सुसुमु ओऽनो

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सुसुमु ओऽनो
Susumu Ōno
大野 晋
जन्म 23 अगस्त 1919
Flag of Japan.svg जापान टोक्यो
मृत्यु जुलाई 14, 2008(2008-07-14) (उम्र 88)
व्यवसाय भाषाविद

सुसुमु ओऽनो (大野 晋 Ōno Susumu?, August 23, 1919 – July 14, 2008) जापानी भाषा के प्रारंभिक इतिहास के विशेषज्ञ और एक जाने-माने भाषाविद थे । उनका जन्म टोक्यो में हुआ था। उन्होंने 1943 में टोक्यो विश्वविद्यालय से स्नातक किया, जहाँ उन्होंने शिंकीची हाशिमोतो के तहत अध्ययन किया। वे गाकुशिन विश्वविद्यालय में प्राध्यापक थे।

वे जापानी भाषा और तमिल भाषा के मूल को जोड़ने वाले अपने सिद्धांत के लिए प्रख्यात हुए थे।

करियर[संपादित करें]

वे आम जापानी शोधकर्ताओं में अपनी जापानी भाषा में स्वर विज्ञान और काना लिपि पर अनुसंधान के लिए सबसे अधिक प्रख्यात हुए थे। 1999 में आम पाठकों के लिए उनके द्वारा लिखित पुस्तक Nihongo Renshūchō (日本語練習帳, जापानी अभ्यास पुस्तक) की 18 लाख से अधिक प्रतियाँ बिक चुकी हैं।

तमिल भाषा के साथ एक आनुवंशिक लिंक पर परिकल्पना[संपादित करें]

तीन दशकों तक ओनो के अनुसंधान को उल्लेखनीयता मिली, हालांकि हमेशा प्रशंसा के लिए नहीं, बल्कि परिकल्पना के अपने समर्थन के लिए। इसे पहली बार 1970 में सुसुमू शिबा द्वारा आगे रखा गया, और अकीरा फुजिवाराद्वारा विकसित किया गया, जो कि 1981 में सबसे उल्लेखनीय है, [1] कि जापानी और तमिल भाषाएँ एक ही भाषा-परिवार से हैं। [2] इसके लिए उन्होंने कई तर्क दिए, जैसे दोनों भाषाओं का समान शब्द क्रम (Subject- object-verb), और शब्दों के आपस में जुड़ने की समान प्रक्रिया (agglutination)।

प्रमुख जापानी भारतविद मुनेओ तोकुनागा ने उनके सिद्धांत की गंभीर रूप से आलोचना की। [3] उनके अलावा अन्य तुलनात्मक विशेषज्ञों (comparativists) जैसे काज़ामा कियोऽज़ो ने भी इस सिद्धांत की आलोचना की। [4]

आम तौर पर, जापानी भाषा की उत्पत्ति के बारे में कई अन्य "शौकिया परिकल्पनाओं" की तरह, उनका सिद्धांत ताश के पत्तों की तरह "ढह जाता है"। इसका कारण यह है कि हालांकि ओऽनो जापानी के एक प्रमुख विद्वान हैं, ऐसा माना जाता है कि उन्होंने अपने सिद्धांत को उससे सम्बंधित जटिलताओं को ध्यान में रखे बिना ही प्रस्तुत किया है, जैसे कि यह किसी दार्शनिक की तुलनात्मक पद्धति हो। अपने आलोचकों का सामना करने के लिए ओऽनो का प्रयास, यहां उद्धृत लेख में, रॉय एंड्रयू मिलर की आलोचना को खारिज करने में सफल रहा है। लेकिन यह एक सामान्य आरोप का जवाब देने में विफल रहा है, कि यह सिद्धांत उनके पुराने सिद्धांतों के विरुद्ध जाता है, जिनमें उन्होंने जापानी भाषा के लिए एक ऑस्ट्रोनीशियाई मूल की कल्पना की थी। [5] उदाहरण के लिए, तमिल और जापानी में एक समान शब्द क्रम का तर्क जापानी और कुछ पापुआन भाषाओं के लिए भी सटीक बैठता है।

जापानी भाषा पर लोकप्रिय काम[संपादित करें]

  • निहंगो नो किगन, इवानामी, टोक्यो 1957
  • निहंगो नो नेन्रिन, शिनचो बुन्को, टोक्यो 1966
  • निहंगो ओ सकनोबोरु, इवानामी, टोक्यो 1974
  • निहंगो नो बनपō ओ कंगारू, इवानामी, टोक्यो 1978
  • निहंगो इज़ेन, इवानामी, टोक्यो 1987
  • निहंगो नो केइसी, इवानामी शोटेन, टोक्यो 2000
  • याओइ बनमी से मिनामी-इंडो, इवानामी शोटेन 2004

यह सभी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Nihongo wa doko kara kita kaKōdansha, Tokyo
  2. Susumu Ohno. The Genealogy of the Japanese Language: Tamil and Japanese Archived 31 जुलाई 2011 at the वेबैक मशीन.
  3. Tokunaga Muneo,Nihongo to Tamirugo Gengo Kenkyū No. 2
  4. "Kotoba to keitō" in、Tōkyō Daigaku Kōkai Kōza Kotoba, Tōkyō Daigaku Shuppankai, 1983
  5. Murayama Shichirō, Kokubu Naoichi Genshi nihongo to minzoku bunka, San'ichi Shobō, Tokyo 1979 pp.32f., 50ff.,

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]