स्वरग्रंथि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
स्वरग्रंथि (larynx) और उस के भीतरी अंग, जैसे स्वर-रज्जु (vocal cords)

स्वरग्रंथि या स्वरयंत्र मनुष्यों और अन्य स्तनधारी जीवों के गले में मौजूद एक ग्रंथि (आर्गन) होती है जिस के प्रयोग से यह जीव भिन्न प्रकार की ध्वनियों में बोल पाते हैं। स्वरग्रंथि के अन्दर बहुत से स्वर-रज्जु (वोकल कार्ड) होते हैं। जब इन स्वर-रज्जुओं के ऊपर से हवा का तेज़ बहाव होता है तब इनकी कंपकंपी से अलग-अलग ध्वनियों की आवाज़ पैदा होती है, ठीक उसी तरह जैसे किसी सितार की तारों के कंपन से विभिन्न सुरों का संगीत पैदा होता है।

इन्हें भी देखिये[संपादित करें]

टिप्पणी[संपादित करें]

१.^ अंग्रेज़ी में स्वरग्रंथि को लैरिंक्स (larynx) या वाइसबाक्स (voicebox) कहते हैं
२.^ अंग्रेज़ी में सस्तन या स्तनधारी जीवों को मैमल (mammal) कहते हैं
३.^ अंग्रेज़ी में ग्रंथि को आर्गन (organ) कहते हैं
४.^ अंग्रेज़ी में स्वर-रज्जु को वोकल कार्ड या वोकल फ़ोल्ड (vocal cord या vocal fold) कहते हैं