मुद्रा (संगीत)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुद्रा कर्णाटक संगीत में गायक का अपना चिह्न है।

मुद्रा [muːˈdrɑː] (संस्कृत: मुद्रा, (अंग्रेजी में: "seal", "mark," या "gesture")) हिंदू धर्म और बौद्ध धर्म में एक प्रतीकात्मक या आनुष्ठानिक भाव या भाव-भंगिमा है।[1] जबकि कुछ मुद्राओं में पूरा शरीर शामिल रहता है, लेकिन ज्यादातर मुद्राएं हाथों और उंगलियों से की जाती हैं। एक मुद्रा एक आध्यात्मिक भाव-भंगिमा है और भारतीय धर्म तथा धर्म और ताओवाद की परंपराओं के प्रतिमा शास्त्र व आध्यात्मिक कर्म में नियोजित प्रामाणिकता की एक ऊर्जावान छाप है।

नियमित तांत्रिक अनुष्ठानों में एक सौ और आठ मुद्राओं का प्रयोग होता है।[2]

योग में, आम तौर पर जब वज्रासन की मुद्रा में बैठा जाता है, तब सांस के साथ शामिल शरीर के विभिन्न भागों को संतुलित रखने के लिए और शरीर में प्राण के प्रवाह को प्रभावित करने के लिए मुद्राओं का प्रयोग प्राणायाम (सांस लेने के योगिक व्यायाम) के संयोजन के साथ किया जाता है।

नवंबर 2009 में राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी में प्रकाशित एक शोध आलेख में दिखाया गया है कि हाथ की मुद्राएं मस्तिष्क के उसी क्षेत्र को उत्तेजित या प्रोत्साहित करती हैं जो भाषा की हैं।[3]

नामपद्धति और व्युत्पत्ति[संपादित करें]

चीनी अनुवाद यिन (yin) (चीनी : ; पिनयिन: yìn) या यिनक्सियांग (yinxiang) (चीनी : 印相; पिनयिन: yìnxiàng) है। जापानी और कोरियाई वर्तनी "इन" ("in") है।

प्रतिमा शास्त्र[संपादित करें]

भारतीय उपमहाद्वीप की हिंदू और बौद्ध कला के प्रतिमा शास्त्र में मुद्रा का प्रयोग किया जाता है और धर्मग्रंथों में इसे वर्णित भी किया गया है, जैसे कि नाट्यशास्त्र, जिसमें 24 asaṁyuta ("पृथक्कृत", अर्थात "एक-हाथ") और 13 saṁyuta ("संयुक्त" अर्थात "दोनों-हाथ") मुद्राओं की सूची है। आमतौर पर दोनों हाथ और उंगलियों से मुद्रा अवस्थाएं बनती हैं। आसन ("बैठने की मुद्राएं") के साथ, वे ध्यान में स्थिर भाव से और हिंदू धर्म के Nāṭya अभ्यास में गतिशील रूप से नियोजित होती हैं। प्रत्येक मुद्रा का अभ्यास करने वाले पर विशेष प्रभाव पड़ता है। सामान्य हाथ मुद्राएं हिंदू और बौद्ध दोनों के प्रतिमा शास्त्र में देखी जाती हैं। कुछ क्षेत्रों में, उदाहरण के लिए थाईलैंड और लाओस में, ये एक-दूसरे से भिन्न हैं, लेकिन संबंधित प्रतिमा शास्त्र प्रथाएं प्रयुक्त होती हैं।

हेवाज्र तंत्र पर अपनी टिप्पणी में जामगोन कोंगत्रुल ने कहा है, प्रतीकात्मक अस्थि आभूषणों (संस्कृत: aṣṭhiamudrā: तिब्बती: रस पा'इ र्ग्यांल फ्याग र्ग्य (rus pa'i rgyanl phyag rgya)) को भी "मुद्रा" या "सील्स" ("seals") के नाम से जाना जाता है।[4]

भारतीय शास्त्रीय नृत्य[संपादित करें]

भारतीय शास्त्रीय नृत्य में "हस्त मुद्रा" (संस्कृत में हाथ को हस्त कहते हैं) शब्दावली प्रयुक्त होती है। भारतीय शास्त्रीय नृत्य के सभी रूपों में मुद्राएं समान हैं, हालांकि उनके नाम और उनका उपयोग भिन्न हुआ करते हैं। भरतनाट्यम में 28 (या 32), कथकली में 24 और ओडिसी में 20 मूल मुद्राएं होती हैं। एक हाथ, दो हाथ, बांह की गतिविधियों, शरीर तथा चेहरे की अभिव्यक्तियों की तरह ये मूल मुद्राएं विभिन्न तरीकों से संयुक्त होती हैं। कथकली में, जिसमें सबसे अधिक संख्या में संयोजन हुआ करते हैं, शब्दावली लगभग 900 शब्दों की है।[5]

योग मुद्राएं[संपादित करें]

मुद्राएं योग अभ्यास का मौलिक रूप हैं, उदाहरण के लिए, बिहार स्कूल ऑफ योग द्वारा प्रकाशित आसन, प्राणायाम, मुद्रा, बंध सबसे प्रसिद्ध पुस्तके हैं।

बुनियादी मुद्रा: चिन मुद्रा[संपादित करें]

दोनों हाथों के अंगूठे और तर्जनियां शून्य की तरह जुडी होती हैं। शेष उंगलियां फैली रहती हैं, जबकि मध्यमा तर्जनी के बगैर मुड़े हिस्से को छूती रहती हैं। वज्रासन में बैठे होने पर हथेलियां नीचे की ओर जांघ पर रखी होती हैं। यह मुद्रा मध्यपट को सक्रिय करती है, गहरे "उदर-श्वसन" के लिए सहायक होती है, क्योंकि सांस लेने पर यह जब पेडू की ओर नीचे जाती है तब मध्यपट अंदरुनी अंगों को ढकेलती है। 5-2-4-2 की लय में एक धीमे लयबद्ध श्वसन (5 उच्छ्श्वसन और 4 अंत:श्वसन) से पेडू और पैरों में प्राण का प्रवाह होता है।

बुनियादी मुद्रा: चिन्मय मुद्रा[संपादित करें]

अंगूठे और तर्जनी चिन मुद्रा जैसे ही हैं। बाकी उंगलियों की एक मुट्ठी बन जाती हैं। तर्जनी का बिना मुड़ा हिस्सा और मध्यमा अभी भी स्पर्श किए हुए होना चाहिए. जैसे कि चिन मुद्रा में होता है, वज्रासन में बैठे रहकर हथेलियां नीचे की ओर जांघ पर रखी होती हैं। यह मुद्रा पसलियों को सक्रिय करती है, इससे सांस लेना पर एक तरफ से इनका विस्तार होता है। 5-2-4-2 की लय में (5 उच्छा्वसन और 4 अंत:श्वसन होता हैं) धीमी गति से लयबद्ध श्वसन से धड़ और श्वास नलिका में प्राण प्रवाह होता है।

बुनियादी मुद्रा: आदि मुद्रा[संपादित करें]

अंगूठा हथेली में कनिष्ठा के मूलाधार को छूता हुआ होता है। बाकी उंगलियां मुट्ठी बनाते हुए अंगूठे पर मुड़ी हुई होती हैं। चिन मुद्रा की तरह, वज्रासन में बैठ कर हथेलियां नीचे की ओर जांघ पर रखी होती हैं। यह मुद्रा अंत:श्वसन करने पर छाती का विस्तार करते हुए अंसपेशी मांसपेशियों को सक्रिय करती हैं। 5-2-4-2 की लय में (5 उच्छा्वसन और 4 अंत:श्वसन होता हैं) धीमी गति से लयबद्ध श्वसन से प्राण का प्रवाह श्वासनलिका और सिर में होता है।

बुनियादी सुसंबद्ध मुद्रा: ब्रह्म मुद्रा[संपादित करें]

हथेलियां आदि मुद्रा में होती हैं, लेकिन हथेलियों के सामने का हिस्सा ऊपर की ओर और दाहिने और बायें हाथ की उंगलियों के जोड़ छूते हुए नाभि के समतल में स्थित होती हैं। इसे वज्रासन में बैठे कर किया जाता है। श्वसन पूर्ण हो जाता है: अंत:श्वसन में, मध्यपट नीचे की ओर उतरता है, तब पसलियां फैलती हैं और तब अंसपेशी मांसपेशियां आगे की ओर बढ़ती हैं। उच्छ्श्वसन या सांस छोड़ना इसी क्रम में होता है, जो एक "लहर" या लहर प्रभाव पैदा करता है। 5-2-4-2 की लय में एक धीमी लयबद्ध श्वसन (5 उच्छ्श्वसन और 4 अंत:श्वसन) पूरे शरीर में प्राण का प्रवाह करती है।

उन्नत सुसंबद्ध मुद्रा: प्राण मुद्रा[संपादित करें]

एक जटिल मुद्रा हाथ की मुद्राओं का संयोजन करती है, सांस चक्र के अंदर मुद्रा से मुद्रा की गतिविधि और ध्यान को संकालित (सिंक्रनाइज) करती हैं। सिद्धासन में बैठकर मुद्रा का अभ्यास किया जाता है। यहां तक कि इस मुद्रा में सांस का एक चक्र भी शरीर को प्रोत्साहित करने के लिए काफी हो सकता है। हिरोशी मोतोयामा द्वारा लिखित पुस्तक चक्र के सिद्धांत (थ्योरीज ऑफ़ चक्रास) में इसे वर्णित किया गया है।

सामान्य बौद्ध मुद्राएं[संपादित करें]

अभय मुद्रा[संपादित करें]

कोरिया की राष्ट्रीय ट्रेज़र नंबर.119.दाहिने हाथ भयभीत भाव दिखा रहा है, जबकि बाया हाथ वराडा में है (इच्छा पूरी करने वाला इशारा)

अभय मुद्रा ("भयरहित मुद्रा") सुरक्षा, शांति, परोपकार और भय को दूर करने का प्रतिनिधित्व करता है। थेरावदा में, आमतौर पर दाहिना हाथ कंधे की ऊंचाई तक उठा होता है, बांह मुड़ी होती है और हथेली बाहर की ओर हुआ करती है और उंगलियां ऊपर की ओर तनी तथा एक-दूसरे से जुडी होती हैं और बायां हाथ खड़े रहने पर नीचे की ओर लटका होता है। थाईलैंड और लाओस में, यह मुद्रा चलते हुए बुद्ध से संबद्ध है, अक्सर दोनों हाथों को उठाकर दोगुना अभय मुद्रा में दिखाया जाता है, यह अपरिवर्तनशील है। किसी अजनबी के सामने दोस्ती का प्रस्ताव रखने के अच्छे इरादे के प्रतीक के रूप में यह मुद्रा शायद बौद्ध धर्म की शुरुआत से पहले इस्तेमाल किया जाता रहा था। गांधार कला में, उपदेश देते समय इसे देखा गया है। 4थी और 7वीं सदी के वेई और सुई काल में इसका प्रयोग चीन में भी होता रहा है। एक हाथी के हमला करने पर बुद्ध द्वारा इस मुद्रा का प्रयोग करके उसे शांत किया गया था, विभिन्न भित्तिचित्रों और आलेखों में इसे दिखाया गया है। महायान में, उत्तरी सम्प्रदाय के देवताओं को अक्सर दूसरे हाथ का उपयोग करके अन्य मुद्रा के साथ दिखाया जाता है। जापान में, जब अभय मुद्रा का प्रयोग किया जाता है तब बीच की उंगली को थोड़ा आगे की ओर निकाल दिया जाता है, यह शिनगोन संप्रदाय का एक प्रतीक है। (जापानी: सेमुई-इन (Semui-in); चीनी: शिवुवेई यिन (Shiwuwei Yin))[कृपया उद्धरण जोड़ें]

भूमिस्पर्श मुद्रा[संपादित करें]

बोध गया में शाक्यमुनि बुद्ध की ज्ञानोदय की गवाही के लिए इस मुद्रा को पृथ्वी पर बुलाया गया। बैठी हुई मूर्ति का दाहिना हाथ भूमि की ओर फैला हुआ है, हथेली अपनी ओर है।

धर्मचक्र मुद्रा[संपादित करें]

अपनी ज्ञानोदय के बाद सारनाथ के हिरण पार्क में बुद्ध जब अपना पहला उपदेश दे रहे थे, धर्मचक्र मुद्रा बुद्ध के जीवन के उस एक मुख्य पल का प्रतिनिधित्व करता है। सामान्यतः, मैत्रेय को बचाने के लिए कानून के वितरक के रूप में केवल गौतम बुद्ध को ही इस मुद्रा में दिखाया गया है। मुद्रा की यह अवस्था धर्म के घूमते चक्र का प्रतिनिधित्व करती है। धर्मचक्र मुद्रा तब बनती है जब छाती के सामने दोनों हाथ वितर्क में जुड़े होते हैं, दायीं हथेली आगे और बायीं हथेली ऊपर की ओर होती है, बढ़ती हुआ करती है। भारत में अजंता की भित्तिचित्रों की तरह विभिन्न तरह की विविधताएं भी हैं, जहां दोनों हाथ अलग-अलग हैं और उंगलियां एक-दूसरे को स्पर्श नहीं कर रही हैं। भारत-ग्रीक शैली के गांधार में दाहिने हाथ की भींची हुई मुट्ठी की उंगलियां प्रकट रूप से बाएं हाथ के अंगूठे के साथ जुडी हुई लगती हैं। जापान में होरयु-जी की चित्रमय पत्रिका में दाहिने हाथ को बाएं पर आरोपित दिखाया गया है। जापान की अमिताभ की कुछ मूर्तियों में 9वीं सदी से पहले इस मुद्रा का उपयोग करता दिखाया गया है। (जापानी: तेनबोरिन-इन (Tenbōrin-in), चिकिची-जो (Chikichi-jō), होशिन-सेप्पो-इन (Hoshin-seppō-in); चीनी: जुआनफालुन यिन (Juanfalun Yin))

ध्यान मुद्रा[संपादित करें]

कामाकुरा में कोटोकू इन पर अमिताभ के हाथ का प्रतिमा

ध्यान मुद्रा ("मेडिटेशन मुद्रा") ध्यान की मुद्रा है, जो अच्छी भावना और [16] की एकाग्रता के लिए है। दोनों हाथ गोद पर रखे होते हैं, दाहिना हाथ बाएं पर होता है और उंगलियां पूरी तरह से फैली होती हैं तथा हथेलियां ऊपर की ओर, एक त्रिकोण का निर्माण होता है, जो आध्यात्मिक अग्नि या त्रिरत्न, तीन आभूषण का प्रतीक है। शाक्यमुनि बुद्ध और अमिताभ बुद्ध के अभ्यावेदन में इस मुद्रा का प्रयोग किया जाता है। कभी-कभी ध्यान मुद्रा का प्रयोग चिकित्सा बुद्ध के रूप में कुछ अभ्यावेदन Bhaiṣajyaguru में किया जाता है, जिसमे उनके हाथों में औषधि का पात्र होता है। इसकी पैदाइश भारत में हुई बहुत संभव गांधार में और वी काल के दौरान चीन में. बुद्ध से बहुत पहले इस मुद्रा का उपयोग हुआ करता था, एकाग्रता, चिकित्सा और ध्यान अभ्यासों के दौरान योगी इसका प्रयोग किया करते थे। दक्षिण पूर्व एशिया के थेरावदा बौद्ध धर्म में इसका बहुत अधिक प्रयोग हुआ है, इसमें अंगूठों को हथेलियों पर रखा जाता है। (ध्यान मुद्रा को समाधि मुद्रा या योग मुद्रा के नाम से जाना जाता है; जापानी: जो-इन (Jō-in), जोकाई जो-इन (Jōkai Jō-in); चीनी: दिंग यिन (Ding Yin).)

वरद मुद्रा[संपादित करें]

वरद मुद्रा ("हितकारी मुद्रा") चढ़ावा, सत्कार, दान, मदद, दया और ईमानदारी का प्रतीक है। यह लगभग हमेशा एक ऐसे सम्मानित व्यक्तित्व द्वारा बायां हाथ दिखाकर किया जाता है, जो लोभ, क्रोध और कपट से मानव मुक्ति के लिए समर्पित है। इसे वक्र बांह के साथ किया जा सकता है और हथेली को थोड़ा ऊपर कर दिया जाय या अगर बांह नीचे की ओर हो तो ऊपर की ओर या जरा मुड़ी हुई उंगलियों के साथ हथेली हो. दाहिने हाथ का उपयोग करके अन्य मुद्रा के बिना वरद मुद्रा शायद ही कभी देखी गयी है, ख़ास तौर पर अभय मुद्रा. अक्सर ही वितर्क मुद्रा के साथ इसमें भ्रम हो जाता है, जो इससे बहुत ही मिलता-जुलता है। चीन और जापान में क्रमश: वेई और असुका काल के दौरान उंगलियां सख्त हुआ करती थीं और इसके बाद धीरे-धीरे समय के साथ विकसित होते हुए यह ढीली पड़ने लगीं, अंतत: तांग राजवंश तक आते-आते ये उंगलिया स्वाभाविक रूप से मुड़ने लगीं. भारत में 4थी व 5वीं शताब्दियों में गुप्त काल से ही मुद्रा का उपयोग अवलोकीतेश्वर की तस्वीरों में हुआ करता था। वरद मुद्रा का उपयोग बड़े पैमाने पर दक्षिण-पूर्व एशिया की मूर्तियों में होता रहा है। (जापानी: योगन-इन, सेगन-इन, सेयो-इन ; चीनी: शियनन यिन

वज्र मुद्रा[संपादित करें]

वज्र मुद्रा

वज्र मुद्रा ("गर्जन मुद्रा") ज्ञान की मुद्रा है। दाहिने हाथ से मुट्ठी बना कर तर्जनी को ऊपर की ओर प्रसारित करके इसे किया जाता है और तर्जनी को ढंकते हुए बाएं हाथ से मुट्ठी बनाकर भी इसे किया जाता है।[तथ्य वांछित] बज्र मुद्रा का सबसे बढि़या अनुप्रयोग नाइन सिलेबेल सील्स (Nine Syllable Seals) की सातवीं तकनीक (नौ में से) है, एक अनुष्ठान के अनुप्रयोग में मंत्र के साथ इस मुद्रा का उपयोग किया जाता है। मन को पवित्र अवस्था पर ले जाने के लिए यह[कृपया उद्धरण जोड़ें] संस्कृत प्रार्थना का वीडियो है, इसके बाद कुजी-इन (kuji-in) संस्कार का द्रुत संस्करण है, जापानी कंजी (kanji) उच्चारण का उपयोग किया करते है (गंभीर साधक के लिए ही आमतौर पर संस्कृत मंत्र बोला जाता है).

वितर्क मुद्रा[संपादित करें]

वितर्क मुद्रा, तारिम बेसिन, 9वीं शताब्दी

वितर्क मुद्रा ("बहस की मुद्रा") बुद्ध की शिक्षा पर बहस और संचारण की मुद्रा है। इस मुद्रा को अंगूठे और तर्जनी के पोरों को एक साथ जोड़ कर और शेष उंगलियों को सीधा रख कर, बहुत कुछ अभय और वरद मुद्राओं की तरह, लेकिन अंगूठा तर्जनी का स्पर्श करते हुए इसे बनायी जाती है। पूर्व एशिया में महायान बौद्ध धर्म में इस मुद्रा के बहुत सारे भिन्न रूप हैं। यब-यम में देवताओं द्वारा कुछ विभिन्नताओं के साथ तिब्बत में यह तारों और बोधिसत्व की रहस्यवादी मुद्रा है। (वितर्क मुद्रा को व्याख्यान मुद्रा ("स्पष्टीकरण" की मुद्रा) के रूप में भी जाना जाता हैPrajñāliṅganabhinaya, जापानी में: 'सेप्पो-इन, एन-आई-इन (An-i-in), चीनी: अन्वेई यिन )

ज्ञान मुद्रा[संपादित करें]

ज्ञान मुद्रा ("ज्ञान की मुद्रा") अंगूठे और तर्जनी के पोर को एक साथ स्पर्श करके, घेरा बना कर बनायी जाती है, तथा हथेली के साथ हाथ हृदय की ओर होता है।[6]

करण मुद्रा[संपादित करें]

बाईं तरफ जोसियन राजवंश आंकड़ा करण मुद्रा बनाता है।

करण मुद्रा वह मुद्रा है जो दुष्टात्मा को बाहर निकालती है और बीमारी तथा नकारात्मक विचारों जैसी बाधाओं को दूर हटाती है। यह तर्जनी और कनिष्ठ उंगली को उठाने और अन्य उंगलियों को मोड़कर बनती है। यह लगभग कई पश्चिमी देशों में कोरना के रूप में जानी जानेवाली मुद्रा की ही तरह है, अंतर यह है कि करण में अंगूठा मध्यमा और अनामिका को पकड़ा नहीं होता है। (यह मुद्रा तर्जनी मुद्रा के रूप में भी जानी जाती है, जापानी: फुन्नु-इन, फुदो-इन ).

अन्य परंपराएं[संपादित करें]

पूर्वी रूढ़िवादी और कैथोलिक संस्कारों और झाडफूंक के पवित्र अनुष्ठानों, पवित्र जल के निर्माण, अभिषेक, वपतिस्मा, परम प्रसाद और मंगलकामना पावन मुद्रा से जुड़े हैं।

मार्शल आर्ट और मुद्रा[संपादित करें]

हिंदू धर्म और बौद्ध धर्म परंपरा में बांह, हाथ और शारीरिक स्थिति का उपयोग मुद्राओं में होता है। ऐतिहासिक बुद्ध मुद्राओं का उपयोग जानते थे और अक्सर इन आनुष्ठानिक मुद्राओं का उपयोग करते हुए उन्हें दर्शाया गया है। कूंग फू के विभिन्न प्रकारों में इन मुद्राओं की स्थितियों की पहचान होती है।[7]

मुरोमोतो (2003) अपने मार्शल आर्ट प्रशिक्षण के संबंध में मुद्राओं पर अपने अनुभव की चर्चा करते हुए मिक्क्यो (Mikkyō), तेंदाई (Tendai) और शिन्गों (Shingon) का संदर्भ देते हैं:

बहुत सारी अजीब चीजों में एक है जिससे मेरा सामना अपने मार्शल आर्ट प्रशिक्षण के दौरान हुआ, वह है युयुत्सु कला में मुद्राओं का उपयोग. मुद्रा (जापानी: इन), उनके लिए जो इनसे परिचित नहीं हैं, हाथों के अजीब से इशारे हैं जिनकी उत्पत्ति गूढ़ बौद्ध धर्म (मिक्क्यो), विशेष रूप से तेंदाई और शिन्गों संप्रदायों से हुई है। माना जाता है कि ये मुद्राएं आध्यात्मिक केंद्र और शक्ति पैदा करती हैं, इसके बाद यह किसी तरह बाह्य रूप में प्रकट होती हैं।[8]

मुरोमोतो (2003) मार्शल आर्ट्स में मुद्रा के क्रम का वर्णन करते है और कोर्यु (Koryu), रयू (Ryu), कंटो (Kanto) तेंशिन शोदेन कातोरी शिंतो-रयू, (Tenshin Shōden Katori Shintō-ryū), रिसुके ओटेक (Risuke Ōtake) और दोंन एफ. द्रेगेर (Donn F. Draeger) की याद ताजा करते हैं:

किसी भी मामले में, कोर्यु ("पुराने" मार्शल आर्ट्स) में मैं मुद्रा का उपयोग जान गया था तब से जब मैं तेंशिन शोडेन कायोरी शिंतो-रयू, ओटेक रिसुके और स्व. दोंन एफ. द्रेगर के साथ प्रशिक्षण ले रहा था। ओटेक सेंसेई ने अपनी पद्धति में कुछ मुद्राओं का वर्णन किया था, जो पुराने मार्शल रयू में से एक है, जो कंटो (पूर्वी) जापान में आज भी अस्तित्व में है।[8]

जापानी लड़ाकू संस्कृति में मुद्रा के ऐतिहासिक सहयोगी क्रम सारणी में मुरोमोतो (2003) शिंतो (Shintō), समुराई (Samurai), तोकुगावा (Tokugawa) सरकार, नव कंफ्यूशीवाद, ज़ेन बौद्ध धर्म, कामाकुरा (Kamakura) काल, ईदो (Edo), ताकुएन (Takuan) और हाकुइन (Hakuin) को शामिल कर लेते हैं:

बहुत सारे कोर्यू में मुद्रा का उपयोग और मिक्क्यो के अन्य पहलुओं के कई उदाहरण पाये जाते हैं, क्योंकि मिक्क्यो और शिंतो सामुराई के धर्म हैं, जिसने उन रयू को स्थापित किया, जिसे 1600 की सदी से पहले रचा गया था। बाद में तोकुगावा सरकार, जो प्रचंड रूप से नव कंफ्यूशीवाद से प्रभावित रही और बाद में जेन बौद्ध धर्म से; के आने के बाद रयू को विकसित किया गया। हालांकि 1300 की सदी में, कामाकुरा काल में योद्धा वर्ग के बीच जेन लोकप्रिय हुआ, ईदो काल के बाद के समय तक मार्शल आर्ट्स जेन पुरोहितों ताकुएन और हाकुइन के लेखन से प्रभावित नहीं हुआ। और यहां तक कि ईदो काल (1600-1868) में मार्शल आर्ट्स समान रूप से कंफ्यूशीवाद से प्रभावित था और इसी तरह रहस्यमयी शिंदो के बाद के हिस्से में भी.[8]

मुरोमोतो (2003) ने पाठ की दृष्टि से नक्शा बना कर शुतो (Shutō) मुद्रा का निष्पादन किया:

मिक्क्यो विभिन्न अनुष्ठानों, मंत्रोच्चरण और इसी तरह के कामों के साथ अक्सर मुद्रा संयोजन कर उपयोग करते हैं। एक आम मुद्रा "नाइफ हैंड" या शुतो (shuto) है। पहली दो उंगलियों को प्रसारित किया जाता है, जबकि अंगूठा और अन्य उंगलियों को भींच लिया जाता है। कुछ कोर्यू काता (koryu kata) में यह गतिविधि गूढ़ रूप से छिपी होती है, अगर तुम करीब से देखो, तो खासतौर पर तुम इसे तेंशिन शोदेन कातोरी शिंतो-रयू (Tenshin Shoden Katori Shinto-ryu) पद्धति में या दिव्य बौद्ध प्रतिमाओं में देख सकते हो. यह ज्ञानोदय की तलवार का प्रतिनिधित्व करता है, जो सभी भ्रम का निवारण करता है। कभी-कभी प्रसारित उंगलियों के पोरों को दूसरे हाथ की मुट्ठी में बंद कर लिया जाता है। इसका एक प्रतीकात्मक अर्थ होता है जो मिक्क्यो से उत्पन्न हुआ है।[8]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

टिप्पणी[संपादित करें]

  1. इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका. (2010).मुद्रा (सिम्बौलिक गेस्चर्स).'.' 11 अक्टूबर 2010 को पुन:प्राप्त.
  2. वुडरोफ, सर जॉन, शक्ति एंड शकता: एसेस एंड एड्रेसेस ओं द शकता तंत्रशास्त्र
  3. हाथों के इशारे और मस्तिष्क उत्तेजन के बारे में विज्ञान दैनिक लेख
  4. कोंग्ट्रुल, जैम्गन (लेखक); (अंग्रेजी अनुवादक: गुअरिस्को, एलियो; मैकलेओड, इंग्रिड) (2005). द ट्रेजरी ऑफ़ नॉलिज (shes bya kun la khyab pa’i mdzod). छह बुक, भाग चार: बौद्ध धर्म के तंत्र, द इंडस ट्रकटिबल वे ऑफ़ सीक्रेट मंत्र . बोल्डर, कोलोराडो, अमरीका: स्नो लाइअन प्रकाशन. ISBN 1-55939-210-X (alk.paper) पृष्ठ.493
  5. Barba 1991, पृष्ठ 136
  6. jñanamudrā के अनुवाद के लिए "ज्ञान की देख" के रूप में संकेत करें:. Stutley 2003, पृष्ठ 60
  7. Johnson 2000, पृष्ठ 48.
  8. मुरोमोटो, वेन (2003) मार्शल कला में मुद्रा.. 20 दिसंबर 2007 को पुनः प्राप्त.

संदर्भ[संपादित करें]

  • Barba, Eugenio (1991). A dictionary of theatre anthropology: the secret art of the performer. London, United Kingdom: Routledge. प॰ 136. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0415053080. http://books.google.com/books?id=31WqQLGeXRIC. 
  • ड्रेगर, डोन (1980). "एसोटेरिक बुद्धिस्म इन जैपनीज वॉरियरशिप", इन: नं. 3. 'ज़ेन एंड डी जैपनीज वॉरियर' ऑफ़ द इंटरनैशनल हॉपलॉजिकल सोसाइटी डान ऍफ़. द्रेगर मोनोग्राफ सिरीज़ . मलेशिया में सेमिनार में और हवाई विश्वविद्यालय में देर से 1970 और 1980 के दशक

DFD मोनोग्राफ व्याख्यान में Donn Draeger द्वारा प्रस्तुत की और transcriptions हैं।

आगे पढ़ें[संपादित करें]

  • सौन्डर्स, अर्नेस्ट डेल (1985). मुद्रा: अ स्टडी ऑफ़ सिम्बौलिक गेस्चर्स इन जैपनीज बुद्धिस्ट स्कल्पचर . प्रिंसटन यूनिवर्सिटी प्रेस. ISBN 978-0-691-01866-9.
  • हिर्स्ची, गरट्रड. मुद्रास: योग इन युर हैंड्स.

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]