आमाशय (पेट)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Stomach
Stomach diagram.svg
The location of the stomach in the human body.
Illu stomach.jpg
Diagram from cancer.gov:
* 1. Body of stomach
* 2. Fundus
* 3. Anterior wall
* 4. Greater curvature
* 5. Lesser curvature
* 6. Cardia
* 9. Pyloric sphincter
* 10. Pyloric antrum
* 11. Pyloric canal
* 12. Angular notch
* 13. Gastric canal
* 14. Rugal folds

Work of the United States Government
लैटिन Ventriculus
ग्रे की शरी‍रिकी subject #247 1161
तंत्रिका celiac ganglia, vagus[1]
लसिका celiac preaortic lymph nodes[2]
एमईएसएच {{{MeshNameHindi}}}
डोर्लैंड्स/एल्सीवियर Stomach

कशेरुकी, एकाइनोडर्मेटा वंशीय जंतु, कीट (आद्यमध्यांत्र) और मोलस्क सहित, कुछ जंतुओं में, आमाशय एक पेशीय, खोखला, पोषण नली का फैला हुआ भाग है जो पाचन नली के प्रमुख अंग के रूप में कार्य करता है. यह चर्वण (चबाना) के बाद, पाचन के दूसरे चरण में शामिल होता है. आमाशय, ग्रास नली और छोटी आंत के बीच में स्थित होता है. यह छोटी आंतों में आंशिक रूप से पचे भोजन (अम्लान्न) को भेजने से पहले, अबाध पेशी ऐंठन के माध्यम से भोजन के पाचन में सहायता के लिए प्रोटीन-पाचक एन्ज़ाइम और तेज़ अम्लों को स्रावित करता है (जो ग्रासनलीय पुरःसरण के ज़रिए भेजा जाता है).

आमाशय के लिए प्रयुक्त अंग्रेज़ी शब्द stomach लैटिन के stomachus से व्युत्पन्न है, जो ग्रीक शब्द stomachos से और अंततः stoma (στόμα) यानी "मुँह" से उत्पन्न हुआ है. शब्द gastro - और gastric (अर्थात् पेट से संबंधित) दोनों ही ग्रीक शब्द gaster (γαστήρ) से व्युत्पन्न हैं.

यहां तक कि अमीबा और मांसाहारी पादपों में भी ऐसी संरचनाएं मौजूद हैं जो आमाशय के अनुरूप हैं.

पाचन में भूमिका[संपादित करें]

पिंड (चबाया हुआ आहार) ग्रासनलीय अवरोधिनी के माध्यम से ग्रासनली से आमाशय में प्रवेश करता है. आमाशय प्रोटीज़ (पेप्सिन जैसे प्रोटीन-पाचक एन्ज़ाइम) और हाइड्रोक्लोरिक अम्ल मुक्त करता है, जो जीवाणुओं को मारते या रोकते हैं और प्रोटीज़ों को काम करने के लिए अम्लीय pH उपलब्ध कराते हैं. आमाशय द्वारा बुध्न[3] और आमाशय के ढांचे के इर्द-गिर्द लिपटने से पहले, बुध्न की मात्रा को कम करते हुए - दीवार की मांसपेशियों के संकुचन के माध्यम से भोजन का मंथन किया जाता है, जब पिंड अम्लान्न (आंशिक रूप से पचा हुआ आहार) में परिवर्तित होता है. अम्लान्न धीरे-धीरे जठरनिर्गम संकोची के माध्यम से गुजरता है और ग्रहणी में पहुंचता है, जहां पोषक तत्वों की निकासी शुरू होती है. मात्रा और आहार-सामग्री के आधार पर, आमाशय भोजन को 40 मिनट से लेकर कुछ घंटों के बीच अम्लान्न के रूप में पचाता है.

पेट की शारीरिक-रचना[संपादित करें]

आमाशय ग्रास नली और ग्रहणी के बीच स्थित होता है (छोटी आंत का प्रथम भाग). यह उदर गुहा के बाएं ऊपरी भाग में मौजूद होता है. आमाशय का ऊपरी हिस्सा मध्यपट के विपरीत होता है. आमाशय के पीछे अग्न्याशय स्थित है. महा वपाजाल महा वक्रता से नीचे लटका होता है.

दो अवरोधिनियां आमाशय की सामग्री को अंतर्विष्ट रखती हैं. वे हैं नली को ऊपर विभाजित करती हुई ग्रास नलीय अवरोधिनी (हृदय क्षेत्र में मौजूद, संरचनात्मक अवरोधिनी नहीं), और छोटी आंत से आमाशय को विभाजित करती हुई जठरनिर्गमीय अवरोधिनी.

आमाशय परानुकंपी (उत्तेजक) और सहजानुकंपी (निरोधक) स्नायुजाल (अग्र जठरीय, पश्च, ऊर्ध्व और निम्न, उदरीय और आंत्रपेशी-अस्तर संबंधी रक्त वाहिनियां और तंत्रिका जाल), जो अपनी मांसपेशियों की स्रावण गतिविधि और प्रेरक (गतिजनक) क्रियाकलाप, दोनों को नियंत्रित करता है.

मानवों में, आमाशय में मंद, लगभग ख़ाली 45 मि.ली. की मात्रा होती है. यह एक लचीला अंग है. यह सामान्य रूप से 1 लीटर आहार धारित करने के लिए विस्फारित होता है[4], लेकिन यह 2-3 लीटर तक धारित कर सकता है (जबकि नवजात शिशु केवल 30ml रोकने में सक्षम है).

भाग[संपादित करें]

पेट को 4 भागों में विभाजित किया जाता है, जिनमें से प्रत्येक की अलग कोशिकाएं और भिन्न कार्य हैं. ये भाग हैं:

बुध्न अंग के ऊपरी वक्रता द्वारा निर्मित.
शरीर या पिंड प्रमुख, केंद्रीय क्षेत्र.
जठरनिर्गम अंग का निचला भाग जो छोटी आंत में सामग्री को ख़ाली करने में मदद करता है. )

रक्त की आपूर्ति[संपादित करें]

उदर के लिए रक्त आपूर्ति: बाईं और दाईं आमाशयी धमनी, बाईं और दाईं आमाशयी-वपा संबंधी धमनी और छोटी आमाशयी धमनी.[5]

आमाशय की न्यून वक्रता को दाईं जठरीय धमनी द्वारा कम आपूर्ति की जाती है, और बाईं जठरीय धमनी द्वारा ज़्यादा, जो हृदय क्षेत्र को भी आपूर्ति करती है. उच्च वक्रता को दाईं जठरीय-वपा धमनी द्वारा कम आपूर्ति होती है, और बाईं जठरीय-वपा धमनी द्वारा ज़्यादा. आमाशय के बुध्न, और महा वक्रता के ऊपरी भाग को लघु जठरीय धमनी द्वारा आपूर्ति होती है.

जठरांत्र नलिका के अन्य भागों की तरह, आमाशय की दीवारें, अंदर से बाहर, निम्नलिखित परतों से बनी होती हैं:

सीरमीकला यह परत बाह्य पेशीकला के ऊपर होती है, जिसमें उदरावरण के साथ संयोजी ऊतकों की परतें सतत मौजूद रहती हैं.
चित्र:Stomach.JPG
पेट की दीवार का अनुप्रस्थ काट.
चित्र:Pyloric stomach LPO.JPG
पेट की दीवार के जठरनिर्गमीय भाग का सूक्ष्मदर्शी अनुप्रस्थ काट.

ग्रंथियां[संपादित करें]

आमाशय की उपकला गहरे गड्ढ़े तैयार करती हैं. इन स्थानों पर ग्रंथियों के नाम संगत पेट के भाग के अनुसार हैं:

Gray1053.png | | Gray1054.png | | Gray1055.png

इन ग्रंथियों के विभिन्न परतों में कोशिकाओं के विभिन्न प्रकार पाए जाते हैं:

आमाशय की परत नाम स्राव आमाशय क्षेत्र अभिरंजन - ग्रंथि संकीर्णपथ श्लेष्म ग्रीवा कोशिकाएं श्लेष्मा जेल परत बुध्न संबंधी, हृदय संबंधी, जठरनिर्गमी स्वच्छ - ग्रंथि का मुख्य भाग पार्श्विक (अम्लस्रावी) कोशिकाएं गैस्ट्रिक एसिड और आंतरिक कारक बुध्न संबंधी, हृदय संबंधी, जठरनिर्गमी अम्लरागी - ग्रंथ्याधार मुख्य (किण्वजनक) कोशिका पेप्सिनोजन केवल बुध्न संबंधी क्षाररागी - ग्रंथ्याधार आंत्रिकअंतःस्रावी (APUD) कोशिकाएं हार्मोन गैस्ट्रीन, हिस्टामिन, एंडोर्फिन, सिरोटोनिन, कोलीसिस्टोकाइनिनऔर सोमाटोस्टैटिन बुध्न संबंधी, हृदय संबंधी, जठरनिर्गमी -

स्राव और गतिशीलता नियंत्रण[संपादित करें]

पेट में रसायनों का संचलन और प्रवाह, दोनों स्वायत्त तंत्रिका प्रणाली और विभिन्न पाचन प्रणाली हार्मोन द्वारा नियंत्रित होते हैं:

जठरीय बचाव में EGF[संपादित करें]

अधिचर्म वृद्धि कारक या EGF कोशिकीय प्रोद्भवन, विभेदीकरण, और अवशेष में परिणत होता है.[6] EGF एक पहले माउस अवअधोहनुज ग्रंथि से शुद्ध न्यून-आणविक-भार वाला पॉलीपेप्टाइड है, लेकिन बाद में जो अवअधोहुनज ग्रंथि, कर्णमूल ग्रंथि सहित कई मानव ऊतकों में पाया गया. लारमय EGF, जो लगता है आहारीय अकार्बनिक आयोडीन द्वारा विनियमित है, मुख-ग्रास नलीय और आमाशय ऊतक संपूर्णता के रखरखाव में भी एक महत्वपूर्ण शारीरिक भूमिका निभाता है. लारमय EGF के जैविक प्रभावों में शामिल है मौखिक और आमाशय-ग्रासनलीय अल्सर, जठरीय अम्ल अवरोध, स्राव, डीएनए संश्लेषण का उद्दीपन और साथ ही जठरीय अम्ल, पित्त अम्ल, पेप्सिन, और ट्राइसिन जैसे इंट्रालुमिनल हानिकारक घटकों और भौतिक, रासायनिक और जैविक एजेंटों से श्लेष्मिक संरक्षण.[7]

पोषण संवेदक के रूप में आमाशय[संपादित करें]

आमाशय ग्लूटामेट ग्राहियों का उपयोग करते हुए सोडियम ग्लूटामेट का "स्वाद" पा सकता है[8] और यह जानकारी वेगस तंत्रिका के माध्यम से स्वादिष्ट संकेत के रूप में मस्तिष्क में पार्श्विक अधःश्चेतक और सीमांत प्रणाली को पारित की जाती है.[9] आमाशय भी जीभ और मौखिक स्वाद ग्राहियों की तरह स्वतंत्र रूप से ग्लूकोज,[10] कार्बोहाइड्रेट,[11] प्रोटीन,[11] और वसा[12] को समझ सकता है. यह मस्तिष्क को उनके स्वाद के साथ आहार के पोषण मूल्य को जोड़ना सुलभ कराता है.[10]

पेट के रोग[संपादित करें]

ऐतिहासिक रूप से, व्यापक तौर पर यह माना जाता था कि आमाशय का उच्च अम्लीय परिवेश पेट की संक्रमण से प्रतिरक्षा कर सकता है. लेकिन, बड़ी संख्या में अध्ययनों ने संकेत दिया है कि उदरव्रण, जठरशोथ, और आमाशय कैंसर का कारक के अधिकांश मामलों के और हेलिकोबैक्टर पाइलोरी संक्रमण है.

अन्य जंतुओं में[संपादित करें]

एक स्वस्थ 65 वर्षीय महिला के सामान्य उदर का गुहांतदर्शन.

हालांकि आमाशय का सटीक रूप और आकार विभिन्न कशेरुकियों में व्यापक रूप से अलग होता है, पर ग्रासनलीय और ग्रहणी के प्रवेश द्वारों की संबद्ध स्थिति अपेक्षाकृत स्थिर रही है. परिणामस्वरूप, अंग हमेशा जठरनिर्गमीय अवरोधिनी से मिलने के लिए पीछे मुड़ने से पहले, बाईं ओर कुछ हद तक मुड़ जाता है. तथापि, लैम्प्रे, हैगफ़िश, काइमीरा, लंग फिश, और कुछ टेलीओस्ट मछली में ग्रास नली सीधे आंत में खुलते हुए, आमाशय ही नहीं होता है. ये सभी जंतु ऐसे आहार ग्रहण करते हैं जिनके संग्रहण की ज़्यादा ज़रूरत नहीं होती, या पाचक रसों के साथ पूर्व-पाचन ज़रूरी नहीं, या दोनों ही.[13]

सामान्यतः जठरीय अस्तर दो क्षेत्रों में विभाजित होता है, एक बुध्न ग्रंथियों द्वारा अस्तरित अग्रवर्ती भाग, और जठरनिर्गमीय ग्रंथियों सहित पिछला भाग. हृदय ग्रंथियां स्तनपायी जंतुओं में अद्वितीय हैं, और फिर भी कई प्रजातियों में अनुपस्थित रहे हैं. इन ग्रंथियों का वितरण प्रजातियों के बीच भिन्न है, और मानव जैसे हमेशा एक ही क्षेत्र के अनुरूप नहीं रहते हैं. इसके अलावा, कई गैर मानवीय स्तनधारियों में, हृदय ग्रंथियों के आगे आमाशय का कुछ हिस्सा ग्रास नली के समान अनिवार्य रूप से उपकला से अस्तरित होता है. विशेष रूप से, रोमंथक का आमाशय जटिल होता है, जिसके पहले तीन कोष्ठ ग्रासनलीय श्लेष्मा से अस्तरित होते हैं.[13]

पक्षी और मकर जाति के जंतुओं में आमाशय दो क्षेत्रों में विभाजित होता है. आगे एक संकीर्ण नलिकाकार क्षेत्र, प्रोवेंट्रीक्युलस, बुध्न ग्रंथियों द्वारा अस्तरित, और सही आमाशय को गलथैली से जोड़ता हुआ होता है. इसके परे शक्तिशाली पेशीय पेषणी, बुध्न ग्रंथियों से अस्तरित होती है, और, कुछ प्रजातियों में, आहार को पीसने में मदद के लिए जंतु द्वारा निगले हुए पत्थर शामिल होते हैं.[13]

कई स्तनधारी प्रजातियों के उदरीय ग्रंथिल प्रदेशों की तुलना. पीला: ग्रासनली; हरा: अग्रंथिल उपकला; बैंगनी: हृदय ग्रंथियां; लाल: आमाशयी ग्रंथियां; नीला: जठरनिर्गमीय ग्रंथियां; गहरा नीला: ग्रहणी. प्रदेशों के बीच ग्रंथियों की आवृत्ति यहां चित्रित की अपेक्षा अधिक सुचारू रूप से भिन्न हो सकती है. तारांकन (रोमंथी) तृतीय आमाशय का प्रतिनिधित्व करता है, जो टाइलोपोडा में अनुपस्थित है (टाइलोपोडा में कुछ हृदय ग्रंथियां उदरीय जालिका और प्रथम आमाशय में खुलता है[14])स्तनधारियों में कई अन्य रूप मौजूद हैं.[15][16]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. एमसीजी में शरीर रचना विज्ञान 6/6ch2/s6ch2_30
  2. stomach at The Anatomy Lesson by Wesley Norman (Georgetown University)
  3. Richard M. Gore; Marc S. Levine. (2007). Textbook of Gastrointestinal Radiology. Philadelphia, PA.: Saunders. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1416023321. 
  4. Sherwood, Lauralee (1997). Human physiology: from cells to systems. Belmont, CA: Wadsworth Pub. Co. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0314092455. OCLC 35270048. 
  5. [8]; p. 150
  6. Herbst RS (2004). "Review of epidermal growth factor receptor biology". International Journal of Radiation Oncology, Biology, Physics 59 (2 Suppl): 21–6. doi:10.1016/j.ijrobp.2003.11.041. PMID 15142631. 
  7. Venturi S.; Venturi M. (2009). "Iodine in evolution of salivary glands and in oral health". Nutrition and Health 20: 119–134. 
  8. यूमात्सु ए, त्सुरुगिज़ावा टी, कोन्डो टी, टोरी के.(2009). कंडिशन्ड फ़्लेवर प्रिफ़रेन्स लर्निंग बाई इंट्रागैस्ट्रिक एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ़ एल-ग्लूटमेट इन रैट्स. न्यूरोस्की लेट्ट. फरवरी 27;451(3):190-3. पमिड 19146916
  9. यूमात्सु ए, त्सुरुगिज़ाववा टी, उनेयामा एच, टोरी के.(2010) ब्रेन-गट कम्यूनिकेशन वाया वेगस नर्व मॉड्यूलेट्स कंडिशन्ड फ्लेवर प्रिफ़रेन्स. यूर जे न्यूरोस्कि. 31(6):1136-43. doi:10.1111/j.1460-9568.2010.07136.xPMID 20377626
  10. डी अराउजो, आइ.ई., ओलिविएरा-मैया, ए.जे., सोत्निकोवा, टी.डी., गाइनेटडिनोव, आर.आर., केरॉन, एम.जी., निकोलेलिस, एम.ए. और साइमन, एस.ए.(2008) फ़ुड रिवार्ड इन द एब्सेन्स ऑफ़ टेस्ट रिसेप्टर सिग्नलिंग. न्यूरॉन, 57, 930-941. PMID 18367093
  11. पेरेज़, सी., एक्रॉफ़, के.और स्क्लाफनी, ए.(1996) कार्बोहाइड्रेट-एंड प्रोटीन कंडीशन्ड फ्लेवर प्रिफ़रेन्सस: एफ़ेक्ट्स ऑफ़ न्यूट्रिएंट प्रिलोड्ज़. फ़िज़ियो. बिहेव., 59, 467-474. PMID 8700948
  12. एक्राफ़, के., ल्यूकास, एफ़. एंड स्क्लाफ़नी, ए.(2005) फ़्लेवर प्रिफ़रेन्स कंडिशनिंग एज़ ए फ़ंक्शन ऑफ़ फ़ैट सोर्स. फ़िज़ियो. बिहेव., 85, 448-460. PMID 15990126
  13. Romer, Alfred Sherwood; Parsons, Thomas S. (1977). The Vertebrate Body. Philadelphia, PA: Holt-Saunders International. pp. 345–349. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-03-910284-X. 
  14. [26]
  15. [27]
  16. [28]

बाह्य लिंक[संपादित करें]

Wiktionary-logo-en.png
आमाशय (पेट) को विक्षनरी,
एक मुक्त शब्दकोष में देखें।
विकिमीडिया कॉमन्स पर Stomach
से सम्बन्धित मीडिया है।

साँचा:Digestive tract