झबरेड़ा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
झबरेड़ा
नगर
झबरेड़ा की उत्तराखण्ड के मानचित्र पर अवस्थिति
झबरेड़ा
झबरेड़ा
Location in Uttarakhand, India
झबरेड़ा की भारत के मानचित्र पर अवस्थिति
झबरेड़ा
झबरेड़ा
झबरेड़ा (भारत)
निर्देशांक: 29°48′32″N 77°46′30″E / 29.809°N 77.775°E / 29.809; 77.775निर्देशांक: 29°48′32″N 77°46′30″E / 29.809°N 77.775°E / 29.809; 77.775
CountryIndia
StateUttarakhand
DistrictHardwar
क्षेत्रफल
 • कुल0.9 किमी2 (0.3 वर्गमील)
ऊँचाई260 मी (850 फीट)
जनसंख्या (2001)
 • कुल9,378
 • घनत्व10,000 किमी2 (27,000 वर्गमील)
Languages
 • OfficialHindi
समय मण्डलIST (यूटीसी+5:30)
वाहन पंजीकरणUK
वेबसाइट210.212.78.56/jhabrera/
[1]

झबरेड़ा, भारत के उत्तराखण्ड राज्य में हरिद्वार जिले में एक कस्बा और नगर पंचायत है, जो रुड़की से 17 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। गंगा नहर से पहले बाएं मुड़कर और दिल्ली से मंगलौर शहर में प्रवेश करते हुए पहुंचा जा सकता है।

रियासत ज़बरहेड़ा (वर्तमान झबरेड़ा) का इतिहास[संपादित करें]

1398 ई॰ में तैमूर लंग से लड़ने वाले प्रसिद्ध योद्धा जोगराज सिंह पंवार की राजधानी झबरेड़ा हरिद्वार थी। इनके वंशज राव बाहमल शाहजहां के समय के झबरेड़ा के प्रसिद्ध जमींदार थे। बाबा बाहमल का झबरेड़ा में मन्दिर (स्मारक) बना हुआ है तथा आज भी आसपास के पंवार गोत्र के गुर्जर उनको अपना वंशज मानते है तथा लड़के की शादी में बाबा बाहमल के मन्दिर पर जाकर लडके कि चोटी कटवाने की प्रथा है। ये चोटी काटने का कार्य ग्राम भगतोवाली के गुर्जर बिरादरी के भगत पीढ़ी दर पीढ़ी करते आ रहे हैं।

राव सभा चन्द राव बाहमल के बड़े पुत्र थे तथा उनके समय में इस क्षेत्र में रोहिला डकैतों का आतंक था। राव सभा चन्द ने उनका डटकर मुकाबला किया तथा क्षेत्र में शान्ति स्थापित की। जब यह खबर औरंगजेब को मिली तो औरंगजेब ने समझौते में राव सभा चन्द को 596 गांव एवं सम्पूर्ण जंगल एरिया सौंप दिये। वर्षं 1739 ई में नादिर शाह ने दिल्ली को लूटा था और मुगलो ने अपना सम्मान खो दिया था। तथा मौहम्मद शाह ने 600 गाॅव सभाचन्द को दे दिया थे। वास्तव में रोहिला दिल्ली पर कब्जा करना चाहते थे लेकिन उनके इस काम में यह गुर्जर रियासत बाधक थी उस वक्त नजीबुदौला रोहिला ने इस भूमि के हस्तांतरण को स्वीकार कर लिया था। जब नजीबुदौला 1759 ई में गर्वनर बना तो उसने राजा नाहर सिॅह पुत्र राजा सभाचन्द का दिये गये 600 गाॅव में 505 गाॅव व 31 मजरो पर पूर्ण अधिकार प्रदान कर दिये थे।

राव सभा चन्द की तरह ही उनका पुत्र राजा नाहर सिंह ने भी रोहिलाओं को परास्त किया तथा उनको कभी गंगा नदी पार नहीं करने दी। नाहर सिंह के समय में झबरेड़ा रियासत के पास 1141 गांव हो गये थे। राजा नाहर का साम्राज्य एक समय में अम्बाला से लेकर सरधना तक रहा। राजा नाहर सिंह का विवाह 14 साल की उम्र में ग्राम बलवा (मु0नगर) में हुआ था। राजा नाहर सिंह के पुत्र का नाम रामदयाल था जो उनको बलवे वाली पत्नी से उत्पन्न हुआ था। लेकिन राजा नाहर सिंह ने 30 साल की उम्र में दूसरा विवाह एक मुस्लिम विदेशी महिला शाफरा बानो से कर लिया जो बहुत ही सुन्दर महिला थी तथा और सहारनपुर में रहती थी। शाफरा बानो से राजा नाहर सिंह को एक पुत्र और उत्पन्न हुआ जिसका नाम गुमान सिंह था। गुमान सिंह बहुत होशियार एवं प्रभावशाली व्यक्ति था तथा राजा नाहर सिंह का लगाव भी गुमान सिंह के प्रति अधिक था और उन्होंने सारी जिम्मेदारियां गुमान सिंह को दी हुई थी और इस तरह राजा नाहर सिंह की मृत्यु की पश्चात गुमान सिंह झबरेडा की गद्दी पर बैठ गया।

रामदयाल ने बड़ा होने के बावजूद इसका कोई विरोध नहीं किया। चूंकि रामदयाल बहुत ही धार्मिक प्रवृत्ति का व्यक्ति था अतः उन्होंने राजगद्दी का कोई मोह नहीं किया। लेकिन रामदयाल के बड़े बेटे सवाई सिंह को गुमान सिंह कदापि स्वीकार्य नहीं था। वह गुमान सिंह को राजा मानने को ही तैयार नहीं था और एक दिन गृृहयुद्ध हुआ। इस युद्ध में सवाई सिंह ने गुमान सिंह और उसकी मां शाफरा बानो को मार गिराया। अपने बेटे सवाई सिंह के इस कृत्य को देखकर रामदयाल बहुत दुखी हुआ और सन् 1792 में आधी रात को झबरेड़ा छोड़कर एक छोटे से गांव लंढौरा चला गया, इस विषय में फिर कभी पुत्र और पिता में कोई बातचीत नहीं हुई तथापि त्यौहारो पर दोनो परिवार मिलते रहे। इस तरह कुछ गांव बेटे (सवाई सिंह झबरेड़ा) और कुछ गांव पिता (रामदयाल लंढौरा) के पास रह गये।

रामदयाल ने लंढौरा जाकर दूसरा विवाह श्रीमती धनकुंवर से कर लिया। उधर सवाई सिंह श्रीमती सदा कुमारी से विवाह करके झबरेड़ा की राजगददी पर बैठ गया। सवाई सिंह के बाद सन् 1825 में उनका पुत्र बध्धन सिंह रईस झबरेड़ा की राजगद्दी पर बैठा। बध्धन सिंह रईस, इतिहासकारों के अनुसार बहुत ही विद्वान और विख्यात था। बध्धन सिंह रईस के बाद उनके बड़े पुत्र रोहल सिंह ने झबरेड़ा की बागडौर संभाली और इसी तरह राजा रोहल सिंह ने 1865 में झबरेड़ा की राजगद्दी अपने पुत्र कदम सिंह को सौंप दी। कदम सिंह का विवाह पीरवाला मेरठ में हुआ था। कदम सिंह के तीन पुत्र हुए पिरथी सिंह, रिसाल सिंह व बलदेव सिंह। पिरथी सिंह का विवाह श्रीमती फूल कुँवर के साथ अमरपुर से हुआ था जिससे उन्हें दो पुत्र भरत सिंह व चरत सिंह हुए। झबरेड़ा का महल आज भी शान से खड़ा हुआ है। झबरेड़ा ब्रिटिश काल से ही नगर पंचायत है तथा नगर पंचायत अध्यक्ष पद पर राज परिवार के सदस्य ही निर्वाचित होते आ रहे हैं वर्तमान में चौधरी यशवीर सिंह और चौधरी कुलवीर सिंह राजघराने के राजा हैं और चौधरी कुलवीर सिंह का पुत्र मानवेंद्र सिंह वर्तमान में नगर पंचायत झबरेड़ा का चेयरमैन है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  • (१) The sort History of the Gurjar written by Rana Ali Hasan Chouhan.
  • (२) सहारनपुर जिला गजेटियर।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]