अंग महाजनपद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अंग प्राचीन भारत के 16 महाजनपदों में से एक था। इसका सर्वप्रथम उल्लेख अथर्ववेद में मिलता है। बौद्ध ग्रंथो में अंग और वंग को प्रथम आर्यों की संज्ञा दी गई है। महाभारत के साक्ष्यों के अनुसार आधुनिक भागलपुर, मुंगेर और उससे सटे बिहार और बंगाल के क्षेत्र अंग प्रदेश के क्षेत्र थे। इस प्रदेश की राजधानी चम्पापुरी,मालिनी थी। [क] यह जनपद मगध के अंतर्गत था। प्रारंभ में इस जनपद के राजाओं ने ब्रह्मदत्त के सहयोग से मगध के कुछ राजाओं को पराजित भी किया था किंतु कालांतर में इनकी शक्ति क्षीण हो गई और इन्हें मगध से पराजित होना पड़ा।[1]

महाभारत काल में यह कर्ण का राज्य था यहाँ आज भी बोला जाता है कष्टहरणी घाट में कर्ण नहाने के बाद दान किया करते थे । इसका प्राचीन नाम मालिनी आधुनिक मुंगेर है । इसके प्रमुख नगर चम्प (बंदरगाह),मालिनी, अश्वपुर थे।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. नाहर, डॉ रतिभानु सिंह (1974). प्राचीन भारत का राजनीतिक एवं सांस्कृतिक इतिहास. इलाहाबाद: किताबमहल. पृ॰ 111-112.