हिन्दी साहित्य सदन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

यह हिन्दी पुस्तकों के एक प्रमुख प्रकाशक हैं। इसकी स्थापना आजादी से पहले लाहौर में हुई थी, बाद में 1947 में यह प्रकाशन दिल्ली आया। इसके संस्थापक जनसंघ के संस्थापक सदस्य रहे वैद्य गुरुदत्त थे। इस संस्थान ने राष्ट्रवादी लेखकों की ही पुस्तकें प्रकाशित की हैं। इस प्रकाशन के लेखकों में विनायक दामोदर सावरकर, गुरुदत्त, पीएन ओक, बलराज मधोक, तेजपाल सिंह धामा, फरहाना ताज और शिवकुमार गोयल मुख्य हैं।

स्थापना[संपादित करें]

इसकी स्थापना आजादी से पहले 1936 में लाहौर में हुई थी, बाद में 1947 में यह प्रकाशन दिल्ली आया और क्नाट प्लेस में भारती साहित्य सदन के नाम से स्थापित हुआ, लेकिन बाद में इसका नाम हिन्दी साहित्य सदन कर दिया गया।

मुख्य प्रकाशन[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

टीका[संपादित करें]