ऐसानेश्वर शिव मंदिर, भुवनेश्वर, उड़ीसा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ऐसानेश्वर शिव मंदिर
धर्म संबंधी जानकारी
सम्बद्धताहिंदू धर्म
अवस्थिति जानकारी
अवस्थितिभुवनेश्वर
राज्यउड़ीसा
देशभारत
भौगोलिक निर्देशांक20°14′N 85°49′E / 20.233°N 85.817°E / 20.233; 85.817निर्देशांक: 20°14′N 85°49′E / 20.233°N 85.817°E / 20.233; 85.817
वास्तु विवरण
प्रकारकलिंग वास्तुकला

ऐसानेश्वर शिव मंदिर भारतीय राज्य उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर में भगवान शिव को समर्पित[1] १३ वीं शताब्दी में निर्मित एक हिन्दू मंदिर है। मंदिर भुवनेश्वर के पुराने शहर के श्रीराम नगर में एक अस्पताल के अंदर स्थित है। यह लिंगराज मंदिर के परिसर की पश्चिमी दीवार के समीप है। मंदिर का मुख पूर्व दिशा की ओर है।

मंदिर के अंदर एक गोलाकार योनिपीठ (तहखाने) के भीतर एक शिवलिंग स्थापित है। विभिन्न अनुष्ठान, जैसे शिवरात्रिजलाभिषेकरुद्राभिषेक, तथा संक्रांति  इत्यादि यहाँ मनाये जाते हैं. शिवरात्रि के छठे दिन भगवान लिंगराज की मूर्ती को इसी मंदिर में लाया जाता है।

इतिहास[संपादित करें]

मंदिर की कई वास्तुकला संबंधी विशेषताएं, जैसे सप्तरथ (सात रथ) इत्यादि, मेघेश्वर मंदिर के सामान हैं. इससे पता चलता है कि इस मंदिर का निर्माण १३ वीं शताब्दी में किया गया था। अन्य विशेषताओं से पता चलता है कि यह गंगा द्वारा बनाया गया था।

वास्तुकला[संपादित करें]

मंदिर निर्माण स्लेटी बलुआ पत्थर से कलिंग वास्तुकला शैली में हुआ है। तल जंघा  और ऊपरी जंघा  को क्रमशः खाखरा मुंडी और पीड़ा मुंडी के साथ सजाया गया है। इसके पिस्ता में तीन ढलाव हैं, जिन्हें खाखरा मुंडी की श्रंखलाओं के साथ सजाया गया है. अनुरथ पग (मुख्य भाग) में लगातार खाखरा मुंडी की श्रंखलाएं हैं, जिनमें अनुरह पग में कमल तथा कनिक पग में १० भूमि अम्ल हैं. राहपग की गण्डी पर दोउद्योत  शेर दिखते हैं। गण्डी के आधार पर सामने की दीवार में एक छोटे आकार कारेखा अंगशिखर भी है।

द्वारों की चौखटों को बाहर से अंदर की ओर पुष्प शाखा, पत्र शाखा तथा लता शाखा की तीन ऊर्ध्वाधर पट्टियों द्वारा सजाया गया है। चौखटों के नीचे दोनों कोनों पर खाखरा मुंडी है. भगवान ललाटबिम्ब गजलक्ष्मी ललितासन में बैठे हैं। चौखट के ठीक ऊपर प्रस्तरपाद में एक नवग्रह पैनल है, जिसमें प्रत्येक आले के भीतर एक ग्रह है। सूर्य के हाथ में कमल है और केतु  नाग की पूंछ के साथ बाएं हाथ में धनुष और दाहिने हाथ में एक ढाल पकड़े हुए हैं। मंदिर का रखरखाव भुवनेश्वर नगर निगम के पास है। मंदिर उचित संरक्षण के कारण अच्छी स्थिति में है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

नोट[संपादित करें]

  1. The forgotten monuments of Odisha. Volume 2. Kamalā Ratnam, India. Ministry of Information and Broadcasting. Publications Division, Indian National Trust for Art and Cultural Heritage

सन्दर्भ[संपादित करें]

  • Pradhan, Sadasiba (2009). Lesser Known Monuments Of Bhubaneswar. Bhubaneswar: Lark Books. पपृ॰ 1–2. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 81-7375-164-1. |ISBN= और |isbn= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद)