संशोधन-विरोधी (मार्क्सवाद-लेनिनवाद)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
अल्बानियाई कार्टूनिस्ट ज़ेफ़ बुमसी द्वारा १९७६ का एंटी-संशोधनवादी व्यंग्यचित्र जिसमें निकिता ख्रुश्चेव को पूंजीपति वर्ग के सेवक के रूप में दर्शाया गया है
संशोधन विरोधी चिली कम्युनिस्ट पार्टी (सर्वहारा एक्शन) के समर्थकों ने मई दिवस २००७ के दौरान सैंटियागो, चिली में कार्ल मार्क्स, फ्रेडरिक एंगेल्स, व्लादिमीर लेनिन और जोसेफ स्टालिन के चित्रों वाला एक बैनर लेकर मार्च किया।

संशोधन-विरोधी मार्क्सवाद-लेनिनवाद के भीतर एक स्थिति है जो १९५० के दशक में सोवियत नेता निकिता ख्रुश्चेव के सुधारों के विरोध में उभरी थी। जब ख्रुश्चेव ने एक ऐसी व्याख्या अपनाई जो उनके पूर्ववर्ती, जोसेफ स्टालिन से भिन्न थी, तो अंतर्राष्ट्रीय साम्यवादी आंदोलन के भीतर संशोधन-विरोधी स्टालिन की वैचारिक विरासत के प्रति समर्पित रहे और ख्रुश्चेव और उनके उत्तराधिकारियों के तहत सोवियत संघ की राजकीय पूंजीवादी और सामाजिक साम्राज्यवादी के रूप में आलोचना की। चीनी-सोवियत विभाजन के दौरान माओत्से तुंग के नेतृत्व वाली चीनी साम्यवादी दल, अनवर होजा के नेतृत्व वाला अल्बानिया का मजदूर दल[1] और दुनिया भर के कुछ अन्य कम्युनिस्ट दलों और संगठनों ने ख्रुश्चेव लाइन को संशोधनवादी बताते हुए इसकी निंदा की।

माओ सेतुंग ने पहली बार जनवरी १९६२ में एक बैठक में संशोधनवादी के रूप में सोवियत संघ की निंदा की।[2] १९६३ की शुरुआत में माओ वुहान और हांगझू की लंबी यात्रा के बाद बीजिंग लौट आए और चीन में घरेलू संशोधनवाद का मुकाबला करने का आह्वान किया।[3] कांग शेंग के नेतृत्व में औपचारिक रूप से एक 'केंद्रीय संशोधन-विरोधी प्रारूपण समूह' का गठन किया गया, जिसने संशोधन-विरोधी विवाद का मसौदा तैयार किया, जिसकी बाद में प्रकाशन से पहले माओ ने व्यक्तिगत रूप से समीक्षा की।[3] 'नौ लेख' सोवियत विरोधी विवाद के केंद्र-बिंदु के रूप में उभरे।[4] संशोधन-विरोधी चीनी विदेश और घरेलू नीतियों में एक प्रमुख विषय के रूप में उभरेगा, जो १९६६ की सांस्कृतिक क्रांति के दौरान चरम पर पहुँच गया।[2] चीन मैत्री संघ संशोधन-विरोधी संगठनों में बदल गए, और पश्चिमी यूरोप में संशोधन-विरोधी विखंडित समूह उभरने लगे (जैसे कि फ्रांस का मार्क्सवादी-लेनिनवादी दल, बेल्जियम का ग्रिपा समूह और स्विट्जरलैंड में लेनिन केंद्र)।[5] बीजिंग में जिस सड़क पर सोवियत दूतावास स्थित था, उसे प्रतीकात्मक रूप से 'संशोधन-विरोधी स्ट्रीट' नाम दिया गया।[4] १९६४ में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी में विभाजन के मद्देनजर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) संशोधनवादी के रूप में सोवियत पदों को अस्वीकार करने वाला दल बना लेकिन उसने पूरी तरह से चीनी समर्थक लाइन को अपनाने से मना कर दिया।[6]

१९७० के दशक के उत्तरार्ध में देंग शियाओपिंग के शासनकाल के दौरान आधिकारिक चीनी प्रवचन में संशोधन-विरोधी विषयों को कम महत्व दिया जाने लगा।[2] चीनी विज्ञान अकादमी ने कहा कि सोवियत आधिपत्यवाद और विस्तारवाद के खतरों के बजाय सोवियत संघ के संशोधनवाद पर ध्यान केंद्रित करने में 'नौ लेख' गलत थे।[4]

यह सभी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Elbaum, Max (April 10, 2018). Revolution in the Air: Sixties Radicals Turn to Lenin, Mao and Che. Verso Books. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781786634597 – वाया Google Books.
  2. Robinson, Thomas W.; Shambaugh, David L. (1995). Chinese Foreign Policy: Theory and Practice. Clarendon Press. पपृ॰ 249–254. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-829016-2 – वाया Google Books. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; "the" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है
  3. Lüthi, Lorenz M. (December 16, 2010). The Sino-Soviet Split: Cold War in the Communist World. Princeton University Press. पृ॰ 237. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1400837625 – वाया Google Books.
  4. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; "lev" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है
  5. Schaufelbuehl, Janick Marina; Wyss, Marco; Zanier, Valeria, संपा॰ (2018). Europe and China in the Cold War: Exchanges Beyond the Bloc Logic and the Sino-Soviet Split. New Perspectives on the Cold War. 6. BRILL. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-90-04-38812-3 – वाया Google Books.
  6. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर

बाहरी संबंध[संपादित करें]

साँचा:Marxism–Leninismसाँचा:Marxist and communist phraseology