सामग्री पर जाएँ

2019 अयोध्या विवाद पर उच्चतम न्यायालय का निर्णय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
अयोध्या विवाद पर 2019 का सुप्रीम कोर्ट का फैसला
अदालतभारत का उच्चतम न्यायालय
पूर्ण मामले का नामM Siddiq (D) Thr Lrs v. Mahant Suresh Das & Ors
फैसला किया9 नवम्बर 2019 (2019-11-09)
उद्धरण(एस)[1][2]
व्यक्ति वृत्त
से अपील की गईइलाहाबाद उच्च न्यायालय
appealed toभारत का उच्चतम न्यायालय
Subsequent action(s)See below
न्यायालय की सदस्यता
जज बैठकरंजन गोगोई (CJI),
शरद अरविंद बोबडे,
धनञ्जय यशवंत चंद्रचूड़,
Ashok Bhushan,
S. Abdul Nazeer
सन्निपतन5
DissentNone; unanimous verdict

अयोध्या विवाद में अंतिम निर्णय 9 नवंबर 2019 को भारत के सुप्रीम कोर्ट द्वारा घोषित किया गया था।[3] सुप्रीम कोर्ट ने हिंदू मंदिर बनाने के लिए एक ट्रस्ट को जमीन सौंपने का आदेश दिया। इसने सरकार को मस्जिद बनाने के उद्देश्य से सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन देने का आदेश दिया। अदालत ने अपने फैसले में कहा है कि निर्मोही अखाड़ा देवता राम लल्ला का शेवित या भक्त नहीं है और अखाड़े का मुकदमा मर्यादा द्वारा वर्जित था।[4]

यह भी देखें

[संपादित करें]

सन्दर्भ

[संपादित करें]
  1. "Archived copy" (PDF). मूल से 9 November 2019 को पुरालेखित (PDF). अभिगमन तिथि 9 November 2019.सीएस1 रखरखाव: Archived copy as title (link)
  2. "Meet the five judges who delivered the Ayodhya verdict". The Economic Times. 2019-11-09. अभिगमन तिथि 2019-11-15.
  3. "Ayodhya verdict live updates: Waqf Board couldn't prove exclusive possession of Ayodhya site, says Supreme Court". The Times of India (अंग्रेज़ी में). मूल से 10 नवंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2019-11-10.
  4. Nov 9, PTI | Updated:; 2019; Ist, 12:16. "No regret over SC saying Nirmohi Akhara not 'shebait' of deity Ram Lalla: Outfit | India News - Times of India". The Times of India (अंग्रेज़ी में). मूल से 9 नवंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2019-11-10.सीएस1 रखरखाव: फालतू चिह्न (link)

बाहरी कड़ी

[संपादित करें]