सुमन राजे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
डॉ॰ सुमन राजे
जन्म२३ अगस्त, १९३८
उत्तर प्रदेश, भारत
मृत्यु२००८
व्यवसायअध्यापन
भाषाहिन्दी
राष्ट्रीयताभारतीय
अवधि/कालआधुनिक काल
विधागद्य और पद्य
साहित्यिक आन्दोलननारीवाद
उल्लेखनीय कार्यsहिंदी साहित्य का आधा इतिहास, साहित्येतिहास: संरचना और स्वरूप,


सुमन राजे हिंदी साहित्य से जुड़ी लेखिका, कवयित्री, और इतिहासकार हैं।[1]

शिक्षा[संपादित करें]

राजे ने लखनऊ विश्वविद्यालय से हिंदी साहित्य में स्नातकोत्तर एवं पीएच॰डी॰ की उपाधि प्राप्त की। तत्पश्चात कानपुर विश्वविद्यालय से डी॰लिट्॰ की उपाधि प्राप्त की।[2]

प्रमुख कृतियाँ[संपादित करें]

आलोचना[संपादित करें]

  • साहित्येतिहास : संरचना और स्वरूप
  • साहित्येतिहास:आदिकाल
  • काव्यरूप संरचना:उद्भव और विकास
  • रचना की कार्यशाला

संपादित पाठ[संपादित करें]

  • रेवातट
  • आदिकालीन काव्यधारा
  • अपभ्रंश पीठिका
  • बीसवीं सदी का हिंदी महिला लेखन

काव्य-संग्रह[संपादित करें]

  • सपना और लाशघर
  • उगे हुए हाथों के जंगल[3]
  • यात्रादंश
  • एरका
  • इक्कीसवीं सदी का गीत
  • युद्ध 2007[4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. चौबे, देवेन्द्र. "सुमन राजे की साहित्येतिहास दृष्टि" (PDF). ePG पाठशाला. अभिगमन तिथि 26 फरवरी 2018.
  2. Sumana Rāje (2003). Hindī sāhitya kā ādhā itihāsa. Bhāratīya Jñānapīṭha. पपृ॰ 323–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-263-0791-3.
  3. Chandrakant Bandivadekar (September 2010). Kavita Ki Talash. Vani Prakashan. पपृ॰ 210–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-93-5000-203-2.
  4. राजे, सुमन (२०१५). हिंदी साहित्य का आधा इतिहास. भारतीय ज्ञानपीठ.