सम्मान हत्या

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
कलाकार द्वारा सम्मान हत्या का चित्रन

एक सम्मान हत्या (अंग्रेजी: Honour killing -ऑनर किलिंग) या सम्मान हेतु हत्या वह हत्या है जिसमें, किसी परिवार, वंश या समुदाय के किसी सदस्य की (आमतौर पर एक महिला) की हत्या उसी परिवार, वंश या समुदाय का एक या एक से अधिक सदस्य (अधिकतर पुरुष) द्वारा की जाती है और हत्यारे (आमतौर पर समुदाय के अधिकतर सदस्य) इस विश्वास के साथ इस हत्या को अंजाम देते हैं कि मरने वाले सदस्य के कृत्यों के कारण उस परिवार, वंश या समुदाय का अपमान हुआ है। अपमान की यह धारणा सामान्यत: निम्न कारणों के परिणामस्वरूप उत्पन्न होती है: -

  • परिवार की मर्जी के विरुद्ध अपनी मर्जी से प्रेम विवाह करना।
  • यदि विवाह अंतरजातीय हो अथवा एक ही गोत्र में किया गया हो (हिन्दुओं में)।
  • परिवार द्वारा नियत विवाह से इंकार करना।
  • समुदाय द्वारा निर्धारित वस्त्र संहिता का उल्लंधन कर कोई अन्य परिधान पहनना।
  • विवाह पूर्व या विवाहोपरांत किसी अन्य पुरुष (या महिला) के साथ किसी महिला (या पुरुष) का यौन संबंध स्थापित करना।
  • समलिंगी आचरण करना। (समान लिंग के वयक्ति के साथ शारीरिक संबंध या विपरीत लिंगी के समान आचरण और वस्त्र धारण)

यह हत्यायें इस धारणा का परिणाम हैं कि कोई भी व्यक्ति जिसके किसी कृत्य के कारण यदि उसके कुल या समुदाय का अपमान होता है तो उस कुल या समुदाय के सम्मान की रक्षा के लिए उस व्यक्ति विशेष की हत्या जायज़ है। संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष (यूएनएफपीए) का अनुमान है कि, दुनिया भर में सालाना 5000 के लगभग हत्यायें, सम्मान हत्यायें होती है।[1]

परिभाषा[संपादित करें]

मानव अधिकार संस्था ह्यूमन रॉइट्स वॉच, सम्मान हत्या को निम्न रूप में परिभाषित करती है:

“सम्मान की रक्षा के लिये किये गये अपराध, हिंसा के वो मामले हैं, जिन्हें परिवार के पुरुष सदस्यों ने अपने ही परिवार की महिलाओं के खिलाफ इसलिये अंजाम दिया है, क्योंकि उनके अनुसार उस महिला सदस्य के किसी कृत्य से समूचे परिवार की गरिमा और सम्मान को ठेस पहुंची है। इसका कारण कुछ भी हो सकता है जैसे कि: परिवार द्वारा नियत शादी करने से इंकार, किसी यौन अपराध का शिकार बनना, पति से (प्रताड़ना देने वाले पति से भी) तलाक की मांग करना या फिर अवैध संबंध रखने का संदेह। केवल यह धारणा ही उस महिला सदस्य पर हमले को उचित ठहराने के लिये पर्याप्त है कि उसके किसी कदम से परिवार की इज्जत को बट्टा लगा है।” [2]

संदर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]