कौल्पिट दोलित्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

कौल्पिट दोलित्र (Colpitts oscillator) कुण्डली-संधारित्र से निर्मित इलेक्ट्रॉनिक दोलक है जो निश्चित आवृति की के दोलन जनित करने के लिए संधारित्र और प्रेरक के संयोजन से बनता है। इसका आविष्कार १९१८ में अमेरिकी अभियंता एड्विन एच॰ कौल्पिट ने किया।[1] कौल्पिट दोलित्र का विशिष्ठ गुणधर्म यह है कि इसमें सक्रीय परिपथ का पुनर्निवेश प्रेरक के साथ श्रेणी क्रम में जुड़े दो संधारित्रों से निर्मित विभव विभाजाक द्वारा दिया जाता है।[2][3][4][5]


सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Colpitts, Edwin H., "Oscillation generator", US 1624537, published 1 फ़रवरी 1918, issued 12 अप्रैल 1927
  2. Gottlieb, Irving Gottlieb (1997). Practical Oscillator Handbook. US: Elsevier. पृ॰ 151. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0750631023.
  3. Carr, Joe (2002). RF Components and Circuits. US: Newnes. पृ॰ 127. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0750648449.
  4. Basak, A. (1991). Analogue Electronic Circuits and Systems. UK: Cambridge University Press. पृ॰ 153. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0521360463.
  5. Rohde, Ulrich L.; Matthias Rudolph (2012). RF / Microwave Circuit Design for Wireless Applications, 2nd Ed. John Wiley & Sons. पपृ॰ 745–746. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1118431405.