कीर्तन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
1960 के दशक में केन्या में पारम्परिक वाद्य यंत्रों के साथ कीर्तन करते सिख श्रद्धालु।

हिन्दू धर्म में ईश्वर या देवता की भक्ति के लिये उनके नामों को भांति-भांति रूप में उच्चारना कीर्तन कहलाता है। यह भक्ति के अनेक मार्गों में से एक है। अन्य हैं - श्रवण, स्मरण, अर्चन आदि।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]