बोधिसत्व

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बुद्ध गौतम गोत्र के थे और उनका सत्य नाम सिद्धार्थ गौतम था । उनका जन्म लुंबिनी, कपिलवस्तु (शाक्य ganrajya की राजधानी) में हुआ था। लुंबिनी के ठीक स्थान पर, जो दक्षिण मध्य नेपाल में है, महाराज अशोक ने तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में बुद्ध के जन्म की स्मृति में एक स्तम्भ बनाया था।


[बदलें] बाल्यकाल सिद्धार्थ के पिता शुद्धोदन थे, शाक्यों के राजा । परंपरागत कथा के अनुसार, सिद्धार्थ की माता मायादेवी उनके जन्म के कुछ देर बाद मर गई थी। कहा जाता है कि फिर एक ऋषि ने शुद्धोधन से कहा कि वे या तो एक महान राजा बनेंगे, या फिर एक महान साधु । इस भविष्यवाणी को सुनकर राजा शुद्धोदान ने अपनी सामर्थ्य की हद तक सिद्धार्थ को दुःख से दूर रखने की कोशिश की। फिर भी, २९ वर्ष की उम्र पर, उनकी दृष्टि चार दृश्यों पर पड़ी (संस्कृत - चतुर निमित्त) - एक बूढ़े अपाहिज आदमी, एक बीमार आदमी, एक मुरझाती हुई लाश, और एक साधु। इन चार दृश्यों को देखकर सिद्धार्थ समझ गये कि सब का जन्म होता है, सब का बुढ़ापा आता है, सब को बीमारी होती है, और एक दिन, सब की मौत होती है। उन्होने अपना धनवान जीवन, अपनी जाति, अपनी पत्नी, अपना पुत्र, सब को छोड़कर बहकते साधु का

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]