सामग्री पर जाएँ

आंग्ल-मणिपुर युद्ध

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से


आंग्ल-मणिपुर युद्ध
kangla3.jpg
कंगला पैलेस के सामने स्थित दो ड्रेगन की मूर्तियां, जो युद्ध के दौरान नष्ट हो गईं।
तिथि 31 मार्च – 27 अप्रैल 1891[1]
स्थान मणिपुर रियासत
परिणाम ब्रिटिश विजय, मेइडिंग्गु चुरचंद को राजा घोषित किया गया[2]
योद्धा
यूनाइटेड किंगडम ब्रिटिश साम्राज्य मणिपुर राज्य
सेनानायक
ब्रिटिश राज रानी विक्टोरिया
ब्रिटिश राज लॉर्ड लैंसडाउन
ब्रिटिश राज Major General H. Colle [1]
Maharajah कुलचंद्र सिंह  (युद्ध-बन्दी)
जुबराज टिकेंद्रजीत साँचा:Executed[1]
शक्ति/क्षमता
+395
2 guns[3][4]
+3,200
2 guns[3][4]
मृत्यु एवं हानि
4  
15 साँचा:WIA[3][4]
+178  
5 साँचा:Executed[1]

आंग्ल-मणिपुर युद्ध ब्रिटिश साम्राज्य और मणिपुर साम्राज्य के बीच एक सशस्त्र संघर्ष था। युद्ध 31 मार्च और 27 अप्रैल 1891 के बीच चला जिसमें अंग्रेजों की जीत हुई किन्तु टिकेन्द्रजीत सिंह ने अपनी राजनीतिक सूझबूझ से अंग्रेजों के दाँत खट्टे कर दिए थे।

पृष्ठभूमि

[संपादित करें]

प्रथम आंग्ल-बर्मी युद्ध में, अंग्रेजों ने राजकुमार गम्भीर सिंह को मणिपुर के अपने राज्य को वापस हासिल करने में मदद की, जिसे बर्मा के कब्जे में ले लिया गया था। [5] इसके बाद, मणिपुर एक ब्रिटेन का संरक्षित राज्य बन गया। [6] 1835 से, अंग्रेजों ने मणिपुर में एक राजनीतिक एजेंट तैनात कर दिया।[7]

1890 में यहाँ महाराजा सूरचंद्र सिंह का राज था। उनके भाई कुलचंद्र सिंह युवराज थे जबकि एक अन्य भाई टिकेन्द्रजीत सिंह सेनापति थे। फ्रैंक ग्रिमवुड ब्रिटिश राजनीतिक एजेंट थे।[8]

कहा जाता है कि टिकेंद्रजीत उन तीन भाइयों में सबसे सक्षम थे, जो पॉलिटिकल एजेंट के साथ भी मित्रता रखते थे।[9] इतिहासकार कैथरीन प्रायर के अनुसार, शासक परिवार को दी जाने वाली सैन्य सहायता के कारण इन पर ब्रिटेन का प्रभाव था जो 1880 के दशक में कम हो गया था। इससे टिकेन्द्रजीत को ब्रिटिश गठबंधन की आवश्यकता पर संदेह हुआ। [10]

तख्तापलट और विद्रोह

[संपादित करें]
उस समय के असम राज्य (1931) के साथ मणिपुर रियासत का मानचित्र

21 सितंबर 1890 को, टिकेंद्रजीत सिंह ने तख्तापलट का नेतृत्व किया, महाराजा सूरचंद्र सिंह को हटा दिया और कुलचंद्र सिंह को शासक बना दिया। उन्होंने खुद को नया युवराज भी घोषित किया । [11][12] [lower-alpha 1] सूरचंद्र सिंह ने ब्रिटिश रेजीडेंसी में शरण ली, जहाँ ग्रिमवुड ने उन्हें राज्य से भागने में मदद की।[13] महाराजा ने कुछ ऐसा संकेत दिया कि कि वे राजगद्दी का त्याग कर रहे हैं, लेकिन पड़ोसी असम प्रांत ( ब्रिटिश क्षेत्र) में पहुँचने के बाद, वह फिर से अपना राज्य वापस पाने का प्रयत्न करने लगे। राजनीतिक एजेंट और असम के मुख्य आयुक्त, जेम्स वालेस क्विंटन दोनों ने उन्हें वाप्स लौटने के लिए राजी कर लिया।[14]

सूरचंद्र सिंह कलकत्ता पहुँचे और अंग्रेजों से अपील की कि वह उन सेवाओं को याद करें जो उन्होंने उन्हें प्रदान की थीं। [15] २४ जनवरी १८९१ को, गवर्नर-जनरल ने असम के मुख्य आयुक्त को मणिपुर जाकर मामले को निपटाने का निर्देश दिया।

मुख्य आयुक्त क्विंटन ने कलकत्ता में सरकार को मना लिया कि महाराजा को बहाल करने की कोशिश का कोई लाभ नहीं होगा। इस पर सहमति बनी, लेकिन सरकार चाहती थी कि सेनापति टिकेंद्रजीत सिंह अनुशासित हों।[16]

22 मार्च 1891 को क्विंटन, कर्नल स्केने की कमान के तहत 400 गोरखाओं के अनुरक्षण में मणिपुर पहुंचे। योजना यह थी कि तत्कालीन जुबराज कुलचंद्र सिंह के साथ सभी रईसों में शामिल होने के लिए एक दरबार आयोजित किया जाएगा, जहां सेनापति को आत्मसमर्पण करने की मांग की जाएगी। रीजेंट दरबार में भाग लेने के लिए आया था, लेकिन सेनापति नहीं आया था। अगले दिन एक और कोशिश की गई वह भी असफल रही।[17] क्विंटन ने अपने ही किले में सेनापति की गिरफ्तारी का आदेश दिया, जिसे स्पष्ट रूप से निरस्त कर दिया गया था और रेजीडेंसी को खुद बंद कर दिया गया था। अंत में क्विंटन टिकेंद्रजीत के साथ ग्रीमवुड, स्केन और अन्य ब्रिटिश अधिकारियों के साथ बातचीत करने गए। वार्ता विफल रही और लौटते समय, ब्रिटिश पार्टी पर "क्रोधित भीड़" द्वारा हमला किया गया। ग्रिमवुड को मौत के घाट उतार दिया गया। बाकी लोग किले में भाग गए। लेकिन रात के दौरान भीड़ ने उन्हें बाहर निकाला और उन्हें मार डाला। मारे गए लोगों में क्विंटन भी शामिल थे।[18]  

बाद के स्रोतों के अनुसार, क्विंटन ने कुलचंद्र सिंह को सभी शत्रुता को रोकने और कोहिमा में उनकी वापसी का प्रस्ताव दिया था। कुलचंद्र और टिकेंद्रजीत ने प्रस्तावों को धोखा माना। [19] [20]

27 मार्च 1891 को यह खबर अंग्रेजों तक पहुंची। कर्नल चार्ल्स जेम्स विलियम ग्रांट ने 12 वीं (बर्मा) मद्रास इन्फैंट्री के 50 सैनिकों और 43 वें गोरखा रेजिमेंट के 35 सदस्यों को लेकर इसका 'दंद' देने के लक्ष्य से निकला और अगले दिन तमू, बर्मा से रवाना हुआ।[21]

31 मार्च 1891 को, ब्रिटिश भारत ने कंगलिपक पर युद्ध की घोषणा कर दी। अभियान दलों को कोहिमा और सिलचर में इकट्ठा किया गया था। उसी दिन, 800-आदमी मणिपुरी गैरीसन को बाहर करने के बाद तमू कालम ने थौबल को घेर लिया। 1 अप्रैल को, 2,000 मणिपुरी सैनिकों ने दो बंदूकों के साथ गांव की घेराबंदी की, ग्रांट के सैनिकों ने नौ दिनों के दौरान कई हमले किए। 9 अप्रैल को, 12 वीं (बर्मा) तमू पीछे हट गया था और दूसरे कॉलम्स से जुड़ गया था। इस संघर्ष में कंगलिपक बलों के सैनिक भारी मात्रा में हताहत हुए जबकि अंग्रेजों ने एक सैनिक को खो दिया और चार घायल हो गए।[22] [23]

27 अप्रैल 1891 को सिलचर, तमू और कोहिमा स्तंभ एकजुट हुए, इम्फाल पर कब्जा करने के बाद इसे निर्जन पाया गया, यूनियन जैक को कंगला पैलेस के ऊपर फहराया गया, 62 देशी वफादारों को ब्रिटिश सैनिकों ने मुक्त कर दिया। 23 मई 1891 को, टिकेंद्रजीत सिंह को ब्रिटिश अधिकारियों द्वारा हिरासत में लिया गया था 13 अगस्त 1891 को, टिकेंद्रजीत सहित पांच मणिपुरी कमांडरों को ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ युद्ध छेड़ने के लिए फांसी दी गई थी, कुलचंद्र सिंह के साथ 21 कंगालीपाक महानुभावों को संपत्ति की जब्ती और आजीवन निर्वासन की सजा मिली थी। मणिपुर में एक निरस्त्रीकरण अभियान चला, 4,000 आग्नेयास्त्रों को स्थानीय आबादी से जब्त कर लिया गया। [24][25][26]

22 सितंबर 1891 को, अंग्रेजों ने युवा लड़के मेइडिंग्गु चुरचंद को गद्दी पर बिठाया।

13 अगस्त को मणिपुरी लोग "देशभक्त दिवस" के रूप में मनाते हैं और है, युद्ध के दौरान अपनी जान गंवाने वाले कंगिलपाक सैनिकों को समानपूर्वक याद करते हैं। भारत के संसद भवन के अन्दर टिकेंद्रजीत सिंह का चित्र लगाया गया है है। 23 अप्रैल को "खोंगजोम दिवस" के रूप में भी मनाया जाता है।[27] [28]

इन्हें भी देखें

[संपादित करें]

सन्दर्भ

[संपादित करें]
  1. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; sPw नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  2. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; JiHx नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  3. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; jx नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  4. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Gazi नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  5. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  6. Sharma, Hanjabam Shukhdeba (2010), Self-determination movement in Manipur, Tata Institute of Social Sciences/Shodhganga, Chapter 3
  7. "No. 26192". The London Gazette. 14 August 1891. p. 4372.
  8. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  9. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  10. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  11. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  12. Sharma, Hanjabam Shukhdeba (2010), Self-determination movement in Manipur, Tata Institute of Social Sciences/Shodhganga, Chapter 3
  13. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  14. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  15. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  16. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  17. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  18. Sharma, Hanjabam Shukhdeba (2010), Self-determination movement in Manipur, Tata Institute of Social Sciences/Shodhganga, Chapter 3
  19. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  20. Sharma, Hanjabam Shukhdeba (2010), Self-determination movement in Manipur, Tata Institute of Social Sciences/Shodhganga, Chapter 3
  21. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  22. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  23. Sharma, Hanjabam Shukhdeba (2010), Self-determination movement in Manipur, Tata Institute of Social Sciences/Shodhganga, Chapter 3
  24. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  25. Sharma, Hanjabam Shukhdeba (2010), Self-determination movement in Manipur, Tata Institute of Social Sciences/Shodhganga, Chapter 3
  26. "No. 26192". The London Gazette. 14 August 1891. p. 4372.
  27. "The Anglo Manipur War 1891 and its Consequences". Manipur State Archives. 19 January 2012.
  28. Sharma, Hanjabam Shukhdeba (2010), Self-determination movement in Manipur, Tata Institute of Social Sciences/Shodhganga, Chapter 3

बाहरी कड़ियाँ

[संपादित करें]