स्वसंगठन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पक्षियों के दलों में स्वसंगठित झुंड व्यवहार उत्पन्न हो जाता है
बिस्मथ के परमाणु स्वसंगठन से स्वयं ही एक व्यवस्थित क्रिस्टल बना लेते हैं

स्वसंगठन (self-organization), जो स्वप्रसूत व्यवस्था (spontaneous order) भी कहलाता है, ऐसी प्रक्रिया होती है जिसमें किसी अव्यवस्थित तंत्र (सिस्टम) के भाग अपनी-अपनी गतिविधियों द्वारा एक-दूसरे को प्रभावित कर के उस तंत्र में (बिना किसी बाहरी हस्तक्षेप के) स्वयं ही व्यवस्थित कर लेते हैं। यह उभरने वाला संगठन उस तंत्र के सभी भागों को अपने-आप में सम्मिलित कर लेता है। स्वसंगठन जटिल तंत्रों में उदगमता (ऍमेर्जेन्स) से उत्पन्न होता है। अक्सर यह उदगम व्यवस्था मज़बूत होती है और, यदी तंत्र को छेड़कर इस संगठन को भंग करा जाये तो तंत्र कुछ हद तक इसकी स्वयं ही मरम्म्त कर के उसे पुनःस्थापित करने में सक्षम होता है।[1][2][3][4][5]

उदाहरण[संपादित करें]

  • मानव समाज में, जब जनसंख्या कुछ हद से अधिक हो जाये, तो मंडियाँ व बाज़ार स्वयं ही संगठित हो जाते हैं।
  • पक्षियों के दलों में प्रत्येक पक्षी अपनी सहज प्रवृत्ति के अनुसार व्यवहार करता है लेकिन उनके आपसी प्रभाव से इन दलों में स्वसंगठित रूप से झुंड व्यवहार उत्पन्न हो जाता है। ठीक यही कीटोंमछलियों के दलों में देखा जाता है।[6]
  • रेगिस्तानों में रेत पर वायु प्रवाह से रेत के कण स्वयं ही लहरों में स्वसंगठित हो जाते हैं।

इन सभी उदाहरणों में यदी किसी बाहरी हस्तक्षेप से स्वसंगठन को छोटी मात्रा में भंग करा जाये तो समय के साथ-साथ यह फिर से उत्पन्न हो जाता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Falko Dressler (2007), Self-Organization in Sensor and Actor Networks, Wiley & Sons.
  2. Manfred Eigen and Peter Schuster (1979), The Hypercycle: A principle of natural self-organization, Springer.
  3. Myrna Estep (2003), A Theory of Immediate Awareness: Self-Organization and Adaptation in Natural Intelligence, Kluwer Academic Publishers.
  4. Myrna L. Estep (2006), Self-Organizing Natural Intelligence: Issues of Knowing, Meaning, and Complexity, Springer-Verlag.
  5. J. Doyne Farmer et al. (editors) (1986), "Evolution, Games, and Learning: Models for Adaptation in Machines and Nature", in: Physica D, Vol 22.
  6. Couzin, Iain D.; Krause, Jens (2003). "Self-Organization and Collective Behavior in Vertebrates" (PDF). Advances in the Study of Behavior. 32: 1–75.