आहारीय सेलेनियम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

आहारीय सेलेनियम यह प्रति-उपचायक के रूप में काम करता है। यह प्रभावशाली प्रति- उपचायक खनिज है। यह शरीर को हानिप्रद मुक्त मूलकों से छुटकारा दिलाने से मदद करता है जो चर्बीचुक्त ऊतकों के ऑक्सीजन के परिणामस्वरुप होते हैं। यह रक्त के थक्के बनने से रोकता है। प्रतिरक्षक-तंत्र की शक्ति बढाता है और जीव-विषों के प्रभावों को व्यर्थ कर देता है। यह जरावसथा की क्रियाओं को धीमा करता है। यकृत की सुस्वस्थता कायम रखने के लिये विटामिन ‘ई’ के साथ सेलेनियम आवश्यक है। सेलेनियम की कमी से कैन्सर और हृदय रोग में खतरा बढ़ जाता है। कई देशों के सेलेनियम और कैन्सर प्रतिमानों का मानचित्रण कर लिया गया है। जिसमें सेलेनियम-कैन्सर संबंध का साक्ष्य अत्यधिक है। फ़िनलैड में वैज्ञानिको ने ग्यारह हजार व्यक्तियों को देखा उन्होंने पाया कि सेलेनियम के निम्न रक्त-वाले व्यक्ति हृदय-रोग से तीन गुना अधिक मृत्यु की सम्भावना वाले थे। चीन में हृदय की मांसपेशियों की खराबी से होने वाला रोग उन क्षेत्रों में फ़ैले हुए थे जहां खनिज सेलेनियम के निम्न स्तर पाये गये थे। सेलेनियम की कमी वाली मिट्टी सेलेनियम की कमी वाले खाघ उत्पन्न करती थी। सेलेनियम सम्पूर्ण के परिणाम स्वरुप यह रोग प्रायः समाप्त कर दिया गया है। १९८४ में प्रकाशित एक अध्ययन में बताया कि निम्न रक्त सेलेनियम वाले व्यक्तियों को कैन्सर होने का अधिक खतरा होता है।

स्रोत[संपादित करें]

शतावर, फ़ूलगोभी, अजमोद, खीरा, लहसुन, प्याज, खुंभी, मूली, समपूर्ण अनाज, समुद्र से प्रापत होने वाले खाघ, जिगर, गुर्दा, मांस, ब्राउन चावल में सफ़ेद चावल से १२ गुना सेलेनियम नष्ट हो जाता है। सम्पूरक केवल डाक्टरी सलाह पर लिये जाने चाहिये।