पुरानी तुर्की लिपि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
किज़िल में पुरानी तुर्की लिपि में तराशा हुआ एक शिलालेख
विल्हेल्म तोमसेन द्वारा बनाई पुरानी तुर्की लिपि के वर्णों की फ़हरिस्त

पुरानी तुर्की लिपि (Old Turkic script), जिसे ओरख़ोन लिपि (Orkhon script), ओरख़ोन-येनिसेय लिपि (Orkhon-Yenisey script) और गोएकतुर्क लिपि (Göktürk script) भी कहते हैं, गोएकतुर्क और अन्य तुर्की-भाषी ख़ानतों द्वारा पुरानी तुर्की भाषा को लिखने के लिए ८वीं से लेकर १०वीं सदी तक प्रयोग होने वाली एक वर्णमाला थी। इसे कभी-कभी रूनीनुमा तुर्की लिपि (Runiform Turkish script) भी कहते हैं क्योंकि दिखने में यह यूरोप की जर्मैनी भाषाएँ लिखने के लिए प्रयोग होने वाली रूनी लिपि जैसी थी, हालांकि इन दोनों लिपियों का वैसे कोई वास्तविक सम्बन्ध नहीं है। पुरानी तुर्की लिपि उर्दू और अरबी-फ़ारसी लिपि की तरह दाएँ से बाएँ पढ़ी जाती थी।[1]

विवरण[संपादित करें]

पुरानी तुर्की लिपि कहाँ से उत्पन्न हुई, इस बात को लेकर विद्वानों में विवाद है हालांकि बहुसंख्यक मत के अनुसार यह फ़ोनीशियाई वर्णमाला से विकसित हुई आरामाई लिपि की वंशज है। कुछ लोग इस से सहमत नहीं हैं और चीनी भावचित्रों, सोग़दाई लिपि या खरोष्ठी लिपि को इसका पूर्वज बताते हैं।

पुरानी तुर्की लिपि के सबसे प्राचीन नमूने मंगोलिया की ओरख़ोन वादी में मिलते हैं जहाँ के शिलालेख ८वीं सदी ईसवी में तराशे गए अनुमानित किये गए हैं। यह लिखाईयाँ 'ओरख़ोन शिलालेख' के नाम से प्रसिद्ध हैं। इसके बाद उईग़ुर साम्राज्य ने इस लिपि का प्रयोग किया।[2] ९वीं सदी के कुछ किरगिज़ शिलालेखों में इसके एक येनिसेय क्षेत्र में मिलने वाले रूप का भी पता चलता है।[3] तुर्की प्रभाव के साथ यह लिपि भी जगह-जगह फैली, जैसे की शिंजियांग की तुरफ़ान द्रोणी, किरगिज़स्तान और कज़ाख़स्तान के बीच फैली तलास वादी (Talas, Талас), बुल्गारिया और हंगरी। १०वीं सदी की प्राचीन हंगेरियाई लिपि इसी पर आधारित है। सन् ९२२ में बुल्गारिया के तुर्कों में इस्लाम अपनाया और उसके बाद धीरे-धीरे अरबी लिपि ने पुरानी तुर्की लिपि की जगह ले ली।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Introduction to the Old Turkish runic inscriptions, Wolfgang-Ekkehard Scharlipp, Kantzilaris Centre, 1994, ISBN 978-9963-8124-0-0
  2. Tang China and the collapse of the Uighur Empire: a documentary history, Michael Robert Drompp, BRILL, 2005, ISBN 978-90-04-14129-2, ... The language of the Uighurs in Mongolia was essentially identical to that of the Turks; both empires also used the same runiform script for their epigraphic monuments. Indeed, it has been suggested that the Uighur Empire should be considered simply a 'third Turk Empire' ...
  3. The Encyclopaedia britannica: a dictionary of arts, sciences, literature and general information, Volume 27, Hugh Chisholm, The Encyclopaedia britannica company, 1911, ... forms of Turkish writing are those used on the inscriptions found in Siberia near the Yenisei and Orkhon rivers ...