हरिहरन (निर्देशक)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Hariharan
Hariharan director.jpg
Hariharan in 2011
व्यवसाय Director
सक्रिय वर्ष 1973 – present

हरिहरन एक भारतीय फिल्म निर्देशक हैं। उन्होंने 50 से अधिक मलयालम फिल्मों का निर्देशन किया है। [1] उनकी फिल्में मुख्य रूप से केरल समाज के सांस्कृतिक और संबंधपरक पहलुओं के इर्द-गिर्द घूमती हैं। उनके सबसे उल्लेखनीय कार्यों में बाबुमन (1975), शरपंचनम (1979), पंचाग्नी (1986), नखक्षथंगल (1986), अमृत्म गमया (1987), ओरु वदक्कन वीरगाथा (1989), सरगम (1992), परिणयम (1994) और पजहस्सी राजा (2009) शामिल हैं। इन फ़िल्मों को आलोचकों ने बहुत सराहा है और उन्हें आलोचकों की व्यापक रूप से प्रशंसा दिलवाई है। [2] [3] [4] 2020 में, उन्हें मलयालम सिनेमा में योगदान के लिए केरल सरकार के सर्वोच्च सम्मान जे.सी. डैनियल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

व्यवसाय[संपादित करें]

हरिहरन ने सेंट थॉमस कॉलेज, त्रिशूर और यूनिवर्सल आर्ट्स कॉलेज, कोझीकोड में अध्ययन किया। [5] उन्होंने अपनी शुरूआत 1965 में फिल्म निर्देशक एम. कृष्णन नायर के साथ सहायक निर्देशक के रूप में काम करते हुए की। उनके साथ काम करते हुए उन्होंने मलयालम फिल्म उद्योग में प्रवेश किया। 1973 में उनकी पहली फ़िल्म लेडीज़ हॉस्टल में रिलीज़ हुई। इसके बाद उन्होंने प्रेम नज़ीर और मधु के साथ बहुत सारी फ़िल्मों को बनाया। बाबूमॉन, ब्लैक एंड व्हाइट युग की उनकी बॉक्स ऑफिस हिट फिल्मों में से एक थी। उन्होंने अभिनेता जयन के करियर में दो प्रमुख फिल्मों का निर्देशन किया। इन दो फ़िल्मों ने जयन के करियर को बदल कर रख दिया। 1976 में उनकी फिल्म पंचमी ने जयन को पहला बड़ा ब्रेक दिया। जयन, मलयालम सिनेमा में एक अभिनेता के रूप में आए थे। इस फ़िल्म ने उन्हें एक व्यापक पहचान दिलाई। 1979 में उन्होंने जयन और शीला के साथ एक और ब्लॉकबस्टर फिल्म सरपनजाराम रिलीज़ की। इस फ़िल्म ने फ़िल्म के नायक जयन को नई ऊँचाइयों पर पहुँचा दिया। उन्होंने 60 से अधिक फिल्मों का निर्देशन किया है, जिनमें से कई फ़िल्मों ने अच्छा व्यवसाय करने के साथ-साथ विषयों की गंभीरता को भी दिखाने में सफल रहीं। उनकी फिल्मों ने ज्यादातर सामाजिक मुद्दों की जटिलताओं और मानवीय रिश्तों की गहराइयों को दर्शाया हैं, जो केरल की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत की पृष्ठभूमि में स्थापित है। जैसे उनकी फिल्मों वलर्थुमरूगंगल, पंचाग्नी, <i id="mwQQ"></i>नखक्षथंगल, ओरु वदक्कन वीरगाथा, सरगम, परिणयम और एन्नु स्वंथम जानकीकुट्टी नें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के भारतीय पैनोरमा में प्रवेश किया। उन्हें ओरु वडक्कन वीरगाथा के लिए उत्तर कोरिया के प्योंगयांग फिल्म महोत्सव द्वारा एक डिप्लोमा से भी सम्मानित किया गया। 1993 में, सरगम ने उन्हें सर्वश्रेष्ठ निर्देशक के लिए केरल राज्य पुरस्कार और पूरा मनोरंजन प्रदान करने वाली सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी प्रदान किया गया। फिल्म को फुकुओका और स्विस फिल्म समारोहों में विशेष सम्मान भी मिला। [6] उनकी अगली फिल्म, परिणयम ने अन्य सामाजिक मुद्दों पर सर्वश्रेष्ठ फिल्म के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीता और दुनिया भर में लगभग सात फिल्म समारोहों में भाग लिया। एन्नु स्वांथम जानकीकुट्टी कोरियाई फिल्म समारोह (2000) में उद्घाटन फिल्म के तौर पर प्रदर्शेित की गई, और इसने लंदन फिल्म समारोह (2000) में भी भाग लिया।

अपने इन कामों से अपने को पहचान दिलवाने के अलावा उन्होंने कई मौकों पर अपने काम के लिए फिल्मफेयर और रामू करियात पुरस्कार भी जीता। 2009 में, उन्होंने पजहस्सी राजा फ़िल्म बनाई। यह केरल वर्मा पझस्सी राजा के जीवन पर आधारित थी, जो ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के खिलाफ पहला विद्रोह था। इसे एम॰ टी॰ वासुदेव नायर ने लिखा था। 2011 में बाद में, उन्होंने रंडामूझम शीर्षक से एक और ऐतिहासिक फिल्म की घोषणा की जिसमें मोहनलाल मुख्य भूमिका में थे। यह फ़िल्म एम॰टी॰ वासुदेवन नायर के इसी नाम से लिखे उपन्यास पर बन रही थी। इसका निर्माण गोकुलम गोपालन द्वारा किया जाना था, लेकिन बाद में परियोजना को रोक दिया गया था। [7]

इसके बाद हरिहरन और एम.टी. वासुदेवन नायर की टीम ने युवा प्रतिभाशाली अभिनेता इंद्रजीत के साथ हाथ मिलाया। शीर्षक एझामाथे वरवू, शीर्षक से बनी फिल्म भी विनीत और भावना अन्य प्रमुख भूमिकाओं में शामिल थे।

फिल्मोग्राफी[संपादित करें]

Year Title Script
1973 लेडीज़ हॉस्टल P. Balakrishnan
1974 अयालाठे सुंदरी T. Hariharan
1974 राजहंसम
1974 भूमिदेवी पुश्पिनियाई
1974 कॉलेज गर्ल
1975 बाबुमोन
1975 लव मैरिज
1975 मधुराप्पथिनेझु
1976 अम्मिनी अम्मावन
1976 कन्यादानम
1976 पंचमी
1976 राज्योगम P. Balakrishnan
1976 थेम्मादी वेलाप्पन
1977 इवानेंटे प्रियापुत्रण
1977 संगमम
1977 सुजाता
1977 थोल्कन एनिक्कू मनास्सिल्ला
1978 कुदुम्बम नमुक्कु श्रीकोविल
1978 अदिमाक्काचावादम
1978 स्नेहथिन्ते मुखंगल
1978 यागास्वाम
1979 इदावाज्हियेले पूचा मिन्दप्पूचा M. T. Vasudevan Nair
1979 शरापंजरम Malayattoor Ramakrishnan
1980 लावा S. L Puram
1980 मुठुचिप्पिकल
1981 पूचा सन्यासी
1981 वलार्थुमुरुगंगल M. T. Vasudevan Nair
1981 श्रीमान श्रीमती
1982 अनुरागाक्कोदाठी
1982 अनुरागम
1983 एविदेयो ओरु शत्रु Unreleased
1983 वरंमारे आवश्यमुंडू
1984 पूमदठे पन्नू
1984 वेळम
1984 विकाताकवि
1986 पंचाग्नि M. T. Vasudevan Nair
1986 नाखाक्षथंगल M. T. Vasudevan Nair
1986 अंजाम Remake of Sharapanjaram
1987 अमृत्म् गम्या M. T. Vasudevan Nair
1987 मांगे ओरु गंगे (तमिल)
1987 न्जनम नीयुम
1988 अरन्यकम M. T. Vasudevan Nair
1989 ओरु वदक्कन वीरगाथा M. T. Vasudevan Nair
1990 ओलियाम्बुकल Dennis Joseph
1992 सरगम Chovallur Krishnan Kutty
1994 परिणयम M. T. Vasudevan Nair
1998 एन्नु स्वन्थम जानकीकुट्टी M. T. Vasudevan Nair
1999 प्रेम पुजारी P. Balakrishnan
2005 मयूखम Hariharan
2009 केरला वर्मा पझस्सी राजा M. T. Vasudevan Nair
2013 एझामाथे वरवू M. T. Vasudevan Nair

पुरस्कार[संपादित करें]

  • 2010 - मलयालम में सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार - केरल वर्मा पजहस्सी राजा
  • 1995 - अन्य सामाजिक मुद्दों पर सर्वश्रेष्ठ फिल्म के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार - परिनयम
  • 1993 - सर्वश्रेष्ठ मनोरंजन प्रदान करने वाली सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार - सरगम

केरल राज्य फिल्म पुरस्कार :

  • 2009 - सर्वश्रेष्ठ निर्देशक के लिए केरल राज्य फिल्म पुरस्कार - पजहस्सी राजा
  • 1994 - सर्वश्रेष्ठ फिल्म के लिए केरल राज्य फिल्म पुरस्कार - परिनयम
  • 1994 - सर्वश्रेष्ठ निर्देशक के लिए केरल राज्य फिल्म पुरस्कार - परिनयम
  • 1992 - सर्वश्रेष्ठ निर्देशक के लिए केरल राज्य फिल्म पुरस्कार - सरगम
  • 1989 - लोकप्रिय अपील और सौंदर्य मूल्य के साथ सर्वश्रेष्ठ फिल्म के लिए केरल राज्य फिल्म पुरस्कार - ओरु वडक्कन वीरगाधा
  • 1979 - केरल राज्य फिल्म सर्वश्रेष्ठ फिल्म लोकप्रिय अपील के साथ और सौंदर्य मूल्य के लिए पुरस्कार - Idavazhiyile Poocha Mindappoocha

फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार :

  • 2009 - सर्वश्रेष्ठ निर्देशक - पजहस्सी राजा [8]
  • 1994 - सर्वश्रेष्ठ निर्देशक - परिनयम
  • 1986 - सर्वश्रेष्ठ निर्देशक - पंचाग्नि
  • 2019 - लाइफटाइम अचीवमेंट के लिए फिल्मफेयर अवार्ड


</br>अन्य पुरस्कार

  • 2020 - जेसी डैनियल पुरस्कार
  • 2012 - प्रेम नज़ीर पुरस्कार [9]
  • 1993 - वी। शांताराम पुरस्कार

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "'പഴശ്ശിരാജ'യുടെ പടനായകന്‍". Mathrubhumi. मूल से 19 दिसंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 दिसंबर 2013.
  2. "Malayalam cinema's quality declining: Hariharan". Times of India. 3 मार्च 2004. मूल से 11 अगस्त 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 मई 2010.
  3. "Hariharan - Shaji N. Karun to team up". Screen. 6 जुलाई 2001. अभिगमन तिथि 6 मई 2010.
  4. "'Pazhassi Raja' reigns supreme". The Hindu. Chennai, India. 8 एप्रिल 2010. अभिगमन तिथि 6 मई 2010.
  5. "സംഗീതം ഹരിഹരന്‍". Mathrubhumi. मूल से 15 दिसंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 दिसंबर 2013.
  6. "संग्रहीत प्रति". मूल से 19 मार्च 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 नवम्बर 2020.
  7. http://www.thehindu.com/features/cinema/bheemas-outing/article2615566.ece
  8. "Filmfare Awards winners". The Times of India. 9 अगस्त 2010. मूल से 11 अगस्त 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 नवम्बर 2020.
  9. ""Prem Nazir Award for Hariharan"". Madhyamam. 16 जनवरी 2012. मूल से 16 जनवरी 2012 को पुरालेखित.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]