अर्धचालक डायोड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अर्धचालक पदार्थ इस में उपयोग किया गया

डायोड एक P टाइप सेमीकंडक्टर और N टाइप सेमीकंडक्टर का जंक्शन होता है इसलिए डायोड को हम P-N जंक्शन डायोड भी कहते हैं। जैसा की हम जानते हैं कि P टाइप सेमीकंडक्टर में होल कि अधिकता रहती है और N टाइप सेमीकंडक्टर में एलेक्ट्रोंस की। हमें ये भी पता है कि विपरीत चार्ज्ड पार्टिकल एक दुसरे को अपनी ओर आकर्षित करते हैं और सामान विकर्षित. चूँकि एलेक्ट्रोंस निगेटिव चार्ज्ड पार्टिकल होते है और होल पोसेटिव, इसलिए जब हम दोनों प्रकार के सेमीकंडक्टर को मिलाते हैं तो एलेक्ट्रोंस और होल एक दुसरे को आकर्षित करते है। कुछ समय बाद दोनों का आकर्षण सीमित हो जाता है और जंक्शन के पास एलेक्ट्रोंस (P साइड में) और होल (N साइड में) की परत बन जाती है और उसे हम डेप्लेशन रीजन कहते हैं। डायोड एक बाइपोलर डिवाइस होता है मतलब इसमें निगेटिव और पोसेटिव दोने साइड होते है। यहाँ आप डायोड की बनावट और उसका इलेक्ट्रोनिक सिम्बोल देख सकते हैं। इसमें एनोड ऋणात्मक (-) और कैथोड धनात्मक (+) सिरों को दर्शाता है। डायोड में करंट के प्रवाह के लिए हमें उसे किसी वोल्टेज सोर्स से जोड़ना पड़ता है जैसे की बैटरी. जैसा की हम जानते हैं कि बैटरी में भी निगेटिव और पोसेटिव दोनों छोर होते हैं इसलिए डायोड को हम बैटरी के साथ दो तरह से जोड़ सकते हैं और इन तरीकों को हम बायसिंग कहते हैं। जब हम बैटरी के (+) को डायोड के (+) से और बैटरी के (-) को डायोड के (-) से जोड़ते हैं तो इसे फॉरवर्ड बायसिंग कहते हैं और जब हम बैटरी के (+) को डायोड के (-) से और बैटरी के (-) को डायोड के (+) से जोड़ते हैं तो इसे रिवर्स बायसिंग कहते हैं।

अब आप ध्यान दें की जब हम डायोड को फॉरवर्ड बायसिंग में जोड़ते हैं तो बैटरी का (+) सिरा होल्स को विकर्षित करता है और ठीक उसी तरह बैटरी का (-) सिरा एलेक्ट्रोंस को विकर्षित करता है। इस प्रकार डायोड से करंट का प्रवाह चालू हो जाता है। करंट हमेशा (+) से (-) की ओर प्रवाहित होता है। लेकिन जब हम डायोड को रिवर्स बायसिंग में जोड़ते हैं तो बैटरी का (+) सिरा एलेक्ट्रोंस को और बैटरी का (-) सिरा होल्स को अपनी ओर आकर्षित करता है और करंट का प्रवाह नहीं हो पता. ये बात आप हमेशा ध्यान में रखें की अगर हमें डायोड से करंट का प्रवाह करवाना है तो उसे फॉरवर्ड बायसिंग में और अगर करंट का प्रवाह रोकना है तो उसे रिवर्स बायसिंग में कनेक्ट करना पड़ता है।