कार्ड के स्वीकार करने के लिए यह व्यापरियों के लिए कहीं अधिक सस्ता है। हालांकि भुगतान तरीके के अनुसार व्यापारी, ग्राहकों को अलग-अलग रकम चार्ज करने का अधिकार क्रेडिट कार्ड (मूल्य भेदभाव) आदेश 1990 के जरिए प्राप्त करता है, UK में कुछ व्यापारी क्रेडिट कार्ड की तुलना में डेबिट कार्ड द्वारा भुगतान करने के लिए कम पैसे वसूलते हैं, सबसे उल्लेखनीय अपवाद बजट एयरलाइन्स, ट्रैवेल एजेंट और IKEA होते हैं।[27] भुगतान न करनेवाले व्यापारियों के खिलाफ UK में जारी किए गए क्रेडिट कार्डों धारकों को उपभोक्ता क्रेडिट अधिनियिम 1974 की धारा 75 के तहत दिए जानेवाले; नि:शुल्क प्रोत्साहन (अंक, एयरमाइल्स, कैशबैक इत्यादि), व्याज-मुक्त क्रेडिट और संरक्षण जैसे लाभ; UK में डेबिट कार्ड में नहीं मिलते हैं। यूनाइटेड किंगडम में लगभग सभी प्रतिष्ठान जो क्रेडिट कार्ड स्वीकार करते हैं डेबिट कार्ड भी स्वीकार करते हैं (हालांकि सोलो और वीसा इलेक्ट्रॉन हमेशा नहीं), लेकिन लागत के कारण व्यापारियों में कुछ डेबिट कार्ड स्वीकार करते हैं, पर क्रेडिट कार्ड नहीं।

संयुक्त राज्य अमेरिका[संपादित करें]

U.S. में, एफ्टपोस (EFTPOS) दुनिया भर में हर जगह चलनेवाला डेबिट है। एक ही इंटरबैंक नेटवर्क है जो एटीएम (ATM) नेटवर्क के साथ POS संचालित नेटवर्क को भी संचालित करता है। ज्यादातर इंटरबैंक नेटवर्क, जैसे पल्स, एनवाईसीई (NYCE), एमएसी (MAC), Tyme, SHAZAM, STAR वगैरह क्षेत्रीय हैं और परस्पर व्याप्त नहीं हैं; हालांकि ज्यादातर ATM/POS नेटवर्क के बीच एक-दूसरे के कार्ड स्वीकार करने के करार हैं। इसका मतलब यह है कि एक नेटवर्क द्वारा जारी कार्ड विशिष्ट तौर पर कहीं भी काम करता है, वे भुगतान के लिए ATM/POS कार्डों को स्वीकार करते हैं। उदाहरण के लिए एक NYCE कार्ड पल्स पोस (Pulse POS) टर्मिनल या एटीएम (ATM) और विपरीत क्रम पर काम करेंगे। संयुक्त राज्य अमेरिका में वीसा या मास्टरकार्ड लोगो के साथ जारी किए गए बहुत सारे कार्ड अपने हस्ताक्षर आधारित नेटवर्कों का उपयोग करने की अनुमति देते हैं।

खो जाने या चोरी हो जाने पर U.S. डेबिट कार्ड उपयोगकर्ता की देनदारी 50 USD तक है, बशर्ते खो जाने या चोरी हो जाने की सूचना ग्राहक को इसका पता चल जाने के बाद दो कारोबारी दिन के भीतर कार्ड जारी करनेवाले बैंक को दे दी जाए.[28]

ऑफलाइन डेबिट खरीददारी पर व्यापारी को चार्ज किए गए शुल्क के लिए – और ऑनलाइन डेबिट खरीददारी या कागजी चेकों के प्रक्रमण के लिए व्यापारी को किए गए चार्ज के लिए - वीसा और मास्टर कार्ड जैसे डेबिट कार्ड लेनदेन संसाधकों के खिलाफ मुकदमा करने में U.S. में कुछ प्रमुख व्यापारी बहुत ही तत्पर होते हैं। 2003 में, वीसा और मास्टरकार्ड अपने ज्यादातर मुकदमा से निपटारा करने पर सहमत हो गए और अरबों डॉलर चुकता करने पर भी सहमत हो गए।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

कुछ उपभोक्ता "क्रेडिट" लेनदेन को पसंद करते हैं, क्योंकि इसमें उपभोक्ता/खरीददार से शुल्क नहीं लिया जाता है, इसके अलावा कुछ डेबिट कार्ड (उदाहरण के लिए वाशिंगटन मुचुअल का "वामूला" (WaMoola)[29] और S&T बैंक का "प्रैफर्ड डेबिट रिवार्ड कार्ड" (Preferred Debit Rewards Card)) "क्रेडिट" का उपयोग करने पर पुरस्कार देते हैं।[30] बहरहाल, चूंकि क्रेडिट का खर्च व्यापारियों के लिए ज्यादा है, इसीलिए बहुत सारे टर्मिनल ने पिन स्वीकार करनेवाले व्यापारिक स्थानों में क्रेडिट प्रकार्य प्राप्त करना कहीं अधिक कठिन कर दिया गया है। उदाहरण के लिए ऑनलाइन डेबिट के लिए अगर आप U.S. के वॉल-मार्ट (Wal-Mart) में डेबिट कार्ड स्वाइप करवाते हैं, पिन स्क्रीन पर आप तुरंत दिखाई देने लगते हैं, ऑफलाइन का उपयोग करने पर आपको पिन स्क्रीन से निकलने के लिए "कैंसिल" बटन दबाना जरूरी है, इसके बाद अगली स्क्रीन पर "क्रेडिट" बटन दबाना होता है।

U.S. में डेबिट कार्ड के उपयोग को लेकर एक अतिरिक्त समस्या गैस पंप में इनके स्वयंसेवा उपयोग को लेकर है। ग्राहक डेबिट कार्ड पर ईंधन खरीदना चाह सकता है, लेकिन पंप कंप्यूटर नहीं जानता है कि ग्राहक को कितना ईंधन चाहिए। ग्राहक द्वारा अपना कार्ड, कार्ड रीडर पर पेश किए जाने (ऊपर वर्णित विधि देखें) और पिन (PIN) डालने पर पंप सक्रिय होता है। इसी बिंदु पर पंप ईंधन डालता है, हालांकि बिक्री का लेनदेन पूरा नहीं होता है। पंप में यह जानने का कोई तरीका नहीं है कि कितने ईंधन की बिक्री हुई, न ही यह कि ग्राहक के डेबिट खाते में कितना पैसे उपलब्ध है। किसी सामान्य बिक्र लेनदेन में, कोशिश यही की जाती है कि आपके खाते (क्रेडिट या डेबिट) में जितना है उससे कहीं अधिक पैसे खर्च कर दिए जाएं, इसका नतीजा यह होगा कि "नो सेल" एलर्ट व्यापारी को दे दिया जाएगा और तब बिक्री नहीं होती है। स्वयंसेवा ईंधन पंप में ईंधन ग्राहक के टैंक में पहले ही पहुंच जाता है, तब जाकर बैंक बिक्री की कुल कीमत को जान पाता है। यहां इस समस्या के कई समाधान हैं, जैसे कि जब खाते में 10 डॉलर से कम रकम है तो 1 डॉलर की पूर्व अनुज्ञप्ति नकार दिया जाता है, लेकिन फिर भी एक खास रकम के लेनदेन की अनुमति मिलती है, लेकिन बिक्री के एवज में लेनदेन से पहले व्यापारिक माल का वितरण कर देना डेबिट कार्ड प्रणाली के लिए विपत्ति है। कभी-कभी कमीशन इतना अधिक होता है कि गैस स्टेशन को कभी-कभी पैसों का नुकसान हो जाता है जब गैस के लिए कोई क्रेडिट से भुगतान करता है। 1980 के दशक में जब पंप में भुगतान की शुरूआत हुई तब बहुत सारे गैस स्टेशनों ने नकद भुगतान के लिए छूट देने की प्रस्ताव दिया था। उनमें से अधिकांश ने ऐसा करना बंद कर दिया, क्योंकि छूट ने उनकी नकदी बिक्री में कोई खास इजाफा नहीं हुआ।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

2009-07-08: USA में वीज़ा के लिए न्यूनतम और अधिकतम चार्ज

वीसा देशों के लिए व्यापारी करार (पृष्ठ 9, या 14/141 PDF में):

अपनी स्वीकृति की श्रेणी में हमेशा वैध वीसा कार्ड रखें, खरीद के लिए डॉलर की राशि चाहे कुछ भी क्यों ना हो। वीसा कार्ड लेनदेन को स्वीकार करने में न्यूनतम या अधिकतम खरीददारी रकम थोप देना वीसा नियम का उल्लंघन है।[31]

एफएसए (FSA), एचआरए (HRA) और एचएसए (HSA) डेबिट कार्ड[संपादित करें]

U.S.A. में, एफएसए (FSA) डेबिट कार्ड केवल चिकित्सा के खर्च की अनुमति देता है। इसका इस्तेमाल कुछ बैंकों द्वारा अपने FSAs, MSAs और साथ ही साथ HSAs निकासी के लिए होता है। इसमें वीसा या मास्टरकार्ड लोगो होता है, लेकिन इसका उपयोग डेबिट कार्ड की तरह नहीं किया जा सकता, केवल क्रेडिट कार्ड की तरह किया जा सकता है और हर व्यापारी जो डेबिट और क्रेडिट कार्ड स्वीकार करता है, इसे स्वीकार नहीं करता है, पर केवल उन्हीं के द्वारा स्वीकार किया जाता है जो एफएसए (FSA) डेबिट कार्ड स्वीकार करते हैं। बिक्री के समय व्यापारी कोड और उत्पाद कोड का इस्तेमाल (USA में कुछ व्यापारी द्वारा निश्चित तारीखों तक कानूनन) उनकी गुणवत्ता अच्छी न होने पर बिक्री प्रतिबंधित करने के लिए होता है। अतिरिक्त जांच और कागजी कार्रवाई चलते रहने के कारण, जो कि चलता रहता है, बाद में कर में कटौती के लिए ब्यौरे का इस्तेमाल खरीदी हुई वस्तुओं को प्रमाणित करने के लिए किया जा सकता है। सामयिक उदाहरण ऐसे हैं जिसमें योग्य खरीददारी को अस्वीकार कर दिया जाता है, भुगतान की अन्य तरीके (एक चेक या अन्य खाते से भुगतान और बाद में प्रतिपूर्ति के लिए दावा) का इस्तेमाल किया जा सकता है। ऐसे ही दूसरे मामले में अयोग्य खरीददारी को स्वीकार कर लिया जाता है, तकनीकी तौर पर इसके लिए उपभोगता ही जिम्मेवार होता है और लेखा परीक्षा के दौरान इन विसंगतियों का खुलासा हो जाता है। U.S. में डेबिट कार्ड का छोटा-सा, मगर बढ़ते हुए कारोबार का अनुभाग कर-समर्थन लागत खाते जैसे फ्लेक्सिबल स्पेंडिंग एकाउंट (FSA), हेल्थ रिएर्म्बेसमेंट एकाउंट (HRA) और हेल्थ सेविंग एकाउंट (HSA), के अभिगमन से जुड़ा है। इनमें से ज्यादातर डेबिट कार्ड चिकित्सा व्यय के लिए हैं, हालांकि कुछ आश्रितों की देखभाल और परिवहन खर्च के लिए जारी किये जाते हैं।

परंपरागत रूप से, FSAs (इन खातों में सबसे पुराना) नुकसान उठाने के बाद प्रतिपूर्ति के दावे के जरिए केवल इनका इस्तेमाल किया जाता है और अक्सर जेब से ज्यादा खर्च का भुगतान किया जाता है, ऐसा अक्सर तब होता है जब रकम कर्मचारी की तनख्वाह के चेक से काट लिया जाता है। (FSAs से धन आमतौर पर वेतन में कटौती करके दिया जाता हैं।) इस दोहरी गिरावट से बचने के लिए सटीक और लेखा-परीक्षण योग्य कर विवरणी के लिए प्रतिवेदन के जरिए चिकित्सा के लिए FSAs और HRAs इंटरनल रेवेन्यू सर्विस (Internal Revenue) (IRS) द्वारा अनुमोदित अकेला तरीका है। डेबिट कार्ड का ब्यौरा कहता है, केवल चिकित्सा उपयोग के लिए विभिन्न कारणों के लिए अमान्य हैं: (1) व्यापारी और जारी करनेवाले बैंक के पास जल्द से जल्द तय करने के अलावा कोई रास्ता नहीं कि पूरी खरीददारी ग्राहक के कर लाभ के प्रकार के योग्य है या नहीं; (2) ग्राहकों के लिए जल्द से जल्द जानने का कोई रास्ता नहीं; बहुधा वह जरूरत और सुविधा से मिली-जुली खरीददारी करते हैं और आसानी से गलतियां कर सकते हैं; (3) ग्राहक और जारी करनेवाले बैंकों के बीच अतिरिक्त संविदात्मक अनुच्छेद अतिरिक्त भ्रम पैदा करते हुए (उदाहरणस्वरूप अगर ग्राहक के असावधानीवश अयोग्य सामग्री की खरीददारी पर दंड दिया जाता, तो यह खाते में संभावित बचत के लाभ को कमजोर बना देगा) भुगतान प्रक्रिया मानकों में बदलाव करेगा। योग्य खरीदादारी के लिए कार्ड का विशेष इस्तेमाल ग्राहकों के लिए सुविधाजनक हो सकता है, लेकिन वास्तव में कार्ड का इस्तेमाल कैसे हो, इससे कुछ लेनादेना नहीं। दवा की दुकान मान्यताप्राप्त न होने के कारण अगर बैंक लेनदेन को खारिज कर देता है तो यह कार्डधारकों के लिए नुकसान पहुंचानेवाला और भ्रम पैदा करनेवाला होगा। संयुक्त राज्य अमेरिका में सभी चिकित्सा सेवा या आपूर्ति भंडार सटीक सूचना उपलब्ध कराने समर्थ नहीं होते हैं, इसलिए डेबिट कार्ड जारी करनेवाले सभी लेनदेन को मान्य कर सकते हैं, अगर खारिज हो गया या कागजी कार्रवाई नियमों को संतुष्ट करने में पर्याप्त नहीं पाया गया तो कार्डधारकों को प्रपत्र मैन्युअली भेज दिया जा सकता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. [http://www.nordea.se/Privat/Kort+och+betalningar/Kort/S%C3%A4kra+kortbetalningar+p%C3%A5+Internet/205784.html Säkra kortbetalningar på Int ernet | Nordea.se]
  2. 135189,00.html ए-कोर्ट
  3. Martin, Andrew (जनवरी 4, 2010). "How Visa, Using Card Fees, Dominates a Market". New York Times. अभिगमन तिथि 2010-01-06.
  4. http://www.revenuetoday.com/story/no-check-please कृपया जांच न करे
  5. http://accounting.smartpros.com/x59817.xml कम्पनियां श्रमिक का भुगतान के लिए डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करती है
  6. डेबिट कार्ड तथ्य
  7. आपकी दायित्व अनधिकृत क्रेडिट और ऋण दायित्व के प्रभार
  8. तथ्य शीट 131: क्रेडिट कार्ड बनाम डेबिट कार्ड
  9. सहायता |
  10. "They Want You to Go Over Your Debit Limit". The Washington Post, Michelle Singletary, July 19, 2007. 2007-07-19. अभिगमन तिथि 2010-05-01.
  11. मास्टर्कार्ड मेस्ट्रो
  12. http://www1.folha.uol.com.br/fsp/dinheiro/fi3004201007.htm
  13. [1]
  14. [2]
  15. FCAC - उद्योग के लिए - संदर्भ दस्तावेज़
  16. डंकोरटेट फ्यल्डर 25 एर मैं डेग
  17. PBS Årsrapport 2007
  18. http://www.deccanherald.com/content/21014/rbi-fixes-five-free-atm.html
  19. इबैंक निगम कार्ड - इबैंक कॉर्पोरेशन (जापान)
  20. नई ज़ीलैंड्स इतिहास के बैंक में कुंजी तिथियां - बैंक ऑफ़ न्यूजीलैंड
  21. न्यूजीलैंड में भुगतान और न्यूजीलैंड के निपटान सेवा, रिजर्व बैंक ऑफ़ न्यूजीलैंड, सितम्बर 2003
  22. http://www.paymark.co.nz/dart/darthttp.dll?etsl&site_id=1&section_id=37&page_id=228&detail_title_section_id=71
  23. http://www.stuff.co.nz/stuff/0,2106,3521599a10,00.html
  24. http://www.paymark.co.nz/cms_display.php?sn=154&st=1&pg=2972 About Paymark
  25. पेयमार्क
  26. [3]
  27. [4]
  28. क्रेडिट संरक्षण कानून के लिए उपभोक्ता हैंडबुक: इलेक्ट्रॉनिक फंड स्थानांतरण
  29. http://www.wamoolaforschools.com/
  30. http://www.stbank.com/PreferredAccount/DebitRewardsCard.aspx
  31. http://usa.visa.com/download/merchants/rules_for_visa_merchants.pdf