जूडस इस्कैरियट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जूडस इस्कैरियट (दाएं), द लास्ट सपर से जाते हुए, कार्ल ब्लोश की पेंटिंग, 19वीं सदी के उत्तरार्ध में

जूडस इस्कैरियट, (इब्रानी: יהודה איש־קריות‎,यहूदा, Yəhûḏāh ʾΚ-qəriyyôṯ) बाइबल के न्यू टेस्टामेंट के अनुसार ईसा मसीह के बारह मूल धर्मदूतों में से एक थे और प्रधान पादरी के कहने पर यीशु को धोखा देने के लिए उन्हें अधिक जाना जाता है।[1]

शब्द-व्युत्पत्ति[संपादित करें]

ग्रीक न्यू टेस्टामेंट में जूडस को Ιούδας Ισκάριωθ (Ioúdas Iskáriōth) और Ισκαριώτης (Iskariṓtēs) कहा जाता है। "जूडस " (प्राचीन ग्रीक में जिसकी वर्तनी है "laudas" और लैटिन में "ludas", दोनों का उच्चारण युडस), साधारण नाम जूडाह का ग्रीक रूप है (יהודה, Yehûdâh, हिब्रू में, "ईश्वर की प्रशंसा". यही ग्रीक वर्तनी, न्यू टेस्टामेंट में अन्य नामों का आधार है जिन्हें पारम्परिक रूप से अंग्रेजी में भिन्न प्रस्तुत किया जाता है: जूडाह और जूड.

"इस्कैरियट" का सटीक महत्व, हालांकि अनिश्चित है। इसकी व्युत्पत्ति को लेकर दो प्रमुख सिद्धांत हैं:

  • सबसे अधिक संभावित व्याख्या के अनुसार इस्कैरियट को हिब्रू से लिया गया है איש־קריות, Κ-Qrîyôth, या "केरिओथ का आदमी". द गौस्पेल ऑफ़ जॉन, जूडस को "सन ऑफ साइमन इस्केरियट" (साइमन इस्कैरियट का पुत्र) के रूप में संदर्भित करता है,[2] इस निहितार्थ के साथ कि वह आदमी जूडस नहीं उसके पिता थे जो वहां से आये थे।[3] कुछ अटकलें यह है कि केरिओथ, यहूदिया में एक क्षेत्र को संदर्भित करता है, लेकिन साथ ही यह दो जाने-माने यहूदिया शहरों का नाम भी है।[4]
  • एक दूसरा सिद्धांत है "इस्कैरियट", जूडस को सिकारी के एक सदस्य के रूप में चिन्हित करता है।[5] यह यहूदी विद्रोहियों के अंतर्गत हत्यारों का एक कैडर था जो रोमन लोगों को यहूदिया से बाहर भगाने का इरादा रखता था। हालांकि, कई इतिहासकारों का मानना है कि सिकारी केवल प्रथम सदी के 40 या 50 के दशक में उभरे थे और इस स्थिति में जूडस उसके सदस्य नहीं हो सकते थे।[6]

बाइबिल की कथा[संपादित करें]

"द जूडस किस" (1866) गुस्ताव डोरे द्वारा.

जूडस की चर्चा संक्षिप्त धार्मिक कथाओं, गौस्पेल ऑफ जॉन और एक्ट ऑफ द अपोजल्स की शुरूआत में की गई है।

मार्क का कहना है कि प्रधान पादरी यीशु को बंदी बनाने के लिए एक "धूर्त" तरीका खोज रहे थे। उन्होंने इस कार्य को दावत के दौरान ना करने का फैसला किया क्योंकि उन्हें डर था कि इससे लोगों में दंगा हो जाएगा, इसीलिए उन्होंने दावत से पहले वाली रात को चुना. गोस्पेल ऑफ ल्यूक में, इसी समय जूडस के भीतर शैतान प्रवेश करता है।[7]

गोस्पेल ऑफ जॉन की कथा के मुताबिक, जूडस अनुयायियों के पैसों वाले थैले को ले गया[8] और उसने "चांदी के तीस टुकड़ों"[9] के घूस के लिए यीशु के साथ विश्वासघात किया और उनका चुंबन लेने - "किस ऑफ जूडस"- के माध्यम से उनकी पहचान को प्रधान पादरी कायफास के सैनिकों के सामने उजागर कर दिया, प्रधान पादरी ने फिर यीशु को पोंटिस पिलेट के सैनिकों के हवाले कर दिया.

मृत्यु[संपादित करें]

जूडस के मौत से संबंधित कई अलग-अलग विवरण मौजूद हैं, जिसमें केवल दो विवरण को आधुनिक बाइबिल के सिद्धांत में शामिल किया गया है।

  • मैथ्यू 27:3-10 का कहना है कि जूडस ने पादरी को पैसे वापस कर दिया और खुद को लटका कर आत्महत्या कर ली. उन्होंने इसका इस्तेमाल देशी कब्रगाह को खरीदने के लिए किया। धार्मिक कथा इसे भविष्यवाणी की पूर्ति के रूप में प्रस्तुत करती है।[10]
  • द एक्ट्स ऑफ अपोजल्स का कहना है कि जूडस ने पैसे का इस्तेमाल एक खेत खरीदने के लिए किया, लेकिन वह सर के बल गिर गया और बर्स्ट असुंडर इन द मिड्स, एंड ऑल हिज बाउल्स गश्ड आउट . इस क्षेत्र को अकेल्डामा या फ़ील्ड ऑफ ब्लड कहा जाता है।[11]
  • गैर-धर्मवैधानिक गौस्पेल ऑफ जूडस का कहना है कि अन्य ग्यारह शिष्यों ने विश्वासघात के बारे में पता चलने पर उसे पत्थर मार-मार कर मार डाला.[12]
  • पुराने क्रिश्चियन नेता पपिअस द्वारा एक अन्य कथा को संरक्षित किया गया है जिसके अनुसार: "जूडस इस दुनिया में अधर्मशीलता के एक दुखद उदाहरण के रूप में रहा; उसका शरीर इतना सूज गया कि वह ऐसे मार्ग से निकलने में भी असमर्थ हो गया जहां से एक रथ आसानी से जा सकता था, उसे रथ द्वारा कुचल दिया गया और उसकी आंत बाहर निकल आई."[13]

जूडस की मौत के परस्पर विरोधी विवरण ने पारंपरिक विद्वानों के लिए समस्याओं को उत्पन्न किया जिन्होंने इसे धर्म कथाओं की विश्वसनीयता के लिए खतरे के रूप में पहचाना.[14] उदाहरण के लिए, यह समस्या एक कारण थी जिसने सी.एस. लुईस को इस विचार को खारिज करने के लिए प्रेरित किया "कि इन धर्मग्रंथों में लिखा हर वाक्य ऐतिहासिक सच्चाई है".[15] सामंजस्य पैदा करने के विभिन्न प्रयासों का सुझाव दिया गया, जैसे ऑगस्टाइन का, कि जूडस ने खेत में खुद को फांसी लगा ली और वहां से गिरकर उसका फट गया,[14][16] और यह कि एक्ट्स एंड मैथ्यू का विवरण दो भिन्न लेन-देन को संदर्भित करता है।[17]

आधुनिक विद्वान इस दृष्टिकोण को अस्वीकार करते हुए[18][19][20] कहते हैं कि मैथ्यू की कथा एक मिड्राशिक व्याख्या है जो लेखक को इस घटना को ओल्ड टैस्टामैंट के भविष्यवाणी वाले अंश के पूर्ण होने के रूप में प्रस्तुत करने की अनुमति देती है। उनका तर्क है कि जूडस की मौत के बारे में एक पूर्व परम्परा में लेखक ने स्वयं की कल्पना को भी जोड़ा है जैसे कि चांदी के तीस टुकड़े और यह तथ्य कि जूडस ने फांसी लगा ली.[21]

भविष्यवाणी की पूर्ति के रूप में मैथ्यू द्वारा मृत्यु का सन्दर्भ "भविष्यवक्ता जेरेमिया के माध्यम से कहा गया" ने कुछ विवाद उत्पन्न किया, क्योंकि यह बुक ऑफ ज़ेकरिया ([Zechariah 11:12-13]) से उस कहानी को सविस्तार बताता है जो चांदी के तीस टुकड़ों के भुगतान की वापसी को उल्लिखित करता है।[22] ऑगस्टाइन, जेरोम और जॉन केल्विन जैसे कई लेखकों ने निष्कर्ष निकाला है कि यह एक स्पष्ट त्रुटि थी।[23] हालांकि, कुछ आधुनिक लेखकों का कहना है कि गौस्पेल लेखकों के दिमाग में जेरेमिया के अनुच्छेद भी रहे होंगे,[24] जैसे अध्याय 18 ([Jeremiah 18:1–4]) और 19 ([Jeremiah 19:1–13]), जो एक कुम्हार के बर्तन और अंत्येष्टि स्थान को संदर्भित करता है और अध्याय 32 ([Jeremiah 32:6-15]) जो एक दफन स्थान और मिट्टी के बर्तन को संदर्भित करता है।[25]

धर्मशास्त्र[संपादित करें]

यीशु के साथ विश्वासघात[संपादित करें]

जूडस ने यीशु को क्यों धोखा दिया इसके कई स्पष्टीकरण हैं।[26] एक सामान्य व्याख्या है कि जूडस ने चांदी के 30 टुकड़ों के लिए यीशु को धोखा दिया (Matthew 26:14-16). जूडस की प्रमुख कमजोरियों में से एक कमजोरी पैसा थी (John 12:4-6). एक अन्य संभावित कारण है कि जूडस को उम्मीद थी कि यीशु इस्राएल के रोमन शासन को उखाड़ फेंकेगे. इस मामले में, जूडस एक मोहभंग हुआ शिष्य है जो यीशु को पैसे की लालच में धोखा नहीं देता है बल्कि इसलिए देता है क्योंकि वह देश से प्यार करता है और उसका मानना है कि यीशु इसमें असफल रहे.[27] Luke 22:3-6 और John 13:27 के अनुसार, शैतान ने उसमें प्रवेश किया और उसे ऐसा करने के लिए कहा.

गौस्पेल का सुझाव है कि यीशु को पहले ही (John 6:64, Matthew 26:25) दोनों का ज्ञान हो गया था और उन्होंने जूडस विश्वासघात को होने दिया (John 13:27-28).[28] एक व्याख्या यह है कि यीशु ने विश्वासघात को इसलिए होने दिया क्योंकि इससे भगवान की योजना को पूर्ण होने की अनुमति मिलती.[29] अप्रैल 2006 में, 200 ई. के एक कोप्टिक पेपाइरस पांडुलिपि जिसका शीर्षक गौस्पेल ऑफ़ जूडस था उसे आधुनिक भाषा में अनुवाद किया गया और कहा गया कि उसके सुझाव के अनुसार हो सकता है कि यीशु ने खुद जूडस से धोखा देने के लिए कहा होगा[30] हालांकि कुछ विद्वानों ने अनुवाद पर सवाल खड़े किये हैं।[31][32]

औरिजेन को एक परंपरा के बारे में पता था जिसके अनुसार शिष्यों की एक बड़ी संख्या ने यीशु को धोखा दिया, लेकिन इसकी जिम्मेदारी जूडस पर विशेष रूप से नहीं दी जाती और औरिजेन जूडस को पूरी तरह भ्रष्ट नहीं मानते (मैट., ट्रैक्ट. xxxv).

जूडस कई दार्शनिक लेखों का विषय भी रहे हैं, जिसमें शामिल है बर्ट्रेंड रसेल द्वारा द प्रॉब्लम ऑफ़ नैचुरल इविल और "थ्री वर्ज़न्स ऑफ़ जूडस", जॉर्ज लुइस बोर्जेस द्वारा एक छोटी कहानी. दोनों का आरोप है जूडस के कार्यों और उनकी अनन्त सज़ा के बीच विसंगति के चलते विभिन्न समस्याग्रस्त वैचारिक विरोधाभास मौजूद है। जॉन एस फेनबर्ग का तर्क है कि यदि यीशु को जूडस द्वारा विश्वासघात की जानकारी थी तो यह विश्वासघात स्वतन्त्र इच्छा का कार्य नहीं है[33] और इसलिए दंडनीय नहीं होना चाहिए. इसके विपरीत, यह तर्क दिया गया है कि सिर्फ इसलिए कि विश्वासघात होने की पहले से ही जानकारी थी, यह बात जूडस को अपनी स्वयं की इच्छा का प्रयोग करने से नहीं रोकती है।[34] अन्य विद्वानों का तर्क है कि जूडस ने भगवान की इच्छा का पालन किया है।[35] धर्मग्रन्थ का सुझाव है कि जूडस, ईश्वर के उद्देश्यों की पूर्ति के साथ जाहिरा तौर पर बंधा हुआ था (John 13:18, John 17:12, Matthew 26:23-25, Luke 22:21-22, Matt 27:9-10, Acts 1:16, Acts 1:20),[28] येट वो इज अपॉन हिम (तब भी उस पर खेद है) और उसने बेहतर होता कि जन्म ही नहीं लिया होता (Matthew 26:23-25). इस कहावत में निहित कठिनाई इसका विरोधाभास है - अगर जूडस पैदा नहीं होता, तो सन ऑफ मैन (मनुष्य का बेटा) जाहिरा तौर पर इतना आगे नहीं जाता "जैसा उसके बारे में लिखा है ". इस क्षमाप्रार्थी दृष्टिकोण का यह परिणाम है कि जूडस की इस कार्रवाई को आवश्यक और अपरिहार्य के रूप में देखा जाता है, जो फिर भी निंदा का पात्र है।[36]

इरास्मस का मानना था कि जूडस अपना इरादा बदलने के लिए स्वतंत्र थे, लेकिन मार्टिन लूथर ने खंडन में तर्क दिया कि जूडस की इच्छा अडिग थी। जॉन केल्विन ने कहा है कि जूडस का धिक्कार का पात्र बनना पूर्वनिर्धारित था, लेकिन जूडस के अपराध के सवाल पर लिखते हैं: "... निश्चित रूप से जूडस के विश्वासघात में, यह सही नहीं होगा, क्योंकि स्वयं भगवान की इच्छा थी कि उनके बेटे को ऊपर पहुंचाया जाए और उन्हें मृत्यु प्राप्त हुई, भगवान को इस अपराध के लिए दोषी ठहराने की जगह जूडस को इस ऋण-मोचन का श्रेय स्थानांतरित किया गया".[37]

यह अनुमान लगाया गया है कि जूडस की निंदा, जो गौस्पेल के पाठ से संभव दिखती है, वह हो सकता है वास्तव में यीशु से किये गए उसके विश्वासघात से नहीं उपजी है, बल्कि उस निराशा से जिसने उसे बाद में आत्महत्या के लिए उकसाया.[38] यह स्थिति बिना अपनी समस्याओं के नहीं है क्योंकि जूडस के आत्महत्या करने से पहले ही यीशु द्वारा वह निंदा का पात्र बन चुका था (देखें John 17:12), लेकिन इससे यह विरोधाभास जरुर ख़त्म होता है कि जूडस का पूर्वनिर्धारित कार्य सभी मानव जाति के मोक्ष और उसके पतन, दोनों को प्रशस्त करता है। जूडस की निंदा एक सार्वभौमिक निष्कर्ष नहीं है और कुछ लोगों का कहना है कि जूडस को अनंत सज़ा देकर धिक्कारा गया।[39] एडम क्लार्क लिखते हैं: "उसने [जूडस] पाप का एक जघन्य कार्य किया।..लेकिन उसे पश्चाताप हुआ (Matthew 27:3-5) और उसने वह किया जो अपने कुकृत्य से उबरने के लिए वह कर सकता था; उसने मृत्यु के साथ पाप किया, यानी ऐसा पाप जिसमें शरीर की मृत्यु शामिल है; लेकिन कौन कह सकता है, (कि यीशु के हत्यारों को दया मिली या नहीं?(Luke 23:34) ...) कि उस समान दया को नीच जूडस के लिए नहीं दर्शाया जा सकता था?... "[40]

द किस ऑफ जूडस, जियोटो डी बोनडोने द्वारा

आधुनिक व्याख्या[संपादित करें]

अधिकांश ईसाई आज भी जूडस को एक गद्दार मानते हैं। वास्तव में यह शब्द जूडस कई भाषाओं में विश्वासघात के लिए एक पर्याय के रूप में शामिल किया गया है।

कुछ विद्वानों[41] इस वैकल्पिक धारणा को अपनाया है कि जूडस पूर्व-योजित कैदी लेन-देन में केवल वार्ताकार था (धन-परिवर्तक दंगों के बाद) जिसके तहत पारस्परिक समझौते द्वारा यीशु को रोमन अधिकारियों को दे दिया गया और कहा कि जूडस का एक "गद्दार" के रूप में बाद का चित्रण ऐतिहासिक विरूपण है।

अपनी पुस्तक द पासोवर प्लॉट में ब्रिटिश थेअलोजियन ह्यू जे शॉनफील्ड ने तर्क दिया कि यीशु का सूली पर चढ़ना बाइबिल की भविष्यवाणी जागरूक पालन था और जूडस ने अधिकारियों के हाथों अपने गुरु को "धोखा" देने का काम यीशु की पूर्ण जानकारी और सहमती से किया।

थेअलोजियन आरोन सारी अपनी कृति द मनी डेथ्स ऑफ़ जूडस इस्कैरियट में तर्क देते हैं कि जूडस इस्कैरियट मार्कन समुदाय का साहित्यिक आविष्कार था। चूंकि जूडस, एपिसल्स ऑफ़ पॉल में प्रकट नहीं होते हैं और ना ही क्यू गौस्पेल में आते हैं, सारी का तर्क है कि यह भाषा पौलीन ईसाईयों जो एक संगठित चर्च को स्थापित करने के का कोई कारण नहीं देखते हैं और पीटर के अनुयायियों के बीच एक दरार को दर्शाती है। सारी का कहना है कि मैथ्यू और ल्युक-एक्ट्स में जूडस की बदनामी पीटर के उत्कर्ष से सीधे सम्बंधित है।[42]

Mark 16:14 और Luke 24:33 का कहना है कि अपने पुनर्जीवन के बाद यीशु ने "ग्यारह" को दर्शन दिए. कौन छूट रहा था? सब मालूम होने के बाद कोई भी स्वाभाविक रूप से यही सोचेगा कि वह जूडस था। जाहिरा तौर पर नहीं, क्योंकि John 20:24 में हमें मालूम होता है कि वह थॉमस था। इसलिए ग्यारह में जूडस को शामिल होना चाहिए. इसके अलावा, पॉल 1 Corinthians 15:5 में कहते हैं कि अपने पुनर्जीवित होने के बाद यीशु को "बारह" ने देखा. इसमें जूडस को शामिल होना चाहिए क्योंकि आरोहण के बाद ही, यानि करीब चालीस दिन बाद (Acts 1:3), किसी अन्य व्यक्ति, मथियास को जूडस को प्रतिस्थापित करने के लिए वोट दिया गया। (Acts 1:26).[43]

एक अन्य सुराग जो आरंभिक ईसाई दस्तावेजों में जूडस कथा के ना होने की पुष्टि करता है, Matthew 19:28 और Luke 22:28-30 में प्रस्तुत होता है। यहां यीशु अपने चेलों को बताते हैं कि वे "इस्राएल के बारह जातियों का फैसला करने के लिए बारह सिंहासन पर बैठेंगे." जूडस के लिए कोई अपवाद नहीं किया गया भले ही यीशु को उसके द्वारा किये जाने वाले विश्वासघात के बारे में ज्ञान था। जवाब इस तथ्य में हो सकता है कि इन पंक्तियों का स्रोत काल्पनिक क्यु दस्तावेज़ (क्युएस 62) में हो सकता है। क्यू के समय को गौस्पेल से पहले का माना जाता है और यह सबसे आरंभिक ईसाई दस्तावेजों में से एक है। इस संभावना को देखते हुए, विश्वासघात की कहानी मार्क के लेखक द्वारा आविष्कृत हो सकती है।[44][45][46]

जॉन शेल्बी स्पोंग की पुस्तक द सिंस ऑफ़ द स्क्रिप्चर इस संभावना की पड़ताल करती है कि आरंभिक ईसाईयों ने जूडस कहानी को ओल्ड टैस्टमैंट की तीन यहूदी विश्वासघात कहानियों से संकलित किया है। वे लिखते हैं, "... बारह शिष्यों में से एक सदस्य द्वारा विश्वासघात करने की चर्चा आरंभिक ईसाई लेखन में नहीं मिलता है। जूडस को ईसाई कहानी में सबसे पहले गौस्पेल ऑफ़ मार्क द्वारा डाला गया है (3:19), जो कॉमन एरा (आम युग) के आठवें दशक के आरंभिक वर्षों में लेखन करता था". वे बताते हैं कि कुछ गौस्पेल, सूली पर चढ़ाने की घटना के बाद, शिष्यों की संख्या को "बारह" के रूप में उल्लिखित करते हैं, जैसे कि जूडस उन के बीच में अभी भी था। वे जूडस की मौत के तीन परस्पर विरोधी विवरण की तुलना करते हैं - फांसी, एक गड्ढे में गिर कर और पेट फटने से, जहां तीन ओल्ड टेस्टामेंट धोखे के बाद इसी तरह की आत्महत्या की चर्चा है।

स्पोंग का निष्कर्ष यह है कि प्रथम यहूदी-रोमन युद्ध के बाद, आरंभिक बाइबिल लेखकों ने रोम के दुश्मनों से खुद को दूर रखने की कोशिश की. उन्होंने धर्मग्रन्थ को एक शिष्य की कहानी जोड़कर संवर्धित किया, जो यहूदी राज्य के रूप में जूडस में उभरा, जिसने यीशु को या तो धोखा दिया या रोमन अत्याचारियों के हाथों सौंप दिया. स्पोंग इस संवर्धन को आधुनिक यहूदी-विरोध के जनक के रूप में पहचान करते हैं।

यहूदी विद्वान हायम मकोबी यीशु के एक विशुद्ध पौराणिक दृष्टिकोण का पक्ष लेते हैं और सुझाते हैं कि न्यू टेस्टामेंट में "जूडस" नाम को जुडाइन या जुडाइन धार्मिक स्थापनाओं पर जिन्हें मसीह को मारने का जिम्मेदार ठहराया जाता है एक हमले के रूप में निर्मित किया गया।[47] अंग्रेजी शब्द "Jew" (यहूदी) को लैटिन के ludaeus से लिया गया है जिसका अर्थ, ग्रीक) के Ιουδαίος (loudaios) की तरह "Judaean" (जुडाइन) हो सकता है।

विलियम ई. मैकक्लिन्टिक द्वारा "जूडस द बिलवेड डिसाइपल रिमेम्बर्ड" में जूडस का चित्रण एक सकारात्मक प्रकाश में किया गया है। मैकक्लिन्टिक, जूडस को न केवल "प्रिय शिष्य" के रूप में प्रस्तुत करते हैं, बल्कि 'क्यू' दस्तावेज़ के लिपिक और लेखक के रूप में भी देखते हैं, "अपोज़ल्स क्रीड" और "जॉन गौस्पेल" के एक सच्चे लेखक के रूप में. मैकक्लिन्टिक, जूडस को गौस्पेल में मौजूद यीशु से सम्बंधित अधिकांश कथाओं के स्रोत के रूप में प्रस्तुत करते हैं, जिसमें यीशु के जन्म से लेकर, उनकी शिक्षा, उनकी शिक्षाएं और धर्म से लेकर उनके मुकदमे, सूली पर चढ़ने और पुनर्जीवित होने की कथा शामिल है।

अपोक्रिफा में भूमिका[संपादित करें]

जूडस, गुप्त संप्रदायों के लिए काफी रूचि का चरित्र रहा है, जैसे कि कई रहस्यवादी पंथों के लिए. आइरेनिअस एक रहस्यवादी संप्रदाय, कैनिटेस की मान्यताओं के बारे में बताते हैं कि उनका मानना था कि जूडस, सोफिया, दैवी मनीषा का एक उपकरण था, इस प्रकार उसने सृष्टिकर्त्ता की घृणा अर्जित की. हिब्रू बाईबल, जकर्याह पुस्तक में जो आदमी चांदी के तीस टुकड़े बनाता है, जैसा कि गौस्पेल में जूडस करता है, वह भगवान का दास होता है। यीशु से किया गया उसका विश्वासघात, इस प्रकार भौतिकवादी दुनिया पर एक जीत थी। कैनिटेस बाद में दो समूहों में विभाजित हो गए और उनके बीच ब्रह्माण्ड विज्ञान में यीशु के अंतिम महत्व को लेकर असहमति उत्पन्न हो गई।

गौस्पेल ऑफ़ जूडस[संपादित करें]

1970 के दशक के दौरान, एक कॉप्टिक पपिरस कोड (पुस्तक) को बेनी मासा, मिस्र के पास पाया गया, जो दूसरी शताब्दी के मूल का तीसरी या चौथी सदी की नकल थी,[48][49] जिसमें यीशु की मृत्यु की कहानी का वर्णन जूडस के दृष्टिकोण से किया गया था। इसके समापन पर, यह कृति अपनी पहचान "गौस्पेल ऑफ़ जूडस" (युआन्जेलिअन लौडास) के रूप में करती है।

यह खोज अप्रैल 2006 में नाटकीय ढंग से अंतरराष्ट्रीय सुर्ख़ियों में आई जब यूएस नेशनल ज्योग्राफिक पत्रिका (अपने मई संस्करण के लिए) ने नाज़ुक कोडेक्स की छवियों के साथ द गौस्पेल ऑफ़ जूडस शीर्षक का एक फीचर लेख प्रकाशित किया और साथ में सम्बंधित विशेषज्ञों और इसमें रूचि लेने वाले पर्यवेक्षकों के विश्लेषणात्मक वक्तव्यों को शामिल किया (लेकिन व्यापक अनुवाद नहीं). इस लेख की भूमिका में कहा गया: "एक प्राचीन कृति जो 1700 सालों से गुम थी वह कहती है कि यीशु का विश्वासघाती उनका सबसे सच्चा शिष्य था।"[50] यह लेख कुछ सबूत पेश करता है कि मूल दस्तावेज़ दूसरी शताब्दी में वर्तमान था: "करीब 180 ई. में लिओन के पादरी, आइरेनिअस ने रोमन गौल में अगेंस्ट हेरेसीज़ नामक एक बृहत् ग्रंथ लिखा [जिसमें उन्होंने हमला किया] एक 'काल्पनिक इतिहास' पर जिसे 'वे गौस्पेल ऑफ़ जूडस कहते हैं।"[51][52]

पत्रिका के इस संस्करण के वितरित होने से पहले ही, अन्य समाचार मीडिया ने इस कहानी को टूल दिया और इसे संक्षिप्त रूप दे कर चुनिंदा तरीके से पेश किया।[30]

दिसंबर 2007 में, एप्रिल डीकोनिक द्वारा न्यू यॉर्क टाइम्स के सम्पादकीय लेख में कहा गया कि नेशनल ज्योग्राफिक का अनुवाद काफी दोषपूर्ण है, उदाहरण के लिए, एक मामले में नेशनल ज्योग्राफिक प्रतिलेखन जूडस एक "Daimon" (डाइमन) के रूप में संदर्भित करता है जिसे समाज के विशेषज्ञों ने "स्पिरिट" (आत्मा) के रूप में अनुदित किया है। हालांकि, "आत्मा" के लिए सार्वभौमिक रूप से स्वीकृत शब्द "न्युमा" है - रहस्यवादी साहित्य में "डाइमन" का अर्थ हमेशा "शैतान" ही समझा जाता है।[53] नेशनल ज्योग्राफिक सोसायटी ने जवाब दिया कि 'एप्रिल डी. डीकोनिक द्वारा उठाए गए अनुवाद सम्बन्धी लगभग सभी मुद्दों का जवाब लोकप्रिय और महत्वपूर्ण, दोनों संस्करणों की पादटिप्पणियों में दिया गया है'.[54] इस अंक और प्रासंगिक प्रकाशनों की बाद की समीक्षा में आलोचक जोन अकोसेला ने सवाल किया कि क्या गुप्त इरादे, ऐतिहासिक विश्लेषण के ऊपर हावी नहीं होने लगे थे, उदाहरण के लिए, द गौस्पेल ऑफ़ जूडस का प्रकाशन प्राचीन यहूदी-विरोधी लांछनों को वापस लाने का एक प्रयास हो सकता है। उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि लिखित कट्टरवाद और संशोधन के प्रयास के बीच चल रहे संघर्ष स्रोतों की अविश्वसनीयता के कारण बचकाने थे। इसलिए उन्होंने तर्क दिया, 'लोग अर्थ निकालते हैं और ठगते हैं। इस सवाल का जवाब बाइबिल को सुधारना नहीं है, बल्कि खुद को सुधारना है".[55] अन्य विद्वानों, जैसे लुई पेनचौड (लेवल विश्वविद्यालय, क्यूबेक सिटी) और आंद्रे गैगने (कौनकोर्डिया विश्वविद्यालय, मॉन्ट्रियल)[31] ने भी नैशनल ज्योग्राफिक के विशेषज्ञों के दल द्वारा गौस्पेल ऑफ़ जूडस के प्रारंभिक अनुवाद और व्याख्या पर सवाल उठाया है।

गौस्पेल ऑफ़ बार्नबास[संपादित करें]

गौस्पेल ऑफ़ बार्नबास की मध्ययुगीन प्रतियों के अनुसार, वह जूडस था जिसे सूली पर चढ़ाया गया था, न कि यीशु को. इस कृति में वर्णित है कि जूडस के स्वरूप को यीशु में बदल दिया गया था, जब जूडस ने विश्वासघात में रोमन सैनिकों को यीशु को गिरफ्तार करने के लिए सहायता की लेकिन यीशु तब तक स्वर्ग के लिए निकल चुके थे। यह स्वरूप परिवर्तन इतना समान था कि आम जनता, मसीह के अनुयायियों और यहां तक कि यीशु की मां मरियम, ने शुरू में सोचा कि जिस व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया और क्रूस पर चढ़ाया गया, वह यीशु हैं। गौस्पेल फिर यह उल्लेख करता है कि दफनाने के तीन दिनों बाद, जूडस के शरीर को उसकी कब्र से चुरा लिया गया और तब यीशु के पुनर्जीवित होने की अफवाहें फैल गई। जब यीशु को तीसरे स्वर्ग में बताया गया कि क्या हुआ तो उन्होंने परमेश्वर से प्रार्थना की कि उन्हें वापस पृथ्वी के लिए भेजा जाए और इसलिए वे आए और उन्होंने अपनी मां, शिष्यों और अनुयायियों को इकट्ठा किया और उन्हें सच्चाई बताई कि क्या हुआ और यह बताकर वे वापस स्वर्ग चले गए और बस अंत में एक राजा के रूप में वापस आएंगे.

अंकन और प्रतीकात्मकता[संपादित करें]

कई भाषाओं में जूडस शब्द विश्वासघाती का एक पर्याय बन गया है और पाश्चात्य कला और साहित्य में जूडस देशद्रोही का आदर्श बन गए हैं। लगभग सभी साहित्य के पैशन कथाओं में जूडस को थोड़ी बहुत भूमिका अवश्य दी गई है और कई आधुनिक उपन्यासों और फिल्मों का वे कथ्य हैं।

होली वेडनसडे (पास्का से पहले का बुधवार) के ईस्टर्न ओर्थोडोक्स गीतों में, जूडस की तुलना उन औरतों के साथ की गई जिन्होंने महंगे इत्र के साथ यीशु को अभिषिक्त किया और अपने आंसुओं से उनके पैरों को धोया. गौस्पेल ऑफ जॉन के अनुसार, जूडस ने इस स्पष्ट अपव्यय का विरोध किया और कहा कि इस पर खर्च किया गया पैसा गरीबों को दिया जाना चाहिए. इसके बाद, जूडस, प्रधान पादरी के पास गया और पैसे के लिए यीशु को धोखा देने की पेशकश की. होली वेडनस्डे इन दो चरित्रों की तुलना करता है और विश्वासियों को पतित शिष्य से बचने के लिए प्रोत्साहित करता है और बल्कि मैरी के पश्चाताप के उदाहरण का अनुसरण करने के लिए कहता है। इसके अलावा, जूडस के विश्वासघात की याद में बुधवार के दिन पूरे वर्ष मांस, दुग्ध उत्पाद और जैतून के तेल का उपयोग ना करते हुए मनाया जाता है। युकेरिस्ट प्राप्त करने के लिए तैयारी की प्रार्थनाओं में भी जूडस के विश्वासघात का उल्लेख है: "मैं दुश्मनों के सामने आपके रहस्य को उजागर नहीं करूंगा और न ही मैं जूडस की तरह आपको चुंबन देकर धोखा दूंगा, बल्कि मैं उस सूली वाले चोर की तरह आपको मानूंगा."

एक लाल बालों वाले जूडस एक स्पेनिश पासो आकृति में चुंबन के साथ यीशु को धोखा देते हुए.

जूडस इस्कैरियट को स्पैनिश संस्कृति में अक्सर लाल बालों के साथ दर्शाया जाता है।[56] [57] [58] और विलियम शेक्सपियर द्वारा.[58][59] इस अभ्यास की तुलना पुनर्जागरण के समय यहूदियों को लाल बालों के साथ चित्रित करने से की जा सकती है, जिसे उस वक्त नकारात्मक माना जाता था और हो सकता है इसका उपयोग समकालीन यहूदियों को जूडस इस्कैरियट के साथ सहसंबंधी दिखाने के लिए इस्तेमाल किया जाता था।[60]

कला और साहित्य[संपादित करें]

जूडस, पश्चिमी संस्कृति में मूलरूप से विश्वासघाती का आदर्श बन गया है, कुछ कहानियों के साथ लगभग सम्पूर्ण साहित्य में इनके पैशन कथाओं को दर्शाया गया है।

  • दान्ते के इनफर्नो में उन्हें सबसे निम्न नरक में भेजा जाता है जहां वह उन तीन पापियों में से एक होता है जिन्हें इतना अधिक घृणित माना जाता है कि उन्हें चिरकाल के लिए तीन सिरों वाले शैतान के मुंह चबाया जाता है। (अन्य हैं ब्रुटस और कैसिअस जिन्होंने जूलियस सीज़र के खिलाफ साजिश की और उसकी हत्या कर दी.)
  • जूडस, अंग्रेज़ी के सबसे प्राचीन मौजूद गाथागीत (बैलड) का विषय है, जिसका काल 13वीं सदी है, जिसमें यीशु के साथ विश्वासघात करने का दोष उसकी बहन पर डाला जाता है।
  • एडवर्ड एल्गर के ओराटोरिओ, द अपोज़ल्स में जूडस को, यीशु को अपने देवत्व को घोषित करने और पृथ्वी पर साम्राज्य स्थापित करने के लिए दबाव डालते हुए दर्शाया गया है। अंततः वह निराशा के फलस्वरूप पाप में चला जाता है।
कथीड्राले सेंट-लाज़रे, ऑटम्न. जूडस स्वयं को लटकाते हुए
  • मिखाइल बुल्गाकोव के उपन्यास द मास्टर एंड मार्गरीटा में जूडस को यहूदिया के प्रधान पुजारी द्वारा यीशु की पहचान बताने के लिए भुगतान किया जाता है, जो यरूशलेम के लोगों को उकसा रहे थे। सूली पर चढ़ाने को प्राधिकृत करने के बाद, पीलातुस अफसोस की पीड़ा से ग्रस्त हो जाता है और जूडस पर अपना गुस्सा निकालता है और उसकी हत्या का आदेश देता है। कहानी के भीतर कहानी, 1920 से 1930 के दशक में मॉस्को के संदर्भ में एक जवाबी क्रांतिकारी उपन्यास के रूप में प्रकट होती है।
  • माइकल मूरकॉक के उपन्यास बिहोल्ड द मैन, जूडस का एक वैकल्पिक, सहानुभूति पूर्ण चित्रण प्रदान करता है। पुस्तक में, 20वीं सदी का समय यात्री कार्ल ग्लोगर जो यीशु की भूमिका अपनाता है, वह अनिच्छुक जूडस से धोखा देने के लिए कहता है ताकि बाइबिल में लिखी सूली वाली बात सत्य हो सके.
  • सी.के. स्टेड के उपन्यास माई नेम वाज़ जूडस में, जिसे उस समय इडास ऑफ़ सिडोन के रूप में जाना जाता था, यीशु की कहानी को बताता है और करीब चालीस साल बाद उसे याद करता है। जूडस, यीशु के साथ अपने बचपन की मित्रता, स्कूल के दिन, अपने परिवारों, शिष्यों के साथ उनकी यात्रा और रोम और मंदिर के शासकों के साथ अपने सामने को याद करते हैं।
  • थ्री वर्ज़न्स ऑफ़ जूडस (मूल स्पेनिश शीर्षक: "ट्रेस वेर्सिओनेस डे जूडस") अर्जेंटीना के लेखक और कवि जॉर्ज लुइस बोर्जेस की एक लघु कहानी है। इसे 1944 में प्रकाशित बोर्जेस के संकलन, फीकिओनेस में शामिल किया गया था। इसे विद्वतापूर्ण लेखों के रूप में लिखा गया है और ऊपरी तौर पर यह एक अच्छी तरह से छानबीन किया गया आलोचनात्मक विश्लेषण लगता है।
  • मार्टिन स्कौर्सीस की फिल्म द लास्ट टेम्पटेशन ऑफ़ क्राइस्ट में, जो निकोस कज़न्जाकिस के उपन्यास पर आधारित है, रोमन सैनिको के हाथों यीशु को धोखा देने के पीछे जूडस इस्कैरियट का एकमात्र उद्देश्य यीशु की सहायता करना था, यीशु के सबसे करीबी मित्र के रूप में उन्होंने वह किया जो किसी भी अन्य शिष्य ने करने की हिम्मत नहीं दिखाई. इससे पता चलता है जूडस ने क्रूस पर मरने की नियति को पूरा करने में मदद के लिए यीशु के गुप्त अनुरोध का पालन किया, जिसके लिए जूडस उत्प्रेरक बन गया जिसे बाद में मानवता के लिए उद्धार लाने के रूप में व्याख्यायित किया गया। जूडस इस्कैरियट का यह दृष्टिकोण हाल ही में खोजे गए गौस्पेल ऑफ़ जूडस में परिलक्षित होता है।
  • एंड्रयू लॉयड वेबर के संगीत जीसस क्राइस्ट सुपरस्टार में जूडस को एक दुखद हीरो के रूप में दर्शाया गया जिसका मानना है कि ईसा मसीह ईश्वर के पुत्र नहीं हैं, बल्कि सिर्फ एक इंसान हैं। क्योंकि उसे डर था कि अगर यीशु के अनुयायी बहुत ज्यादा बढ़ जाएंगे तो रोमन, यहूदियों पर हमला कर देंगे और उन्हें मार देंगे, इसलिए उसने कायफास और हन्ना के लिए यीशु को धोखा दिया.
  • स्टीफन एडले गुर्गिस का आलोचनात्मक रूप से प्रशंसित नाटक द लास्ट डेज़ ऑफ़ जूडस इस्कैरियट में जूडस की शोधन-गृह में एक जांच की जाती है।
  • लियोन रोसेल्सन का गीत, "स्टैंड अप फॉर जूडस", जूडस को एक सकारात्मक परिप्रेक्ष्य में प्रस्तुत करता है, एक क्रांतिकारी के रूप में जो इसी दुनिया में न्याय चाहता था, न कि दूसरी दुनिया में. दूसरी तरफ, यीशु को एक "जादूगर" के रूप में प्रस्तुत किया गया है, जो चमत्कार दिखाते हैं और परलोक में सुख का वादा करते हैं और इस प्रकार लोगों को इस दुनिया में अपनी नियति स्वीकार करने को प्रोत्साहित करते हैं। गीत का कोरस है "तो खड़े हो जाओ, जूडस के लिए और उसके उद्देश्य के लिए खड़े हो जाओ/वह यीशु थे जिन्होंने अपने शब्दों से गरीबों को धोखा दिया."
  • जॉन ब्रैशो काय द्वारा ट्रायल ऑफ़ क्राइस्ट इन सेवेन स्टेजेस (1909) में लेखक ने इस विचार को स्वीकार नहीं किया है कि जूडस का इरादा मसीह को धोखा देना था और कविता जूडस का बचाव करती है, जिसमें वे संहेद्रिम और कायफस के समक्ष मुकदमे की कहानी के बाइबिल के दृष्टांत में अपना विचार जोड़ते हैं।[61]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • गौस्पेल ऑफ जूडस

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Matthew 26:14, Matthew 26:47, Mark 14:10, Mark 14:42, Luke 22:1, Luke 22:47, John 13:18, John 18:1
  2. John 6:71 और John 13:26
  3. रिचर्ड बौख्हम, जेसस एंड द आईविटनेस: द गोस्पेल एज आईविटनेस टेस्टीमोनी एर्डमैन्स (2006), पी. 106.
  4. न्यू इंग्लिश ट्रांसलेशन बाइबिल एन, 11 इन मैथ्यू 11 .
  5. बास्टियन वैन इर्सेल, मार्क: ए रीडर-रिस्पांस कमेंट्री अंतर्राष्ट्रीय सातत्य (1998), पी. 167.
  6. ब्राउन, रेमंड ई. (1994). द डेथ ऑफ ईसा मसीह: फ्रॉम गेथसेमेन टू द ग्रेव: ए कमेंट्री ऑन द पैसन नरेटिव्स इन द फोर गोस्पेल v.1 पीपी 688-92. न्यू यॉर्क: डबलडे/द एंकर बाइबल रेफ्रेंस पुस्तकालय. ISBN 0-385-49448-3; मीयर, जॉन पी. ए मार्जिनल जीव: रीथिंकिंग द हिस्टोरिकल जेसस (2001). v.3, पी. 210. न्यू यॉर्क: डबलडे/द एंकर बाइबल रेफ्रेंस पुस्तकालय. ISBN 0-385-46993-4.
  7. "BibleGateway.com - Passage Lookup: Luke 22:3". BibleGateway. अभिगमन तिथि 2008-06-21.
  8. John 12:6
  9. Matthew 26:14
  10. [Matthew 27:9-10]
  11. एक्ट्स 1:18 .
  12. जूडस इस्कैरियट
  13. (पपिअस फ्रेगमेंट 3 1742-1744) .
  14. Zwiep, Arie W. Judas and the choice of Matthias: a study on context and concern of Acts 1:15-26. पृ॰ 109.
  15. क्लाईड एस. किल्बी के लिए पत्र, 7 मई 1959, माइकल जे क्रिस्चेनसेन, सीएस लुईस ऑन स्क्रिप्चर्स, एबिंगडन, 1979, परिशिष्ट ए में उद्धृत.
  16. "Easton's Bible Dictionary: Judas". christnotes.org. अभिगमन तिथि 2007-06-26.
  17. "The purchase of "the potter's field", Appendix 161 of the Companion Bible". अभिगमन तिथि 2008-02-15.
  18. रेमंड ई. ब्राउन, एन इंट्रोडक्शन टू द न्यू टेस्टामेंट पृष्ठ 114.
  19. चार्ल्स टल्बेर्ट, रिडिंग एक्ट्स: ए लिटरेरी एंड थियोलॉजिकल कमेंट्री स्मीथ और हेल्विज (2005) पी. 15.
  20. फ्रेडरिक डेल ब्रूनर, मैथ्यू: एक टीका, एर्डमैन्स (2004), पी. 703.
  21. Reed, David A. (2005). ""Saving Judas"—A social Scientific Approach to Judas's Suicide in Matthew 27:3–10" (PDF). Biblical Theology Bulletin. मूल (PDF) से 2007-06-29 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2007-06-26.
  22. विन्सेन्ट पी. ब्रेनिक, अंडरस्टान्डिंग द न्यू टेस्टामेंट एंड इट्स मेसेज (पौलिस्ट प्रेस, 1998) पीपी 126-128.
  23. फ्रेडरिक डेल ब्रूनर, मैथ्यू: ए कमेंट्री (एर्डमैन्स, 2004), पी. 710; ऑगस्टाइन, सटेना औरिया में उद्धृत है: "उसके बाद यह तो हो सकता है, कि मैथ्यू के मन में हेरेमियस का नाम आया हो जैसा कि उसके बजाय, उन्होंने जकारिया लिखा है, जैसा कि यह तो अक्सर होता है" [1], जेरोम, एपिस्टोले 57.7: "यह अंश सम्पूर्ण यिर्मयाह में नहीं मिलता लेकिन जकर्याह में कुछ दूसरे शब्दों में और पूरी तरह से भिन्न क्रम में मिलता है" [2], जॉन केल्विन, कमेंट्री ऑन ए हार्मोनी ऑफ द इवेंजलिस्ट, मैथ्यू, मार्क, एंड ल्यूक, 3:177: "इस अंश से स्पष्ट रूप से यह पता चलता है कि जकर्याह की बजाए यिर्मयाह का नाम गलती से दिया गया है, यिर्मयाह के लिए हम इस तरह का कुछ भी नहीं पाते हैं, न ही कोई दृष्टिकोण." [3].
  24. डोनाल्ड सीनीयर, द पैसन ऑफ जेसस इन द गोस्पेल ऑफ मैथ्यू (लिटुरजिकल प्रेस, 1985), पीपी 107-108, एंथोनी केन, द प्लेस ऑफ जूडस इस्कैरियट इन क्रिस्टोलॉजी (एशगेट प्रकाशन, 2005), पी. 50.
  25. मार्टिन जेजे मेंकेन को भी देखें, द ओल्ड टेस्टामेंट कोटेशन इन मैथ्यू 27,9-10, बिब्लिका 83 (2002): 9-10.
  26. Joel B. Green, Scot McKnight, I. Howard Marshall (1992). Dictionary of Jesus and the Gospels. InterVaristy Press. पृ॰ 406. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780830817771.सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  27. Joel B. Green, Scot McKnight, I. Howard Marshall (1992). Dictionary of Jesus and the Gospels. InterVaristy Press. पृ॰ 407. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780830817771.सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  28. जूडस एंड द चोइस ऑफ मट्ठिया: ए स्टडी ऑन कॉन्टेक्स्ट एंड कंसर्न ऑफ एक्ट्स 1:15-26 एरिए डबल्यू. ज्विप
  29. डिड जूडस बिट्रे जेसस ओंटारियो कंसल्टेंट्स ऑन रीलीजियस टोलेरेंस अप्रैल 2006
  30. एसोसिएटेड प्रेस, "प्राचीन पाण्डुलिपि में यीशु जूडस को धोखा देने के लिए कहते हैं" फॉक्स समाचार गुरुवार, 6 अप्रैल 2006.
  31. आन्द्रे गागने "ए क्रिटिकल नोट ऑन द मिनिंग ऑफ अपोफेसिस इन गोसेपेल ऑफ जूडस 33:1." Laval théologique et philosophique 63 (2007): 377-83.
  32. Deconick, अप्रैल D. (दिसम्बर 1, 2007). "Gospel Truth". New York Times. अभिगमन तिथि 2007-12-01.
  33. John S. Feinberg, David Basinger (2001). Predestination & free will: four views of divine sovereignty & human freedom. Kregel Publications. पृ॰ 91. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780825434891.
  34. John Phillips (1986). Exploring the gospel of John: an expository commentary. InterVaristy Press. पृ॰ 254. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780877845676.
  35. जेसस, ब्रुस चिल्टन क्रेग ए इवांस, के गतिविधियों का प्रमाणीकरण
  36. द प्लेस ऑफ जूडस इस्कैरियट, एंथोनी केन
  37. अंग्रेजी साहित्य में बाइबिल परंपरा की एक अंग्रेजी शब्दकोष, डेविड एल. जेफरी
  38. अंग्रेजी साहित्य में बाइबिल परंपरा की एक अंग्रेजी शब्दकोष, डेविड एल. जेफरी
  39. http://www.tentmaker.org/Dew/Dew3/D3-JudasIscariot.html
  40. द न्यू टेस्टामेंट ऑफ अवर लौर्ड एंड सेविएर जेसस क्राइस्ट: द टेक्स्ट...खंड 1, एडम क्लार्क
  41. डिर्क ग्रुत्ज़माखर: द "बेट्रायल" ऑफ जूडस इस्कैरियट: ए स्टडी इंटू द ओरिजिंस ऑफ क्रिस्टिएनिटी एंड पोस्ट टेंपल जूदैस्म एडिनबर्ग (1999), (शोध ग्रंथ (एम.फिल) एडिनबर्ग विश्वविद्यालय, 1999).
  42. सारी, हारून मौरिस. द मेनी डेथ्स ऑफ जूडस इस्कैरियट: ए मेडिटेशन ऑन सुसाइड लंदन रोटलेज, 2006.
  43. जूडस डेथ: व्हेन डिड इट हैपन?
  44. केबल एल डबल्यू जूडस इस्कैरियट, बिट्रायर ओर एनाब्लर, फैक्ट ओर फिक्शन? सेप्टिक कॉर्नर में निबंध संग्रह
  45. क्यू 22:28,30 बाय पॉल हौफमैन, स्टीफन एच. ब्रांडेनबर्गर, क्रिस्टोफ हेल, अलराइक ब्राउनर, अंतर्राष्ट्रीय क्यू प्रोजेक्ट, थोमस.
  46. जेसस, एपोकेलिप्टिक प्रोफेट ऑफ द न्यू मिलेनियम बाय बार्ट डी. एह्र्मन.
  47. हयम मकोबी एंटीसेमीटिज्म एंड मोडर्निटी, 2006 रौटलेज, पी. 14.
  48. टाइमलाइन ऑफ अर्ली क्रिस्चिनिटी नेशनल जियोग्राफिक पर.
  49. जुडस हेल्प्ड जेसस सेव मैनकाइंड बीबीसी समाचार, 7 मई 2006 (फोलोविंग नेशनल जिग्राफिक पब्लिकेशन
  50. कॉकबर्न ए द गोस्पेल ऑफ जूडस नेशनल ज्योग्राफिक (यूएसए) मई 2006
  51. कॉकबर्न ए पृष्ठ 3 पर
  52. कॉकबर्न ए पृष्ठ 3 पर
  53. डेकोनिक ए डी गोस्पेल ट्रूथ न्यूयॉर्क टाइम्स 1 दिसम्बर 2007
  54. स्टेटमेंट फ्रॉम नेशनल जियोग्राफिक इन रेस्पोंस टू अप्रैल डिकोनिक्स न्यूयॉर्क टाइम्स ओप-एड "गोस्पेल ट्रूथ"
  55. एकोसेला जे बिट्रायल: शूड वी हेट जूडस इस्कैरियट? नई यॉर्कर 3 अगस्त 2009
  56. पेलो डे जूडस ("जूडस हेयर") डिसिनेरियो डे ला रिएल एकेडेमिया एस्पानोल में.
  57. बेन्टले मिसिलानी से रेड हेयर लेख का पेज 314 जुलाई 1851. द इलेक्ट्रिक मैगाजिन ऑफ फोरेन लिटरेचर, साइंस, एंड आर्ट खंड 2; खंड 23, लेविट, ट्रोव, एंड कं., 1851.
  58. लेटर्स फ्रॉम स्पेन के पृष्ठ 256, जोसेफ ब्लांको व्हाइट, एच कोलबर्न, 1825
  59. जूडस कलर के 473 पृष्ठ में ए ग्लोसरी ऑफ वर्ड्स, फ्रेजेज, नेम्स, एंड अलुसंस टू कस्टम्स, प्रोवर्ब्स, एटसेटरा., विच हैव बीन थॉट टू रिक्वायर इलुस्ट्रेशंस, इन द वर्ड्स ऑफ इंग्लिश ऑथर्स, पर्टिकुलर्ली शेक्सपियर एंड हिज कंटेमपोरेरिज खंड 1. रॉबर्ट नेयर्स, जेम्स ओर्चर्ड हलीवेल-फिलिप्सबा, थॉमस राइट. जे. आर. स्मिथ, 1859
  60. जूडस रेड हेयर एंड द ज्यूज़, जर्नल ऑफ जेविश आर्ट (9), 1982, मेलिनकोफ आर. एम.
  61. द मैगाजिन ऑफ पोयट्री, वोल्यूम 2, इसु 1-4 (1890) चार्ल्स वेल्स मौल्टन, बफोलो, न्यूयॉर्क [4]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

साँचा:Apostles