सुमात्रा गैंडा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सुमात्रन गैंडा, २००८ की तसवीर, वे कांबास्

सुमात्रा गैंडा एक दुर्लभ परिवार राइनोसिरोटिडी के सदस्य और पांच वर्तमान गैंडों में से एक है। सुमात्रा गैंडों को "बालों गैंडों" भी कहा जाता है। यह वंश डाइसिरोराइनस का केवल वर्तमान प्रजातियों है। यह सबसे छोटा गैंडा है भले ही यह एक बड़ा स्तनपायी है। इस गैंडों २.३६-३.१८ मीटर (७.७-१०.४ फुट) की सिर और शरीर की लंबाई और ३५-७० सेंटीमीटर की पूंछ (१४-२८ में साथ, कंधे पर ११२-१४५ सेमी (३.६७-४.७६ फुट) उच्चा खड़ा है )। वजन ५०० से १००० किलोग्राम से पर्वतमाला है। यह भारत, भूटान, बांग्लादेश, म्यांमार, लाओस, थाईलैंड , मलेशिया, इंडोनेशिया, और चीन में प्रजातियों का वर्षावन, दलदलों, और बादल जंगलों के सदस्य थे।[1] यह केवल दो सींग के एशियन गैंडों है। सुमात्रा गैंडों आम तौर पर फल, टहनियाँ, पत्ते, और झाड़ियाँ पर फ़ीड कि एकान्त जीव हैं। अन्य गैंडों की तरह वे गंध और तेज सुनवाई की एक गहरी समझ है, और वे एक दूसरे को खोजने के लिए जंगल भर में सुगंधित ट्रेल्स के एक नेटवर्क छोड़ देते है। वह इंडोनेशिया में सबसे बड़ी आबादी मैं मौजूद हैं और सबा, मलेशिया में छोटे अवशेष आबादी मैं मौजूद हैं। सुमात्रा गैंडों प्रेमालाप और संतानों के पालन के लिए छोड़कर ज्यादातर एकान्त जानवर है। यह सबसे मुखर गैंडों का प्रजाति है और पौधे को घुमा कर मिट्टी पर पैटर्न बनाता है और मलमूत्र छोड़ने के माध्यम से संचार करता है।[2]

विवरण[संपादित करें]

चार दिन का सुमात्रा गैंडा

अफ्रीकी प्रजातियों की तरह, इनके दो सींग है। सबसे बड़ा नाक सींग है (१५-२५ सेंटीमीटर), पर अब तक सबसे बड़ा ८१ सेंटीमीटर का सींग है। पीछे का सींग बहुत छोटा है, लगभग १० सेंटीमीटर से कम। नाक सींग को पूर्वकाल सींग भी कहाँ जाता हैं और पीछे के सींग को ललाट सींग कहाँ जाता हैं। इनके सींग काले भूरे रंग या काले रंग के हैं। पुरुष के सींग महिलाओं की तुलना में बड़े है। अन्यथा वे यौन द्विरूपी नहीं हैं। सुमात्रा गैंडा ३०-४५ साल तक रहते है। पैरों के पीछे और आगे त्वचा की दो मोटी परतों शरीर को घेरती हैं। गरदन के पास त्वचा के छोटे गुना हैं। त्वचा पतली हैं ( १०-१६ मिलीमीटर)। जंगल में त्वचा के नीचे की वसा उपस्थित नहीं हैं। उनके शरीर पर बाल मौजूद है और उसका रंग लाल भूरे रंग है। उनके कानो के आसपास लंबे बाल मौजूद है और इसकी पूंछ के अंत में बालों की एक मोटी पेड़ों का झुरमुट हैं। इनकी दृष्टि बहुत खराब है और वे बहुत तेज और फुर्तीले हैं। यह आसानी से पहाड़ें चढ़ते हैं।[3]

आहार[संपादित करें]

ज्यादातर वह खाना सिर्फ रात होने से पहले या सुबह में खाते हैं। वह युवा पौधे, पत्ते, फल, टहनियाँ, और शूटिंग को भोजन के रूप में खाते हैं। आमतौर पर वह ५० किलो (११० पौंड) भोजन को एक दिन में खाते हैं। मुख्य रूप से इन गैंडा के गोबर के नमूनों को मापने के बाद, शोधकर्ताओं ने १०० से अधिक भोजन प्रजातियों की पहचान की है। आहार का सबसे बड़ा हिस्सा पेड़ पौधे हैं, जिसकी ट्रंक की व्यास १-६ सेंटीमीटर हैं। गैंडा आम तौर पर पत्ते खाने के लिए, अपने शरीर के साथ इन पौधों को धक्का दे कर गिरा देता है और इस पर कदम बिना रखे चलता हैं। यह लगातार अपने आहार में परिवर्तन लाता हैं। इनकी खपत सबसे आम प्रजाति यूजेनिया है। सुमात्रा गैंडा की वनस्पति आहार फाइबर में उच्च और प्रोटीन में मध्य श्रेणी की हैं। नमक पोषण के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।

प्रजनन[संपादित करें]

पोषण

महिलाओं छह से सात साल की उम्र में यौन परिपक्व हो जाते हैं, जबकि पुरुषों में १० साल की उम्र में यौन परिपक्व हो जाता हैं। उनकी हमल अवधि १५- १६ महीने है। बछड़ा आम तौर पर ४०-६० किलो वजन का होता है। बछड़ा लगभग १५ महीने के बाद दूध छुड़ाता हैं और अपने जीवन के पहले दो से तीन वर्षों के लिए अपने माँ के साथ रहता है। प्रेमालाप के दौरान पुरुष अक्सर महिलाओं के साथ आक्रामक हैं और कभी कभी उन्हें मार देते हैं और घायल भी कर देते हैं। [4]

प्रसव के दौरान

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "राइनो.ओर्ग". मूल से 7 फ़रवरी 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 फ़रवरी 2015.
  2. "वर्ल्ड लाइफ वेब्साइट पर सुमात्रन गैंडे के बारे में". मूल से 11 फ़रवरी 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 फ़रवरी 2015.
  3. "नेशनल ज्योग्राफिक". मूल से 18 फ़रवरी 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 फ़रवरी 2015.
  4. "विकिपीडिया". मूल से 4 मार्च 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 फ़रवरी 2015.