छापर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

यह बीकानेर से ७० मील पूर्व में बसा है और ऐतिहासिक दृष्टि से बड़े महत्व का है। यह मोहिलों की दो राजधानियों में से एक थी। उनकी राजधानी द्रोणपुर थी। मोहिल, चौहानों की ही एक शाखा है, जिसके स्वामियों ने राणा का विरुद्ध धारण कर उक्त स्थानों के आस-पास के प्रदेश पर १५वीं शताब्दी तक राज्य किया। छापर में [1]मोहिलों की बहुत सी देवलियाँ है जो १४वीं शताब्दी के पूर्वाध की हैं। यहां छापर नामक एक खारे पानी की झील भी है, जिससे पहले नमक बनाया जाता था।

सन्दर्भ[संपादित करें]