व्हाइट होल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

व्हाइट होल (सफ़ेद छिद्र) (White hole) सामान्य आपेक्षिकता सिद्धांत के अंतर्गत, एक काल्पनिक क्षेत्र है जिसमें बाहर से प्रवेश संभव नहीं, हालाँकि इससे प्रकाश और पदार्थ का बहिर्गमन संभव है।[1] एक प्रकार से यह, ब्लैक होल (कृष्ण विवर), जिसमें केवल बाहर से प्रवेश संभव है और पदार्थ या प्रकाश बाहर नहीं आ सकता, के उलटी स्थिति है। उपरोक्त दोनों क्षेत्र आइनस्टाइन क्षेत्र समीकरण द्वारा कल्पित किये गए हैं। अंतरिक्ष के अन्य पिण्डों की तरह श्वेत विवर भी द्रव्यमान और गुरुत्वाकर्षण बल से युक्त होते हैं। यह ब्लैक होल का बिलकुल उलटा हो सकता है |

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Kshitij Kumar. "White Holes and Wormholes". ScienceHook. मूल से 13 मई 2019 को पुरालेखित.