साम्भर (हिरण)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
साम्भर
Sambhar deer.jpg
संरक्षण स्थिति
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत: जंतु
संघ: रज्जुकी
वर्ग: स्तनपायी
गण: द्विखुरीयगण
उपगण: जुगाली करने वाले
कुल: सर्विडे
उपकुल: सर्विने
प्रजाति: रुसा
जाति: आर. युनिकलर
द्विपद नाम
रुसा युनिकलर
(कर्र, १७९२)
पर्याय
  • सर्वस युनिकलर

साम्भर (Rusa unicolor) दक्षिण तथा दक्षिण पूर्वी एशिया में पाया जाने वाला एक बड़ा हिरन है।

विवरण[संपादित करें]

खोपड़ी का रेखाचित्र

साम्भर अपने सम्पूर्ण फैलाव क्षेत्र में विभीन्न रूप और आकार में पाया जाता है, जिसके कारण पुराने समय में वैज्ञानिकों में असमंजस था और इसके लगभग ४० पर्याय थे। सामान्यतः कन्धे तक इसकी ऊँचाई १०२ से १६० से.मी. होती है तथा वज़न १५० से ३२० कि. होता है, हालांकि यह ५४६ कि. तक भी वज़नी हो सकता है। सर से कूल्हों तक की लंबाई १.६२ से २.७ मी. हो सकती है तथा इसकी पूँछ की लंबाई २२ से ३५ से.मी. तक होती है।[2]अन्य हिरनों की तुलना में इसकी पूँछ ज़्यादा बड़ी होती है तथा आमतौर पर बाहर से काली और अंदर की तरफ़ सफ़ेदी लिये हुये होती है।[3] पश्चिमी उप-जाति के जीव अपने पूर्वी सम्बन्धियों से आकार में कुछ बड़े होते हैं।[3]
इसके सींग बड़े और मज़बूत होते हैं तथा बहुत सी शाखाओं वाले होते हैं। पूर्ण वयस्क में इनकी लंबाई ११० से.मी. तक होती है। ज़्यादातर हिरनों की तरह सींग नर में ही पाये जाते हैं।[3]
इसकी रोएँदार त्वचा मटमैले रंग से लेकर गाढ़ी स्लेटी रंग की होती है। आमतौर पर यह पूरा एक ही रंग का होता है, लेकिन कुछ उप-जातियों में कूल्हों और पेट में लाल-भूरे रंग के निशान होते हैं। इसकी छोटी किन्तु घनी अयाल भी होती है जो नरों में ज़्यादा विशिष्ट होती है।
वयस्क नरों तथा गर्भवती या दूध पिलाती मादाओं के गले से आधा नीचे दूर एक सुर्ख़-लाल धब्बा होता है। यह एक ग्रंथी होती है कभी-कभी इसमें से सफ़ेद रंग का द्रव्य निकलता है।[4]

पाये जाने वाले क्षेत्र[संपादित करें]

सांभर नर चरता हुआ

सांभर लगभग समूचे दक्षिण एशिया में (हिमालय पर्वत श्रंखला की दक्षिणी ढलानों तक), भूभागीय दक्षिण पूर्वी एशिया में (म्यानमार, थाईलैंड, इंडोचायना (लाओस, कंबोडिया, वियतनाम), मलय प्रायद्वीप), दक्षिणी चीन (हायनान द्वीप समेत) में, ताइवान में तथा इंडोनीशिया के बोर्नियो और सुमात्रा द्वीपों में पाया जाता है।[1]

सांभर मादा बच्चे के साथ

सांभर ऊष्णकटिबंधीय मौसमी वनों में (ऊष्णकटिबन्धीय सूखे तथा मौसमी नम सदाबहार), उप-ऊष्णकटिबंधीय वनों में (शंकुधारी वृक्ष, चौड़ी पत्ती के पतझड़ीय वृक्ष तथा चौड़ी पत्ती के सदाबहार वृक्ष) और ऊष्णकटिबन्धीय वर्षावनों में पाया जाता है। यह पानी से ज़्यादा दूर विचरण नहीं करता है। यह एक मज़बूत प्राणी है और समुद्र तल से लेकर ३,५०० मी. की ऊँचाई तक पाया जाता है - जैसे पूर्वी ताइवान, म्यानमार और हिमालय की ढलानों में।[1]
सांभर को पतझड़ीय वनों की घनी झाड़ियाँ और घास की सुरक्षा पसन्द हैं,[4]हालांकि इसका क्षेत्र इतना विस्तृत है कि इसके स्वभाव में काफ़ी विविधता देखी जा सकती है। निजी क्षेत्रफल में भी काफ़ी विविधता है, हालांकि भारत में नर का इलाका आमतौर पर १,५०० हे. तथा मादा का इलाका ३०० हे. पाया गया है।[3]
सांभर जंगलों में रहते हैं और स्थानीय पर्यावरण के मुताबिक़ काफ़ी प्रकार की वनस्पति, जैसे घास, पत्तियाँ, पौधों की डालियाँ, फल, पानी के पौधे इत्यादि खाते हैं। वे कई प्रकार के झाड़ियाँ तथा पेड़ भी खा लेते हैं। वे सिंह और बाघ का पसन्दीदा शिकार हैं। मगर, जिनके इलाके सांभर के साथ ही होते हैं, भी इनको अपना निवाला बना लेते हैं। तेंदुए तथा ढोल इनके बच्चों या बीमारों को शिकार बना लेते हैं।

पर्यावरण एवं व्यवहार[संपादित करें]

सांभर निशाचर होते हैं। उषा काल और गोधूलि वेला में भी यह काफ़ी सक्रिय होते हैं। वर्ष के ज़्यादातर समय नर एकाकी रहते हैं तथा मादा सोलह तक के समूह में रहती हैं। कुछ इलाकों में तीन से चार का ही गुट देखा गया है जिसके अन्तर्गत माँ, उसका सबसे हाल में जन्मा शावक तथा एक-आध नीचे तपके की अवयस्क मादा होते हैं। यह मृग कुल के प्राणियों में अप्रतिम बर्ताव है, क्योंकि सुरक्षा की दृष्टि से यह बड़े समूह में रहना पसन्द करते हैं। प्रायः यह जल-स्रोत के निकट एकत्रित होते हैं और अच्छे तैराक होते हैं।[3] अन्य मृगों की भान्ति सांभर भी शान्त होता है, हालांकि प्रजनन काल में नर ज़ोर से नाद करता है। सारे वयस्क चीत्कार कर सकते हैं या भयभीत होने पर छोटी अवधि की हूंकार भर सकते हैं। लेकिन अमूमन यह गंध के द्वारा या पैर ज़मीन पर पटकने के द्वारा आपस में सम्पर्क रखते हैं।
सांभर नर अपने सींग अपने ही मूत्र से सनी मिट्टी में सानकर फिर पेड़ के तने के साथ रगड़ता है।[4][5]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Timmins, R.J., Steinmetz, R., Sagar Baral, H., Samba Kumar, N., Duckworth, J.W., Anwarul Islam, Md., Giman, B., Hedges, S., Lynam, A.J., Fellowes, J., Chan, B.P.L. & Evans. (2008). Rusa unicolor. 2008 संकटग्रस्त प्रजातियों की IUCN लाल सूची. IUCN 2008. Retrieved on 12 दिसम्बर 2010.
  2. Boitani, Luigi, Simon & Schuster's Guide to Mammals. Simon & Schuster/Touchstone Books (1984), ISBN 978-0-671-42805-1
  3. Leslie, D.M. (2011). "Rusa unicolor (Artiodactyla: Cervidae)". Mammalian Species 43 (1): 1–30. doi:10.1644/871.1. http://www.asmjournals.org/doi/full/10.1644/871.1. 
  4. Deer of the world: their evolution, behaviour, and ecology. Valerius Geist. Stackpole Books. 1998. Pg. 73-77
  5. Schaller, George B. (1984). The Deer and the Tiger (Midway Reprint). Chicago: University of Chicago Press. p. 384 pages. ISBN 0-226-73631-8