अल्फाल्फा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

Alfalfa
75 Medicago sativa L.jpg
Medicago sativa
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत: Plantae
विभाग: Magnoliophyta
वर्ग: Magnoliopsida
गण: Fabales
कुल: Fabaceae
उपकुल: Faboideae
वंश समूह: Trifolieae
वंश: Medicago
जाति: M. sativa
द्विपद नाम
Medicago sativa
L.[1]
Subspecies

Medicago sativa subsp. ambigua (Trautv.) Tutin
Medicago sativa subsp. microcarpa Urban
Medicago sativa subsp. sativa L.
Medicago sativa subsp. varia (T. Martyn) Arcang.

रिज़का या अल्फाल्फा (मेडिकागो सटिवा एल.) मटर परिवार फबासिए का फूल देने वाला एक पौधा है जिसकी खेती एक महत्वपूर्ण चारे के फसल के रूप में की जाती है। यूनाइटेड किंगडम, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका और न्यूजीलैंड में लुसर्न के रूप में जाना जाता है और दक्षिण एशिया में लुसर्न घास के रूप में. यह तिपतिया के समरूप दिखता है तथा छोटे बैंगनी रंग के फूल इस पर लगते हैं।

इसकी उत्पत्ति संभवत: दक्षिण-पश्चिमी एशिया के किसी देश, टर्की, ईरान या अफगानिस्तान में समझी जाती है। अमरीका, पश्चिमी उत्तर प्रदेश आदि में यह अधिक बोया जाता है। एक बार बोने पर यह चार पाँच साल तक उपजता रहता है।

पारिस्थितिकी[संपादित करें]

अल्फाल्फा ठंडी के मौसम का एक बारहमासी फलीदार पौधा है, जो कि अपनी विविधता और जलवायु के आधार पर बीस वर्ष से भी अधिक जीवित रह सकता है। यह पौधा 1 मीटर (3 फीट) तक की ऊंचाई तक बढ़ता है और इसकी जड़ों की व्यवस्था खाफी गहरी होती है जो कभी-कभी 15 मीटर (49 फीट) तक होती है। जिस कारण इसकी जीने की क्षमता खासकर अकाल की स्थिति में अधिक होती है।[2] इसमें टेट्राप्लोइड पित्रैक होते हैं।[3]

यह पौधे स्व-विषाक्तता का प्रदर्शन करते है, जो कि पहले से ही उगे अल्फाल्फा में दूसरे अल्फाल्फा के बीजों के उगने को मुश्किल कर देता है।[4] इस कारण यह सुझाया जाता है कि अल्फाल्फा के खेतों में अन्य नस्लों (उदाहरणतः मकई और गेहूं) को पुनः बीजारोपण से पहले उगाया जाना चाहिए। [5]

संवर्धन[संपादित करें]

अल्फाल्फा को पूरे संसार में पशुओं के चारे के रूप में उगाया जाता है और ज्यादार इसकी खेती सूखे घांस के रूप में होती है, पर इसे परिरक्षित चारे, चरने हेतु, या हरे चारे के रूप में भी बनाया जा सकता है।[6] सूखे घांस कि सभी फसलों में अल्फाल्फा में सबसे ज्यादा पोषण मूल्य है, क्योंकि इसका इस्तेमाल चारे के रूप में ज्यादातर कम ही होता है।[5] अल्फाल्फा सबसे अधिक चारे के पैदावार का पौधा होता है अगर इसे अच्छे अनुकूलन वाली मिट्टी पर उगाया जाता है।[7]

मुख्यतः इसका प्रयोग दूध देने वाले पशुओं के चारे के रूप में होता है - क्योंकि इसमें में प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है तथा पचाने वाले रेशे अधिक होते हैं - गौण रूप में इसका इस्तेमाल मांस प्रदान करने वाले जानवरों, घोड़ों, भेड़ों और बकरियों के चारे के रूप में किया जाता है।[8][9] इंसान भी अल्फाल्फा के अंकुरों को सलाद और सैंडविच में खाते हैं।[10][11] सूखे अल्फाल्फा के पत्ते आहारीय वर्द्धकों के भिन्न रूप जैसे कि गोलियां, पावडर और चाय के व्यावसायिक रूप में उपलब्ध हैं।[12] कुछ लोगों का विश्वास है कि अल्फाल्फा गांगेय होता है, एक ऐसा पदार्थ जो दुग्धता का वर्द्धन करता है।[13]

अन्य फलीय पौधों की तरह इसके जड़ की ग्रंथिकाओं में सिनोरीहिज़ोबिएम मेलिलोटी, बैक्टीरिया होते हैं जो नाइट्रोजन की पूर्ति करते हैं, जिससे नाइट्रोजन के मिट्टी में उपलब्ध न होने के बाबजूद अधिक-प्रोटीन से युक्त चारे की पैदावार होती है।[14] नाइट्रोजन को निर्धारित करने की क्षमता (जो कि मिट्टी के नाइट्रोजन की क्षमता को बढ़ा देती है) और पशु चारे के रूप में इसके प्रयोग ने कृषि उपयोगिता को बहुत अधिक बेहतर बना दिया है।[15][16]

अल्फाल्फा को वसंत या पतझड़ में रोपा जा सकता है और अच्छे पानी से सिक्त मिट्टी जिसका 6.8-7.5 का तटस्थ pH होता है।[17][18] अच्छी उपज के लिए पोटैशियम और फोस्फोरस का अनवरत स्तर जरुरी होता है।[19] यह मिट्टी और सिंचाई के जल में नमक के स्तर को लेकर थोडा संवेदनशील होता है, हालांकि संयुक्त राज्य के सूखे दक्षिण-पशिमी इलाकों में इसकी खेती हो रही है, जहां कि खारापन एक उभरता हुआ मुद्दा है।[20][21][22] मिट्टी जो कम उपजाऊ हैं उनमें खाद या रासायनिक खाद डाल के उपजाऊ बनाया जा सकता है, पर pH का निर्धारण खासतौर पर महत्वपूर्ण है।[23] सामान्यतः बीजारोपण के दर को 13-20 किलोग्राम/प्रति हेक्टेअर (12-25 पाउंड/प्रति एकड़) की सिफारिश की जाती है।[24] कभी-कभी सहयोगी फसल को लगाया जाता है ताकि अपतृण और मिट्टी के कटाव की समस्याएं कम हों, पर यह रौशनी, पानी और पोषक तत्वों को लेकर प्रतिस्पर्द्धा का कारण हो सकते हैं।[25]

अधिकांश जलवायु में अल्फाल्फा को तीन या चार बार काटा जाता है, परन्तु एरिजोना और दक्षिणी कैलिफोर्निया में साल में 12 बार होती है।[26][27] आदर्श रूप में प्रति हेक्टेयर लगभग 8 टन (छोटे चार टन प्रति एकड़) परन्तु 20 टन प्रति हेक्टेयर (छोटे 16 टन प्रति एकड़) की पैदावार का लेखा भी प्राप्त होता है।[27] पैदावार क्षेत्र, मौसम और काटने से पहले पकने के स्तर को लेकर अंतर होता है। आगे की फसल काटने पर पैदावार की बढ़ोतरी तो होती है परन्तु पोषक तत्वों की मात्रा में कमी आती है।[28]

अल्फाल्फा लीफकटर मधुमक्खी, मेगाचिली रोटनडाटा, अल्फाल्फा फूल पर एक पोलिनेटर

अल्फाल्फा को कीट आकर्षक माना जाता है, क्योंकि यह बहुत कीटों को अपनी ओर आकर्षित करता है।[29] कुछ कीट जैसे अल्फाल्फा घुन, माहू, आर्मीवोर्म और आलू पत्ताफतिंगा अल्फाल्फा की पैदावार को नाटकीय रूप से कम कर सकता है, खासकर दूसरी कटाई के दौरान जब मौसम गर्म होता है।[30] कभी-कभी रसायन नियंत्रण का इस्तेमाल इसे रोकने के लिए किया जाता है।[30] अल्फाल्फा जड़ों के सड़ने को लेकर भी संवेदनशील होता है जिनमें फाइटोपथोरा, राइजोटोनिया, और टेक्सस जड़ों की सड़न भी शामिल है।[31][32][33]

कटाई[संपादित करें]

अल्फाल्फा के बेलनाकार बेल

जब अल्फाल्फा का इस्तेमाल सूखे घांस के रूप में किया जाता है, तो उसे काट कर गट्ठा बनाया जाता है।[34] खुले सूखे घास का ढेर अभी भी बहुत सारे क्षेत्रों में इस्तेमाल होता है, परन्तु गट्ठो को आसानी से ढुलाई, जमा करें, तथा चारे को आसानी से खिलाने में किया जा सकता है।[35] आदर्श रूप में, पहली कटाई कली देने के समय होनी चाहिए और दूसरी जब फूल पैदा होने लगे हों, या तब जब फूल एक-दहाई खिलने की स्थिति में हो क्योंकि उस समय कार्बोहाइड्रेट की मात्रा अधिक होती है।[36] हाथ की कटाई की अपेक्षा जब खेती के उपकरणों का इस्तेमाल किया जाता है तब स्वैथर अल्फाल्फा को काट कर घास की एक पट्टी विंडरोस की कतार में व्यवस्थित कर देता है।[37] वे क्षेत्र जहां अल्फाल्फा खुद से जल्दी नहीं सूखते वहां एक मशीन जिसे मोवर-कंडिशनर कहते हैं उसका इस्तेमाल चारे को काटने के लिए किया जाता है।[34] मोवर-कंडिशनर में रोलर या सांट का एक सेट होता है जो मोवर के ऊपर से गुजरते हुए तने को मोड देता है और तोड़ देता है, जिससे अल्फाल्फा जल्दी सूख जाता है।[38] अल्फाल्फा के एक बार सूखने के बाद एक ट्रैक्टर गठरी बनाने वाले मशीन को खींचता है जो कि चारे को गठरी के रूप में जमा देता है।

कई प्रकार के घांस के गट्ठरों का इस्तेमाल अल्फाल्फा के लिए किया जाता है। छोटे जानवरों के लिए और एक घोड़े के लिए, अल्फाल्फा को को दो, तीन या इसी प्रकार छह सूत्र "चौकोर" गट्ठर-जो कि वास्तव में रेक्टेंगुलर होते हैं तथा जो आदर्श रूप में 40 x 45 x 100 cm (14 में x 18 में x 38 में) के रूप में बांधा जाता है, सूत्र वाले गट्ठरों में बांधे जाते हैं।[3] छोटे चौकोर गट्ठे नमी के आधार पर 25 – 30 किलोग्राम (50 – 70 पाउंड) के बीच वजनदार हो सकते हैं और इन्हें आसानी से छोटे छोटे तहों में अलग किया जा सकते है। पशु-फार्म आदर्श रूप में 1.4 से 1.8 मीटर (4 से 6 फीट) के आयतन के बड़े गट्ठरों का इस्तेमाल करते हैं जिनका वजन 500 to 1,000 kg, (1000 to 2000 lbs) के बीच में होता है। इन गट्ठरों को स्थायी चारे के स्थान में या विशाल चारागाह में घोड़ों के समूह के लिए रखा जा सकता है, या फिर इन्हें जमीन पर खोलकर पशुओं कि एक विशाल झुण्ड के लिया रखा जा सकता है।[3] गट्ठरों को चढाने और ढेर बनाने में एक ट्रैक्टर का इस्तेमाल किया जाता है जिसमें स्पाईक लगा होता है, जिसे गट्ठरे के फावड़े के रूप में जाना जाता है, यह गठरे को बीच में से चीर देता है।[39] या इनका नियोजन ग्रेपल (पंजे) द्वारा किया जा सकता है जो कि ट्रैक्टर के आगे लगा होता है। हाल की नयी खोज विशाल "चौकोर" गट्ठर हैं, जो कि छोटे चौकोरों के अनुपात में ही होते हैं, परन्तु विशाल होते हैं। इन गट्ठरों के आकार को इसलिए व्यवस्थित किया गया ताकि ये सपाट ताल वाले ट्रकों में आसानी से बैठ जायें. पश्चिमी संयुक्त राज्य में यह एक आम बात है।

जब दूध देने वाले पशु के चारे के रूप में अल्फाल्फा का प्रयोग किया गया जाता है तब उसे एन्सिलिंग की प्रक्रिया से चारा बनाया जाता है।[8] सूखे घांस के रूप में उसे सुखाने के बजाय अल्फाल्फा को अच्छी तरह काटा जाता है, तथा सीलों, गड्ढों और बोरियों में खमीर के लिए रखा जाता है, जहां भी आक्सीजन की पूर्ति को सीमित किया जा सके ताकि खमीर संभव हो। [40] अल्फाल्फा के इस वात निरपेक्ष खमीर के कारण पोषक तत्वों का स्तर बना रहता है जो कि ताजे चारे में देखने को मिलता है तथा सूखे चारे के मुकाबले यह दूध देने वाले पशुओं के लिए काफी स्वादिष्ट होता है।[41] कई मामलों में, अल्फाल्फा सिलेज में कई अन्य जीवाणुओं को संचारित किया जाती है ताकि खमीरी की गुणवत्ता में बढोतरी हो और सिलेज के वाट व्यवस्था में संतुलन आये। [42]

वैश्विक उत्पादन[संपादित करें]

अल्फाल्फा का वैश्विक उत्पादन

अल्फाल्फा दुनिया में सबसे अधिक उपजाए जाने वाली फली है। 2006 में दुनिया भर में इसका उत्पादन लगभग 436 लाख टन के आसपास में था।[43]. दुनिया भर में अमेरिका अल्फाल्फा का सबसे बड़ा निर्माता है, लेकिन इसके लिए उपयुक्त क्षेत्र को अर्जेंटीना (मुख्य रूप घास), ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका और मिडिल इस्ट में पाया गया।

संयुक्त राज्य अमेरिका के भीतर, अल्फाल्फा उगाने वाले अग्रणी राज्यों में कैलिफोर्निया, साउथ डकोटा और विस्कोन्सिन हैं। ऊपरी मध्य-पश्चिमी राज्य अमेरिकी उत्पादन में 50% का योगदान देते हैं, पूर्वोत्तर राज्यों में 10%, पश्चिमी राज्यों में 40% और दक्षिणी राज्यों में लगभग कुछ नहीं।[तथ्य वांछित] अल्फाल्फा में अनुकूलन की व्यापक सीमा होती है और इसे अत्यंत ठन्डे उत्तरी मैदानों से लेकर ऊंची पर्वतीय घाटियों में, उच्च शीतोष्ण कृषि क्षेत्रों से लेकर भूमध्य सागरीय जलवायु और गर्म रेगिस्तानों में उगाया जा सकता है।[तथ्य वांछित]

अल्फाल्फा और मक्खियां[संपादित करें]

अल्फाल्फा के बीज के उत्पादन के लिए परागणों की मौजूदगी की जरुरत पड़ती है जब अल्फाल्फा के खेत खिलने की स्थिति में होते हैं।[3] अल्फाल्फा का परागणन थोडा-बहुत कठिन होता है, क्योंकि पश्चिमी मधुमक्खियां, जिनका इस्तेमाल परागणों के रूप में किया जाता है, इस काम के लायक नहीं होते हैं; अल्फाल्फा फूल के पराग को ग्रहण करने वाला पेंदा अक्सर हिल जाता है और पराग गिराने वाली मधुमक्खी के सर से जा टकराता है, जो कि चारा ढूंढ रहे मधुमक्खी को पराग स्थानांतरित करने में मदद करता है।[3] लेकिन पश्चिमी मधुमक्खियां बार-बार सर पर चोट खाना पसंद नहीं करतीं, वे इस क्रिया को फूल के बगल से पराग खींच कर परास्त करती है। इस प्रकार मधुमक्खियां केवल पराग इकट्ठा कर लेती हैं पर परागण इकट्ठा नहीं करतीं, इस प्रकार दूसरे फूल पर जाने पर वे उसका परागणन नहीं करतीं.[44] चूंकि वृद्ध मधुमक्खियां, अल्फाल्फा का परागणन अच्छी तारा नहीं कर पातीं, ज्यादातर परागणन युवा मधुमक्खियों द्वारा होता है जिन्होंने बिना पराग को ग्रहण करने वाले पेंदे से टकराए वगैर फूल से चोरी करने की जादूगरी अभी नहीं सीखी है। जब पश्चिमी मधुमक्खियों का इस्तेमाल अल्फाल्फा को परागणित करने के लिए किया जाता है तब मक्खियों वाला खेत को मक्खियों के ऊंचे दर से भर देता है ताकि युवा मधुमक्खियों की संख्या में अधिकता आये। [44]

आजकल आल्फाल्फा लीफकट्टर मधुमक्खी का बड़े पैमाने में इस समस्या के गतिरोद्धक के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है।[45] एकांतवासी परन्तु मिलनसार मध्मक्खी की यह नस्ल छतों का निर्माण नहीं करतीं या शहद जमा नहीं करतीं हैं तथा अल्फाल्फा के परागणन में उपयोगी होती हैं।[45] इनका निवास वैयक्तिक लकड़ी के सुरंगों अथवा प्लास्टिक की वस्तुओं में होता है, जिनकी पूर्ति अल्फाल्फा के बीज उगाने वालों द्वारा कि जाती है।[44] लीफकट्टर मधुमक्खियों का इस्तेमाल प्रशांतीय उत्तरपश्चिम के भागों में किया जाता है, वहीं पश्चिमी मधुमक्खियां कैल्फोर्निया के बीज उत्पाद में प्रभुता रखती हैं।[44]

एक छोटी तादाद में अल्फाल्फा का उत्पादन क्षार मधुमक्खियों द्वारा होता है, ज्यादातर यह उत्तरपश्चिमी संयुक्त राज्य में होता है। इनका पालन-पोषण खेत के पास ही की क्यारियों में होता है। इन मक्खियों की अपनी समस्यायें होती हैं। ये अन्य मधुमक्खियों की तरह वहनीय नहीं होतीं और जब नए क्षेत्रों में जब खेत जोते जाते हैं, तब इन मक्खियों को बड़े होने में काफी मौसम लाग जाते हैं।[44] आज भी खेतों के फूल देने के समय में मधुमक्खियों को ट्रकों द्वारा स्थानांतरित किया जाता है।

प्रकार[संपादित करें]

अल्फाल्फा के छोटे वर्ग बेल

इस महत्वपूर्ण पौधे को लेकर उल्लेखनीय शोध कार्य और विकास हुआ है। पुराने कल्टीवार जैसे कि ‘वर्नल’ सालों तक मानक रहे हैं, परन्तु कई अच्छे सार्वजनिक और निजी प्रकार आज उपलब्ध हैं और वे विशेष जलवायु के अनुकूलन में समर्थ हैं।[46] US में निजी कम्पनियां प्रति वर्ष कई नए प्रकारों को जारी करती है।[47]

कई प्रकार पतझड़ में, न्यून तापमान और छोटे दिनों के वजह से निष्क्रिय हो जाते हैं।[47] 'गैर-निष्क्रिय' प्रकार जो की सारी सर्दी भर में पनपते हैं, इन प्रकारों को लंबे-मौसम वाले पर्यावरण जैसे मेक्सिको, एरिज़ोना और दक्षिणी कैलिफोर्निया में जोता जाता है, जहां कि ‘निष्क्रिय’ प्रकारों को उपरी मध्यपश्चिम, कनाडा और उत्तरी पूर्व के इलाकों में जोता जाता है। 'गैर-निष्क्रिय' प्रकार अधिक उपज दे सकते हैं, परन्तु शीत जलवायु में वे सर्दी की मार को लेकर संदेहास्पद होते हैं और ये सतात्य की क्षमता में दीन होते हैं।[47]

ज्यादार अल्फाल्फा कल्टीवर सिकल मेडिक (एम. फलकाटा), अल्फाल्फा का एक जंगली प्रकार जो प्राकृतिक रूप में एम. सटिवा के साथ सैंड लुसर्न (एम. सटिवा एसएसपी. वारिया) के उत्पाद के लिए संकरन करता है। यह नस्ल बैंगनी फूल अथवा या फिर सिकल मेडीक के फूल ग्रहण करता है, जिसे यह नाम इसके रेतीले मिट्टी में स्वाभाविक रूप से बढ़ने के कारण दिया जाता है।[48]

अल्फाल्फा के एक खेत में सिंचाई

पिछले दशकों में अल्फाल्फा के विकास में ज्यादातर सहायक कारण थे बारिश के सालों में अच्छी तरह नहीं सींचे गए मिट्टी पर बिमारियों से बचाव, शीत जलवायु में अधिक सर्दी को सहने की योग्यता तथा अधिक पत्तों का उत्पाद शामिल रहा है। बहु-पत्तों वाले प्रकार में प्रति पत्ते में तीन छोटी पत्तियां होती हैं, जो की वजन के आधार पर पोषक-तत्व की मात्रा को बढ़ा देती है क्योंकि एक ही तने पर अब ज्यादा पत्ते होते हैं।[तथ्य वांछित]

द केलिफोर्निया अल्फाल्फा वर्कग्रुप [1] (युसी डेविस) के पास अल्फाल्फा के प्रकारों के परीक्षा आंकड़ों का दिनांक सूची [2] स्थानों के साथ है, साथ ही साथ प्रत्येक वर्ष के कृषि-विज्ञान विकास विवरण भी हैं।

आनुवंशिक रूप से संशोधित अल्फाल्फा[संपादित करें]

राउंडअप रेडी, मोनसान्टो कम्पनी द्वारा अधिकृत अनुवांशिक रूप से संशोद्धित अल्फाल्फा का एक प्रकार है जो कि मोनसान्टो गलाइफोसेट का प्रतिरोधी है। हालांकि चौड़े पत्ते वाले पौधे, जिनमें सामान्य अल्फाल्फा भी शामिल है राउंडअप को लेकर थोड़े संवेदनशील हैं, फिर भी उत्पादक राउंडअप रेडी अल्फाल्फा का छिड़काव राउंडअप के साथ कर सकते हैं जो कि अल्फाल्फा के फसल को बिना नुकसान पहुंचाए अपतृण का नाश कर देती है।

अमेरिका में कानूनी मुद्दे[संपादित करें]

राउंडअप रेडी अल्फाल्फा को यूनाईटेड स्टेटेस में 2005-2007 से बेचा गया और 21,000,000 एकड़ (85,000 कि॰मी2) में से 300,000 एकड़ (1,200 कि॰मी2) से अधिक का रोपण किया गया। हालांकि 2006 में, ओर्गेनिक किसानों ने अनुवांशिक रूप से संशोधित अल्फाल्फा का अपने फसल पर प्रभाव को लेकर चिंतित हुए तथा मोनसान्टो (मोनसान्टो कम्पनी वी. गेर्टसन सीड फर्म्स पर नालिश कर दिया। इसके प्रतिक्रिया स्वरूप मई 2007 में, कैलिफोर्निया के जिला न्यायलय ने एक आदेश जारी किया जिसमें किसानों पर राउंडअप रेडी की खेती को लेकर तब तक पाबन्दी लगा दी गई जब तक कि अमेरिकी कृषि-विभाग (USDA) अनुवांशिक रूप से अभियंत्रित फसल के पर्यावरणीय प्रभाव का अध्ययन न कर ले. परिणाम स्वरूप USDA ने भविष्य में राउंडअप रेडी अल्फाल्फा की खेती पर रोक लगा दी। अभियोग के मुख्य मुद्दे में यह सम्भावना जताई गई कि राउंडअप प्रतिरोधकता दूसरे फसलों को भी संक्रमित कर देगी, जिनमें दूसरे फसल और अपतृण शामिल होंगे, जो कि महत्वपूर्ण कीटनाशक राउंडअप के प्रति अहम कीटों को प्रतिरोधक बना देंगे; साथ ही साथ सबसे बड़ी चिंता जैविक अल्फाल्फा के दूषण को लेकर थी।[49] 21 जून 2010 को, US सुप्रीम कोर्ट ने इस मुद्दे को लेकर निर्णय जारी किया। निर्णय का प्रभाव अधिक स्पष्ट नहीं है, क्योंकि दोनों खेमे में जीत का दावा करते दिख रहे हैं।[50] द अटलांटिक वेबसाईट पर बेरी इस्टब्रुक के अनुसार.

हालांकि तकनिकी रूप से मोनसान्टो जीता है परन्तु निचले न्यायालय द्वारा दिए गए निर्णयों का समर्थन किया गया, जिसका मतलब यह हुआ कि व्यवसायिक पैमाने पर जीएम अल्फाल्फा को वैध रूप से कई नियामक अवरोधों से मुक्त होना होगा. और एक निर्णय जिसका व्यापक प्रभाव भविष्य के जीएम मामलों पर पड़ सकता है, वह है न्याय अधिकारीयों का यह मानना कि जीएम फसल संकर-परागण द्वारा पर्यावरणीय नुकसान पहुंचा सकते हैं।[51]

अल्फाल्फा में फाइटोएस्ट्रोजेन[संपादित करें]

अल्फाल्फा दूसरे, फलीय फसलों की तरह फाइटोएस्ट्रोजेन का एक जानामाना स्रोत है।[52] अल्फाल्फा चरने के कारण भेड़ों की उर्वरता में कमी आई है।

चिकित्सीय प्रयोग[संपादित करें]

अल्फाल्फा का प्रयोग का हर्बल दवाईयों के रूप में करीब 1,500 वर्षों से हो रहा है। अल्फाल्फा में प्रोटीन, कैल्शियम और अन्य धातुओं का, विटामिनों में B समूह, विटामिन C, विटामिन E और विटामिन K का अधिक्य होता है।[53][54]

पारंपरिक प्रयोग[संपादित करें]

आरंभिक चाईना की दवाईयों में, चिकित्सक कंवले अल्फाल्फा के पत्तों का इस्तेमाल अपच के स्थानों और गुर्दे से सम्बंधित विकारों के लिए करते थे।[तथ्य वांछित] आयुर्वेद कि दवाईयों में, चिकित्सक पत्तों का इस्तेमाल कमजोर पाचन के ईलाज के लिए करते थे। फोड़ों के लिए वे इसके बीज से शीतल पौल्टी से तैयार करते थे। उस समय में मान जाता था कि अल्फाल्फा गठिया के रोगियों तथा पानी के रुकने वाले रोगियों के लिए सहायक था[तथ्य वांछित].

दीर्घा[संपादित करें]

Medicago sativa 
Medicago sativa 
Medicago sativa 
Medicago sativa 
Flowers 
Yellow flowers 
Light violet flowers 
Seeds 
Lucern field 
Bee on alfalfa flower 

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Medicago sativa - ILDIS LegumeWeb". www.ildis.org. मूल से 8 जून 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2008-03-07.
  2. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; eb नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  3. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 28 मार्च 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  4. "संग्रहीत प्रति". मूल से 14 जून 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  5. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 7 सितंबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  6. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल से 13 जून 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  7. <http://www.uky.edu/Ag/AnimalSciences/pubs/id97.pdf Archived 13 अक्टूबर 2012 at the वेबैक मशीन.
  8. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 27 मई 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  9. "संग्रहीत प्रति". मूल से 23 जुलाई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  10. "संग्रहीत प्रति". मूल से 8 जुलाई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  11. <http://alfalfa.ucdavis.edu/IrrigatedAlfalfa/pdfs/UCAlfalfa8305Industrial_free.pdf Archived 7 अक्टूबर 2011 at the वेबैक मशीन.
  12. "संग्रहीत प्रति". मूल से 18 जुलाई 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  13. "संग्रहीत प्रति". मूल से 1 सितंबर 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  14. http://cmgm.stanford.edu/ Archived 30 जुलाई 2010 at the वेबैक मशीन. ~ mbarnett genome.htm /
  15. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 24 मार्च 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  16. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 7 अक्तूबर 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  17. "संग्रहीत प्रति". मूल से 31 जनवरी 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  18. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 26 जून 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  19. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 26 फ़रवरी 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  20. "संग्रहीत प्रति". मूल से 27 जुलाई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  21. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 14 मई 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  22. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल से 6 जून 2011 को पुरालेखित (PDF). अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  23. "संग्रहीत प्रति". मूल से 17 जून 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  24. "संग्रहीत प्रति". मूल से 6 जुलाई 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  25. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 27 जुलाई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  26. "संग्रहीत प्रति". मूल से 28 मई 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  27. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 6 अक्तूबर 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  28. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 1 जून 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  29. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 13 जून 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  30. "संग्रहीत प्रति". मूल से 14 दिसंबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  31. "संग्रहीत प्रति". मूल से 23 जुलाई 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  32. "संग्रहीत प्रति". मूल से 18 जुलाई 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  33. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 17 जुलाई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  34. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 28 मई 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  35. "संग्रहीत प्रति". मूल से 11 जनवरी 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  36. ftp://ftp-fc.sc.egov.usda.gov/ID/programs/technotes/tn8_alfalfaguide3.pdf[मृत कड़ियाँ]
  37. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 22 जुलाई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  38. "संग्रहीत प्रति". मूल से 23 जुलाई 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  39. "संग्रहीत प्रति". मूल से 17 जून 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  40. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 26 जुलाई 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  41. http://cals-cf.calsnet.arizona.edu/animsci/ansci/swnmc/papers/2005/Hartnell_SWNMC%%[मृत कड़ियाँ] 20Proceedings 202005.pdf
  42. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 7 अगस्त 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  43. FAO, 2006 Archived 19 नवम्बर 2016 at the वेबैक मशीन..FAOSTAT-संयुक्त राष्ट्र खाद्य एवं कृषि संगठन of the संयुक्त राष्ट्र Archived 19 नवम्बर 2016 at the वेबैक मशीन.
  44. Milius, Susan (2007). "Most Bees Live Alone: No hives, no honey, but maybe help for crops". Science News. 171 (1): 11–3. डीओआइ:10.1002/scin.2007.5591710110. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद); |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया जाना चाहिए (मदद)
  45. "संग्रहीत प्रति". मूल से 15 अप्रैल 2004 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  46. "संग्रहीत प्रति". मूल से 5 जनवरी 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  47. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 26 मार्च 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  48. जोसेफ एल्विन विंग, अल्फाल्फा फारमिंग इन द यू.एस. 79 (सैंडर्स प्रकाशन कं 1912)
  49. "संग्रहीत प्रति". मूल से 7 अक्तूबर 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  50. Supreme Court on Modified Foods: Who Won? Archived 26 अगस्त 2010 at the वेबैक मशीन. बैरी इस्टाब्रुक द्वारा द अटलांटिक. 22 जून 2010 (22 जून 2010से एक्सेस)
  51. Supreme Court on Modified Foods: Who Won? Archived 26 अगस्त 2010 at the वेबैक मशीन., Estabrook द्वारा बैरी, 'अटलांटिक'. 22 जून 2010 (22 जून 2010से एक्सेस)
  52. Phytoestrogen सामग्री और फली चारे की इस्ट्रोजेनिक प्रभाव. PMID 7892287
  53. "पोषण अनुसंधान केंद्र, अल्फाल्फा पोषण मान". मूल से 14 अप्रैल 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.
  54. "The Facts About Alfalfa, Melissa Kaplans' Herb Care". मूल से 22 अगस्त 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अगस्त 2010.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]