सुमन राजे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
डॉ॰ सुमन राजे
जन्म२३ अगस्त, १९३८
उत्तर प्रदेश, भारत
मृत्यु२००८
व्यवसायअध्यापन
भाषाहिन्दी
राष्ट्रीयताभारतीय
अवधि/कालआधुनिक काल
विधागद्य और पद्य
साहित्यिक आन्दोलननारीवाद
उल्लेखनीय कार्यsहिंदी साहित्य का आधा इतिहास, साहित्येतिहास: संरचना और स्वरूप,


सुमन राजे हिंदी साहित्य से जुड़ी लेखिका, कवयित्री, और इतिहासकार हैं।[1]

शिक्षा[संपादित करें]

राजे ने लखनऊ विश्वविद्यालय से हिंदी साहित्य में स्नातकोत्तर एवं पीएच॰डी॰ की उपाधि प्राप्त की। तत्पश्चात कानपुर विश्वविद्यालय से डी॰लिट्॰ की उपाधि प्राप्त की।[2]

प्रमुख कृतियाँ[संपादित करें]

आलोचना[संपादित करें]

  • साहित्येतिहास : संरचना और स्वरूप
  • साहित्येतिहास:आदिकाल
  • काव्यरूप संरचना:उद्भव और विकास
  • रचना की कार्यशाला

संपादित पाठ[संपादित करें]

  • रेवातट
  • आदिकालीन काव्यधारा
  • अपभ्रंश पीठिका
  • बीसवीं सदी का हिंदी महिला लेखन

काव्य-संग्रह[संपादित करें]

  • सपना और लाशघर
  • उगे हुए हाथों के जंगल[3]
  • यात्रादंश
  • एरका
  • इक्कीसवीं सदी का गीत
  • युद्ध 2007[4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. चौबे, देवेन्द्र. "सुमन राजे की साहित्येतिहास दृष्टि" (PDF). ePG पाठशाला. मूल से 27 फ़रवरी 2018 को पुरालेखित (PDF). अभिगमन तिथि 26 फरवरी 2018.
  2. Sumana Rāje (2003). Hindī sāhitya kā ādhā itihāsa. Bhāratīya Jñānapīṭha. पपृ॰ 323–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-263-0791-3.
  3. Chandrakant Bandivadekar (September 2010). Kavita Ki Talash. Vani Prakashan. पपृ॰ 210–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-93-5000-203-2.
  4. राजे, सुमन (२०१५). हिंदी साहित्य का आधा इतिहास. भारतीय ज्ञानपीठ.