क्राइम पेट्रोल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
क्राइम पॅट्रोल
Crime Patrol Satark.jpg
शैली सच्ची घटनाओं पर आधारित टेलीविज़न धारावाहिक
प्रारूप जुर्म रोकना
सर्जक सुब्रामनियम एस० अय्यर
विकासकर्ता सुब्रामनियम एस० अय्यर और नीरज मलिक
लेखक सुब्रामनियम एस० अय्यर
निर्देशक सुब्रामनियम एस० अय्यर
सृजनात्मक निर्देशक नीरज नायक (सीज़न 1)
प्रस्तुतकर्ता दिवाकर पण्डित और शक्ति आनन्द (सीज़न 1)
अनूप सोनी और साक्षी तनवर (सीज़न 2)
अनूप सोनी (सीज़न 3 और 4)
निर्माण का देश भारत
भाषा(एं) हिन्दी
सत्र संख्या 4
प्रकरणों की संख्या सीज़न 1 - 211
सीज़न 2 - 96
सीज़न 3 - 68
सीज़न 4 - 407 (August 16, 2014 तक)
निर्माण
निर्माता ऑप्टिमिस्टिक्स एन्टरटेन्मेन्ट
प्रसारण अवधि लगभग 42 मिनट
निर्माण कंपनी सिनेविस्टास लिमिटेड (सीज़न 1)
ऑप्टिमिस्टिक्स एन्टरटेन्मेन्ट (सीज़न 2, 3, 4)
प्रसारण
मूल चैनल सोनी एन्टरटेन्मेन्ट टेलीविज़न इंडिया and सोनी एन्टरटेन्मेन्ट टेलीविज़न एशिया
छवि प्रारूप 576i (SDTV),
1080i (HDTV)
मूल प्रसारण मई 9, 2003 – वर्तमान
स्तर जारी
बाह्य सूत्र
आधिकारिक जालस्थल

क्राइम पॅट्रोल एक भारतीय टेलीविजन पर प्रसारित अपराध-श्रृंखला है जिसका विकास, लेखन और निर्देशन सुब्रामनियम एस० अय्यर ने सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन इंडिया और सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन एशिया के लिए किया है। श्रृंखला के रूप में भारत में होने वाले अपराध के मामलों को नाटकीय संस्करण में प्रस्तुत किया जाता है। श्रृंखला के सर्वप्रथम 9 मई 2003 को हरी झंडी दिखाई गई थी और यह सिलसिला अगले 3 सीज़न के लिए चलता रहा है। वर्तमान में अपराध पेट्रोल दस्तक शीर्षक सीज़न 4 में प्रसारित किया जा रहा है और अनूप सोनी द्वारा इसे पेश किया गया है।[1] सीज़न 4 कुख्यात बेबी फ़लक मामले, 2012 दिल्ली सामूहिक बलात्कार मामले और 2013 मुंबई सामूहिक बलात्कार जैसे मामलों को प्रसारित किया गया है।[2]

धारावाहिक का मुख्य लक्ष्य[संपादित करें]

इस धारावाहिक का आदर्श वाक्य है "अपराध किसी का भला नहीं करता" ("Crime never pays")। अनूप सोनी के अनुसार इस तरह के एक रियलिटी शो के पीछे मूल विचार लोगों के बीच में आपराधिक गतिविधियों से दर्शकों को जागरुक बनाने और कैसे उन्हें बताना कि कैसे वे खुद की रक्षा कर सकते हैं। यह वास्तविक जीवन के अपराध और घटनाओं का नाटकीय रूपांतर है और दिखाता है कि पुलिस मामलों को कैसे सुलझाती है।

पसन्द[संपादित करें]

दुनिया भर में अपराध के इस नाटकीय रूपान्तर को ज्यादातर पसन्द किया गया है। वर्तमान में अपराध पेट्रोल दस्तक इसके पिछले सीज़न की तुलना में अधिक लोकप्रिय हो गया है, हालांकि हाल ही में इसके उत्पादन और गुणवत्ता के लिए आलोचना की गई है और सीआईडी ​​जैसे काल्पनिक अपराध शो से कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना कर रहा है।

अंतर्राष्ट्रीय प्रसारण[संपादित करें]

क्राइम पॅट्रोल दस्तक अन्य भारतीय भाषाओं में डब किया गया है। पाकिस्तान में यह शो "जियो तेज" और "जियो कहानी" पर देखा गया है। क्राइम पॅट्रोल दस्तक का एक बंगाली संस्करण सेट इंडिया ही के चैनल सोनी आठ पर प्रसारित किया गया है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Tankha, Madhur (April 20, 2012). "Crime never pays". The Hindu. Chennai, India. Archived from the original on 19 अक्तूबर 2013. Retrieved April 20, 2012. Check date values in: |archive-date= (help)
  2. "संग्रहीत प्रति". Archived from the original on 5 मई 2014. Retrieved 21 अगस्त 2014. Check date values in: |access-date=, |archive-date= (help)