अंगदेश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

महाभारत में अंगदेश का वर्नन मिलता है[1] जिसके अनुसार यह भारत के पूर्वी भाग में स्थित था। महाभारत में सूर्य देवता का पुत्र कर्ण अंगदेश का राजा था।[2]

अंगदेश राज्य के धनवान होने की कथा[संपादित करें]

अंगदेश पहले राजा जरासंध का दास था क्योकि अंग का कोई राजा नही था।[3] जब दुर्योधन ने कर्ण को राजा बनाया तो लोग कहने लगे कि अंगदेश का राजा बनना मतलब मृत्यु के मुख में जाना है। कर्ण अंगदेश गया व यह जाना कि लोग इसलिए यह कहे है क्योकि अंगदेश को जरासंध का डर था। तो कर्ण ने जरासंध को हराया व देवता कुबेर की सहायता से अंगदेश को धनवान बनाया। पहले अंगदेश मे धन, कपड़ा, घर, भोजन, सेना व बहुत वस्तुओं की कमी थी लेकिन कुबेर के वरदान के बाद अंगदेश मे धन, कपड़ा, घर, भोजन व दो अक्षौहिणी सेना का निर्माण हुआ अर्थात अंगदेश को धनवान बनाने मे कर्ण का हाथ था।[4]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. LLC, General Books (2010) (en में). Kingdoms in Ramayan: Kosala Kingdom, Kasi Kingdom, Anga Kingdom, Kekeya Kingdom, Heheya Kingdom, Gandhara Kingdom, Kishkindha, Videha, Lanka. General Books LLC. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781155859330. https://books.google.co.in/books?id=qJyZSQAACAAJ&dq=Anga+Kingdom&hl=en&sa=X&ved=0ahUKEwju54_O-6DcAhXGr48KHXz8BfsQ6AEIMjAD. अभिगमन तिथि: 15 जुलाई 2018. 
  2. Miller, Frederic P.; Vandome, Agnes F.; McBrewster, John (2010) (en में). Anga Kingdom. VDM Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9786130659073. https://books.google.co.in/books?id=Oyu1cQAACAAJ&dq=Anga+Kingdom&hl=en&sa=X&ved=0ahUKEwju54_O-6DcAhXGr48KHXz8BfsQ6AEIJjAA. अभिगमन तिथि: 15 जुलाई 2018. 
  3. Māthura, Vijayendra Kumāra (1990) (hi में). Aitihāsika sthānāvalī. Rājasthāna Hindī Grantha Akādamī. https://books.google.co.in/books?id=nq0aAAAAMAAJ&q=%E0%A4%85%E0%A4%82%E0%A4%97%E0%A4%A6%E0%A5%87%E0%A4%B6+%E0%A4%9C%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%B8%E0%A4%82%E0%A4%A7&dq=%E0%A4%85%E0%A4%82%E0%A4%97%E0%A4%A6%E0%A5%87%E0%A4%B6+%E0%A4%9C%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%B8%E0%A4%82%E0%A4%A7&hl=en&sa=X&ved=0ahUKEwilhdiP18HcAhVCwI8KHfL6CosQ6AEINDAC. अभिगमन तिथि: 28 जुलाई 2018. 
  4. Kohli, Narendra (1988) (hi में). Mahāsamara: Adhikāra. Vāṇī Prakāśana. https://books.google.co.in/books?id=CLZjAAAAMAAJ&q=%E0%A4%85%E0%A4%82%E0%A4%97%E0%A4%A6%E0%A5%87%E0%A4%B6+%E0%A4%9C%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%B8%E0%A4%82%E0%A4%A7&dq=%E0%A4%85%E0%A4%82%E0%A4%97%E0%A4%A6%E0%A5%87%E0%A4%B6+%E0%A4%9C%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%B8%E0%A4%82%E0%A4%A7&hl=en&sa=X&ved=0ahUKEwj0247-1sHcAhWMK48KHTYoCTQQ6AEIJjAA. अभिगमन तिथि: 28 जुलाई 2018.