पर्सेपोलिस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Persepolis*
युनेस्को विश्व धरोहर स्थल

Persepolis recreated.jpg
राष्ट्र पार्टी Flag of Iran.svg Iran
मानदंड i, iii, vi
देश {{{country}}}
क्षेत्र Asia and Australasia
प्रकार Cultural
आईडी 114
शिलालेखित इतिहास
शिलालेख 1979  (3rd सत्र)
* नाम, जो कि विश्व धरोहर सूची में अंकित है
यूनेस्को द्वारा वर्गीकृत क्षेत्र

पर्सेपोलिस (पुरानी फ़ारसी में 𐎱𐎠𐎼𐎿 परसा , तख्त-ए जमशीद या चेहेल मीनार ), आक्मेनीड साम्राज्य (550-330 ई.पू.) की औपचारिक (रैतिक) राजधानी थी. पर्सेपोलिस, आधुनिक इरान के फार्स प्रान्त के वर्तमान शहर शिराज़ के 70 km पूर्वोत्तर में स्थित है. समकालीन फारसी में इस स्थान को तख़्त-ए जमशीद (जमशीद का सिंहासन) तथा पारसेह के नाम से जाना जाता है. पर्सेपोलिस के सबसे शुरुआती अवशेष लगभग 515 ईपू के आसपास के हैं. प्राचीन फारसी लोग इस शहर को पारसा के नाम से जानते थे जिसका अर्थ है "फारसियों का शहर". पर्सेपोलिस, यूनानी भाषा के शब्द Πέρσης πόλις (Persēs Polis : "फ़ारसी शहर") का एक लिप्यंतरण है.

यूनेस्को ने पर्सेपोलिस के किले को 1979 में एक वैश्विक विरासत स्थल घोषित कर दिया था.[1]

निर्माण[संपादित करें]

पर्सेपोलिस का स्थान

पुरातात्विक साक्ष्य से पता चलता है कि पर्सेपोलिस के सबसे शुरुआती अवशेष लगभग 515 ईपू पुराने हैं. 1930 के दशक की शुरुआत में पर्सेपोलिस की खुदाई करने वाले फ्रेंच पुरातत्वविद् आन्द्रे गोडार्ड का मानना था कि पर्सेपोलिस स्थल का चुनाव साइरस महान (कुरोश ) द्वारा किया गया था जबकि छत तथा विशाल महलों का निर्माण डारियस महान द्वारा करवाया गया था.

अपादाना महल तथा काउंसिल हॉल (ट्रिपाईलोन या तीन दरवाजों वाला हॉल), प्रमुख शाही खजाने तथा उसके आसपास के परिवेश के निर्माण का आदेश डारियस द्वारा दिया गया था. ये सभी उसके पुत्र राजा ज़र्क्सीस महान के शासनकाल के दौरान पूरे हुए. छत पर भवनों के आगे का निर्माण कार्य आक्मेनीड वंश के पतन तक जारी रहा.[2]

पुरातात्विक शोध[संपादित करें]

पर्सेपोलिस की योजना

पोर्दीनोन के ओडोरिक, 1320 ई. में चीन जाते समय पर्सेपोलिस से होकर गुजरे. 1474 में गिओसफत बारबारो ने पर्सेपोलिस के खंडहरों की यात्रा की जिनके बारे में उनकी गलत धारणा थी कि वे यहूदी मूल के हैं.[3] पुर्तगाल के एंटोनियो डी गुओविया ने 1602 में अपनी यात्रा के बाद क्यूनीफॉर्म शिलालेखों के बारे में लिखा था. फारस के विषय पर उनकी लिखित रिपोर्ट जोर्नाडा 1606 में प्रकाशित हुई थी.

पर्सेपोलिस की प्रथम वैज्ञानिक खुदाई शिकागो विश्वविद्यालय के ओरिएंटल संस्थान का प्रतिनिधित्व करने वाले अर्नस्ट हर्जफेल्ड तथा एरिच एफ. श्मिट द्वारा की गयी थी. उन्होंने 1930 में शुरुआत करके आठ मौसमों तक खुदाई की जिसमें आसपास की अन्य साइटें भी शामिल थीं.[4] [5] [6] [7] [8]

हर्जफेल्ड का विश्वास था कि पर्सेपोलिस के निर्माण के पीछे के कारणों में उनके साम्राज्य के प्रतीकस्वरूप एक प्रभावशाली वातावरण तथा "नौरूज़" जैसे विशेष उत्सवों को मनाने की आवश्यकता शामिल थी. ऐतिहासिक कारणों के लिए, पर्सेपोलिस का निर्माण उसी स्थान पर किया गया जहां आक्मेनीड राजवंश की स्थपना हुई थी, हालांकि उस समय पर यह साम्राज्य का केन्द्र नहीं था.

पर्सेपोलिस की वास्तुकला को अपने लकड़ियों के स्तंभों के उपयोग के लिए जाना जाता है. शिल्पकार पत्थरों का इस्तेमाल केवल तभी करते जब लेबनान के सबसे बड़े देवदार तथा भारत के सागौन के वृक्ष भी उनकी आकार संबंधी आवश्यकताओं को पूरा नहीं कर पाते थे. स्तंभों के आधार और शिखर पत्थर के बने होते थे, यहां तक कि लकड़ी के शाफ्ट पर भी, लेकिन लकड़ी के शिखर का अस्तित्व भी संभव है.

पेर्सेपोलिस की इमारतों में तीन सामान्य समूह शामिल हैं: सैन्य कक्ष, कोषागार, और स्वागत कक्ष तथा राजा द्वारा कभी-कभार इस्तेमाल किये जाने वाले घर. उल्लेखनीय संरचनाओं में शामिल हैं ग्रेट स्टेयरवे (सीढ़ी), गेट ऑफ नेशंस (ज़ैक्सीस महान), डारियस का अपादाना महल, सौ स्तंभों वाला हॉल, ट्रिपाईलोन हॉल तथा डारियस का टकारा महल, ज़र्क्सीस का हदीश महल, आर्टाज़र्क्सीस तृतीय का महल, शाही खजाना, शाही अस्तबल तथा रथों का घर.

साइट[संपादित करें]

पर्सेपोलिस (आर)
चित्र:Persepolis rendering old.jpg
19 वीं सदी में फ्लैन्दीन और कोस्टे द्वारा पर्सेपोलिस का पुनर्निर्माण.

पर्सेपोलिस पुल्वर नामक एक छोटी नदी के पास स्थित है जो कुर (काईरस) नदी में जाकर मिलती है. इस साइट में 125,000 वर्ग मीटर की एक छत, जिसका कुछ भाग कृत्रिम रूप से निर्मित है और कुछ भाग पहाड़ से काट कर बनाया गया है और इसका पूर्वी हिस्सा कुह-ए रहमत ("दया का पहाड़") की तरफ झुका हुआ है. इसके अन्य तीन हिस्सों का निर्माण दीवारें खड़ी करके की गई है जिनकी ऊँचाई जमीन के ढलान के साथ अलग-अलग है. पश्चिमी हिस्से पर 5 से 13 मीटर की दूरी पर एक दोहरी सीढ़ी धीरे से ऊपर की तरफ जाती है. स्तरीय छत का निर्माण करने के लिए गड्ढों को मिट्टी और धातु की क्लिपों से जुड़ी भारी चट्टानों से भर दिया गया था.

518 ई.पू. के आसपास एक बड़ी सीढ़ी का निर्माण कार्य शुरू किया गया. जमीन से 20 मीटर ऊपर छत के मुख्य द्वार के रूप में सीढ़ी का निर्माण करने की योजना बनाई गई. महान दीवार के पश्चिमी हिस्से पर संतुलित रूप से इस दोहरी सीढ़ी का निर्माण किया गया जो पर्सेपोलिटन सीढ़ी के नाम से मशहूर हुई. 111 चरणों वाली इस सीढ़ी के प्रत्येक चरण के सतह की ऊँचाई 10 सेंटीमीटर, चौड़ाई 31 सेंटीमीटर और लम्बाई 6.9 मीटर थी. ऐसा माना जाता था कि वास्तव में घोड़े की पीठ पर बैठकर रईसों और शाही लोगों के उतरने के लिए ऐसे चरणों का निर्माण किया गया था. नए सिद्धांतों से पता चलता है कि उतरते समय एक शाही उपस्थिति को बनाए रखने में दौरे पर निकलने वाले गणमान्य व्यक्तियों को सीढ़ियों के इन उथले उठाव से मदद मिलती थी. सीढ़ियों का ऊपरी हिस्सा गेट ऑफ नेशंस (राष्ट्र द्वार) के विपरीत छत के उत्तरी-पूर्वी हिस्से में स्थित एक छोटे से आँगन की तरफ जाता था.

पर्सेपोलिस में मुख्य निर्माण सामग्रियों के रूप में भूरा चूना पत्थर का इस्तेमाल किया गया था. प्राकृतिक चट्टान को बराबर करने और गड्ढों को भरने के बाद छत का निर्माण किया गया था. मलजल निकासी के लिए चट्टानों के बीच से प्रमुख नहरें खोदकर निकाली गई थी. पहाड़ की पश्चिमी तराई पर एक बहुत ऊंची जल भण्डारण टंकी बनाई गई थी. प्रोफ़ेसर ओल्मस्टीड ने बताया कि कुंड का निर्माण उसी समय किया गया था जिस समय मीनारों का निर्माण शुरू हुआ था.

छत की नींव का असमान योजना ने एक महल की तरह काम किया जिसकी तिरछी दीवारें इसके रक्षकों को बाहरी सामने के हिस्से के किसी भी भाग से निशाना लगाने में मददगार साबित हुई. डियोडोरस लिखते हैं कि पर्सेपोलिस में परकोटा युक्त तीन दीवारें थीं जिनमें से सभी दीवारों पर रक्षा कर्मियों के लिए संरक्षण स्थान प्रदान करने के लिए मीनारें थीं. पहली दीवार 7 मीटर लंबी थी, दूसरी 14 मीटर और चारों हिस्सों को कवर करने वाली तीसरी दीवार की ऊँचाई 27 मीटर थी हालाँकि आज वहां इस दीवार का कोई वजूद नहीं है.

खंडहर[संपादित करें]

चित्र:AerialViewPersepolis.jpg
पर्सेपोलिस का हवाई दृश्य.
पर्सेपोलिस की एक नक्काशी - जो कि पारसी नौरोज का एक प्रतीक है - वसंत ऋतु के एक विशेष दिन (विषुव दिवस) सदैव लड़ने वाला सांड (पृथ्वी रूप), तथा शेर (सूर्य रूप) की शक्तियां समान होती हैं (हालांकि आक्मेनीड युग में सिंह को राजशाही का प्रतीक नहीं बल्कि शिकार की एक वस्तु माना जाता था)

छत पर कई विशाल इमारतों के अवशेष मौजूद हैं. इनमें से सभी गहरे-भूरे रंग के संगमरमर से बनी हैं. उनके खम्भों में से पन्द्रह खम्भे अभी भी कायम है. 1970 के बाद से तीन नए खम्भों को फिर से खड़ा किया गया है. इनमें से कई इमारतों का काम कभी पूरा नहीं हुआ था. एफ. स्टोल्ज़ ने दर्शाया है कि शिल्पकारों के कुछ साजो-सामान अभी भी मौजूद हैं. इन खंडहरों को अब तख़्त-ए जमशीद - تخت جمشید ("जमशीद का सिंहासन") के नाम से भी जाना जाता है जिसके लिए चेहेल मीनार ("चालीस स्तंभ या मीनारें") नाम के निशान तेरहवीं सदी में मिल सकते हैं. पिएट्रो डेला वैले के समय से इस बात पर विवाद समाप्त हो गया है कि वे सिकंदर महान द्वारा अधिकृत और आंशिक रूप से नष्ट पर्सेपोलिस का प्रतिनिधित्व करते हैं.

तख़्त-ए जमशीद के पीछे तीन कब्रें हैं जिन्हें पहाड़ी क्षेत्र में चट्टान काटकर बनाया गया था. गृह मुखों, जिनमे से एक अधूरा है, को नक्काशियों के साथ खूब अच्छी तरह से सजाया गया है. पुल्वर की विपरीत दिशा में लगभग 13 किमी एनएनई में एक सीधी चट्टानी दीवार खड़ी है जिनमें इसी तरह के चार मकबरों को घाटी की तराई से काफी ऊंचाई पर काटकर बनाया गया है. आधुनिक फारसी छिद्र के नीचे ससानियाई नक्काशियों से इस स्थान को नक्श-ए रुस्तम - نقش رستم या नक्शी रोस्तम ("रोस्तम की तस्वीर") कहते हैं जिसे वे पौराणिक नायक रोस्तम के एक प्रदर्शन के रूप में लेते हैं. इन मूर्तियों से यह अनुमान लगाया जा सकता है कि इन सात मकबरों के अधिवासी राजा थे. इनमें से एक मकबरे पर खुदे शिलालेख से पता चलता है कि वह डारियस हिस्टैस्पिस का मकबरा है जिसके बारे में स्टेसियस बताते हैं कि उनकी कब्र एक चट्टान के चेहरे या सामने वाले हिस्से की तरफ था और वहां केवल रस्सियों के सहारे ही पहुंचा जा सकता है. स्टेसियस कई फारसी राजाओं के बारे में उल्लेख करते हैं कि या तो उनके अवशेषों को "फारसियों के लिए" के लिए लाया गया था या उनकी मौत वहीं हुई थी.

सर्व राष्ट्र द्वार[संपादित करें]

चित्र:PersepolistwoPersianSoldiers.jpg
पर्सेपोलिस (आर) में दो फ़ारसी सैनिक

साम्राज्य के विषयों को संदर्भित करने वाले गेट ऑफ ऑल नेशंस (सर्व राष्ट्र द्वार) में चार खम्भों वाला एक ग्रैंड हॉल शामिल था जो लगभग 25 मीटर (82 फीट) लंबी भुजाओं वाला एक वर्ग था और इसका प्रवेश द्वार पश्चिमी दीवार की तरफ था. वहां दो और दरवाजे थे जिसमें से एक दरवाजा दक्षिण की तरफ था जो अपादना यार्ड की तरफ खुलता था और दूसरा दरवाजा पूर्व की तरफ स्थित एक लंबी सड़क की तरफ खुलता था. सभी दरवाजों के भीतरी कोनों पर पाए गए पाइवोटिंग उपकरणों से यह संकेत मिलता है कि वे दो पल्लों वाले दरवाजे थे जो शायद लकड़ी के बने थे और अलंकृत धातु की चादरों से ढंके हुए थे.

पश्चिमी प्रवेश द्वार की तरफ एक जोड़ी लैमासस, दाढ़ी वाले पुरुषों के सिरों वाले सांड, स्थित है. डैनों और एक फारसी सिर (गोपट-शाह) वाली एक अन्य जोड़ी पूर्वी प्रवेश द्वार पर स्थित है जो साम्राज्य की शक्ति को दर्शाता है.

ज़र्क्सीस के नाम को तीन भाषाओं में लिखा गया था और प्रवेश द्वारों पर खुदा हुआ था जिससे हर किसी को यह जानकारी मिलती थी कि उन्होंने इसे बनाने का आदेश दिया था.

अपादना महल[संपादित करें]

अपादना के पूर्वी सीढ़ियों की एक नक्काशी का विवरण
अपादना पैलेस, उत्तरी सीढ़ी (विवरण)

डारियस महान ने पश्चिम की तरफ पर्सेपोलिस में सबसे बड़ा और सबसे भव्य महल बनवाया. इस महल को अपादना (आधुनिक "आयवन" का मूल नाम) कहा जाता था.[कृपया उद्धरण जोड़ें] राजाओं के रजा ने इसका इस्तेमाल आधिकारिक दर्शकों के लिए किया. काम 515 ईसा पूर्व में शुरू हुआ. उनके बेटे ज़र्क्सीस प्रथम ने इसे 30 साल बाद पूरा किया. इस महल में एक वर्गाकार ग्रैंड हॉल था जिसकी प्रत्येक भुजा 60 मी लंबी थी और जिसमें बहत्तर खम्भे थे जिनमें से तेरह खम्भे अभी भी विस्तृत मंच पर स्थित है. प्रत्येक खम्भे की लम्बाई 19 मी है जिस पर एक वर्गाकार वृषभ और प्लिंथ है. इन खम्भों पर विशाल और भारी छत का वजन टिका हुआ था. खम्भों के ऊपरी सिरों पर जानवरों की मूर्तियां थीं जैसे दो सिरों वाले सांड, सिंह और चील. खम्भों को लेबनान से लाए गए ओक और देवदार के कुंदों की मदद से एक दूसरे के साथ जोड़ा गया था. दीवारों को मिट्टी और स्टुको की एक परत से ढंक दिया गया था जिसकी गहराई 5 सेमी थी जिसका इस्तेमाल प्लास्टर के लिए किया जाता था और उसके बाद उसे हरे स्टुको से ढंक दिया गया था जो सभी महलों में पाया जाता है. महल के पूर्वी, उत्तरी और पूर्वी हिस्सों पर तीन आयताकार बरामदा थे जिसमें से प्रत्येक में छः में से दो कतारों में बारह खम्भे थे. ग्रैंड हॉल के दक्षिण में भण्डारण के लिए कमरों की एक श्रृंखला का निर्माण किया गया था. दो भव्य पर्सेपोलिटन सीढ़ियों का निर्माण किया गया था एक दूसरे के लिए सममित और पत्थरों की नींव से जुड़े थे. कटाव से छत को बचाने के लिए ईंट की दीवारों में लम्बवत नालियां बनाई गई थी. अपादना के चारों कोनों में बाहर की तरफ चार मीनारों का निर्माण किया गया था.

दीवारों पर टालियां लगाई गई थी और उन्हें सिंहों, सांडों और फूलों की तस्वीरों से सजाया गया था. डारियस ने सोने और चांदी के प्लेटों पर अपना नाम और अपने साम्राज्य के विवरण को लिखने का आदेश दिया जिन्हें महल के चारों कोनों के नीचे नींव में ढंके हुए पत्थर के बक्सों में रखा गया था. स्तरीय अंतर की क्षतिपूर्ति के लिए अपादना के उत्तरी और पूर्वी भुजाओं पर दो पर्सेपोलिटन शैली सममित सीढ़ियों का निर्माण किया गया था. इमारत के बीच में दो अन्य सीढ़ियां थी. महल के बाहरी सामने के दृश्यों को अनहृ, राजाओं के कुलीन गार्ड, की तस्वीरें बनाई गई थीं. उत्तरी सीढ़ी को बनाने का काम डारियस के शासनकाल में पूरा किया गया लेकिन दूसरी सीढ़ी को उसके काफी बाद पूरा किया गया.

थ्रोन हॉल[संपादित करें]

अपादना, टेरस की दूसरी सबसे बड़ी इमारत और अंतिम महलों के आगे थ्रोन हॉल या इम्पीरियल आर्मीस हॉल ऑफ ऑनर (जिसे "हंड्रेड-कॉलम्स पैलेस" भी कहा जाता है) है. इस 70x70 वर्ग मीटर हॉल का निर्माण कार्य ज़र्क्सीस द्वारा शुरू किया गया था और पांचवीं सदी ई.पू. के अंत में उसके बेटे आर्टाज़र्क्सीस प्रथम द्वारा पूरा किया गया था. इसके आठ पत्थर के दरवाजों को दक्षिण और उत्तर की तरफ सिंहासन के दृश्यों की नक्काशियों से सजाया गया है और पूर्व और पश्चिम की तरफ राक्षसों के साथ राजा को लड़ते हुए दिखाए गए दृश्यों से सजाया गया है. दो विशाल पत्थर के सांड उत्तरी प्रोतिको के पार्श्व पर स्थित है. उनमें से एक सांड का सिर अब शिकागो के ओरिएंटल इंस्टिट्यूट में है.[9]

ज़र्क्सीस के शासन काल के आरम्भ में थ्रोन हॉल का इस्तेमाल मुख्य रूप से साम्राज्य के सभी अधीन राष्ट्रों के सैन्य कमांडरों और प्रतिनिधियों के स्वागत के लिए किया जाता था. बाद में थ्रोन हॉल का इस्तेमाल एक शाही संग्रहालय के रूप में किया जाने लगा.

अन्य महल और संरचनाएं[संपादित करें]

वहां अन्य महलों का भी निर्माण किया गया था. इनमें तचारा महल जिसे डारियस प्रथम के तहत बनाया गया था और शाही खजाना शामिल था जिसे बनवाने का काम 510 ई.पू. में डारियस द्वारा शुरू किया गया था और 480 ई.पू. में ज़र्क्सीस द्वारा पूरा किया गया था. ज़र्क्सीस प्रथम द्वारा बनवाए गए हदीश महल में सबसे ऊंची छत है और यह जीवित चट्टान पर स्थित है. काउंसिल हॉल, ट्रिप्लियन हॉल, पैलेसेस ऑफ डी, जी, एच, स्टोरेरूम्स, अस्तबल और कक्ष, अर्ध-निर्मित गेटवे और पर्सेपोलिस की कुछ विविध संरचनाएं पहाड़ की तराई में टेरस के दक्षिण-पूर्वी कोने के पास स्थित है.

राजाओं के राजा का मकबरा[संपादित करें]

अपादना हॉल, फ़ारसी और मेडियन सैनिक
पर्सेपोलिस से लापीस लाजुली और पेस्ट पट्टिका (ईरान का राष्ट्रीय संग्रहालय)

आम तौर पर इस बात को स्वीकार किया जाता है कि साइरस महान को पसर्गदाए में दफनाया गया था. अगर यह सच है कि कैम्बीसेस द्वितीय के शरीर को "फारसियों के लिए" घर लाया गया था, तो उसे दफनाने का स्थान जरूर कहीं न कहीं उसके पिता की कब्र के बगल में होना चाहिए. स्टेसियस का मानना है कि यह रिवाज था कि राजा को अपने जीवन काल में ही अपने लिए मकबरा बनवाना पड़ता था. इसलिए नक्श-ए रुस्तम में दफ़न राजाओं में शायद डारियस महान, ज़र्क्सीस प्रथम, आर्टाज़र्क्सीस प्रथम और डारियस द्वितीय शामिल हो सकते हैं. काफी कम समय तक शासन करने वाले ज़र्क्सीस द्वितीय को शायद ही ऐसा शानदार मकबरा प्राप्त हुआ होगा और जबरदस्ती कब्ज़ा करने वाले सोग्दियानस (सेसाइदियानस) के साथ भी ऐसा हुआ होगा. तो तख्त-ए जमशीद के पीछे स्थित दो सम्पूर्ण कब्र आर्टाज़र्क्सीस द्वितीय और आर्टाज़र्क्सीस तृतीय के होंगे. अधूरा कब्र शायद आर्सीस ऑफ फारस का हो सकता है जिन्होंने दो साल तक शासन किया था और अगर यह कब्र उनका नहीं है तो वह डारियस तृतीय (कोडोमैनस) का होगा जो उनमें से एक है जिनके बारे में कहा जाता है कि उनके शवों को "फारसियों के लिए" लाया गया था.

उसी शैली के खंडहरों का एक और छोटा समूह हज्जाबाद गाँव में पाया गया है जो पुल्वर पर स्थित है जहां से तख़्त-ए जमशीद तक जाने में काफी अच्छा समय लग सकता है. इनसे केवल एक इमारत बनी थी जो 900 साल पहले तक कायम था और उसका इस्तेमाल उस समय के मौजूदा इस्तखर शहर के मस्जिद के रूप में किया जाता था.

साइरस महान को पसर्गदाए में दफनाया गया था जिसे स्टेसियस ने अपना शहर बताया है. चूंकि शिलालेखों के आधार पर फैसला करने पर पर्सेपोलिस के इमारतों की शुरुआत डारियस प्रथम के साथ हुई थी इसलिए यह संभवतः इस राजा के अधीन था जिसके साथ यह शाही मकान की एक नई शाखा तक चला गया जिससे पर्सेपोलिस एकदम से फारस की राजधानी बन गया. हालाँकि साम्राज्य के शासकों के निवास के रूप में एक कठिन अल्पाइन क्षेत्र में एक दूरदराज का स्थान सुविधा से बहुत दूर था. सही मायने में सुसा, बेबीलोन और एक्बताना इस देश की राजधानी थी. इससे इस बात का पता चलता है कि सिकंदर महान द्वारा इस पर कब्ज़ा करने और उसके द्वारा यहाँ लूटमार करने तक यूनानी इस शहर से परिचित नहीं थे.

उस समय सिकंदर ने "महलों" या "महल" को जला दिया था जिसे अब तख़्त ए जमशीद के खंडहरों के रूप में जाना जाता है. स्टोल्ज़ की छानबीन से पता चलता है कि कम से कम इनमें से एक, ज़र्क्सीस द्वारा बनवाया गया महल से इसके जलकर नष्ट होने का सबूत मिलता है. क्लीटार्कस के बाद डियोडोरस द्वारा वर्णित इलाका महत्वपूर्ण ब्यौरे की दृष्टि से उदाहरण के लिए पूर्व में पहाड़ द्वारा समर्थित होने के नाते तख़्त ए जमशीद से संबंध रखता है.

प्राचीन ग्रंथ[संपादित करें]

पर्सेपोलिस में गेट ऑफ ऑल नेशंस से क्यूनीफॉर्म शिलालेख

इस विषय पर प्राचीन विद्वानों के प्रासंगिक अंशों को नीचे दिया गया है:

(डियोडोरस 17.70.1-73.2) 17.70 (1) पर्सेपोलिस फारसी राज्य की राजधानी थी. सिकंदर ने मेसीडोनियन्स के लिए इसका वर्णन एशिया के सबसे घृणित शहर के रूप में किया और महलों को छोड़कर इसने इसके सम्पूर्ण हिस्से को अपने सैनिकों को लूटने के लिए सौंप दिया. (2) +यह सूर्य के नीचे सबसे अमीर शहर था और निजी मकानों को सालों तक हर तरह की सुख-सुविधाओं से सुसज्जित किया गया था. मेसीडोनियन्स ने यहाँ घुसकर सामने आने वाले सभी पुरुषों को मौत के घाट उतार दिया और घरों में लूटपाट मचाया; कई मकान आम लोगों के थे और वहां पर्याप्त मात्रा में लकड़ी के सामन और हर तरह के पहने जाने वाले परिधान मौजूद थे....
72 (1) सिकंदर ने अपनी जीत की खुशी में खेल का आयोजन किया. उसने देवताओं को महंगे भेंट चढाएं और अपने दोस्तों का मनोरंजन किया. वे खान-पान के दौरान बहुत ज्यादा शराब पी जाते थे और शराब के नशे में चूर होकर पागलों की तरह नशेड़ी मेहमानों के मन पर अधिकार कर लेते थे. (2) इस बात पर उपस्थित महिलाओं में से एक महिला, नाम से थाईस और मूल से एटिक, ने कहा कि सिकंदर के लिए यह एशिया में उसकी सबसे अच्छी दावत होगी अगर वह एक विजयी जुलुस में उनके साथ शामिल होता, महलों में आग लगा देता, और महिलाओं के हाथों को फारसियों की प्रसिद्ध उपलब्धियों को एक मिनट में समाप्त करने की इजाजत देता. (3) यह बात उन पुरुषों से कही गई थी जो अभी भी जवान थे और शराब के नशे में धुत्त थे और इसलिए ऐसी उम्मीद की गई होगी कि कोई तैयार होने और मशाल जलाने के लिए चिल्लाए और यूनानी मंदिरों के विनाश के लिए बदला लेने का आग्रह करे. (4) दूसरों ने रोने का सहारा लिया और कहा कि यह सब अकेले सिकंदर का किया कराया है. जब राजा ने उनकी बातों पर आग लगाईं तो सभी खड़े हो गए और दियोनिसियस के सम्मान में जीत का जुलुस [एपिनिकियोन कोमोन] निकालने के लिए बात को आगे बढ़ाया.
(5) तुरंत कई मशाल लेकर इकठ्ठा हो गए. महिला संगीतकार भोज में मौजूद थी इसलिए राजा ने आवाज और बांसुरी और पाइप की ध्वनि में कोमोस के लिए सबको बाहर जाने दिया, थाईस नाम कि वह वेश्या सम्पूर्ण कार्य का नेतृत्व कर रही थी. (6) राजा के बाद उसी ने सबसे पहले अपनी मशाल को महल में फेंकी थी. जैसे ही बाकी सभी लोगों ने वैसा किया, वैसे ही तुरंत महल का पूरा क्षेत्र भस्म हो गया, वह आग इतनी बड़ी थी. यह बात सबसे उल्लेखनीय थी कि एथेंस में एक्रोपोलिस के खिलाफ फारसियों के राजा ज़र्क्सीस के इस अधर्मी कार्य का बदला एक महिला, उस भूमि की एक नागरिक जिसने इसका सामना और खेल में किया था, द्वारा कई वर्षों बाद दया के रूप में चुकाया जाना चाहिए.'
(कर्ट. 5.6.1-7.12) 5.6 (1) अगले दिन राजा ने अपनी सेना के नेताओं को एक साथ बुलाया और उन्हें सूचित किया कि "कोई भी शहर फारस के प्राचीन राजाओं के सीट की तुलना में यूनानियों के लिए अधिक बुरा नहीं था ... इसके विनाश से उन्हें अपने पूर्वजों की आत्माओं को बलिदान देना चाहिए." ...
7 (1) लेकिन सिकंदर का महान मानसिक वृत्तिदान, वह महान स्वाभाव जिसमें वह सभी राजाओं से आगे निकल गया, खतरों का सामना करने का साहस, योजना निर्माण और उस पर अमल करने में उसकी मुस्तैदी, उनके प्रति उसका अच्छा विश्वास जिन्होंने उसके सामने आत्मसमर्पण कर दिया, अपने कैदियों के साथ दयालु व्यवहार, वैध और सामान्य सुख में भी संयम, शराब के प्रति अत्यधिक प्रेम की वजह से मिट्टी में मिल गया था. (2) उसी समय जब सिंहासन के लिए उसके दुश्मन और प्रतिद्वंदी युद्ध को एक नया रूप देने की तैयारी कर रहे थे, जब उन्हें जिन्हें उसने जीत लिया था, लेकिन हाल ही में वश किया गया था और नए नियम के विरोधी थे, उसने लंबी दावत में भाग लिया जिसमें महिलाएं उपस्थित थी, वास्तव में ये वे नहीं थे जिनके लिए यह एक हिंसात्मक अपराध होता बल्कि उनमें निश्चित रूप से वेश्याएं थीं जिन्हें अनुकूलता से अधिक अधिकार वाले सशस्त्र पुरुषों के साथ रहने की आदत थी.
(3) इनमें से एक, जिसका नाम थाइस था, जिसने खुद भी पी रखी थी, ने यह ऐलान किया कि राजा को सभी यूनानियों का सबसे ज्यादा समर्थन मिलता अगर उसने फारसियों के महल में आग लगाने का आदेश दिया होता; क्योंकि इस बात की उम्मीद उनसे की गई थी जिनके शहरों को बर्बरों ने नष्ट कर दिया था. (4) जब एक शराब के नशे में धुत्त वेश्या ने ऐसे समय में किसी मामले पर अपना विचार प्रकट किया था, तब एक या दो जिन्होंने खुद भी काफी पी रखी थी, उसकी बात से सहमत थे. राजा, भी, जो इसे ले जाने में सक्षम होने की तुलना में शराब का अधिक लालची था, चिल्लाया: "तो हम यूनान का बदला लेने के लिए शहर में आग क्यों नहीं लगाते?" 5) सभी लोग पूरी तरह से शराब के प्रभाव में आ गए थे और इसलिए वे शराब के नशे में धुत्त होकर शहर में आग लगाने के लिए उठ खड़े हुए जिसे उन्होंने उस समय बख्श दिया था जब उनके पास हथियार था. राजा ने ही सबसे पहले महल में एक चिंगारी फेंकी जिसका अनुसरण मेहमानों और नौकरों और वेश्याओं ने किया. महल काफी हद तक देवदार से बनाया गया था जिसने तुरंत आग पकड़ ली और आग की लपटें चारों तरफ फ़ैल गईं. (6) जब सैनिकों, जिन्होंने शहर से थोड़ी दूर अपना डेरा लगाया था, ने आग को देखा तो उन्होंने इसे कोई दुर्घटना समझकर सहयोग के लिए दौड़ पड़े. (7) लेकिन जब वे महल के गलियारे तक पहुंचे तो उन्होंने देखा कि राजा खुद चिंगारी (फायरब्रांड) फेंक रहे थे. इसलिए उन्होंने अपने साथ लाए पानी को वहीं छोड़ दिया और वे भी जलती इमारत में सूखी लकड़ी फेंकने लगे.
(8) इस तरह समस्त ओरिएंट की राजधानी का अंत हुआ....
(10) मेसीडोनियन्स ये सोचकर लज्जित थे कि ऐसे मशहूर शहर को उनके राजा ने शराब के नशे में बर्बाद कर दिया था; इसलिए इस कार्य को अपरिहास के रूप में लिया गया और उन्होंने अपने आपको यह मानने पर मजबूर कर दिया कि यह सही था कि इसे ठीक उसी तरह से मिटा दिया जाना चाहिए.'
(क्लीटार्कस एफ जी हिस्ट. 137, एफ. 11 (= एथेन्यूस 13. 576d-e))
और क्या सिकंदर महान के साथ थाइस, एथिनियन हेटायरा नहीं थी? क्लीटार्कस उसके बारे में बताते हुए कहते हैं कि वह परेस्पोलिस के महल के जलने का कारण थी. सिकंदर की मौत के बाद इसी थाइस की शादी मिस्र के पहले राजा टालेमी के साथ हुई थी.

हालाँकि इसमें भी एक दुर्जेय कठिनाई है. डियोडोरस का कहना है कि शाही कब्रों वाले महल के पीछे की तरफ की चट्टान इतनी खड़ी है कि शवों को केवल यांत्रिक उपकरणों द्वारा ही उनके अंतिम विश्राम स्थल तक ले जाया जा सकता था. यह बात तख़्त ए जमशीद के पीछे स्थित कब्रों के बारे में सच नहीं है जहां तक जैसा कि एफ. स्टोल्ज़ ने स्पष्ट रूप से देखा है, कोई भी आसानी से चढ़ सकता है. दूसरी तरफ यही बात नक्श ए रुस्तम के कब्रों के बारे में एकदम सच है. स्टोल्ज़ ने तदनुसार इस सिद्धांत की शुरुआत की कि परेसेपोलिस का शाही महल नक्श ए रुस्तम के काफी करीब स्थित था और यह समय के साथ मिट्टी के निराकार देह्रों में विलीन हो गया है जिसके नीचे खंडहर छुपे हो सकते हैं. हालाँकि तख़्त ए जमशीद का विशाल खंडहर और छत, जिसे इतनी मेहनत से बनाया गया था, बड़ी मुश्किल से महलों के खंडहरों के अलावा और कुछ हो सकता है; उदाहरण के तौर पर फारसियों के पास कम से कम डारियस और ज़र्क्सीस के समय में ऐसी कोई चीज नहीं थी. इसके अलावा, काफी पुरानी फारसी परम्परा के अनुसार उस क्षेत्र में केवल तीन वास्तु चमत्कारों के होने की जानकारी मिली थी जिसका श्रेय शानदार महानी हुम्गी (खुमाई), पसर्गादाए में साइरस की कब्र, हज्ज्लाबाद की इमारत, और महान छत को दिया गया.

इसलिए सिकंदर द्वारा नष्ट किए गए शाही महलों के साथ इन अंतिम संरचनाओं की पहचान सबसे सुरक्षित है. क्लीटार्कस, जिन्होंने शायद ही कभी खुद इस महल को देखा होगा, अपने सामान्य लापरवाह अंदाज में महलों के पीछे की कब्रों को नक्श ए रुस्तम की कब्र समझ लिया; वास्तव में वह ऐसा सोचता प्रतीत होता है कि सभी शाही कब्रें एक ही स्थान पर हैं.

विनाश[संपादित करें]

फारस पर हमला करने के बाद सिकंदर महान ने 330 ई.पू. में अपनी सेना की मुख्य सैन्य टुकड़ी को शाही सड़क से पर्सेपोलिस भेजा. सिकंदर ने फारसी गेट्स (आधुनिक जैग्रोस माउंटेंस में) तहलका मचा दिया और उसके बाद पर्सेपोलिस के खजाने को लूटे जाने से पहले उस पर कब्ज़ा कर लिया. कई महीनों के बाद सिकंदर ने अपने सैनिकों को पर्सेपोलिस को लूटने की अनुमति दी. ज़र्क्सीस के पूर्वी महल में आग लग गई और शहर के शेष हिस्सों में फ़ैल गई. यह बात स्पष्ट नहीं है कि यह कोई दुर्घटना थी या द्वितीय हेलेनिक-फारसियों युद्ध के दौरान एथेंस के एक्रोपोलिस के जलने के लिए बदले की भावना से जानबूझकर किया गया कार्य था. कई इतिहासकारों का तर्क है कि जिस समय सिकंदर की सेना एक संगोष्ठी के साथ जश्न मना रहे थे उस समय उन्होंने फारसियों के खिलाफ बदला लेने का फासिला किया. उस मामले में यह दो बातों का संयोजन होगा. तीसरी या चौथी सदी सीई में रचित एक पारसी रचना बुक ऑफ आर्डा विराज़ में भी पुरालेखों का वर्णन मिलता है जिसमें "गाय के खालों पर सोने की स्याही से लिखे गए सभी अवेस्ता और जंद का विवरण था" जो नष्ट कर दिया गया. वास्तव में अपने द क्रोनोलॉजी ऑफ एनसिएंट नेशंस में मूल ईरानी लेखक बिरूनी विशेष रूप से अश्कानियन के दौरान उत्तर-आक्मेनीड युद् में कुछ मूल ईरानी एतिहासिक-भौगोलिक स्रोतों की अनुपलब्धता का संकेत देते हैं और कहते हैं कि "..और उससे भी अधिक. उन्होंने (सिकंदर) अपनी धार्मिक संहिता के ज्यादातर हिस्सों को जला दिया, उन्होंने इस्तखर के पहाड़ों में स्थित बेहतरीन शिल्पकारी वाले स्मारकों को नष्ट कर दिया जिसे आजकल सोलोमन बेन डेविड की मस्जिद के नाम से जाना जाता है, और उनमें आग लगा दी. लोगों का कहना है कि वर्तमान समय में भी कुछ स्थानों में आग के निशान दिखाई दे सकते हैं. "[10][11]

आक्मेनीड साम्राज्य के पतन के बाद[संपादित करें]

1827 में पर्सेपोलिस
आगंतुकों द्वारा लिखित ग्रेफिटी

316 ई.पू. में भी पर्सेपोलिस महान मेसिडोनियन साम्राज्य के एक प्रान्त के रूप में फारस की राजधानी थी (डियोड. xix, 21 सेक., 46 देखें; सम्भवतः कार्डिया के हिरोनिमस के बाद, जो लगभग 316 में रह रहा था). समय के साथ इस शहर का धीरे-धीरे पतन हो जाना चाहिए था लेकिन आक्मेनीडा का खंडहर इसकी प्राचीन महिमा के गवाह के रूप में कायम था. संभव है कि देश का प्रमुख नगर या कम से कम जिला हमेशा इसके पड़ोस में था.

लगभग 200 ई.पू. पर्सेपोलिस से उत्तर की तरफ पांच किलोमीटर की दूरी पर स्थित इस्तखर शहर (सही तरह से ईस्तखर) स्थानीय गवर्नरों (राज्यपालों) का सीट है. वहां दूसरे महान फारसी साम्राज्य की नींव रखी गई थी और वहां इस्तखर को पुरोहिती बुद्धि और कट्टरपंथी के केन्द्र के रूप में विशेष महत्व मिला था. ससानियन राजाओं ने इस पड़ोस में छत्तों के चेहरे को और आंशिक रूप से अकामेनियन खंडहरों में भी और उनकी कब्रों और शिलालेखों के साथ ढंक दिया है. उन्होंने काफी हद तक खुद ही हालांकि उन्होंने अपने प्राचीन पूर्ववर्तियों की तरह भव्यता के उसी स्तर पर नहीं, निर्माण किया है. रोमनों को इस्तखर के बारे में बस उतना ही मालूम था जितना कि यूनानियों को पर्सेपोलिस के बारे में मालूम था-और इस तथ्य के बावजूद कि ससानियाईयों ने लगभग चार सौ साल तक साम्राज्य के साथ अनुकूल या प्रतिकूल रिश्ता कायम रखा.

अरबी विजय के समय में इस्तखर ने प्रतिरोध किया था जिसमें उसे निराशा हाथ लगी. यह शहर इस्लाम की पहली सदी में भी एक बहुत महत्वपूर्ण स्थान था हालाँकि इसकी महानता पर बड़ी तेजी से नए महानगर शिराज़ का ग्रहण लग गया था. 10वीं सदी में इस्तखर की महत्ता घट गई जैसा कि इस्तखरी, एक मूल (950 के आसपास) के और मुकद्दसी (985 के आसपास) के वर्णनों से पता चल सकता है. अगली कुछ सदियों में इस्तखर का धीरे-धीरे पतन हो गया जब तक एक शहर के रूप में इसका वजूद मिट नहीं गया.

1618 में सफाविद सम्राट शाह अब्बास के दरबार में आने वाला स्पेन के राजा फिलिप तृतीय का राजदूत गार्सिया डी सिल्वा फ़िगुएरोआ पर्सेपोलिस की अवस्थिति के रूप में तख़्त-ए जमशीद के खंडहरों की सही पहचान करने वाले पहला पश्चिमी यात्री था.

यह उपयोगी क्षेत्र अठारहवीं सदी के भयंकर विनाश तक गाँवों से ढंका हुआ था और आज भी यहाँ कथित तौर पर अच्छी खेती होती है. "इस्तखर का महल" ने एक मजबूत किले के रूप में मुस्लिम युग के दौरान कई बार एक विशिष्ट भूमिका निभाई थी. यह सबसे बीच में था और कुर की घाटी में स्थित तीन खड़े चट्टानों में सबसे ऊंचा था जो नक्श ए रुस्तम के पश्चिम या उत्तर-पश्चिम दिशा में कुछ दूरी पर स्थित था.

एशियाई लेखकों[कौन?] के अनुसार दसवीं सदी के पलायन में बुयिद (बुवाइहिद) सुल्तानों में से एक ने विशाल कुंडों का निर्माण करवाया था जिसे आज भी देखा जा सकता है. दूसरों में जेम्स मोरियर और ई. फ्लैन्दीन ने उनका दौरा किया है. डब्ल्यू. आउसेली बताते हैं कि इस महल का इस्तेमाल सोलहवीं सदी में भी कम से एक एक राज्य के जेल के रूप में किया जाता था. लेकिन जब पिएत्रो डेला वैले 1621 में वहां आए तो यह पहले से खंडहर में बदल गया था.

आधुनिक घटनाएँ[संपादित करें]

1971 में पर्सेपोलिस ईरान की राजशाही के 2,500 वर्ष के जश्न के लिए मुख्य मंच स्थल था.

सिवंद बांध विवाद[संपादित करें]

सिवंद बाँध के निर्माण का काम 19 सितम्बर 2006 में शुरू हुआ जिसका नामकरण नजदीकी सिवंद नगर के नाम पर किया गया था. दस सालों की योजना के बावजूद ईरान के अपने ही ईरानी सांस्कृतिक विरासत संगठन को ही इस काल[कृपया उद्धरण जोड़ें] की अधिकांश अवधि में व्यापक बाढ़ क्षेत्रों के बारे में मालूम नहीं था और पर्सेपोलिस के आसपास के क्षेत्रों पर बाँध बनाए जाने के प्रभावों के बारे में चिंता बढती जा रही है.

कई पुरातत्वविदों[कौन?] और ईरानियों को यह चिंता सता रही है कि पसर्गादाए और परेसेपोलिस के खंडहरों के बीच बाँध के निर्माण से ये यूनेस्को विश्व विरासत स्थल बाढ़ में बह जाएंगे. निर्माण से जुड़े विअग्यानिकों इस दावे का खंडन करते इसे असंभव बताया है क्योंकि दोनों स्थल योजनाबद्ध जल रेखा के ऊपर अच्छी तरह से स्थित है. दोनों स्थलों में से पसर्गादाए को सबसे खतरनाक माना गया है.

पुरातत्वविद इस बात से भी चिंतित है कि झील की वजह से नमी में वृद्धि होने से पसर्गादाए की धीमे विनाश में तेजी आएगी हालाँकि ऊर्जा मंत्रालय के विशेषज्ञों का मानना है कि बाँध जलाशय के जल स्तर को नियंत्रित करके इसके प्रभाव को नकार दिया जाएगा.

अन्य पुरातत्वविदों और राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि पर्सेपोलिस को नष्ट करने के पीछे वास्तव में अयातुल्लाओं का इस्लामी कट्टरवाद जिम्मेदार है जो ईरान की पूर्व-इस्लामी विरासत को शिर्क (मूर्ति पूजा) और जहिलिया (अन्धकार युग) के रूप में देखते हैं और ईरान को इसकी प्राचीन विरासत से दूर रखना चाहते हैं.[12] अयातुल्ला खोमेनी ने एक बार पर्सेपोलिस के बारे में अपने ऐसे नकारात्मक विचारों को प्रकट किया था. 1979 में खोमेनी का दायाँ हाथ माने जाने वाले अयातुल्ला सदेघ खल्खली ने इन्ही अधरों पर पर्सेपोलिस को बुलडोजरों से ध्वस्त करने की कोशिश की थी.[13] उसे अस्थायी सरकार द्वारा रोक दिया गया था, जिन्होंने इस आधार पर इस फैसले की आलोचना की कि पर्सेपोलिस ईरान की सांस्कृतिक विरासत की एक परिभाषी विशेषता थी और पर्यटन से होने वाली आय आमदनी का एक प्रमुख स्रोत है.[14].

पर्सेपोलिस की सामग्रियों का प्रदर्शन करने वाले संग्रहालय (ईरान के बाहर)[संपादित करें]

पर्सेपोलिस के सौ स्तंभों वाले हॉल के प्रवेश द्वार पर एक ज़माने में पहरा देने वाले सांड का शीशअब ओरिएंटल संस्थान, शिकागो में.

ब्रिटिश संग्रहालय का संग्रह काफी उत्कृष्ट माना जाता है. इंग्लैण्ड के कैम्ब्रिज के फिट्जविलियम संग्रहालय में पर्सेपोलिस की कई कलात्मक नक्काशियों के दर्शन होते हैं.[15] शिकागो के ओरिएंटल इंस्टिट्यूट में रखा गया पर्सेपोलिस बुल (सांड), विश्वविद्यालय के सबसे बेशकीमती खजानों में से एक है और यह यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो में प्रदर्शित की जाने वाला पर्सेपोलिस की कई वस्तुओं में से ही एक है. यूनिवर्सिटी ऑफ पेनसिल्वेनिया के म्यूज़ियम ऑफ आर्कियोलॉजी एण्ड एन्थ्रोपोलॉजी की ही तरह, मेट्रोपोलिटन संग्रहालय में भी पर्सेपोलिस की वस्तुओं को प्रदार्शित किया जाता है.[16]

टिप्पणियां[संपादित करें]

  1. UNESCO World Heritage Centre (2006). "Pasargadae". http://whc.unesco.org/en/list/1106. अभिगमन तिथि: December 26 2010. 
  2. 2002. गुईटोली. एम.टी., और राम्बाल्दी, एस. लॉस्ट सिटिज़ फ्रॉम दी एन्शेंट वर्ल्ड . व्हाईट स्टार, स्पा. (2006 संस्करण बार्न्स एंड नोबल द्वारा प्रकाशित किया. डारियस I ने 500 ईपू में पर्सेपोलिस की स्थापना अपने वंश के निवास और समारोहिक केन्द्र के रूप में की थी. पी. 164
  3. हिस्टोरिकल एकाउंट ऑफ डिस्कवरीज़ एंड ट्रेवल्स इन एशिया, ह्यूग मरे, एडिनबर्ग, ए. कांस्टेबल एंड को; 1820., पी. 15 [1]
  4. [2] अर्नस्ट ई हर्जफेल्ड, ए न्यू इन्स्क्रिप्शन ऑफ ज़र्क्सीस फ्रॉम पर्सेपोलिस , स्टडीज़ इन एन्शेंट ओरिएंटल सिविलाइजेशन, वॉल्यूम. 5, 1932
  5. [3] एरिच एफ श्मिट, पर्सेपोलिस I: रिलिफ्स, इन्स्क्रिप्शन , ओरिएंटल इंस्टीट्यूट पब्लिकेशंस, वॉल्यूम. 68, 1953
  6. [4] एरिच एफ श्मिट, पर्सेपोलिस II: कंटेन्ट्स ऑफ दी ट्रेज़री एंड अदर डिस्कवरीज, ओरिएंटल इंस्टिट्यूट पब्लिकेशंस. 69, 1957
  7. [5] एरिच एफ श्मिट, पर्सेपोलिस III: दी रॉयल टूम्स एंड अदर मोन्यूमेंट्स , ओरिएंटल इंस्टिट्यूट पब्लिकेशंस, वॉल्यूम. 70, 1970
  8. [6] एरिच एफ श्मिट, दी ट्रेजरी ऑफ पर्सेपोलिस एंड अदर डिस्कवरीज इन दी होम्लैंड ऑफ दी अकेमेनिज़ , ओरिएंटल इंस्टिट्यूट कम्यूनिकेशंस, वॉल्यूम. 21, 1939
  9. ओरिएंटल इंस्टीट्यूट हाइलाइट्स
  10. "Al-Beruni and Persepolis". Acta Iranica (Leiden: Brill) 1: 137–150. 1974. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-90-04-03900-1. 
  11. Biruni (2004). he Chronology of Ancient Nations. Kessinger Publishing. pp. 484. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0766189082.  पी. 127
  12. पसर्गद हेरिटेज़ फाउंडेशन में संदर्भ देखें
  13. दी एपिक ऑफ ईरान रेज़ा असलान द्वारा
  14. स्किओलिनो, ऐलेन, पार्सियन मिरर्स, टचस्टोन, (2000), पी.168
  15. कैम्ब्रिज के फिट्जविलियम संग्रहालय में पर्सेपोलिस रिलीफ रिचर्ड निकोल्स और माइकल रोफ़ ईरान, वॉल्यूम. 15, (1977), पीपी. 146-152 फ़ारसी अध्ययन के ब्रिटिश संस्थान द्वारा प्रकाशित
  16. हार्पर, प्रूडेंस ओ., बारबरा ए. पोर्टर, ऑस्कर व्हाइट मुसकेरेला, होली पिट्मन, और इरा स्पार. "एन्शेंट नियर इस्टर्न आर्ट." आर्ट बुलेटिन का मेट्रोपोलिटन म्यूजियम, वॉल्यूम. 41, संख्या 4 (स्प्रिंग, 1984).

मनोरम दृश्य[संपादित करें]

पर्सेपोलिस से दिखने वाला मनोरम दृश्य
पर्सेपोलिस से दिखने वाला मनोरम दृश्य

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

फ़ारसी गार्ड
  • गार्सिया डी सिल्वा फ़िगुएरोआ
  • आक्मेनीड राजवंश, ईरान का प्रथम साम्राज्य और पर्सेपोलिस का निर्माता.
  • डेविड स्ट्रोनक
  • एरिक श्मिट
  • नक़्शे रुस्तम
  • मेगालिथिक स्थलों की सूची
  • प्राचीन निकट पूर्वी शहर

संदर्भ[संपादित करें]

इस लेख की सामग्री सम्मिलित हुई है ब्रिटैनिका विश्वकोष एकादशवें संस्करण से, एक प्रकाशन, जो कि जन सामान्य हेतु प्रदर्शित है।.

बाह्य कड़ियां[संपादित करें]

अग्रिम पठन[संपादित करें]

  • कर्टिस जे. और टालिस, एन. (एड्स). (2005). फॉर्गोटन एम्पायर: दी वर्ल्ड ऑफ एन्शेंट पार्सिया. कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय प्रेस. आईएसबीएन 0-520-24731-0.
  • विल्बर, डोनाल्ड न्यूटन. (1989). पर्सेपोलिस: दी आर्कीऑलॉजी ऑफ परसा, सीट ऑफ दी पारसियन किंग्स . डार्विन प्रेस. संशोधित संस्करण आईएसबीएन 0-87850-062-6.


साँचा:World Heritage Sites in Iran Erioll world.svgनिर्देशांक: 29°56′04″N 52°53′29″E / 29.93444, 52.89139

साँचा:Fars Province