समान्तर माध्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

गणित एवं सांख्यिकी में समान्तर माध्य (arithmetic mean) नमूने के आंकड़ों की केन्द्रीय प्रवृत्ति (central tendency) की एक गणितीय माप है। इसे प्रायः 'औसत' (average) या 'माध्य' (mean) ही कहते हैं। किन्तु जब इसे दूसरे प्रकार के माध्यों (जैसे ज्यामितीय माध्य या हरात्मक माध्य) से अलग करते हुए देखना हो तो इसे 'समान्तर माध्य' कहते हैं। (समान्तर माध्य =पदक का योग/पदो की संख्या) गणित एवं सांख्यिकी के अलावा समान्तर माध्य का अर्थनीति, समाजशास्त्र, इतिहास आदि में प्रायः देखने को मिलता है।

उदाहरण-

7, 14, 28 और 23 समान्तर माध्य = (7 + 14 + 28 + 23)/4 = 72/4 = 18

गुण[संपादित करें]

  • समान्तर माध्य, सबसे बड़ी संख्या से छोटा तथा सबसे छोटी संख्या से बड़ा होता है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

2

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाबाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]