सन्त सिपाही

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सिख दर्शन में सन्त सिपाही उस व्यक्ति के लिये प्रयुक्त होता है जो मूलतः सन्त हो और धर्म एवं न्याय की रक्षा के लिये 'सिपाही' (सैनिक) भी बन जाये। गुरू गोबिन्द सिंह एवं बन्दा सिंह बहादुर को सन्त सिपाही कहा जाता है।

  • सन्त - उस व्यक्ति को कहते हैं जो बुद्धिमान, ज्ञानी एवं धर्म के पथ पर चलने वाला हो.
  • सिपाही - योद्धा या सैनिक को कहते हैं।

इस दर्शन एवं जीवन-पथ की राह सबसे पहले गुरू हरगोबिन्द जी ने दिखायी। बाद में गुरू गोबिन्द सिंह ने तो पूरी तरह इसे अपने जीवन में उतार लिया आगे चलकर बन्दा बैरागी (बन्दा सिंह बहादुर) ने भी इसी राह को अपनाया.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]