विलियम शेक्सपीयर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
विलियम शेक्सपीयर

शायद ही अंग्रेजी का कोई ऐसा पाठक या लेखक होगा जिसने अपने जीवन के दौरान अंग्रेजी साहित्य के पितामा विलियम शेक्सपीयर का नाम ना सुना हो जा फिर उनकी कोई कविता या नाटक ना पढा हो।भले ही शेक्सपीयर ने अपने साहित्य की रचना 400 साल पहले की हो पर आज भी उनके नाटक और नावल बङे मजे से पढ़े जाते है।

शेक्सपीयर की जन्ममिती के बारे में कई मतभेद पाए जाते हैं परन्तु काफी छानबीन के बाद इनका जन्मदिन 23 अप्रैल 1564 ई को हुआ माना जाता है। इनका जन्म इंग्लैंड के मध्य स्थित स्ट्रेटफोर्ड में इनके पिता के घर हुआ माना जाता है। शेक्सपीयर के तीन दिन के अंदर ही इन्हें ईसाई धर्म की परंपरा के अनुसार पवित्र पाअुल सेवन कराई गई । स्ट्रेटफोर्ड को शेक्सपीयर की जन्मभूमी होने का मान प्राप्त है। हर साल हजारों यात्री लंडन का पर्यटन करने आतें हैं तों शेक्सपीयर से जुडी यादों को जरुर देखते हैं।

शेक्सपीयर के पिता का नाम जोन शेक्सपीयर हैं अैर माता का नाम मैरी आर्डन है । शेक्सपीयर के पिता जोन शेक्सपीयर दसतानें बनाने का काम और चमडा रंगनें का धंधा करते थे । इस काम में वह बहुत सफल हुए और उन्होंने बाद में ऊन और खेती की ऊपज का व्यापार करके काफी जयदाद जमा कर ली। शेक्सपीयर अपने माता -पिता की आठ संन्तानों में से एक संन्तान थे । 16वीं सदी के आखरी दहाकों के दौरान इंग्लैड में प्लेग और हैजा का प्रकोप छा गया । इससे शेक्सपीयर की दो बडी बहनें इसका शिकार हुई और उनकी मौत हो गई । उनका छोटा भाई गिलबर्ट करियाने के व्यपार में बहुत सफल हुआ। उनके दो और छोटे भाई भी थे - रिचर्ड और अंडमंड । शेक्सपीयर ने पहले से र्गभवती लड़की आइना हैथावेव से शादी की । शादी के वक्त शेक्सपीयर की आयु 18 वर्ष जबकि आइना की 26 साल थी। इन दोनों के तीन बच्चे हुए। सबसे बङी सुसैना और बाद में उनके घर दो जुङवा बच्चे पैदा हुए - हैमनेट और जुङिथ।

यह माना जाता है कि शेक्सपीयर पढ़ाई -लिखाई 5 वर्ष की आयु से शुरु हुई । आगे चलकर शेक्सपीयर ने गरामर स्कुल से शिक्षा प्राप्त की। इस स्कुल में शेक्सपीयर ने युनानी भाषा के कई लेकखों की लिखतों को पढ़ा जिसका प्रभाव शेक्सपीयर के साहित्य और कवितायों में बखुबी देखा जा सकता है। जब शेक्सपीयर थोडे बङे हुए तो उन्हें अपनी पिता की आर्थिक मुश्किलों के कारण गरामर स्कुल से हटना पङा। मगर विद्यालय से हटने के पश्चात भी उन्होंने अपनी पढ़ाई जारी रखी और अंग्रेजी और युनानी भाषा में निपुन्नता हासिल कर ली। इतना ही नही शेक्सपीयर ने इटालियन भाषा में भी मुहारत हासिल कर ली।

यह माना जाता है कि शेक्सपीयर ने 1580 क लगभग Acting की शुरुआत की । मगर यह जरुर माना जाता है कि स्ट्रेटफोर्ड से बाहर जाकर रंगशालायों में जाकर अपनी प्रतिभा को और भी चमकाया। कुछ ही समय में शेक्सपीयर एक मशहुर अभिनेता बन गए। 16वी सदी के अंत में लंडन में प्लेग की महामारी फैल गई और इस के कारण सरकार ने सभी रंगशालाएँ एक साल के लिए बंद करवा दी। इस समय में शेक्सपीयर ने अपनी प्रतीभा से बहुत सारा साहित्य रचा जिसमे कई नावल और कविता संग्रह सामिल है।इंगलैंड की महारानी भी शेक्सपीयर की बहुत बङी प्रशंशक थी । उसे शेक्सपीयर की कविताएँ बहुत पसंद आती थी ।

शेक्सपीयर ने एक नई नाटक कंम्पनी की शुरुआत की थी जो कि लगभग 20 साल तक चली थी। इस समय में शेक्सपीयर ने एक साल में कम से कम दो नाटक जरुर पेश किए। शेक्सपीयर एकलौते ऐसे अदाकार हैं जिन्होंने खुद नाटक लिखे और अभिनय किया । शेक्सपीयर दो नाटक कंम्पनीयों के मालिक रहे। शक्सपीयर की प्रतीभा ने उन्हें एक सफल और अमीर इंन्सान बना दिया। शेक्सपीयर ने अमीर होने के बाद बहुत सी जमीन और नए घर खरीद लिए । शेक्सपीयर के समय लोग उनकी नाटक कंम्पनी के बहुत दीवाने थे। महारानी की इच्छा से उनके नाटक महल में भी खेले जाते थे और पैसे की खातिर बाहर की रंगशालायों में भी खेले जाते थे। उनके नाटको को देखने की कीमत बहुत होती थी जिससे उस नाटक कंम्पनी के सभी अधिकारी काफी अमीर थे । पर यहाँ यह बताना लाजमी होगा कि उस नाटक कंम्पनी के सभी अदाकार काफी बूढे थे जबकि शेक्सपीयर केवल 30 साल के थे।

शेक्सपीयर 1611 से अपनी मृत्यु तक अपने शहर सट्रेटफोर्ड में ही रहे। तब तक वह 25 के लगभग नाटक लिख चुके थे। नाटक ही नही बल्कि उन्होंने बहुत सारी कवितायों की रचना भी की। दुनिया का यह महान लेखक और अदाकार 52 साल की आयु भोग कर सवर्ग सिधार गया। इन के साहित्य की तरह यह भी अमर रहेगें।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]