सामुदायिक रेडियो

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रेडियो सेवा का एक प्रकार है सामुदायिक रेडियो , जो वाणिज्यिक और सार्वजनिक सेवा से परे रेडियो प्रसारण का एक तीसरा मॉडल प्रदान करता है. समुदाय स्टेशन भौगोलिक समुदायों और अभिरुचि के समुदायों की सेवा कर सकते हैं. वे ऎसी सामग्री का प्रसारण करते हैं जो कि किन्हीं स्थानीय/विशिष्ट श्रोताओं में लोकप्रिय है, जिनकी अनदेखी वाणिज्यिक या जन-माध्यम प्रसारकों द्वारा की जा सकती है.

सामुदायिक रेडियो स्टेशन ऐसे समुदायों द्वारा परिचालित और संचालित होते हैं और उनका स्वामित्व भी उनका ही होता है, जिनके लिए वे सेवा प्रदान करते हैं. सामुदायिक रेडियो लाभ कमाने के लिए नहीं होते और यह व्यक्ति विशेष, समूह और समुदायों की अपनी विविध कहानियों को कहने, अनुभवों को बांटने की प्रक्रिया को सुगम बनाते हैं, और संचार माध्यम से संपन्न दुनिया में सक्रिय स्रष्टा और संचार माध्यम के सहयोगी बनते हैं.

दुनिया के कई हिस्सों में, स्वयंसेवी क्षेत्र, नागरिक समाज, एजेंसियों, गैर-सरकारी संगठनों और नागरिकों के लिए सामुदायिक रेडियो और अधिक सामुदायिक विकास तथा प्रसारण उद्देश्यों के कार्य में भागीदारी के माध्यम के रूप में काम करता है.

फ्रांस, अर्जेंटीना, दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और आयरलैंड जैसे कई देशों में एक विशिष्ट प्रसारण क्षेत्र के रूप में सामुदायिक रेडियो की महत्वपूर्ण कानूनी परिभाषा की गयी है. परिभाषा के भाग के रूप में ज्यादातर कानूनों में सामाजिक लाभ, सामाजिक उद्देश्य, सामाजिक प्राप्ति जैसे वाक्यांश शामिल किये गये हैं.

सामुदायिक रेडियो ऐतिहासिक रूप से विभिन्न देशों में विभिन्न ढंग से विकसित हुआ और इसलिए यूनाइटेड किंगडम, आयरलैंड, संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया में इस शब्दावली का कुछ अलग-अलग अर्थ होता है.

आयरलैंड में, सामुदायिक रेडियो 1970 के दशक के अंत से सक्रिय है; हालांकि आयरिश संदर्भ में सामुदायिक प्रसारण द्वारा पेश किये गये सामुदायिक रेडियो के 18 महीने के पायलट प्रोजेक्ट की संभाव्यता का पता लगाने और मूल्यांकन करने में स्वतंत्र रेडियो व टेलीविजन आयोग को 1994 तक का समय लग गया. यह परियोजना 1995 में परिचालन में चली गयी जब देश भर के ग्यारह समुदायों और अभिरुचि समूहों के समुदायों को लाइसेंस जारी किये गये. आयरलैंड के समुदाय रेडियो में प्रक्रिया (कार्यक्रम निर्माण में समुदायों द्वारा भागीदारी) और उत्पाद (कार्यक्रम निर्माण की आपूर्ति के जरिये समुदाय को सेवा प्रदान करना) दोनों को शामिल किया गया है. समुदाय की आवश्यकताओं द्वारा प्रक्रिया और उत्पाद का मिश्रण निर्धारित होता है और समुदाय द्वारा नियंत्रित एक प्रबंधन संरचना के माध्यम से इसे कार्यान्वित किया जाता है. आयरलैंड के स्टेशन भौगोलिक रूप और अभिरुचि या हित के समूह दोनों पर आधारित हैं.

ब्रिटेन में, सामुदाय-आधारित सेवाओं के विचार के चिह्न कम से कम 1960 के दशक के आरंभ में बीबीसी (BBC) स्थानीय रेडियो की मूल अवधारणा के समय में पाए जा सकते हैं. इसके बाद भूमि-स्थित विभिन्न गैर-लाइसेंसी चोर रेडियो स्टेशनों (जैसे कि ईस्ट लंदन रेडियो, और रेडियो एएमवाई: ऑल्टरनेटिव मीडिया फॉर यू) ने इस विचार को और विकसित किया. जैसे-जैसे ये चोर रेडियो 1970 के दशक के अंत में और 1980 के दशक के आरंभ में बड़ी तादाद में पैदा होने लगे, तब खासकर लंदन, बर्मिंघम, ब्रिस्टल और मैनचेस्टर जैसे शहरों में इन स्टेशनों के साथ अल्पसंख्यक आप्रवासी समुदायों (अफ्रीकी-कैरिबियाई और एशियाई आदि) के प्रसारण जुड़ने लगे. हालांकि ब्रिटेन में कुछ लोगों के लिए "सामुदायिक रेडियो" "चोर रेडियो" का पर्यायवाची बना रहा, अधिकांश आप्रवासी स्टेशन शुद्ध रूप से विशिष्ट संगीत शैलियों पर केंद्रित रहे और (कम से कम सैद्धांतिक रूप से) लाभ के आधार पर संचालित होते रहे. अपनी संरचना के निर्माण के अंतर्गत समुदाय के स्वामित्व और नियंत्रण के साथ ब्रिटेन की समुदाय रेडियो सेवाएं अलाभकारी आधार पर संचालित होती हैं. ब्रिटेन के पूर्व प्रसारण नियामक द रेडियो ऑथोरिटी द्वारा एक प्रयोग के तहत 2001 में शुरू किया गया, 2005 तक यूके ब्रॉडकास्टिंग रेगुलेटर ऑफ़कॉम द्वारा कोई 200 ऐसे स्टेशनों को लाइसेंस दिया गया. इस तरह के ज्यादातर स्टेशन, आम तौर पर लगभग 25 वॉट (प्रति-प्लेन) के विकिरण शक्ति स्तर पर, एफएम पर प्रसारण करते हैं, यद्यपि विशेषकर अधिक ग्रामीण क्षेत्रों में कुछ एएम (मीडियम वेव) पर भी संचालित होते हैं.

अमेरिका में, सामुदायिक रेडियो स्टेशन लाभ के लिए नहीं होते, समुदाय-आधारित परिचालनों को एफएम बैंड के गैर-वाणिज्यिक, सार्वजनिक भाग में प्रसारण के लिए फेडरल कम्युनिकेशंस कमीशन द्वारा लाइसेंस दिया जाता है. अमेरिका के अन्य सार्वजनिक रेडियो केंद्रों से ये स्टेशन भिन्न होते हैं क्योंकि इनमे प्रसारक के रूप में सामुदायिक स्वयंसेवकों को सक्रियता के साथ हिस्सा लेने की अनुमति मिलती है.[1] प्रसारण फ्रिक्वेंसी के सख्त नियंत्रित आवंटन के कारण ऑस्ट्रेलिया में चोर रेडियो वस्तुतः अज्ञात है, और अपराधियों के लिए जेल सहित कड़ी कानूनी सजाओं के प्रावधान हैं.

दृष्टि, दर्शन और स्थिति[संपादित करें]

आधुनिक दिनों के सामुदायिक रेडियो स्टेशन अक्सर अपने श्रोताओं के लिए विभिन्न प्रकार की सामग्री पेश किया करते हैं, जो कि आवश्यक रूप से वाणिज्यिक रेडियो स्टेशनों द्वारा प्रदान नहीं की जाती है. सामुदायिक रेडियो केंद्र स्थानीय क्षेत्र, खासकर आप्रवासी या अल्पसंख्यक समूहों की खबरें तथा सूचना कार्यक्रम चला सकते हैं, जिन पर बड़े मीडिया केंद्रों द्वारा कम ध्यान दिया जाता है. अधिक विशिष्ट संगीत कार्यक्रम भी प्रायः कई सामुदायिक रेडियो स्टेशनों की एक विशेषता है. सामुदायिक स्टेशन और चोर स्टेशन (जहां उन्हें बर्दाश्त किया जाता है) किसी क्षेत्र के लिए मूल्यवान संपत्ति हो सकते हैं. सामुदायिक रेडियो स्टेशन आमतौर पर वाणिज्यिक केंद्रों में पाए जाने वाली सामग्री से बचा करते हैं, जैसे कि शीर्ष 40 संगीत, खेल और "ड्राइव-टाइम" व्यक्तित्व.

साहित्य में समुदाय की अवधारणाएं[संपादित करें]

समुदाय जटिल सत्ता हैं और सामुदायिक रेडियो में "समुदाय" की वैसी स्थापना पर अक्सर एक विवादास्पद और पेचीदा बहस चलती रहती है और जो अलग-अलग देशों में भिन्न होती है. "वैकल्पिक", "सुधारवादी" या "नागरिक" रेडियो जैसी अनेक शब्दावलियों द्वारा सामुदायिक या समुदाय को अक्सर प्रतिस्थापित भी किया जा सकता है. समाजशास्त्र में परंपरागत रूप से, किसी "समुदाय" को एक सामूहिक स्थान में रहने वाले सहभागी लोगों के एक समूह के रूप में परिभाषित किया गया है. सामुदायिक रेडियो अक्सर उपयोग और भागीदारी की अवधारणा को लेकर बनाया जाता है और इसीलिए समुदाय शब्द रेडियो सिग्नल की संभाव्य पहुंच के आसपास के भौगोलिक समुदायों पर आधारित होने के उल्लेख की सोच हो सकता है, अर्थात, वो लोग जो संदेश को प्राप्त कर सकते है और ऐसे संदेशों के निर्माण में भाग लेने में उनका सामर्थ्य हो. अवश्य ही यह इस तथ्य से समस्याग्रस्त हो जाता है कि अब अनेक रेडियो स्टेशन इंटरनेट पर भी प्रसारण करने लगे हैं, जिससे सशक्त रूप से वैश्विक श्रोताओं और समुदायों तक पहुंचने लगे हैं.

सामुदायिक रेडियो के मॉडल[संपादित करें]

दार्शनिक रूप से सामुदायिक रेडियो के लिए दो अलग-अलग दृष्टिकोण जाने जा सकते हैं, यद्यपि जरूरी नहीं कि मॉडल आपस में विशिष्ट हों. एक सेवा या समुदाय-मानसिकता पर जोर देता है, इस पर ध्यान देना कि समुदाय के लिए स्टेशन क्या कर सकता है. और दूसरा श्रोता की सहभागिता और भागीदारी पर जोर देता है.

सेवा मॉडल के अतर्गत स्थानीयता प्रायः महत्वपूर्ण होती है, जैसे कि सामुदायिक रेडियो, तीसरे स्तर के रूप में, बड़े परिचालनों की तुलना में अधिक स्थानीय या विशेष समुदाय पर केन्द्रित सामग्री प्रदान कर सकता है. कभी-कभी, यद्यपि, सिंडिकेटेड सामग्री की व्यवस्था जो कि पहले से स्टेशन के सेवा क्षेत्र के अंतर्गत उपलब्ध नहीं है, को सेवा के एक वांछनीय रूप में देखा जाता है. इस तरह के कार्यक्रमों के प्रति विज्ञापनदाताओं की रूचि कम होने या (विशेषकर पैसिफिका के मामले में) राजनीतिक रूप से विवादास्पद प्रकृति के कारण, इस आधार पर कि उनके द्वारा प्रदान की जाने वाली सामग्री का रूप अन्यथा उपलब्ध नहीं है, संयुक्त राज्य अमेरिका के अंदर, उदाहरण के लिए, अनेक स्टेशन पैसिफिका रेडियो और डेमोक्रेसी नाऊ! जैसे समूहों से सामग्री सिंडिकेट किया करते हैं.

पहुंच या भागीदारी मॉडल के भीतर, सामग्री के निर्माण में समुदाय के सदस्यों की भागीदारी को अपने आप में एक अच्छी बात की तरह देखा जाता है. हालांकि यह मॉडल एक सेवा दृष्टिकोण को बाहर नहीं करता, लेकिन दोनों के बीच एक तनाव है, जैसा कि उदाहरणस्वरूप जोन बेक्केन के कम्युनिटी रेडियो एट द क्रॉसरोड्स में दर्शाया गया है.

क्षेत्र में वृद्धि[संपादित करें]

भौगोलिक क्षेत्र द्वारा उदाहरण[संपादित करें]

ऑस्ट्रेलिया[संपादित करें]

सामुदायिक प्रसारण ऑस्ट्रेलिया का तीसरा मीडिया क्षेत्र है, औपचारिक रूप से जिसका प्रतिनिधित्व कम्युनिटी ब्रॉडकास्टिंग एसोसिएशन ऑफ़ ऑस्ट्रेलिया (सीबीएए) करता है. जून 2005 तक पूरी तरह से लाइसेंस प्राप्त 442 सामुदायिक रेडियो स्टेशन थे (मूल निवासी सेवाओं सहित).[कृपया उद्धरण जोड़ें] ऑस्ट्रेलिया के सामुदायिक रेडियो क्षेत्र में, विशेष रूप से स्थानीय सामग्री के एक स्रोत के रूप में, एक व्यापक भूमिका की पूर्ति करता है, हालांकि यह भूमिका बड़े स्तर पर ऑस्ट्रेलियाई मीडिया परिदृश्य में उपेक्षित है. हालांकि सामुदायिक रेडियो ने कई वर्षों में काफी तरक्की की है, श्रोताओं की संख्या और स्टेशनों की संख्या दोनों के संदर्भ में, लेकिन बड़े पैमाने पर क्षेत्र को धन की कमी लगी रहती है, विभिन्न स्टेशनों को अधिकांश समय अपनी सामुदायिक सेवा गतिविधियों के वित्त पोषण में खर्च करना पड़ता है.

2002 की एक रिपोर्ट में पाया गया कि 20,000 लोग (या ऑस्ट्रेलिया के निवासियों का 0.1%) नियमित रूप से एक स्वयंसेवक के रूप में सामुदायिक रेडियो क्षेत्र में शामिल हैं और स्वयंसेवक प्रत्येक वर्ष 145 मिलियन डॉलर से अधिक के बराबर का अवैतनिक काम किया करते हैं:[2] राष्ट्रीय स्तर पर 7 मिलियन से अधिक आस्ट्रेलियाई (या 15 से अधिक उम्र के 45% लोग) प्रत्येक महीने सामुदायिक रेडियो सुनते हैं (स्रोत: मैकनेयर इन्जिन्युटी).

कम्युनिटी ब्रॉडकास्टिंग एसोसिएशन ऑफ़ ऑस्ट्रेलिया के अनुसार ऑस्ट्रेलिया में सामुदायिक प्रसारण की भूमिका सामुदायिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए विविध प्रकार की सेवाएं मुहैया कराने की है, जिन्हें अन्य क्षेत्रों द्वारा पूरा नहीं किया जाता. सामुदायिक प्रसारण पहुंच और भागीदारी, स्वयंसेवी, विविधता, स्वतंत्रता और स्थानीयता के सिद्धांतों पर अनवरत है.

सामुदायिक रेडियो स्टेशन कभी-कभी विशेषज्ञ संगीत स्टेशन होते हैं, या वे दृढ़ता से स्थानीय संगीत और कला का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं. अन्य स्टेशन वार्ता और वाकलोइक, मूल ऑस्ट्रेलियाई, पर्यावरण, नारीवादी या पुरुष समलैंगिक व महिला समलैंगिक हितों का प्रतिनिधित्व करने वाले समसामयिक कार्यक्रमों का प्रसारण करते हैं, इस तरह वाणिज्यिक या सरकारी रेडियो सामग्री की कमी को पूरा करते हैं. सामुदायिक रेडियो स्टेशनों के 53% विभिन्न समुदायों के हितों की सेवा करते हैं, इनमें शामिल हैं: मूल और नस्ली समूह, छपाई असामर्थ्य वाले लोग, तथा पुरुष व महिला समलैंगिक समुदाय. बाक़ी स्टेशनो को सामान्यज्ञ कहा जा सकता है, जो किन्हीं विशेष भौगोलिक स्थानों में समुदायों के हितों को पूरा करते हैं, लेकिन फिर भी विविध प्रकार के विशेष हितों की श्रृंखला का प्रसारण करते है.

संचार माध्यम के अन्य किसी रूप की तुलना में कहीं अधिक सामुदायिक प्रसारण ने इस देश में अपनी सभी भिन्नताओं के साथ राष्ट्रीय चरित्र को आकार दिया है और प्रतिबिंबित किया है. मूल, नस्लीय तथा आरपीएच (RPH) समुदायों के लिए और उनके ही द्वारा ताजे कार्यक्रम प्रदान करने की इस क्षेत्र की क्षमता अद्वितीय है. सामुदायिक प्रसारण स्टेशन स्थानीय समाचार, सूचना; स्थानीय व ऑस्ट्रेलियाई संगीत, कला और संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए दृढ प्रतिबद्ध भी हैं; और संचार माध्यम में निपुणता के लिए प्रशिक्षण प्रदान करते हैं.

जब कोई अलाभकारी सामुदायिक समूह सामुदायिक प्रसारण लाइसेंस प्राप्त करने के लिए नियामक ऑस्ट्रेलिया संचार और मीडिया प्राधिकरण के पास आवेदन देता है तो उसे बताना पड़ता है कि वे किस समुदाय के हितों की सेवा करना चाहते हैं. उनकी उपयुक्तता और लाइसेंस आवेदन की योग्यता और निर्धारित समुदाय के हितों की सेवा करने की क्षमता के आधार पर लाइसेंसधारियो का चयन नियामक द्वारा किया जाता है. प्रत्येक स्टेशन को एक 5 वर्षीय नवीकरण योग्य लाइसेंस दिया जाता है और फिर उनसे उस समुदाय के हितों की सेवा को जारी रखना अपेक्षित होता है, जिसके लिए उन्हें लाइसेंस प्रदान किया गया.

बोलीविया[संपादित करें]

बोलीविया का खनिक रेडियो सामुदायिक रेडियो के सबसे प्रसिद्ध उदाहरणों में एक था. मजदूर संघों के चंदे से इनका वित्त पोषण होता और मुख्यतः स्थानीय तथा क्षेत्रीय स्तरों पर परिचालित हुआ करते, 1960 से 1985 के दौरान ऐसे 25 से अधिक रेडियो स्टेशन थे. सरकार की नीति में परिवर्तन से 1985 के बाद कई संघबद्ध खनन में नौकरियां चली गयीं और कुछ रेडियो या तो बेच दिए गये या बंद हो गये. अनेक कठिनाइयों के बावजूद, पांच स्टेशनों ने प्रसारण जारी रखा.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

ला वोज डेल माइनेरो , रेडियो पीओ XII , रेडियो वैनगार्डिया डि कोलक्विरी , रेडियो अनिमास , रेडियो 21 डि डिसीम्ब्रे और रेडियो नैसिओनल डि हुअनुनी कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण रेडियो स्टेशन थे जिनका निर्माण बोलीवियाई मजदूरों ने किया था और जिनका वित्तपोषण और प्रबंधन उन्हींके द्वारा होता है.[3] खनन जिला कातावी में एक रेडियो स्टेशन के साथ 1949 में इसकी शुरुआत हुई. अगले 15 वर्षों के दौरान, अन्य जिले भी शामिल हुए: उन्होंने अपने उपकरण लाये, उन्होंने अपने गांवों के नौजवानों को प्रशिक्षित किया और खुद मजदूरों ने अपने वेतन का हिस्सा देकर इस अनुभव का वित्त पोषण किया ताकि उनके रेडियो स्टेशन जारी रहें.

ज्यादातर रेडियो स्टेशन बहुत ही साधारण साधनों के साथ छोटे स्तर पर और अनिश्चितता के साथ शुरू हुए. उनमें से कुछ को विदेशी सहायता मिल गयी और उन्होंने बेहतर उपकरणों और प्रतिष्ठापनों के साथ अधिक परिष्कृत रेडियो स्टेशन विकसित किये. कुछ ने परिसरों के पास ही अपने थिएटर बना लिए, सो मजदूर संघों की सभा वहां होने लगी और रेडियो द्वारा उनका सीधा प्रसारण भी किया जाने लगा. उदाहरण के लिए, रेडियो वैनगार्डिया का बड़े भित्तिचित्रों के साथ एक सुंदर व सज्जित थिएटर था जो कोलोक्विरी खनन केंद्र की कहानी का आख्यान करता. एक भित्तिचित्र में सैन्य शासन के दौरान बोलीवियाई वायु सेना के विमानों द्वारा 1967 में हुए हमले को दर्शाया गया है.

1970 के दशक के आरंभ में, 26 रेडियो स्टेशन चल रहे थे, सभी बोलिविया के हाइलैंड्स के खनन जिलों में थे. उस समय बोलीविया के खनिक संघ बड़े शक्तिशाली थे और लैटिन अमेरिका में सबसे महत्वपूर्ण और राजनीतिक रूप से अग्रवर्ती माने जाते थे.

शांति और लोकतंत्र के समय खनिकों के रेडियो स्टेशन समुदाय के दैनिक जीवन में एकीकृत हो गये थे. वे निकटतम और टेलीफोन तथा डाक सेवाओं के सबसे प्रभावी प्रतिस्थापन बन गये.

लोग स्टेशनों के माध्यम से अपने पत्र और सभी प्रकार के संदेश भेजा करते, जिन्हें दिन में कई बार पढ़ा जाता: कोमिट डि अमास डि कासा (गृहिणियों की समिति) की सभा के लिए महिलाओं को सूचना; राजधानी में सरकार के साथ बातचीत के बारे में यूनियन नेताओं के संदेश; नौजवानों के बीच के प्रेम संदेश; नुएवोस होरिजोंटेस नाटक मंडली द्वारा नए नाटक की घोषणा (जिसका मंचन प्रायः एक बड़े तर्क पर सज्जित मंच पर हुआ करता, जहां मजदूर अपनी बत्ती जलाकर दृश्य को प्रकाशमय किया करते); और खेल गतिविधियों, अंत्येष्टि, जन्म तथा उत्सवों की घोषणा भी की जाती.

राजनीतिक उथल-पुथल के दौरान यूनियन रेडियो स्टेशन सूचना के एकमात्र विश्वसनीय स्रोत बन जाते. सेना ने जब राजधानी और अन्य शहरों में समाचार पत्रों, रेडियो और टीवी स्टेशनों पर कब्जा कर लिया था, तब केवल खनिकों के रेडियो स्टेशनों से ही सूचनाएं उपलब्ध हो रही थीं. वे सभी कडेना माइनेरा ("खनन श्रृंखला") से जुड़ गये थे जब तक कि सेना ने खनन शिविरों में घुसपैठ न कर ली और स्टेशनों को उजाड़ दिया, जिनकी रक्षा में मजदूरों ने अपनी जान दे दी. बोलीवियाई फिल्म निर्माता जोर्गे संजिन्स की फिल्म द करेज ऑफ़ द प्यूपल में जून 1967 में सेना द्वारा खनन जिले सिग्लो XX पर किये गये हमले को दिखाया गया गया है. अलफोंसो गुमुसियो डाग्रोन तथा एडूअर्ड़ो बरिओस की वॉयसेस ऑफ़ द माइन नामक एक और फिल्म, एक वृत्तचित्र, ने उनके राजनीतिक और सामाजिक महत्व का वर्णन किया है, इस फिल्म का निर्माण यूनेस्को (UNESCO) ने किया है.

राजनीतिक और सामाजिक संकट के समय में खनिकों के रेडियो स्टेशन राजनीतिक स्थिति पर रिपोर्ट का प्रसारण किया करते; और जब कभी खनन जिले में महत्वपूर्ण खेल या सांस्कृतिक कार्यक्रम हुआ करते तब वे सीधा प्रसारण भी किया करते. उसके अलावा, प्रत्येक स्टेशन दूसरे से पूरी तरह स्वतंत्र थे.

निश्चित रूप से, खनिकों के रेडियो स्टेशन महत्वपूर्ण थे क्योंकि खनिक महत्वपूर्ण थे. लेकिन साथ ही, कई दशकों के दौरान अपने विचारों को संचारित करने के लिए उनके पास शक्तिशाली साधन होने के कारण बोलीवियाई खनिक पहले से अधिक प्रभावशाली थे. 1980 के दशक में बोलीविया में खनन के महत्व में गिरावट आने से यूनियनें कमजोर हो गयीं और खनन जिलों से कुछ रेडियो स्टेशन गायब हो गये.

बांग्लादेश[संपादित करें]

बांग्लादेश एनजीओ नेटवर्क फॉर रेडियो एंड कम्युनिकेशन (बीएनआरआरसी) सामुदायिक रेडियो को हस्तक्षेप का एक विशेष क्षेत्र मानता है. बीएनआरआरसी 2000 में अपने आविर्भाव के समय से सामुदायिक रेडियो को बढ़ावा देने के लिए अन्य संगठनों के साथ सरकार से वकालत करती रही है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

बीएनआरआरसी के सामुदायिक रेडियो के हस्तक्षेप का उद्देश्य समुदाय के स्तर पर महत्वपूर्ण सामाजिक मुद्दों पर ध्यान देना है, जैसे कि गरीबी और सामाजिक बहिष्कार, सीमांत ग्रामीण समूहों को सशक्त बनाना और लोकतांत्रिक प्रक्रिया तथा चलाये जा रहे विकास के प्रयासों को उत्प्रेरित करना.

सामुदायिक रेडियो की मुख्य भूमिका बेआवाज जनता को आवाज देना है, अपने ख्यालों और सामुदायिक विकास के संबंध में अपने विचार व्यक्त करने के लिए जिनकी पहुंच मुख्यधारा की मीडिया तक नहीं है. व्यक्त या सूचित करने के अधिकार को बढ़ाना, समुदाय को सूचित करने की प्रक्रिया को तेज करना, सूचना के मुक्त प्रवाह की सहायता करना और इसके लिए परिवर्तन के एक उत्प्रेरक के रूप में कार्य करना सामुदायिक रेडियो द्वारा किये जाने वाले कुछ बड़े कार्य हैं. सामुदायिक स्तर में रचनात्मक विकास और लोकतांत्रिक भावना को भी यह बनाये रखेगा.

परिणामस्वरूप जन गणतांत्रिक बांग्लादेश के सूचना मंत्रालय ने सामुदायिक रेडियो प्रतिष्ठापन, प्रसारण व परिचालन नीति 2008 की घोषणा की है. इस नीति के तहत सूचना मंत्रालय ने हाल ही में [22 अप्रैल 2020] अधिष्ठापन, और परिचालन के लिए बांग्लादेश में पहली बार 14 सामुदायिक रेडियो स्टेशनों को मंजूरी दे दी. सूचना के मुक्त प्रवाह और जनता के सूचना के अधिकार को सुनिश्चित करने के लिए सरकार ने सूचना का अधिकार अधिनियम 2009 बनाया. सामुदायिक रेडियो को मिला यह अनुमोदन इस संबंध में ग्रामीण जनता को सशक्त बनाने की दिशा में एक मजबूत कदम है.

शुरू में सरकार ने 14 आरंभकर्ताओं को अनुमोदित किया, इनमें शामिल हैं सीताकुंड, चटगांव के यंग पावर इन एक्शन (वाईपीएसए) (YPSA), सातखीरा के लिए नालता कम्युनिटी हॉस्पिटल, बोगरा के लिए एलडीआरओ (LDRO), मौलवी बाजार के लिए बीआरएसी, नावगांव के लिए बरान्दरो कम्युनिटी रेडियो, छपाई नबाबगंज के लिए प्रोयास, राजशाही के लिए सीसीडी, झिनैधाह के लिए सृजोनी, मुंशीगंज के लिए ईसी बांग्लादेश, बरगुना के लिए एमएमसी और कुरिग्राम के लिए आरडीआरएस, कोयरा (खुलना) के लिए सुंदरबन कम्युनिटी रेडियो, तेलनाफ (कोक्स बाजार) के लिए एसीएलएबी और अमटोली (बरगुना) के कम्युनिटी रुरल रेडियो के लिए एग्रीकल्चर इन्फोर्मेशन सर्विस.

बीएनआरआरसी (BNNRC) ढाका में अपने सचिवालय में सामुदायिक रेडियो के एक राष्ट्रीय सहायता डेस्क के माध्यम से लगभग 200 संगठनों को सामुदायिक रेडियो उपयोग प्रक्रिया में तकनीकी सहायता प्रदान करता है. इस अनुभव के जरिये, बांग्लादेश में सामुदायिक रेडियो के लिए आवश्यक मानव संसाधन जुटाने, शोध और विकास तथा तकनीकी सहयोग के निर्माण के लिए एक अग्रसक्रिय संस्था को उत्प्रेरित करना चाहिए. इस पृष्ठभूमि में, बीएनएनआरसी (BNNRC) ने कम्युनिटी रेडियो एकेडमी (CRA) स्थापित की है. अकादमी साल भर सामुदायिक रेडियो आरंभकर्ताओं के लिए सामुदायिक रेडियो संबंधी प्रशिक्षण, शोध, तकनीकी सहायता और अन्य मदद का आयोजन करेगी.

अपनी शैली का उपयोग करके अपनी खुद की आवाज में अपनी सोच को व्यक्त करने के लिए गांव की सुविधाहीन आबादी के लिए सामुदायिक रेडियो को एक वैकल्पिक व प्रभावशाली जन संचार माध्यम माना गया है.

कनाडा[संपादित करें]

कनाडा के सामुदायिक रेडियो स्टेशन वाणिज्यिक रूप से अपात्र अल्पसंख्यक भाषाई समुदायों को सबसे अधिक अपना लक्ष्य बनाते हैं, जैसे कि फ्रैंको-ओंटेरियंस, एकाड़ीयंस या फर्स्ट नेशंस, हालांकि कुछ समुदायों के अंग्रेजी भाषाई सामुदायिक स्टेशन भी हैं. इन स्टेशनों को प्रायः स्वयंसेवक चलाया करते हैं और सहकारिताओं या अन्य अलाभकारी निगमों द्वारा इनका परिचालन होता है.

बड़े शहरों में, कैम्पस रेडियो स्टेशनों से समुदाय-उन्मुखी कार्यक्रम आम तौर पर अधिक प्रसारित किये जाते हैं. बहरहाल, कुछ शहरों में भी सामुदायिक रेडियो स्टेशन हैं. कनाडा के अधिकांश सामुदायिक स्टेशन नेशनल कैम्पस एंड कम्युनिटी रेडियो एसोसिएशन या एनसीआरए के सदस्य हैं. कनाडा के अधिकांश फ्रांसिसी भाषाई रेडियो स्टेशन या तो l'एसोसिएशन देस रेडियोदिफ्युसयूर्स कम्यूनितेयर दू क्यूबेक (एआरसीक्यू) या l'एलायंस देस रेडियोस कम्युनौतेयर्स दू कनाडा इंक (l'एआरसी) के सदस्य हैं.[4]

कनाडा के सस्कतचेंवन प्रांत में सबसे अधिक सामुदायिक रेडियो स्टेशन हैं. उनमें से अधिकांश स्टेशन एक पुराने सार्वजनिक रेडियो स्टेशन मिसिनिपी ब्रॉडकास्टिंग कारपोरेशन के साथ संबद्ध हैं.

सामुदायिक रेडियो कैनाडियन रेडियो-टेलीविजन एंड टेलीकम्युनिकेशंस कमीशन (सीआरटीसी) की सामुदायिक रेडियो नीति के अधीन हैं.[5]

इस नीति में, सीआरटीसी सामुदायिक स्टेशनों से निम्नलिखित की मांग करता है:

  • कार्यक्रम निर्माण में समुदाय की पैठ की सुविधा;
  • समुदाय में प्रशिक्षण की उपलब्धता को बढ़ावा देना; और
  • चल रहे प्रशिक्षण और कार्यक्रम निर्माण में भाग लेने के इच्छुक समुदाय के लोगों को पर्यवेक्षण की सुविधा प्रदान करना.

यह स्टेशनों से समुदाय की आवश्यकताओं और रूचि को प्रतिबिंबित करने वाले विविध कार्यक्रम प्रस्तुत करने की भी मांग करता है, इनमें शामिल हैं:

  • नयी और स्थानीय प्रतिभा द्वारा संगीत;
  • वाणिज्यिक स्टेशनों द्वारा आम तौर पर प्रसारित नहीं होने वाला संगीत;
  • बोले जाने वाले शब्द की प्रोग्रामिंग; और
  • स्थानीय जानकारी.

सीआरटीसी सामुदायिक स्टेशनों की एक सूची रखता है.[6] कनाडा में, कॉल पत्रों और फ्रिक्वेन्सीज का नियंत्रण इंडस्ट्री कनाडा के स्पेक्ट्रम प्रबंधन द्वारा किया जाता है.[7]

इन्हें भी देखें: List of community radio stations in Canada

इक्वाडोर[संपादित करें]

इक्वाडोर में धार्मिक समूहों द्वारा कई सामुदायिक रेडियो स्टेशन संचालित किये जा रहे हैं. इनमें कैथोलिक, प्रोटेस्टेंट और बहा'ई स्टेशन शामिल हैं. समुदाय की भागीदारी और आत्म-प्रबंधन की मात्रा भिन्न है. रेडियो लटाकुंगा एक ऐसी परियोजना के साथ जुड़ा हुआ है, जिसमें मूल निवासियों के संगठनो को साप्ताहिक कार्यक्रमों की रिकॉर्डिंग के लिए सरल उपकरण की आपूर्ति की जाती है, जिनका प्रसारण सुबह के समय होता है. साथ ही, इक्वाडोर में मूल निवासियों के कुछ समूह खुद अपने रेडियो संचालित करते हैं. उष्णकटिबंधीय वर्षा वनों के शुआर फेडरेशन और बोलिवर प्रांत में सिमिआतुग समुदाय इसके उदाहरण हैं. बोलीविया के विपरीत, इक्वाडोर में मजदूर संघ रेडियो ऐतिहासिक रूप से कमजोर रहे हैं.

हंगरी[संपादित करें]

पहला सामुदायिक स्टेशन चोरी-छिपे शुरू हुआ था, जिससे समाजवादी व्यवस्था से बदलाव के बाद राजनीतिक रूप से मुक्त भाषण और संगीत कार्यक्रमों का प्रसारण किया जाता. 1991 में टिलोज रेडियो पहला ऐसा स्टेशन था, इसके बाद फिक्साज रेडियो़ और सिविल रेडियो शुरू हुआ. 2004 से एक नई श्रेणी पैदा हुई, किस्कोजोसेजी या छोटा सामुदायिक स्टेशन, जो कि कम क्षमतावाला स्टेशन था. 2008 से 60 से भी अधिक ऐसे माइक्रोस्टेशनों ने देश भर में प्रसारण की शुरूआत की. गांव के स्टेशन, छोटे शहर के स्टेशन, विश्वविद्यालय के स्टेशन, उप-सांस्कृतिक और धार्मिक स्टेशन भी हैं. बुडापेस्ट में कूल एफएम, एल्सो पेस्टी एजिएतेमी रेडियो, फ्युजियो रेडियो छोटे सामुदायिक स्टेशन हैं.

भारत[संपादित करें]

भारत में, सामुदायिक रेडियो की वैधता के लिए अभियान की शुरुआत मध्य 1990 में हुई, फरवरी 1995 में भारतीय सर्वोच्च न्यायालय के इस फैसले के तुरंत बाद कि "वायुतरंगें सार्वजनिक संपत्ति हैं".[2] इसने देश भर के समूहों को एक प्रेरणा प्रदान की, लेकिन कुछ कठोर शर्तों के तहत इसे शुरू करने की अनुमति सिर्फ शैक्षिक (परिसर) रेडियो स्टेशनों को ही मिली.

अन्ना (एफएम) भारत का प्रथम परिसर 'सामुदायिक' रेडियो है, जो 1 फ़रवरी 2004 को आरंभ हुआ, जिसका संचालन एजुकेशन एंड मल्टीमीडिया रिसर्च सेंटर (ईएम्²आरसी) करता है और सारे कार्यक्रमों का निर्माण अन्ना विश्वविद्यालय के मीडिया विज्ञान के विद्यार्थियों द्वारा किया जाता है.

16 नवम्बर 2006 को, भारत सरकार ने नए सामुदायिक रेडियो दिशानिर्देश की अधिसूचना जारी की, जो गैर-सरकारी संगठनों और अन्य नागरिक सामाजिक संगठनों को सामुदायिक रेडियो स्टेशन का स्वामी बनने और संचालित करने की अनुमति देता है. सरकारी सूत्रों के अनुसार, भारत भर में लगभग 4,000 सामुदायिक रेडियो लाइसेंस दिए जाने हैं. 30 नवंबर 2008 तक, भारत सरकार के सूचना व प्रसारण मंत्रालय ने सामुदायिक रेडियो लाइसेंस के लिए 297 आवेदन पत्र प्राप्त किये, जिनमें 141 गैर-सरकारी संगठन और नागरिक सामाजिक सगठन, शैक्षिक संस्थानों से 105 और कृषि विश्वविद्यालयों और कृषि विस्तार केन्द्रों ('कृषि विज्ञान केन्द्र') के द्वारा चलाये जाने वाले 'फ़ार्म रेडियो' स्टेशनों के 51 आवेदन शामिल हैं. इनमें से 107 सामुदायिक रेडियो स्टेशनों को प्रयोजन पत्र के निर्गम के जरिए लाइसेंस के लिए मंजूरी दे दी गयी है. नई योजना के तहत लाइसेंस आवेदकों के साथ 13 ग्रांट ऑफ़ परमिशन एग्रीमेंट्स (जीओपीए) हस्ताक्षरित किये गये हैं.

30 नवंबर 2008 तक, देश में 38 क्रियाशील सामुदायिक रेडियो स्टेशन थे. इनमें से दो को गैर-सरकारी संगठन चलाते हैं और बाक़ी को शिक्षा संस्थान. एक गैर-सरकारी संगठन को मिले लाइसेंस (परिसर-आधारित रेडियो से भिन्न) से पहला समुदाय आधारित रेडियो स्टेशन 15 अक्टूबर 2008 को तब बाकायदा आरंभ हुआ जब आंध्र प्रदेश राज्य के मेडक जिले के पस्तापुर गांव का 'संगम रेडियो' सुबह 11 बजे शुरू किया गया. संगम रेडियो, जो कि 90.4 मेगाहर्टज पर प्रसारित होता है, का लाइसेंस आंध्र प्रदेश के 75 गांवों में महिलाओं के समूहों के साथ काम करने वाले एक गैर-सरकारी संगठन डेक्कन विकास सोसायटी (डीडीएस (DDS)) को दिया गया है. सामुदायिक रेडियो स्टेशन का प्रबंधन 'जनरल' नरसम्मा और अल्गोले नरसम्मा द्वारा किया जाता है. मध्य प्रदेश राज्य के ओरछा में 23 अक्टूबर 2008 को 'ताराग्राम' में भारत का दूसरा गैर-सरकारी संगठन संचालित सामुदायिक रेडियो स्टेशन आरंभ हुआ. मध्य भारत के बुंदेलखंड क्षेत्र के नाम पर, जहां यह अवस्थित है, 'रेडियो बुंदेलखंड' का नाम रखा गया, इस रेडियो स्टेशन का लाइसेंस दिल्ली स्थित एक गैर-सरकारी संगठन सोसाइटी फॉर डेवलपमेंट अल्टरनेटिव्स (डीए) को दिया गया है. रेडियो बुन्देलखंड भी 90.4 मेगाहर्टज पर दो घंटे के पुनः प्रसारण सहित दिन में चार घंटे प्रसारित होता है.

सूचना व प्रसारण मंत्रालय के मुताबिक, 1 नवंबर 2009 तक भारत में 47 सामुदायिक रेडियो स्टेशन के क्रियाशील थे, जिनमें 45 परिसर-आधारित स्टेशन और दो गैर सरकारी संगठनों द्वारा संचालित सीआरएस (सामुदायिक रेडियो स्टेशन) थे. दिसंबर 2009 तक, नागरिक समाज समूहों द्वारा सचालित सीआर स्टेशनों की संख्या संभवतः सात तक पहुंच गयी थी, जिनमे शामिल हैं संगम रेडियो (पस्तापुर, मेडक जिला, आन्ध्र प्रदेश), रेडियो बुन्देलखंड (ओरछा, मध्य प्रदेश), मन देशी तरंग (सतारा, महाराष्ट्र), नाम्मा ध्वनि (बुदिकोट, कर्नाटका), रेडियो मत्तोली (वायानाड, केरल), क्लांजीअम समुगा वानोली (नागापत्तीनम, तमिलनाडु) और बेयरफुट (तिलोनिया, राजस्थान).

4 दिसंबर 2009 तक, सूचना व प्रसारण मंत्रालय ने 62 सामुदायिक रेडियो स्टेशनों के लिए 'ग्रांट ऑफ़ परमिशन एग्रीमेंट्स' (जीओपीए) जारी कर दिया था. अधिकांश जीओपीए शिक्षण संस्थानों को जारी किए गए.

सामुदायिक रेडियो सारंग 107.8 मंगलौर जेसुइट एजुकेशनल सोसायटी (एमजेईएस) द्वारा प्रबंधित है और इसे कर्नाटक के एक तटीय शहर मंगलोर के संत एलोयसियस महाविद्यालय (स्वायत्त) द्वारा संचालित किया जाता है. एक तरह से, रेडियो सारंग को एक परिसर रेडियो कहा जा सकता है, क्योंकि यह एक शैक्षणिक संस्था के परिसर में स्थित है. लेकिन यह पोषक संस्थान के बजाय लोगों के स्थानीय समुदायों की ओर कहीं अधिक उन्मुख है; यह किसान, मछुआरे, मरीजों, विक्रेताओं, साइकिल मरम्मत करनेवाले जैसे कर्मियों, चर्मकारों आदि जैसे स्थानीय जनता के साथ, उनके लिए और उनके द्वारा कार्यक्रम बनाता है.

20 जून 2010 तक, रेडियो सारंग ने कोंकणी, कन्नड़, तुलु और अंग्रेजी भाषा में प्रतिदिन प्रसारण किया, इसके अलावा मलयालम, बेरी (स्थानीय मुसलामानों की मातृभाषा) और हिन्दी भाषाओँ में भी साप्ताहिक प्रसारण किया. इसके अलावा, स्थानीय सिख समुदाय के अनुरोध पर रेडियो सारंग पंजाबी में भी प्रसारण करता है. 15 जून 2010 के बाद से, सीआर स्टेशन ने सुबह 6.30 से रात 20.30 बजे तक 14 घंटे का अविराम प्रसारण करना शुरू किया है. कार्यक्रमों में बातचीत, साक्षात्कार, फोन-इन, गीत, कविता, कहानी, चैट शो आदि शामिल हैं. डॉ. रिचर्ड रेगो एसजे इस परिसर-आधारित सामुदायिक रेडियो सारंग 107.8एफएम के संस्थापक व निदेशक हैं.

उत्तराखंड के सुपी में स्थानीय समुदायों के लिए एक साझा मंच बनाने के उद्देश्य के साथ टेरी ने 11 मार्च 2010 को एक सामुदायिक रेडियो सेवा 'कुमाऊं वाणी' का आरंभ किया. उत्तराखंड की राज्यपाल मार्गरेट अल्वा ने राज्य के इस पहले सामुदायिक रेडियो स्टेशन का उदघाटन किया. 'कुमाऊं वाणी' का उद्देश्य है समुदायों की सक्रिय भागीदारी के साथ स्थानीय भाषा में पर्यावरण, कृषि, संस्कृति, मौसम और शिक्षा कार्यक्रमों का प्रसारण करना. रेडियो स्टेशन 10 किमी की परिधि में मुक्तेश्वर के आसपास के लगभग 2000 स्थानीयों को समाविष्ट करता है.[8]

नई (2006) सामुदायिक रेडियो नीति के तहत, कोई भी अलाभकारी 'कानूनी संस्था' - व्यक्तियों, राजनीतिक दलों और उनके सहयोगियों, अपराधी और प्रतिबंधित संगठनों को छोड़कर - एक सीआर लाइसेंस के लिए आवेदन कर सकती है. ऐसे स्टेशनों के लिए केंद्रीय वित्त सहायता उपलब्ध नहीं है, और अन्य स्रोतों से धन जमा करने पर सख्त प्रतिबंध है. केवल वही संगठन आवेदन कर सकते हैं जो कम से कम तीन साल से पंजीकृत हों और जिनका स्थानीय सामुदायिक सेवा का कार्य रिकॉर्ड 'प्रमाणित' हो. लाइसेंस शर्तें अव्यक्त रूप से कम-खर्चीले कम क्षमतावान परिचालनों की तुलना में अच्छी तरह से वित्त पोषित स्टेशनों का पक्ष लेती हैं; जबकि इनमें से अनेक (जैसे कि आंध्र प्रदेश में मन रेडियो और बिहार में राघव एफएम) सामुदायिक रेडियो नीति के आने के पहले से बहुत कम पैसे से सफलतापूर्वक चलते रहे हैं.

लाइसेंस के हकदार वे होते हैं जो 100 वाट (ईआरपी) रेडियो स्टेशन चलाते हैं, जिनका कार्यक्षेत्र लगभग 12 किलोमीटर की त्रिज्या में हो. 30 मीटर की अधिकतम ऐन्टेना ऊंचाई की अनुमति दी गयी है. सामुदायिक रेडियो स्टेशनों से कम से कम 50% कार्यक्रम स्थानीय स्तर पर बनाने की अपेक्षा की जाती है, और जहां तक संभव हो कार्यक्रम स्थानीय भाषा या बोली में हों. विकास कार्यक्रम पर जोर दिया गया है, हालांकि मनोरंजन पर कोई स्पष्ट प्रतिबंध नहीं है. भारत में सामुदायिक रेडियो पर समाचार कार्यक्रम प्रतिबंधित हैं, जैसा कि वाणिज्यिक एफएम रेडियो पर भी. हालांकि, सरकार ने हाल ही स्पष्ट किया है कि खबर की कुछ श्रेणियों को रेडियो पर प्रसारित करने की अनुमति है, जिनमें खेल समाचार और टिप्पणियां, यातायात और मौसम की स्थिति के बारे में जानकारी, सांस्कृतिक कार्यक्रमों और त्यौहारों के कवरेज, शैक्षिक घटनाओं के बारे में जानकारी, सार्वजनिक बिजली और पानी की आपूर्ति जैसी उपयोगिताओं से संबंधित घोषणाएं, आपदा चेतावनी और स्वास्थ्य सूचना शामिल हैं.

सामुदायिक रेडियो पर प्रति घंटे पांच मिनट के विज्ञापन की अनुमति है. केंद्र या राज्य सरकार द्वारा प्रायोजित कार्यक्रम को छोड़कर प्रायोजित कार्यक्रम की अनुमति नहीं है.

देश भर के सक्रियतावादी और सामुदायिक कार्यकर्ताओं ने 'कम्युनिटी रेडियो फोरम ऑफ़ इंडिया' के संरक्षण में खुद को जोड़ लिया है, ताकि प्रशिक्षण को समन्वित किया जा सके और सामुदायिक रेडियो स्टेशनों की मदद की जा सके, साथ ही अधिक अग्रसक्रिय सामुदायिक रेडियो नीति के अभियान को जारी रखा जा सके. सामुदायिक रेडियो फोरम, भारत, 26 फरवरी 2008 को एक 'सोसाइटी' और 'ट्रस्ट' के रूप में पंजीकृत हुआ. इस बीच, प्रसारण प्रौद्योगिकी की पारंपरिक अवधारणाओं के चारों ओर निर्मित सरकारी प्रतिबंधों से पूरे तौर पर बच निकलते हुए मोबाइल फोन ऑपरेटरों ने जीएसएम पर वाणिज्यिक प्रसारण सेवा प्रदान करने की पेशकश शुरू कर दी.

एक जुलाई 2010 तक, भारत सरकार के सूचना व प्रसारण मंत्रालय ने घोषणा की कि सीआर लाइसेंस के लिए 715 आवेदन पत्र प्राप्त हुए हैं, जिनमें पुराने (परिसर रेडियो) दिशा निर्देशों के तहत 104 आवेदन भी शामिल हैं. 231 आशय के पत्र जारी किए जा चुके है, जिनमें से 63 पुराने दिशा निर्देशों के तहत हैं. 102 आवेदकों के साथ ग्रांट ऑफ़ परमिशन एग्रीमेंट्स हस्ताक्षरित किये गये हैं और 68 सामुदायिक रेडियो स्टेशनों से प्रसारण शुरू हो चुका है. (107 आवेदनों को अस्वीकार कर दिया गया और 377 आवेदन प्रक्रिया में हैं).

12 अगस्त 2010 तक, भारत में परिचालित सामुदायिक रेडियो स्टेशनों की संख्या 82 तक पहुंच गई थी.

आयरलैंड[संपादित करें]

1970 के अंत से ही आयरलैंड में स्वयं-वर्णित सामुदायिक रेडियो स्टेशन हैं, लेकिन 1995 में ही स्वतंत्र रेडियो व टेलीविजन आयोग द्वारा एक पायलट प्रोजेक्ट के हिसा के रूप में पहले 11 लाइसेंसप्राप्त स्टेशनों से प्रसारण शुरू हुआ. शुरुआती स्टेशनों का प्रतिनिधित्व सामुदायिक-रेडियो प्रसारकों के राष्ट्रीय संघ किया करता था, जिसने 1988 में नए स्टेशनों की स्थापना के लिए एक मार्गदर्शक का प्रकाशन किया.

फिलहाल आयरलैंड में 20 लाइसेंसशुदा स्टेशन हैं और 2010 में और भी चार स्टेशनों को लाइसेंस प्राप्त होने की उम्मीद है. 2004 में, लाइसेंस प्राप्त स्टेशनों ने प्रतिनिधि समूह के रूप में एक कोऑपरेटिव कराओल (CRAOL) का गठन किया, स्टेशन जिसके हिस्सेदार बने. 2007 में, आकांक्षी स्टेशनों के लिए नई सदस्यता श्रेणियां बनाई गयीं, और नए स्टेशनों को उनके विकास में सहायता देने के लिए एक "विकास सीढ़ी" की स्थापना की गयी. प्रसारण अधिनियम 2009 ने सामुदायिक रेडियो को एक कानूनी परिभाषा दी, जो पहले आयरलैंड के सामुदायिक रेडियो नीति के प्रसारण आयोग द्वारा निर्धारित होता था, उसे अब आयरलैंड का प्रसारण प्राधिकरण कहते हैं. अधिनियम कानूनी परिभाषा को पूरा करने वाले आकांक्षी समूहों के लिए 12 महीने के अंदर 100-दिन के लाइसेंस की उपलब्धता भी प्रदान करता है.

कराओल द्वारा आपसी सहयोग के लिए एक समझौते की स्थापना 2008 में की गयी, जो यह सुनिश्चित करता है कि हस्ताक्षरकर्ता (जिनमें सभी पूर्णरूपेण लाइसेंस प्राप्त स्टेशन शामिल हैं) सफल निधिबंधन प्रयोज्यता, प्रशिक्षण सामग्री, नीतियों में हिस्सेदारी करें. इससे नेटवर्किंग और सूचना के सहभाजन में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है. समझौते में कार्यक्रमों की साझीदारी का भी प्रावधान है और एक संसाधन बैंक तथा ऑन-लाइन कार्यक्रम विनिमय के माध्यम से एक नेटवर्क वेबसाइट इन गतिविधियों को सुगम बनाता है.

आयरलैंड के सामुदायिक रेडियो स्टेशनों में भौगोलिक समुदाय और अभिरुचि के समुदाय (जैसे कि परिसर स्टेशन, ईसाई, और आयरिश भाषा) दोनों शामिल हैं. 2004 से कराओल के माध्यम से मान्यता प्राप्त सामुदायिक रेडियो प्रशिक्षण उपलब्ध किया गया है. मध्य 2009 से इस तरह के प्रशिक्षण के कार्य में नाटकीय रूप से वृद्धि हुई जिसमें कराओल के 95% सदस्य स्टेशन शामिल हुए. जून 2010 में, सबसे पहला सामुदायिक रेडियो सम्मेलन क्रोक पार्क, डबलिन में आयोजित किया गया. स्टेशन आयरलैंड के सभी चार प्रांतों में स्थित हैं, लेकिन कवरेज सर्वव्यापी नहीं है. डबलिन में स्टेशनों की संख्या सबसे अधिक है और उत्तरी तथा कनौट और मनस्टर के मध्य में महत्वपूर्ण समूह हैं.

जापान[संपादित करें]

जापान में कम क्षमतावान सामुदायिक रेडियो स्टेशनों की एक श्रृंखला है.

जॉर्डन[संपादित करें]

इंटरनेट का उपयोग करके जॉर्डन में पहला सामुदायिक रेडियो स्थापित किया गया. निजी गैर-सरकारी रेडियो पर सरकारी प्रतिबंध को दरकिनार करने के एक साधन के रूप में नवंबर 2000 में अम्माननेट.नेट (AmmanNet.net) की स्थापना की गयी. 2005 में अम्माननेट रेडियो को एक एफएम स्टेशन के रूप में लाइसेंस प्राप्त हुआ और जोर्डन की राजधानी अम्मान के लोगों के लिए प्रसारण करने में सक्षम हुआ. अम्माननेट जॉर्डन के अन्य सामुदायिक रेडियो स्टेशनों को प्रशिक्षण देने में भी शामिल है, एक तरफ जुड़वां गांव लिब व मलेह में इवीलेज के हिस्से के रूप में तो दूसरी ओर दक्षिणी शहर मान में शाह हुसैन विश्वविद्यालय के हिस्से के रूप में. अरब मीडिया कार्यकर्ताओं को इंटरनेट रेडियो का प्रशिक्षण देने में भी अम्माननेट शामिल है. खलीजनेट.नेट (khaleejnet.net) के हिस्से के रूप में नौ खाड़ी-स्थित रेडियो स्टेशनों को प्रशिक्षित करने और शुरू करने का एक कार्यक्रम आरंभ किया गया.

जॉर्डन में दो नए सामुदायिक रेडियो स्टेशन हाल ही में स्थापित किए गए हैं. विद्यालय के पत्रकारिता व जनसंचार कार्यक्रम के हिस्से के रूप में इर्बेद के यरमूक यूनिवर्सिटी में यरमूक एफएम स्थित है. फराह एफएम का फिलहाल निर्माण हो रहा है, लेकिन उसे अम्मान और जॉर्डन के दूसरे बड़े शहर ज़र्का में प्रसारण का लाइसेंस मिला हुआ है. यह स्टेशन मुख्य रूप से युवाओं और महिलाओं के मुद्दों पर ध्यान देगा.

फिलीपींस[संपादित करें]

फिलीपींस में बहुत प्रसिद्ध सामुदायिक रेडियो रेड्यो नतिन है. रेड्यो नतिन फिलीपींस में रेडियो स्टेशनों का एक समुच्चय है. इसके स्टेशन उपग्रह के माध्यम से मनीला फ़ीड का राष्ट्रव्यापी सीधा प्रसारण करते हैं. लेकिन कभी-कभी कुछ स्टेशन मनीला फ़ीड के स्थान पर स्थानीय कार्यक्रमों का प्रसारण किया करते हैं. इसे एक सामुदायिक नेटवर्क माना जाता है क्योंकि विभिन्न आरएन स्टेशनों से स्थानीय कार्यक्रम प्रसारित किये जा रहे हैं. रेड्यो नतिन का स्वामित्व मनीला ब्रॉडकास्टिंग कंपनी के पास है.

रेड्यो नतिन फिलीपींस में सामुदायिक रेडियो स्टेशनों का सबसे बड़ा नेटवर्क है, उत्तर में बटानस से लेकर सुदूर दक्षिण में तवी-तवी तक पूरे द्वीपसमूह में 150 छोटे एफएम स्टेशन हैं. आर.एन. स्टेशनों का स्वामित्व और उनका संचालन फ्रेंचाइज धारकों द्वारा होता है, जो कि अपने खुद के अधिकार से सार्वजनिक सेवा उन्मुख संचारक होते हैं. ऑडियो स्ट्रीमिंग के जादू के साथ, अब इंटरनेट के माध्यम से दुनिया भर के श्रोताओं तक पहुंच पाना राष्ट्रीय फीड के लिए संभव हो गया है, और हमें आशा है कि अब इसमें देर नहीं कि दुनिया भर में इन फ्रेंचाइज स्टेशनों को भी सुना जा सकेगा. रेड्यो नतिन फिलीपींस में सबसे बड़ा रेडियो नेटवर्क है. युक्तिपूर्वक देश भर में 100 स्टेशनों को जोड़कर रेड्यो नतिन ऐसे श्रोताओं तक पहुंचने में सक्षम हो पाया है जिन तक पहले कोई भी दूसरा रेडियो स्टेशन नहीं पहुंच पाया था.

हालांकि रेड्यो नतिन अपने श्रोताओं को देश की स्थिति के बारे में सूचना देने के लिए सुबह के सत्र में मनीला ब्रॉडकास्टिंग कंपनी के ध्वजारोही स्टेशन डीजेडआरएच (DZRH) के साथ एफएम बैंड, रेडियो नतिन में भी पाया जाता है.

दोपहर के समय नियमित कार्यक्रम में, रेड्यो नतिन एक संगीत स्टेशन में बदल जाता है जो देश के नवीनतम और सबसे बड़ी हिट को पेश किया करता है.

केंद्रीय स्टूडियो पासे के स्टार सिटी कॉम्प्लेक्स की एमबीसी बिल्डिंग में है, जहां से रेड्यो नतिन उपग्रह प्रौद्योगिकी की कला का उपयोग करके अपने 100 स्टेशनों को अपने सिग्नल भेजता है. उसके बाद ये 100 स्टेशन अपने कार्य क्षेत्रों में अपने सिग्नलों का प्रसारण करते हैं.

हालांकि, ये अलग-अलग रेड्यो नतिन स्टेशन मनीला केंद्रीय स्टूडियो से खुद को "काटकर" विशेष समय पर अपने क्षेत्रों की ख़ास घटनाओं का प्रसारण किया करते हैं, इसीलिए रेड्यो नतिन का राष्ट्रव्यापी कवरेज होने के बावजूद यह स्थानीय प्रकृति का है.

2005 में राष्ट्रीय दूरसंचार आयोग के आयुक्त द्वारा स्थगन व रोक के साथ रेड्यो नतिन को एक कारण बताओ आदेश भेजा गया, उसे अपने सभी रेडियो स्टेशन को बंद करने के लिए बाध्य किया गया. ' मनीला ब्रॉडकास्टिंग कंपनी के खिलाफ आदेश में एनटीसी आयुक्त रोनाल्ड ओलिवर सोलिस ने कहा कि कंपनी "आयोग के आवश्यक अधिकार प्राप्त किये बिना ही एक वाणिज्यिक प्रसारण स्टेशन के रूप में एक कम क्षमतावान एफएम स्टेशन का संचालन कर रही है."[कृपया उद्धरण जोड़ें]

नेपाल[संपादित करें]

नेपाल ने 1997 में सामुदायिक रेडियो को अपनाया.रेडियो सागरमाथा 102.4 मेगाहर्ट्ज न सिर्फ नेपाल का बल्कि पूरे दक्षिण एशिया का पहला स्वतंत्र सामुदायिक रेडियो स्टेशन है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] इसकी स्थापना मई 1997 में नेपाल फोरम ऑफ़ एंवायरमेंटल जर्नलिस्ट्स (Nefej) द्वारा की गयी. रेडियो सागरमाथा हमेशा ही नेपाली नागरिकों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और सूचना के अधिकार के लिए लड़ाई में सामने की पंक्ति में खडा रहा है. आज 150 से अधिक सामुदायिक रेडियो स्टेशन हैं जिन्हें नेपाल सरकार की ओर से लाइसेंस दिया गया है. नेपाल में, सामुदायिक रेडियो को चलाने के लिए कोई अलग नीतियां या कानून नहीं हैं. मौजूदा नीति और कानून सामुदायिक और वाणिज्यिक दोनों रेडियो स्टेशनों के लिए है. प्रवर्तक सामुदायिक रेडियो, रेडियो सागरमाथा सहित सामुदायिक रेडियो स्टेशन सरकार से सामुदायिक रेडियो स्टेशनों की सुविधा के लिए अलग नीति और कानून बनाने की मांग कर रहे हैं. सामाजिक परिवर्तन और सामाजिक न्याय सामुदायिक रेडियो स्टेशनों का आदर्श है. नेपाल को राजतंत्र से मुक्ति दिलाकर इसे गणतांत्रिक देश के रूप में स्थापित करने और जनतंत्र की बहाली करने में उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. स्थानीय सामुदायिक रेडियो स्टेशनों द्वारा क़ानून के शासन, लिंग समानता, शिक्षा, स्वास्थ्य, नागरिक शिक्षा, भ्रष्टाचार-विरोध, सुशासन, पर्यावरण और दिन-प्रतिदिन की समस्याओं और मुद्दों का एक अलग फॉर्मेट में ख्याल रखा जाता है. सामुदायिक रेडियो के पूरे नेपाल में अच्छे कवरेज हैं. नेपाली सामुदायिक रेडियो स्टेशनों के लिए समाचार एक सबसे अधिक लोकप्रिय फॉर्मेट है.

रेडियो सागरमाथा (माउंट एवरेस्ट) 102.4 मेगाहर्ट्ज

रेडियो सागरमाथा का इतिहास, नेपाल में वायुतरंगों पर सरकारी नियंत्रण क्रमिक रूप से ढीला होते जाने के साथ स्वतंत्र सार्वजनिक हित प्रसारण में दक्षिण एशिया का पहला प्रयोग गूंथा हुआ है. नवंबर 1990 में नए संविधान के समय से, सागरमाथा रेडियो को प्रसारण में लाने का अभियान ने एक नए संचार माहौल बनाने और एक स्वतंत्र, जनहितकारी प्रसारण के महत्व तथा जरूरत के लिए एक नयी जागरूकता पैदा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

नेपाल में जन माध्यम ने विकट बाधाओं का सामना किया है. देश की भौगोलिक स्थिति पत्र-पत्रिकाओं के जन वितरण या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के कवरेज की दृष्टि से पूरी तरह अनुकूल नहीं है. व्यापक गरीबी में अखबारों सहित रेडियो और टीवी सेट तक पहुंच के साथ-साथ शिक्षा सीमित है. इसके अलावा, नेपाल में साक्षरता का स्तर बहुत निम्न है, विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में और विशेष रूप से महिलाओं के बीच. मुद्रण और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया काठमांडू जैसे शहरी केंद्रों में केंद्रित हैं और व्यापक रूप से माना जाता है कि उनके लिए ग्रामीण जनता की प्रासंगिकता सीमित है.

1990 में, नेपाल आधिकारिक तौर पर एक राजतंत्रीय निर्दलीय प्रणाली से एक संसदीय मॉडल में बदल गया. नये संविधान ने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार को प्रतिष्ठापित किया, किसी भी सार्वजनिक महत्व के विषय की सूचना मांगने और प्राप्त करने के हर नागरिक के अधिकार को विशेष रूप से चिह्नित किया गया. संविधान में बुनियादी संचार अधिकारों की अभिव्यक्ति पर बाद में और अधिक ध्यान केंद्रित करने वाली नीति और व्यावहारिक दिशा निर्देश आये: 1992 में, एक राष्ट्रीय संचार नीति; 1993 में, एक राष्ट्रीय प्रसारण अधिनियम और 1995 में, प्रसारण विनियम.

1994 से पहले, 1950 के दशक के आरंभ में स्थापित सरकारी प्रसारक रेडियो नेपाल का रेडियो प्रसारण पर एकाधिकार था. 1990 के बाद भी सरकार रेडियो प्रसारण के एकाधिकारी नियंत्रण को त्यागने में सुस्ती बरतती रही. प्रारंभिक आवेदन के साढ़े चार साल बाद 1997 में जाकर पहला स्वतंत्र लाइसेंस जारी किया गया. लाइसेंस के लिए लड़ाई लंबी रही, बड़ी कठिन और महत्वपूर्ण लड़ाई लड़ी गयी. इसमें मुख्य अवरोध थे अस्थिर राजनीतिक माहौल, रूढ़िवादी नेता और नौकरशाह, जो परिवर्तन तथा रेडियो नेपाल की एकछत्र उपस्थिति को बदलने के विरोधी थे. अक्टूबर 1992 (जब आवेदन दर्ज किया गया था) और मई 1997 (जब लाइसेंस दिया गया था) के बीच नेपाल में चार अलग-अलग सरकारें आयीं, संचार विभाग में चार मंत्री और चार सचिव आये-गये. स्वतंत्र अभिव्यक्ति और जनहित प्रसारण के उद्देश्य के लिए प्रतिबद्ध पत्रकारों द्वारा मुख्यतः शुरू की गयी लड़ाई में राष्ट्रीय व्यक्तित्व, व्यावसायिक संगठन, गैर सरकारी संगठन, मुद्रण मीडिया, विदेशी राजदूतावास, संयुक्त राष्ट्र संगठन और आईएनजीओ भी शामिल होते गये.

शुरू से ही, लाइसेंस पाने के लिए और एक रेडियो स्टेशन की स्थापना के अभियान में मुख्य रूप से एक गैर-सरकारी संगठन और पत्रकार संघ नेपाल फोरम ऑफ़ एंवायरमेंटल जर्नलिस्ट्स रेडियो सागरमाथा के साथ रहा. स्थापना के चरण के दौरान यूनेस्को (UNESCO) और डानीडा (DANIDA) प्रमुख अंतरराष्ट्रीय समर्थक रहे. संगठनात्मक स्थिति रेडियो सागरमाथा का वर्तमान लाइसेंस धारक नेफेज (NEFEJ) है, हालांकि तीन अन्य मीडीया-स्थित गैर-सरकारी संगठनों के साथ आधिकारिक तौर पर स्टेशन एक संयुक्त प्रयास और साझीदारी रही, वे संगठन हैं: हिमाल एसोसिएशन, वर्ल्डव्यू नेपाल और नेपाल प्रेस इंस्टीच्यूट. एक सात सदस्यीय स्वायत्त निदेशक मंडल द्वारा स्टेशन की अगुवाई की जाती, प्रसारण लाइसेंस धारक के रूप में नेफेज द्वारा इस निदेशक मंडल का गठन किया जाता. नेफेज उपनियम के माध्यम से, बोर्ड में सभी चार साझीदार गैर-सरकारी संगठनों का प्रतिनिधित्व होता था और वे समीक्षा करने और योजना गतिविधियों, नीति निर्धारण और स्टेशनों को व्यापक दिशा निर्देश देने के लिए महीने में एक बार मिला करते थे.

अप्रैल 1999 तक, रेडियो सागरमाथा निम्नलिखित कर्मचारियों के साथ संचालित होता रहा: स्टेशन प्रबंधक, छह पूर्णकालिक निर्माता, दो तकनीशियन, एक संगीत पुस्तकालय अध्यक्ष, एक इंजीनियर, एक लेखा अधिकारी और एक स्टेशन सहायक. स्टेशन को योगदानकर्ताओं और अंतरराष्ट्रीय समर्थकों तथा अन्य मित्रों के अनुभवों का भी लाभ मिला है. स्वयंसेवी रेडियो सागरमाथा के कार्यक्रम निर्माण और परिचालन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा थे, रह आज भी जारी है. कार्यक्रम का निर्माण रेडियो सागरमाथा के कार्यक्रम निर्माण को सार्वजनिक मंच से अपनी आवाज और विचार सुनाने के सैंकड़ों, शायद हजारों लोगों को अवसर दिये गये. दैनिक आधार पर, स्टेशन को सड़कों पर और रोजमर्रा की जिंदगी के ठिकानों में श्रोता मिल जाते है. वास्तविक लोगों द्वारा वास्तविक जीवन जिस तरह से जिया जाता है और अंतत: वास्तविक लोगों द्वारा तैयार किए गए कार्यक्रम में विभिन्न तरह की आवाज़ें और ध्वनियां (साथ ही नवीनतम उपकरण से ज़रा कम) स्टेशन के लहजे को दुनिया के इस हिस्से के अन्य प्रसारकों से एक अलग तरह का एहसास प्रदान करती हैं. स्टेशन में जिन लोगों का वर्णन किया जाता है और साक्षात्कार लिया जाता है, वे विभिन्न क्षेत्र की पृष्ठभूमिवाले और पेशे के होते हैं.

शुरू से, रेडियो सागरमाथा 'एक मानवीय संकुल' के श्रोताओं, मुद्दों और मनोरंजन के संयोजन, और साथ ही साथ नेपाल के रेडियो चैनलों में इससे पहले कभी न सुनी गई आवाजों और विचारों को पेश करने के लिए काम करता रहा है. यह इसके कार्यक्रम ही हैं जो यह स्टेशन सरकारी प्रसारक और अनेक पश्चिमी शैली के वाणिज्यिक स्टेशनों से स्पष्ट रूप से अलग दिखता है. सार्वजनिक मामलों की पत्रकारिता और प्रसारण रेडियो सागरमाथा के ह्रदय में बसते हैं, और अधिक जिम्मेदार प्रेस और अधिक बहुलवादी समाज के मिशन के लिए उसके पास दृष्टि हैं, लेकिन लोक माध्यम और एक समृद्ध संगीत विरासत की एक लंबी और शक्तिशाली परंपरा के साथ, सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रमुखता से प्रतिदिन छह घंटे स्टेशन से प्रसारित होते हैं.

प्रोग्रामिंग के अन्य पहलुओं में शामिल है 'सफा रेडियो': स्वच्छ वायु अभियान नामक एक पहलकदमी, जिसके तहत स्टेशन नेपाल के पर्यावरण वैज्ञानिक सोसाइटी के साथ काम करते हुए काठमांडू में वायु प्रदूषण को मापता है और राजधानी की हवा की गुणवत्ता के बारे में जानकारी प्रसारित करता है. हालांकि पहले खबर प्रसारित करना निषिद्ध था, लेकिन अब स्टेशन संगीत के साथ एक मिश्रित स्वरूप में दैनिक समाचारों का सारांश और दैनिक सामुदायिक समाचार बुलेटिनों का प्रसारण करने लगा है. समुदाय की पहुंच प्रोग्रामिंग का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है. 'इट्स माई टर्न नाउ' नामक दैनिक कार्यक्रम में समुदाय के व्यक्ति अपने विचारों को अभिव्यक्त करते हैं, साथ ही दैनिक व़ोक्स-पॉप खंड, श्रोताओं के पात्र तथा फोन पर रिकॉर्ड की गयी प्रतिक्रिया का भी प्रसारण होता है. 1998 के अंत में, रेडियो सागरमाथा ने बीबीसी वर्ल्ड सर्विस के साथ एक साझेदारी का गठन किया. शाम और सुबह के कार्यक्रम के खण्डों में तीस मिनट की बीबीसी नेपाली सेवा और तीस मिनट अंग्रेजी में विश्व समाचार सुने जाते हैं.

न्यूजीलैंड[संपादित करें]

एसोसिएशन ऑफ कम्युनिटी एक्सेस ब्रॉडकास्टर्स (एसीएबी (ACAB)) ग्यारह न्यूजीलैंड सामुदायिक रेडियो स्टेशनों एक समूह है. ये स्टेशन 1981 और 2000 के बीच स्थापित हुए तथा 1989 से सरकारी से वित्तीय सहायता प्राप्त कर रहे हैं, ये सामुदायिक कार्यक्रम का प्रसारण और सुविधाएं, प्रशिक्षण तथा लोगों को अलग-अलग और सामुदायिक दलों को कार्यक्रम का प्रसारण करने के लिए ऑन-एयर समय प्रदान करते हैं.

एसीएबी समूह न्यूजीलैंड ऑन एयर की सामुदायिक प्रसारण रणनीति का एक मुख्य घटक है. लगभग 2 करोड़ डॉलर के एक सरकारी वित्तीय सहायता का लगभग 2 मिलयिन डॉलर सालाना ग्यारह स्टेशनों को महिलाओं, युवाओं, सजातीय और अन्य अल्पसंखयकों तथा उन विकलांग लोगों के लिए प्रसारण अधिनियम की धारा 36 (ग) के तहत कार्यक्रम का प्रसारण करने के लिए आवंटित किया जाता है. अलग-अलग स्टोशन को श्रोताओं तक उनकी पहुंच के आधार पर चार-स्तरीय प्रणाली में धन दिया जाता हैं, हरेक स्टेशन 110,000 डॉलर से लेकर 220,000 डॉलर के बीच प्राप्त करता है.[9]

सरकारी धन प्राप्त करने की शर्त के अलावा, व्यापक श्रेणी के लोगों के विशेष धर्मों, संस्कृतियों, भाषाओं, विभिन्न उम्रों और लैंगिकता के लिए कार्यक्रमों के प्रसारण के लिए एसीएबी (ACAB) स्टेशनों के पास व्यक्तिगत और सामूहिक जनादेश भी होता है. स्वतंत्र रूप से और स्थानीय स्तर पर सर्वसम्मति से कार्यक्रमों पर निर्णय लेकर और उनका समय निर्धारित कर ये स्टेशन परिचालित होते हैं.[10]

दक्षिण अफ्रीका[संपादित करें]

द्वितीय विश्व युद्ध के अंत के तुरंत बाद, देश की दमनकारी राज्य नीतियों ने एसएबीसी (साउथ अफ्रीकन ब्रॉडकास्टिंग कॉर्परेशन) को एक प्रभावी एकाधिकार दे दिया. लगभग आधी सदी के लिए, कानूनी तौर पर परिचालित करने की अनुमति पानेवाला यह एकमात्र प्रसारक था और 1990 के दशक के शुरूआत में लोकतांत्रिक परिवर्तन न आने तक दक्षिण अफ्रीकी क्षेत्र में कोई स्वतंत्र रेडियो प्रतियोगिता नहीं करने के लिए बाध्य किया गया. कानूनन अनुमति प्राप्त पहला गैर-एसएबीसी प्रसारण जो था वह 1991 के दशक में ग्राह्म्सटाउन में रोड्स युनिवर्सिटी के कैंपस रेडियो स्टूडियो से 'फेस्टिबल रेडियो' था. छोटे सामुदायिक रेडियो स्टेशनों को, जिन्हें पहली बार प्रसारण की अनुमति दी गयी थी, के लिए देश के एवरवेव्स को निशुल्क दिए जाने की चौकसी करने के लिए एक स्वतंत्र प्रसारण प्राधिकरण बनाया गया. पारदर्शिता और जवाबदेही को सुनिश्चित करने के लिए आवेदनों पर खुले सत्र में चर्चा की गई. उल्लेखनीय है कि केप टाउन में बुश रेडियो और अम्टैटा में यूनिट्रा रेडियो जैसे शुरूआती सामुदायिक प्रसारक इसमें शामिल है. इंडिपेंडेंट कम्युनिकेशन ऑथरिटी (आईसीएएसए (ICASA)) अब दूरसंचार और संचार प्रसारण क्षेत्र को नियंत्रित करती है.

सोलोमन आइलैंड[संपादित करें]

सोलोमन आईलैंड में बहुत सारे सामुदायिक एफएम रेडियो स्टेशन हैं, जिसकी स्थापना इसाबेल प्रांत में यूएनडीपी (UNDP) कार्यक्रम के तहत की गयी थी. मार्च-जून 2009 में इनका इस्तेमाल कॉमनवेल्थ ऑफ लर्निंग के शांति स्थापना परियोजना के तहत महिलाओं और युवाओं के नेटवर्किंग को बल देने के लिए होता रहा था.[3] ये स्टेशन ग्रामीण ईमेल स्टेशनों के पीपल फर्स्ट नेटवर्क से जुड़े हुए हैं. डॉन बॉस्को तकनीकी स्कूल भी होनियारा के करीब टेटरे समुदाय को एक सामुदायिक स्टेशन चलाने में मदद करता है, और सोलोमन आईलैंड्स डेवलपमेंट ट्रस्ट ने स्थानीय क्षमता को बढ़ाने के लिए कम्युनिटी मीडिया सेंटर की स्थापना की है.

दक्षिण कोरिया[संपादित करें]

कोरियाई सरकार ने कम क्षमतावाले कुछ सामुदायिक रेडियो स्टेशनों को लाइसेंस 2005 में दिया है. इसकी अधिकतम क्षमता 1 वाट है और इसकी पहुंच 5 किमी तक है.

स्वीडेन[संपादित करें]

स्वीडन में, सामुदायिक रेडियो (नार्रेडियो (närradio)) का प्रसारण परीक्षण प्रेषण के साथ 1978 में शुरू हुआ. इसके अगले साल नियमित प्रसारण शुरू हो गया. 1993 तक इसे विज्ञापन की अनुमति नहीं थी, लेकिन इसे मुख्यतया गैर-लाभकारी एनजीओ की तरह ही चलाया जाता रहा है. स्वीडन में 150 सामुदायिक रेडियो स्टेशन हैं.

स्टेशनों की एक सूची के लिए, स्वीडन में सामुदायिक रेडियो स्टेशनों की इस आंशिक सूची को देखें.

थाईलैंड[संपादित करें]

थाईलैंड में प्रधान मंत्री थाकसिन शिनावात्रा की सरकार के दौरान विनियामक प्राधिकरण की स्थापना में विलंब होने का लाभ उठाते हुए सामुदायिक रेडियो बड़ी तेजी से फला-फूला. थाईलैंड के 2,000 से 3,000 सामुदायिक रेडियो स्टेशनों का परिचालन बिना लाइसेंस के होने से अक्सर हवाई यातायात रेडियो और अन्य रेडियो स्टेशनों के साथ छेड़छाड़ का आरोप लगाया जाता है.[11] हालांकि, चुनिंदा सामुदायिक रेडियो स्टेशन पुलिसी कार्रवाई का निशाना बनते हैं, जिसके कारण आलोचक सरकार पर राजनीतिक हस्तक्षेप का आरोप लगते हैं.[12]

थाईलैंड में आज सामुदायिक रेडियो की स्थिति अनिश्चित है.

यूनाईटेड किंगडम[संपादित करें]

1978 से[13] सामुदायिक रेडियो स्टेशनों का परिचालन केबल पद्धति से होता है और इनमें से ज्यादातर नए शहरी इलाकों में स्थित है तथा इनका काम और संचालन स्वयंसेवियों द्वारा होता है. 80 के दशक के अंत और 90 के दशक के शुरू में तत्कालीन नवगठित रेडियो प्राधिकरण ने कुछ नए, इससे पहले में चोरी-छिपे चलनेवाले और केबल आधारित समुदाय उद्यमों को लाइसेंस (जिसे निवर्तमान स्वतंत्र प्रसारण प्राधिकरण द्वारा "इंक्रीमेंटल" कहा गया) दिया. यूके (UK) में पहला केबल रेडियो स्टेशन रेडियो थेम्समीड (बाद में आरटीएम रेडियो हो गया) समेत कुछ उल्लेखनीय स्टेशनों की शुरूआत 1978 में दक्षिण पूर्व लंदन क्षेत्र में रेडीफ्यूजन केबल पद्धति से हुई. पुराने किस्म के सामुदायिक रेडियो स्टेशन एअर स्पेस को बेच कर और दान तथा अनुदान लेकर इसके लिए धन जुटा सकते है.

संयुक्त राज्य अमेरिका[संपादित करें]

यू.एस. (U.S.) सामुदायिक रेडियो स्टेशनों का काम आमतौर पर स्वयंसेवियों द्वारा होता है और इसमें विभिन्न तरह के कार्यक्रमों का प्रसारण होता है. इससे जुड़े छोटे पैमाने के श्रोताओं के संभावित आंशदाताओं और/या व्यापार दाताओं के कारण सामान्य तौर पर इनका बजट नेशनल पब्लिक रेडियो (एनपीआर (NPR)) नेटवर्क आउटलेट की तुलना में छोटा होता है. सामुदायिक रेडियो स्टेशन एनपीआर स्टेशन से इस मायने में अलग होते हैं कि ज्यादातर सामुदायिक रेडियो के कार्यक्रम स्थानीय तौर पर गैर-पेशेवरों डिस्क जॉकियों द्वारा कार्यक्रम तैयार किए जाते हैं, जहां एनपीआर अपने स्रोत और पीआरआई (PRI) जैसे दूसरे स्रोत, दोनों ही से ज्यादा से ज्यादा सिंडिकेट कार्यक्रम का प्रसारण करना चाहता है; एनपीआर स्टेशन ज्यादातर हमेशा काम के एवज में अपने कर्मचारियों को भुगतान करता है. सार्वजनिक प्रसारकों की तुलना में सिद्धांत के नाम पर समुदायिक स्टेशन अक्सर निगमों (यहां तक कि सरकारी भी) के वित्तीय अंशदारों पर अपनी निर्भरता कम करने की कोशिश करते हैं. बहुत सारे समुदायिक स्टेशन को पूरी-क्षमतावाले एफएम स्टेशनों का लाइसेंस दिया जाता है, जबकि अन्य - विशेष रूप से नए समुदायिक स्टेशनों - को कम-क्षमतावाले प्रसारण नियमों के तहत लाइसेंस दिया जाता है. विशेष रूप से युवाओं के बीच, जब यू.एस. में सांस्कृतिक प्रयोग (उदा. के लिए न्यू लेफ्ट) के महत्वपूर्ण अनुयायी वर्ग थे, तब बहुत सारे पूर्व स्टेशन 1960 और 1970 के दशक में स्थापित हुए.

नेशनल फेडरेशन ऑफ कम्युनिटी ब्रॉडकास्टर्स की स्थापना 1975 में समुदाय-उन्मुख गैर-व्यावसायिक रेडियो स्टेशनों के लिए संरक्षक संगठन के रूप में हुई. एनएफसीबी (NFCB) ने संघीय स्तर पर सामुदायिक रेडियो की ओर से स्टेशनों और समर्थकों के लिए विवरण पुस्तिकाएं प्रकाशित की. हेल्दी स्टेशन प्रोजेक्ट के जरिए सामुदायिक स्टेशनों के समरूपीकरण को प्रोत्साहित करने के लिए इसकी आलोचना की गई है. यह परियोजना स्टेशनों को प्रबंधन और उनके कार्यक्रम की सामग्रियों के खिलाफ स्वयंसेवियों की ताकत को फिर मापने, साथ ही साथ और समाविष्ट पूर्वानुमेय कार्यक्रमों की "धज्जियां" उड़ाने के लिए प्रोत्साहित करती है.[14] ग्रासरूट रेडियो कोअलिशन स्टेशनों का बहुत ढीला-ढाला गठबंधन है, जिसका गठन सार्वजनिक रेडियो के बढ़ते हुए व्यावसायीकरण और स्वयंसेवा-आधारित स्टेशनों (एनएफसीबी समेत) के लिए सहयोग के अभाव में प्रतिक्रियास्वरूप किया गया. कुछ स्टेशन दोनों दलों का हिस्सा हैं.

एडा ==इन्हें भी देखें==

  • अभिव्यक्ति एक्सचेंज की अंतर्राष्ट्रीय स्वतंत्रता
  • वर्ल्ड एसोसिएशन ऑफ़ कम्यूनिटी रेडियो ब्रॉड्कैस्टर (एएमएआरसी (AMARC))
  • सीआरएओएल (CRAOL) (कम्यूनिटी रेडियो फोरम ऑफ़ आयरलैंड - आयरिश सेक्टर बॉडी)
  • कम्यूनिटी मीडिया एसोसिएशन (यूके सेक्टर बॉडी)
  • प्रोमेथियस रेडियो परियोजना
  • अलेघेनी माउंटेन रेडियो
  • ग्राम वाणी कम्यूनिटी मीडिया (सीआर (CR) स्टेशनों के लिए प्रौद्योगिकी प्रणालियां)
  • बांग्लादेश एनजीओ (NGO) रेडियो और संचार के लिए नेटवर्क (बांग्लादेश सेक्टर बॉडी)
  • एक दुनिया अनेक आवाज़ (भारत के कम्युनिटी रेडियो स्टेशनों के लिए फ्री ऑडियो )

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Dunaway, Ph.D., David (2002). Jankowski, Nicholas W.; Prehn, Ole. eds. "Community Radio at the Beginning of the 21st Century: Commercialism vs. Community Power" (pdf). Community Media in the Information Age: Perspectives and Prospects (Cresskill, NJ: Hampton Press). http://www.javnost-thepublic.org/media/datoteke/1998-2-dunaway.pdf. अभिगमन तिथि: 2009-02-15. 
  2. सीबीऑनलाइन (CBONLINE) संस्कृति, प्रतिबद्धता, समुदाय: ऑस्ट्रेलियाई सामुदायिक रेडियो क्षेत्र: सुसान फोर्ड, मिखेल मीडोज़ और केरी फ़ॉक्सवेल [1]. 3 जनवरी 2007 को पुनःप्राप्त.
  3. Schaay, Michiel (September 1980). "A History of Bolivian Radio". http://www.pateplumaradio.com/south/bolivia/cp_bdxc.htm. 
  4. राष्ट्रीय परिसर और सामुदायिक रेडियो एसोसिएशन
  5. परिसर और सामुदायिक रेडियो नीति
  6. कनाडा रेडियो-टेलिविज़न और दूरसंचार आयोग सामुदायिक रेडियो स्टेशन
  7. उद्योग कनाडा स्पेक्ट्रम प्रबंधन और दूरसंचार
  8. http://news.oneindia.in/2010/03/13/terilaunches-kumaon-vani-community-radio-service.html
  9. "Consultation paper for Community Access Radio and Regional Television funding - April 2008". NZ On Air. http://www.nzonair.govt.nz/media/7127/access%20radio%20and%20regional%20tv%20consultation%20paper.pdf. अभिगमन तिथि: 2010-06-06. 
  10. "Association of Community Access Broadcasters, Aotearoa New Zealand". Acab.org.nz. http://www.acab.org.nz/index.php. अभिगमन तिथि: 2010-06-06. 
  11. "Community-radio crackdown panned". The Nation. June 01, 2005. http://nationmultimedia.com/2005/06/01/national/index.php?news=national_17552513.html. 
  12. "Abuse blamed on regulation". Bangkok Post. June 1, 2005. http://www.bangkokpost.com/News/01Jun2005_news10.php. 
  13. हैन्सर्ड 1981
  14. जेसी वॉकर, रेबेल्स ऑन द एयर: एन ऑल्टर्नेटिव हिस्ट्री ऑफ़ रेडियो इन अमेरिका (न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी प्रेस, 2001), पीपी.147-149

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]