सामग्री पर जाएँ

खेजड़ली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
खेजड़ली
गाँव
खेजड़ली नरसंहार स्थल
खेजड़ली नरसंहार स्थल
खेजड़ली is located in राजस्थान
खेजड़ली
खेजड़ली
राजस्थान, भारत में अवस्थिति
खेजड़ली is located in भारत
खेजड़ली
खेजड़ली
खेजड़ली (भारत)
निर्देशांक: 26°09′N 73°09′E / 26.15°N 73.15°E / 26.15; 73.15निर्देशांक: 26°09′N 73°09′E / 26.15°N 73.15°E / 26.15; 73.15
देश India
राज्यराजस्थान
जिलाजोधपुर
भाषा
 • अधिकारिकहिन्दी, मारवाड़ी
समय मण्डलIST (यूटीसी+5:30)
पिन कोड342802
Coordinates are from Wikimapia

खेजड़ली जोधपुर राजस्थान में स्थित है। यह गाँव जोधपुर से 26 किमी. दूर है। इस गाँव में खेजड़ी वृक्षों की बहुतायत के कारण इसका नाम खेजड़ली पड़ा है। 12 सितम्बर सन् 1730 में अमृता देवी बिश्नोई सहित चोरासी गांव के 363 बिश्नोई [69 महिलाएं और 294 पुरुष]खेजड़ी हरे वृक्षों को बचाने के लिए खेजड़ली में शहीद हुए थे।[1][2] खेजड़ली और इसके आसपास के गांवों में बिश्नोई लोगों की प्रधानता के कारण यहां वृक्ष कटाई और शिकार पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया गया है। 12सितम्बर सन् -1730 को पर्यावरण की रक्षा के लिए राष्ट्रीय पर्यावरण दिवस के रूप खेजङली आंदोलन शुरु हुआ था।[3] 12 सितम्बर 1978 से खेजड़ली दिवस मनाया जा रहा हैं। खेजड़ली में विश्व का एकमात्र वृक्ष मेला लगता है। खेजड़ली स्थान बिश्नोई समाज का पवित्र स्थल है। खेजड़ली गांव में हुई इस घटना के समय वहां के राजा महाराजा अभयसिंह थे। इन्होंने अपने मंत्री गिरधारी सिंह को खेजड़ी के वृक्षों के लिए आदेश दिया था। तब मंत्री गिरधारी सिंह ने खेजड़ली गांव में राजा के आदेश पर वृक्ष काटने प्रारंभ किए तब सबसे पहले अमृता देवी बिश्नोई पेड़ो के चिपक कर शहीद हो गई।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "बिश्नोई समाज". bbc.com. अभिगमन तिथि 5 अप्रैल 2018.
  2. "गांव-खेजड़ली जिला जोधपुर राजस्थान इंडिया में हरे खैजड़ी के पेड़ों को बचाने के लिए अमृता देवी बिश्नोई सहित 363 बिश्नोई लोगों ने अपने शीश कटवाकर खेजड़ी को काटने से बचाया आज भी बिश्नोई बाहुल्य क्षेत्रों में राज्य वृक्ष खेजड़ी नहीं काटी जाती हैं". Dainik Bhaskar. 2019-06-05. मूल से 13 सितंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-05-14.
  3. "चिपको आन्दोलन: गुमनाम नायकों की कहानियां". Amarujala. अभिगमन तिथि २६ दिसम्बर २०२१.