गौरव शर्मा (लेखक)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
गौरव शर्मा
Gaurav Sharma (author).jpg
गौरव शर्मा
जन्म4 मार्च 1992 (1992-03-04) (आयु 27)
दिल्ली, भारत[1]
व्यवसायलेखक[2]
राष्ट्रीयताभारतीय
उच्च शिक्षालंगारा कॉलेज, गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय
उल्लेखनीय कार्यsगॉन आर द डेज; डेवेलपमेंट एंड कम्युनिकेशन मोर्फोसिस
सक्रिय वर्ष2011–present
जालस्थल
http://authorgauravsharma.com


गौरव शर्मा (अंग्रेज़ी: Gaurav Sharma) (जन्म: 4 मार्च 1992) एक भारतीय लेखक हैं जो अपनी अर्ध आत्मकथा उपन्यास गॉन आर द डेज के लिए जाने जाते हैं।[3][4][5][6][7] इस उपन्यास से पहले गौरव पत्रकारिता और जनसंचार के विषयो पर तीन पाठ्यपुस्तके लिख चुके हैं।[8]

जीवन और शिक्षा[संपादित करें]

गौरव का बचपन सीतामढ़ी में अपने दादा-दादी से साथ बीता जहा पर उन्होंने एन एस डी ए वी पब्लिक स्कूल से से पढाई की।[9] साल 2014 में उन्होंने दिल्ली के गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय से पत्रकारिता एवं जान संचार में स्नातक किया।[10] 2016 में गौरव ने लंगारा कॉलेज से बिज़नेस में पोस्ट डिग्री डिप्लोमा प्राप्त किया।[11] गौरव अभी कनाडा में रहते हैं।[12]

करियर[संपादित करें]

गौरव ने अपना करियर जिम्स रेडियो 90.4 MHz, बिज़नेस स्टेनडर्ड, इंडिया टुडे ग्रुप और NDTV के साथ बतौर प्रशिक्षु काम किया।[13]

साल 2011 में उन्होंने 19 वर्ष की उम्र में अपनी पहली पाठ्यपुस्तक, डिज़ाइन एंड ग्राफ़िक्स रीडीफाइंड लिखी।[14] 2013 में फोटोग्राफी रीडीफाइंड लिखी।[15] उनकी किताब डेवेलपमेंट एंड कम्युनिकेशन मोर्फोसिस वर्ष 2014 में अभिज्ञान प्रकाश के द्वारा नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेले में विमोचित हुई।[16] नेशनल इंसटीरुते ऑफ़ मॉस कम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म, अहमदाबाद ने इनकी इस किताब को औपचारिक रूप से अपने पुस्तकालय में शामिल कर लिया है।[17]

वर्ष 2016 में गौरव ने गॉन अरे द डेज लिखी। किताब एक अर्ध आत्मकथा उपन्यास है जो भारत के पुस्तक बाजार और मीडिया में खासी चर्चा का विषय बानी।[18][19] गौरव मीडियम और यूथ की आवाज़ के ब्लॉगर भी हैं।[20][21]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Interview with Gaurav Sharma, Author of 'Gone are the Days'". Journal.Media. अभिगमन तिथि 2 October 2017.
  2. "A young author's search for success". The Hitavada (Page: 4). 27 September 2017.
  3. "From textbooks to novels: A young author's search for success". Asian News International. 20 September 2017.
  4. "'Gone are the Days': Vignettes of nostalgia". United News of India. 30 September 2017.
  5. "Books for the weekend". The Statesman. 22 September 2017.
  6. "A boy's journey to make it big in life; and everything in between". Deccan Chronicle. 11 September 2017.
  7. "नॉवेल गॉन आर द डेज प्रकाशित, युवाआें काे आ रही पसंद". patrika.com.
  8. "In conversation with Gaurav Sharma about his book Gone are the Days and the journey it portrays". The Asian Age. 10 October 2017.
  9. "Gaurav Sharma Interview – Gone are the Days Book". WriterStory.
  10. "2014 BJMC Results" (PDF). GGSIU Results.
  11. "The Graduands: June 8, 2016 - 2:00 pm". Issuu.com.
  12. "'गॉन आर द डेज' नॉवेल को पसंद कर रहे हैं YOUTH, लेखक बोले- 'जिंदगी की है कहानी'". samacharplus.com.
  13. "Gaurav Sharma Interview – Gone are the Days Book". WriterStory.
  14. "Annual Quality Assurance Report (AQAR) Pg. 14" (PDF). jimsd.org.
  15. "Photography Redefined". Google Books.
  16. "2014 another title to be released" (PDF). National Book Trust.
  17. "NIMCJ Library Catalogue: Development and Communication Morphosis". nimcj.org. National Institute of Mass Communication and Journalism.
  18. "From textbooks to novels: A young author's search for success". Business Standard. 20 September 2017.
  19. Sharma, Gaurav (2016). Gone are the Days. New Delhi: Kaplaz Publications, an imprint of Gyan Books Pvt. Ltd. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789351282372.
  20. "Gaurav Sharma Profile in Medium". Medium.
  21. "Gaurav Sharma Profile in Youth Ki Awaaz". Youth Ki Awaaz.