शाकले डायोड समीकरण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

शाकले डायोड समीकरण (Shockley diode equation) एक समीकरण है जो आदर्श डायोड की I–V (धारा-वोल्टता) वैशिष्ट्य को प्रकट करता है। यह नाम ट्रांजिस्टर के सह-आविष्कर्ता विलियम शाकले के नाम पर रखा गया है। इस समीकरण को डायोड नियम (डायोड ला) भी कहते हैं।

जहाँ

I डायोड धारा है,
IS पश्चदिशिक बायस की दशा में डायोड की संतृप्त धारा (या स्केल धारा) है, ()
VD डायोड के दोनों सिरों के बीच विभवान्तर है,
VT तापीय वोल्टता (thermal voltage) kT/q है (बोल्ट्समान नियतांक गुणित ताप भागा इलेक्ट्रॉन आवेश)
T परम ताप
n को 'आइडियालिटी गुणक', या क्वालिटी गुणक या उत्सर्जन गुणांक कहते हैं। ()