टार्डीग्रेड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

टार्डीग्रेड
Tardigrade
SEM image of Milnesium tardigradum in active state - journal.pone.0045682.g001-2.png
मिल्नेसिअम टार्डीग्रेडम (Milnesium tardigradum)
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत: जंतु
अधिसंघ (: एक्डीसोज़ोआ (Ecdysozoa)
अश्रेणीत: टैक्टोपोडा (Tactopoda)
संघ: टार्डीग्रेड (Tardigrade)
स्पालानज़ानी, १७७७
वर्ग

टार्डीग्रेड (Tardigrade) एक जल में रहने वाला आठ-टाँगों वाला सूक्ष्मप्राणी है। इन्हें सन् 1773 में योहन गेट्ज़ा नामक जीववैज्ञानिक ने पाया था। टार्डीग्रेड पृथ्वी पर पर्वतों से लेकर गहरे महासागरों तक और वर्षावनों से लेकर अंटार्कटिका तक लगभग हर जगह रहते हैं।[1][2]

टार्डीग्रेड पृथ्वी का सबसे प्रत्यास्थी (तरह-तरह की परिस्थितियाँ झेल सकने वाला) प्राणी है। यह 1 केल्विन (−272 °सेंटीग्रेड) से लेकर 420 केल्विन (150 °सेंटीग्रेड) का तापमान और महासागरों की सबसे गहरी गर्तो में मौजूद दबाव से छह गुना अधिक दबाव झेल सकते हैं।[3] मानवों की तुलना में यह सैंकड़ों गुना अधिक विकिरण (रेडियेशन) में जीवित रह सकते हैं और अंतरिक्ष के व्योम में भी कुछ काल तक ज़िन्दा रहते हैं।[4] यह 30 वर्षों से अधिक बिना कुछ खाए-पिए रह सकते हैं और धीरे-धीरे लगभग पूरी शारीरिक क्रियाएँ रोक लेते हैं और उनमें सूखकर केवल 3% जल की मात्रा रह जाती है। इसके बाद जल व आहार प्राप्त होने पर यह फिर क्रियशील हो जाते हैं और शिशु जन सकते हैं।[1][5][6][7] फिर भी औपचारिक रूप से इन्हें चरमपसंदी नहीं माना जाता क्योंकि ऐसी परिस्थितियों में यह जितनी अधिक देर रहें इनकी मृत्यु होने की सम्भावना उतनी ही अधिक होती है जबकि सच्चे चरमपसंदी जीव अलग-अलग उन चरम-परिस्थितियों में पनपते हैं जिनके लिए वे क्रमविकास (एवोल्यूशन) की दृष्टि से अनुकूल हों।[1][8][9]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Simon, Matt (21 March 2014). "Absurd Creature of the Week: The Incredible Critter That's Tough Enough to Survive in the vacuum of Space". Wired. अभिगमन तिथि 2014-03-21.
  2. Copley, Jon (23 October 1999). "Indestructible". New Scientist (2209). अभिगमन तिथि 2010-02-06.
  3. Wired, Water bear
  4. Dean, Cornelia (7 September 2015). "The Tardigrade: Practically Invisible, Indestructible 'Water Bears'". New York Times. अभिगमन तिथि September 7, 2015.
  5. Brennand, Emma (17 May 2011). "Tardigrades: Water bears in space". BBC. अभिगमन तिथि 2013-05-31.
  6. Crowe, John H.; Carpenter, John F.; Crowe, Lois M. (October 1998). "The role of vitrification in anhydrobiosis". Annual Review of Physiology. 60. पपृ॰ 73–103. PMID 9558455. डीओआइ:10.1146/annurev.physiol.60.1.73.
  7. Guidetti, R. & Jönsson, K.I. (2002). "Long-term anhydrobiotic survival in semi-terrestrial micrometazoans". Journal of Zoology. 257 (2): 181–187. डीओआइ:10.1017/S095283690200078X.
  8. Rampelotto, P. H. (2010). "Resistance of microorganisms to extreme environmental conditions and its contribution to Astrobiology". Sustainability. 2 (6): 1602–1623. डीओआइ:10.3390/su2061602.
  9. Rothschild, L.J.; Mancinelli, R.L. (22 February 2001). "Life in extreme environments". Nature. 409 (6823): 1092–1101. PMID 11234023. डीओआइ:10.1038/35059215.