"रविन्द्र कौशिक" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
(→‎पाकिस्तान में: उनको 1975 में पाकिस्तान में भेजा गया)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
रविन्द्र कौशिक रॉ द्वारा भर्ती किया गया था और दो साल के लिए दिल्ली में गहन प्रशिक्षण दिया गया था। उन्हें इसलाम की धार्मिक शिक्षा दी गयी और पाकिस्तान के बारे में, स्थलाकृति और अन्य विवरण के साथ परिचित कराया गया। उर्दू पढ़ायी गयी। श्री Ganganager से होने के नाते, वह अच्छी तरह से पाकिस्तान के बड़े हिस्से में बोली जाने वाली पंजाबी भाषा में निपुण थे।
 
उनको 1975 में पाकिस्तान में भेजा गया और नाम नबी अहमद शाकिर दिया गया था।वे कराची विश्वविद्यालय में दाखिला प्राप्त करने में सफल रहे और उसकीवहां एलएलबी पूरा किया। आगे जाकर वे पाकिस्तानी सेना में शामिल हो गए और एक कमीशन अधिकारी बन गया हैगए और बाद में एक मेजर के पद पर पदोन्नत किये गए। उनहोंने एक स्थानीय लड़की अमानत से शादी कर ली हैथी, और एक बेटे काके पिता बन गए।
 
1979 से 1989 तक उनहोंने जो रॉ के लिए बहुमूल्य जानकारी पर पारित की वे भारतीय रक्षा बलों के लिए बहुत मददगार थी।
उन्हें भारत के तत्कालीन गृह मंत्री एसबी चव्हाण नेद्वारा 'ब्लैक टाइगर' का खिताब दिया गया था। कुछ जानकार के अनुसार तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा उपाधि प्रदत्त किया गयीगया थी।था।
 
वह बहुत प्रतिकूल परिस्थितियों में दूर पाकिस्तान में अपने घर और परिवार से अपने जीवन के 26 साल बिताए।
1

सम्पादन

दिक्चालन सूची