सो मोरिरी संरक्षित आर्द्रभूमि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सो मोरिरी संरक्षित आर्द्रभूमि
स्थानलद्दाख
निर्देशांक32°54′N 78°18′E / 32.900°N 78.300°E / 32.900; 78.300निर्देशांक: 32°54′N 78°18′E / 32.900°N 78.300°E / 32.900; 78.300
प्रकारखारे पानी की झील
मुख्य अन्तर्वाहगर्मियों में पिघलने वाली बर्फ़
मुख्य बहिर्वाहकोई नहीं
द्रोणी देशभारत
अधिकतम लम्बाई19 कि॰मी॰ (12 मील)
अधिकतम चौड़ाई3 कि॰मी॰ (1.9 मील)
सतही क्षेत्रफल12,000 हे॰ (30,000 एकड़)
अधिकतम गहराई105 मी॰ (344 फीट)
तट लम्बाई1Wet meadows and borax loaded wetlands
सतही ऊँचाई4,522 मी॰ (14,836 फीट)
बस्तियाँकोर्योक
अभिहीत: 19 अगस्त 2002
1 तट लम्बाई का मापन सटीक नहीं होता है

सो मोरिरी अथवा मोरिरी झील (तिब्बती: ལྷ་མོའི་བླ་མཚོवायली: lha mo bla mtsho), भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य में, लद्दाख क्षेत्र में चांगथंग पठार पर स्थित एक प्राकृतिक झील है। यह झील 4,522 मी॰ (14,836 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है।

यह भारत की अत्यधिक ऊँचाई पर स्थित झीलों में सबसे बड़ी है और अपनी जैवभूगोलिक विशेषताओं के कारण वर्तमान में रामसर स्थल के रूप में संरक्षित क्षेत्र है।[1] झील से पानी का निकास न होने के कारण यह एक खारे पानी की झील है और इसके जलागम का मुख्य स्रोत पहाड़ों पर कि पिघलने वाली बर्फ़ है। कुछ लोग इसे अवशिष्ट झील (remnant lake) भी मानते हैं और इसके खारे जल को पुरा कालीन टीथीज सागर का अवशेष बतलाते हैं[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.wwfindia.org/about_wwf/what_we_do/freshwater_wetlands/our_work/ramsar_sites/tsomoriri.cfm Archived 26 फ़रवरी 2010 at the वेबैक मशीन. Tso Moriri
  2. http://planningcommission.nic.in/aboutus/committee/wrkgrp11/tf11_ecosys.pdf Report of the Task Force On the Mountain Ecosystems, Environment and Forest Sector, for Eleventh Five Year Plan 2007–2012 (From web archive)