लड़की

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मुस्कुराती हुई दो लड़कियां

एक लड़की जन्म से बचपन और किशोरावस्था से लेकर वयस्क होने तक स्त्री मानव होती है। इस शब्द का उपयोग एक जवान महिला के लिए भी होता है।[1] “वागिना” शब्द का प्रयोग पहली बार वॉल्ट डिज़नी के प्रोडक्शन “द स्टोरी ऑफ़ मेंस्ट्रुएशन” में किया गया था। 1946 की यह फिल्म मासिक धर्म की व्याख्या करती है और महिलाओं को खुद के लिए खड़ा होने के टिप्स देती है।[2]

व्युत्पत्ति[संपादित करें]

'लड़की' शब्द हिंदी भाषा के एक रूढ़ पुल्लिंग शब्द 'लड़का' का स्त्रीलिंग रूप है। यह शब्द 'बालिका' का समानार्थी है। यह वास्तव में मानव रचना के अभिन्न स्वरुप 'स्त्री' की अवयस्क अवस्था का द्योतक है। आमतौर पर स्त्री जाति की किशोरावस्था के लिए यह शब्द प्रयुक्त होता है, परन्तु विशेष सन्दर्भों में इसके अर्थ पुत्री, बेटी, पत्नी, महिला आदि भी हो सकते हैं। मानव जाति के मादा-स्वरुप को दर्शाने वाले इस शब्द का इस्तेमाल बचपन के बाद तथा स्त्रीत्व की प्राप्ति से पूर्व होता है। इस दौरान शारीरिक गठन और मानसिक विकास के स्तर में अन्य दो अवस्थाओं की तुलना में भिन्नता पाई जाती है। कभी-कभी जीवों या वस्तुओं की पुरुष-इकाई के विपरीत रचनाओं को दर्शाने के लिए उस व्यष्टि के नाम के साथ लड़की शब्द लगाकर प्रस्तुत करते हैं। उस समय यह शब्द मादा शब्द का समानार्थी बन जाता है।

वयस्कों के लिए उपयोग[संपादित करें]

वयस्कों के लिए उपयोग लड़की शब्द का कभी कभी प्रयोग एक वयस्क महिला के संदर्भ में किया जाता है। इसका प्रयोग कुछ व्यावसायिक या अन्य औपचारिक संदर्भों में आपत्तिजनक और अपमानजनक हो सकता है, जैसे लड़का शब्द उपेक्षा व्यक्त करने के लिए किसी वयस्क व्यक्ति को कहा जाता है। इसलिए, इसका प्रयोग अक्सर तिरस्कार के अर्थ में भी किया जाता है।[1] इसका उपयोग तिरस्कार के अर्थ में तब होता है, जब बच्चों के खिलाफ भेदभाव व्यक्त करना हो ("तुम सिर्फ एक लड़की हो ").

आम संदर्भ में इस शब्द के सकारात्मक प्रयोग हैं, जैसे कि लोकप्रिय संगीत के शीर्षक में प्रयोग करना इसका सबूत है। शब्द का उपयोग मजाकिया अदाज में वैसे लोगों के लिए किया जाता है जो ऊर्जस्वसित रूप से अभिनय (जैसे फुरटाडो का प्रोमिस्क्युअस गर्ल) करते हैं या हर उम्र की महिलाओं को एकीकृत रूप में संबोधित करने के एक तरीके के तौर पर (मैकब्राइड के "दिस इज वन्स फॉर द गर्ल्स"). दोनों ही मामलों में, ये सकारात्मक प्रयोग तक किये जाते हैं, जब इस शब्द की क्षमता का प्रयोग सामूहिक रूप से लड़की की उम्र के बजाय उसके लिंग के रूप में होता है।

जनसांख्यिकीय[संपादित करें]

माली से एक लड़की

लड़के लड़कियों से थोड़ा ज्यादा पैदा (अमेरिका में यह अनुपात 100 लड़कियों पर 105 लड़कों का है।) होते हैं, लेकिन बचपन में लड़कियों की मौत लड़कों के मुकाबले थोड़ा कम होने की संभावना होती है, इसलिए 15 साल की उम्र तक अनुपात प्रत्येक 100 लड़कियों पर 104 लड़कों का हो जाता है।[3][4]. 1700 के दशक तक मानव का लिंग अनुपात प्रति 1000 जन्मी लड़कियों पर 1,050 लड़कों के रूप में दर्ज किया गया और मां-बाप के लिंग चयन के कारण महिलाओं की जन्म दर कम होती देखी जाती रही है। हालांकि आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक अधिकारों पर अंतरराष्ट्रीय नियम में कहा गया है "प्राथमिक शिक्षा सभी लड़कियों के लिए अनिवार्य है और यह सभी को म़ुफ्त उपलब्ध हो", लेकिन प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों में विद्यार्थी के रूप में पंजीकृत होने की दर (70%: 74% और 59% :65%) थोड़ी कम हो सकती है। विश्वव्यापी प्रयासों के कारण (जैसे सहस्राब्दि विकास लक्ष्यों के जरिये) यह असमानता और अंतर 1990 के बाद से बंद है।[5]

लिंग और पर्यावरण[संपादित करें]

एक लड़की कागज की गुड़ियों से खेलती हुई.लिंग जैविक पूरी तरह से पर्यावरण से बातचीत करते हुए पर पूरी तरह से नासमझ.

जैविक लिंग पर्यावरण के साथ संपर्क रखता है, इसे पूरी तरह समझा नहीं जा सका है।[6] दो जुड़वा लड़कियों के जन्म के समय अलग कर और फिर दशकों बाद उन्हें एक करने के बाद चौंकाने वाली समानताएं और विभिन्नताएं दोनों देखी गई है।[7] 2005 में इमोरी विश्वविद्यालय के किम वालेन ने लिखा है,"मुझे लगता है कि'प्रकृति बनाम प्रकृति' का सवाल सार्थक नहीं है, क्योंकि यह उन्हें स्वतंत्र कारक के रूप में देखती हैं, जबकि वास्तव में सब कुछ प्रकृति और पोषण में है।" वालेन ने लिखा है कि लिंग भेद बहुत जल्दी उभर कर आता है और पुरुषों और महिलाओं की अपनी गतिविधियों में अंतर्निहित वरीयता के जरिये तय होता है। लड़कियां खिलौने और अन्य उन वस्तुओं को साथ रखती हैं, जो उन्हें पसंद हैं, जबकि ज्यादा संभावना रहती है कि लड़के "वह सब करें जो वे कुशलता से कर सकते हैं या करना होता है।"

एक लड़की खिलौना के कार को ड्राइव करके दिखाते हुए.लैंगिक मतभेद बहुत जल्दी उभरता है और अंतर्निहित प्रवृत्ति जो अनुभव के आकार के हैं के साथ करना है।

वालेन के अनुसार, इसके बावजूद लड़कियां कैसा शैक्षणिक प्रदर्शन करेंगी, इसमें उम्मीदों की कोई भूमिका नहीं होती. उदाहरण के लिए, यदि गणित में कुशल महिलाओं से कहा जाये कि यह परीक्षण "लिंग निरपेक्ष है", तो उच्च अंक प्राप्त कर सकेंगी, लेकिन अगर उनसे कहा जाये कि अतीत में पुरुषों ने महिलाओं से बेहतर प्रदर्शन किया है तो महिलाएं बदतर प्रदर्शन करेंगी. वालेन ने कहा है, "क्या अजीब बात है," शोध के अनुसार, सभी को जाहिर तौर पर अब तक समाजिक जीवन में गणित में कमजोर दिखी एक महिला से यह कहना होगा कि गणित की परीक्षा लिंग निरपेक्ष है और दिखेगा कि समाजीकरण के सभी प्रभाव दूर हो जायेंगे".[8] लेखक जूडिथ हैरिस ने कहा कि उनके आनुवंशिक योगदान से अलग मां-बाप के पोषण का प्रभाव बच्चों के साथियों के समूह जैसे वातावरण संबंधी अन्य पहलुओं की तुलना में कम दीर्घावधि प्रभाव पड़ता है।[9]

इंग्लैंड में, राष्ट्रीय साक्षरता ट्रस्ट की ओर से कराये गये एक अध्ययन से पता चला है कि लड़कियां सात साल की उम्र से सभी शैक्षिक क्षेत्रों में लड़कों से अधिक अंक पाती है, हालांकि 16 वर्ष से पढ़ने और लिखने के कौशल में काफी अंतर दिखाई दिया है।[10] ऐतिहासिक रूप से, मानकीकृत परीक्षणों पर लड़कियां पीछे हो जाती हैं। 1996 में SAT की मौखिक परीक्षा में सभी जाति की 503 अमेरिकी लड़कियों ने लड़कों की तुलना में 4 अंक कम पाये थे। गणित में, लड़कियों का औसत 492 था, जो लड़कों के मुकाबले 35 अंक था। "कॉलेज के बोर्ड के एक शोध वैज्ञानिक वेन कैमेरा ने टिप्पणी की "जबकि लड़कियों ने ठीक एक ही पाठ्यक्रम लिया था","35 अंकों का अंतर थोड़ा खराब लगता है।" इसी समय सेंटर फॉर वूमेन पॉलिसी स्टडीज के अध्यक्ष आर वोल्फ ने कहा कि लड़कियों ने गणित की परीक्षा में अलग अंक इसलिए हासिल किया कि वे समस्याओं को दूर हटाना पसंद करती हैं, जबकि लड़के "टेस्ट टेकिंग ट्रिक्स" (प्रयोगशाला में शीशे की पाइप के जरिये किये जाने वाले परीक्षणों की तरह) जैसे अनेक विकल्पों वाले प्रश्नों के उत्तरों की जांच करते हैं, जो प्रश्न के साथ ही दिये गये होते हैं। वोल्फ ने कहा लड़कियां शांत और संपूर्ण रवैया अपनाती हैं, जबकि लड़के "एक पिन बॉल मशीन की तरह इस टेस्ट को खेलते हैं।" वोल्फ ने यह भी कहा कि हालांकि लड़कियों को सैट स्कोर कम मिले, पर उन्हें लगातार कॉलेज के पहले साल में सभी पाठ्यक्रमों में लड़कों की तुलना में उच्च ग्रेड मिले.[11] 2006 तक SAT के मौखिक वाले भाग में लड़कियों ने लड़कों से 11 अंक ज्यादा पाये.[12] 2005 में शिकागो विश्वविद्यालय की ओर से किये गये एक अध्ययन से पता चला है कि कक्षा में उपस्थिति के मामले में लड़कियों की ज्यादा संख्या की वजह से लड़कों की तुलना में उनकी शैक्षिक अकादमिक प्रदर्शन अच्छा होता है।"[13]

कला और साहित्य[संपादित करें]

खुले खिड़की पर एक लड़की पत्र पढ़ते हुए, जन वेर्मीर वैन डेल्फ़्ट (1657).

मिस्र के भित्ति चित्रों में राजपरिवार की युवा लड़कियों का सहानुभूति से भरा चित्रण शामिल है। शैपो की कविता में लड़कियों को संबोधित प्रेम कविताएं हैं।

यूरोप में, कुछ शुरुआती दौर के चित्रों (पेंटिंग्स) में पीटर्स क्रिस्टस का पोट्रेट ऑफ ए यंग गर्ल (लगभग 1460), जुआन डी फ्लेंड्स का पोट्रेट ऑफ ए यंग गर्ल (लगभग 1505)1620 में फ्रेंस हाल्स का डाई एमे मिट डेम काइंड नाम का चित्र, डियेगो वेलाजक्वीज की लास मेनिनास नामक पेंटिंग, जान स्टीन की द फीस्ट ऑफ सेंट निकोलस नामक पेंटिंग (लगभग 1660) और जोहान्स वर्मीयर की पेंटिंग, जिसमें एक लड़की कानों में मोती की बालियां पहनी हुई है और इसके साथ एक लड़की खुली खिड़की पर पत्र पढ़ रही है, जैसे चित्र भी शामिल हैं। बाद वाले लड़कियों के चित्रों में अल्बर्ट एंकेर के गर्ल विथ ए डोमिनो टावर चित्र और कैमिली पिसैरो की 1883 की पोर्ट्रेट ऑफ़ ए फेलिक्स डॉटर शामिल हैं।

अमेरिकी पेंटिंग्स में मेरी कसाट की चिल्ड्रेन ऑन द बीच और ह्वीसलर की हारमनी इन ग्रे एंड ग्रीन: मिस सिसिली अलेक्जेंडर की द व्हाइट गर्ल (दाहिनी तरफ दिखाई गई है।) शामिल हैं।

कई ऐसे उपन्यास हैं, जो उनकी नायिकाओं के बचपन के चित्रण से शुरू होते हैं, जैसे जेन आयर, जिससे दुर्व्यवहार किया जाता है या वार एण्ड पीस की नताशा, जिसका संवेदनात्मक चित्रण किया गया है। अन्य उपन्यासों में हार्पर ली की टू किल ए मॉकिंग बर्ड है, जिसमें एक युवा लड़की अग्रणी भूमिका में है। व्लादिमीर नाबोकोव की विवादास्पद पुस्तक लोलिता (1955) में एक 12 साल की लड़की और एक वयस्क विद्वान के बीच एक खत्म हुए रिश्ते के बारे में है, जो पूरे अमेरिका की यात्रा करते हैं। आर्थर गोल्डन की मेमोएर्स ऑफ ए गीशा की शुरुआत एक मुख्य महिला मुख्य चरित्र और उसकी बहन से शुरू होती है, जो अपने परिवार से अलग होने के बाद प्लेजर जिले में छोड़ दिये जाते हैं।

लुईस कैरोल की एलिसर्स एडवेंचर्स इन वोंडरलैंड में एक जानी-मानी महिलाओं की नायक के दृश्य थे। इसके अलावा, कैरोल की लड़कियों की तस्वीरें अक्सर चित्र कला के इतिहास में वर्णित हैं।

लोकप्रिय संस्कृति[संपादित करें]

पुर्तगाल से एक लड़की है।

यूरोपीय परी कथाओं में लड़कियों के बारे में यादगार कहानियां संरक्षित हैं। इनमें गोल्डीलॉक्स एंड द थ्री बीयर्सरैपुनजेल, हैंस क्रिश्चियन एंडरसन की द लिटिल मैच गर्ल, द लिटिल मरमेड, द प्रिंसेस एंड द पी और ब्रदर्स ग्रिम की लिटिल रेड राइडिंग हूड शामिल हैं।

लड़कियों के बारे में बच्चों की किताबों में एलिस इन वोंडरलैंड, हेडी, द वोंडरफुल विजर्ड ऑफ ओजेड, द नैन्सी ड्रियू सिरीज, लिटिल हाउस ऑन द पैरेरे मेडलाइन, पिपी लांगस्टॉकिंग, ए रिंकल इन टाइम, ड्रैगन सांग और द लिटिल वूमेन शामिल हैं।

जिन किताबों में लड़के और लड़की दोनों के मुख्य पात्र के रूप में हैं, उनमें जाहिर है लड़कों पर अधिक ध्यान केंद्रित किया गया है, पर महत्वपूर्ण महिला चरित्र नाइट्स कैसल, द लॉयन, द विच एंड द वार्डरोब, द बुक ऑफ थ्री और हैरी पॉटर श्रृंखला में भी उभरे हैं।

कई अमेरिकी हास्य प्रधान (कॉमिक) पुस्तकों और हास्य स्ट्रिप्स में लड़कियों को मुख्य पात्र बनाया गया है, जैसे द लिटिल लुलू और द लिटिल ऑरफेन. सुपर हीरो हास्य पुस्तकों में एक प्रारंभिक लड़की चरित्र एटा कैंडी थी, जो एक चमत्कारी महिला की सहायक थी। पीनट्स सिरीज (चार्ल्स सुल्ज द्वारा) के महिला चरित्रों में पेपरमिंट पैटी, लुसी वैन पेल्ट और सैली ब्राउन शामिल हैं।

जापान के एनिमेटेड कार्टूनों और हास्य किताबों में लड़कियां अक्सर मुख्य पात्र हैं। हेयो मियाज़ाकी की अधिकांश एनिमेटेड फिल्मों में युवतियां ही नायिका के रूप में चित्रित हैं, जैसे माजो नो टेक्युबिन (किकी की डेलिवरी सर्विस). मांगा की शोजो शैली में लड़कियां मुख्य पात्र हैं, जिनमें दर्शक के रूप में लड़कियों को दिखाया गया है। इनमें बालफ्लावर, सायरस, केलेस्ट्रायल लीजेंड, टोक्यो म्यु म्यु फुल मून ओ सागाशाइट हैं। इस बीच, जापानी कार्टून की कुछ शैलियों और लड़कियों की भूमिकाओं को सेक्स के पुट के साथ और एक सजावटी सामान के रूप में दिखाया गया है।

लड़की शब्द लोकप्रिय संगीत के गीतों में व्यापक रूप से सुना जाता है (जैसे "अवाउट ए गर्ल") और कई बार यह एक युवा वयस्क या किशोर महिला के अर्थ में प्रयुक्त होता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

नोट्स[संपादित करें]

  1. dictionary.com, लड़की Archived 2016-03-03 at the Wayback Machine, 2 जनवरी 2008 को पुनःप्राप्त
  2. "लड़की के बारे में रोचक जानकारी". Ytsag. 2021-03-30. अभिगमन तिथि 2021-03-31.
  3. "CIA Fact Book". The Central Intelligence Agency of the United States. मूल से 6 जुलाई 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 जून 2010.
  4. in-gender.com, द ऑड्स ऑफ़ हैविंग अ बॉय ऑर अ गर्ल Archived 2010-10-07 at the Wayback Machine, 8 जनवरी 2009 को पुनःप्राप्त
  5. द स्टेट ऑफ़ द वर्ल्ड्स चिल्ड्रेन 2004 - लड़कियों, शिक्षा और विकास Archived 2018-06-20 at the Wayback Machine, UNICEF, 2004
  6. Salon.com, कर्ट क्लिनर, अ माइंड ऑफ़ दियर ओवं Archived 2011-06-06 at the Wayback Machine (मैट रिडले द्वारा नेचर विया नेचर पुस्तक की समीक्षा) 19 जून 2003, 2 जनवरी 2008 को पुनःप्राप्त.
  7. BBC, जेन बेरेस्फोर्ड, ट्विन्स रियुनिटेड, आफ्टर 35 इयर्स अपार्ट Archived 2018-03-14 at the Wayback Machine, 31 दिसम्बर 2007, 2 जनवरी 2008 को पुनःप्राप्त
  8. एमोरी विश्वविद्यालय की वेबसाइट, वूमें'स वर्क? Archived 2011-06-29 at the Wayback Machine, 2005 सितम्बर 2 जनवरी 2008 को पुनःप्राप्त
  9. PBS.org, नेचर वर्सेस नेचर Archived 2010-03-27 at the Wayback Machine, 20 अक्टूबर 1998, 2 जनवरी 2008 को पुनःप्राप्त
  10. literacytrust.org लिटरेसी अचीवमेंट इन इंग्लैण्ड इन्क्लुडिंग जेंडर स्प्लिट Archived 2008-12-09 at the Wayback Machine, 2007, 7 दिसम्बर 2008 को पुनःप्राप्त
  11. न्यूयॉर्क टाइम्स, कैथरीन क्यू सील्ये, ग्रुप सीक्स टू ऑल्टर S.A.T. टू रेज़ गर्ल्स स्कोर्स, 14 मार्च 1997, 2 जनवरी 2008 को पुनःप्राप्त.
  12. ABC न्यूज़, जॉन बर्में, गर्ल्स अचीव रेयर SAT स्कोर्स Archived 2018-08-08 at the Wayback Machine, 30 अगस्त 2006, 2 जनवरी 2008 को पुनःप्राप्त
  13. harrisschool.uchicago.edu, गर्ल-डोमिनेटेड क्लासरूम्स कैन इम्प्रूव बोयज़' अर्ली स्कूल परफॉरमेंस Archived 2007-08-19 at the Wayback Machine, 2 जनवरी 2008 को पुनःप्राप्त