रविन्द्र कौशिक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रविन्द्र कौशिक रॉ जासूस थे उन्हें वहाँ पकड़ लिया गया था और पाकिस्तान की जैल में डाल दिया गया अंत में वहाँ ही उनकी मौत हो गई।[1][2][3][4][5]

जीवनी[संपादित करें]

रविन्द्र कौशिक का जन्म राजस्थान राज्य के श्रीगंगानगर नामक जिले में ११ अप्रैल १९५२ को हुआ। वे एक प्रसिद्ध थिएटर कलाकार थे और अपनी योग्यता को राष्ट्रीय स्तर नाटक सभा लखनऊ में प्रदर्शित कर चुके हैं जिसे भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के कुछ अधिकारियों ने भी देखा। इस समय उन्हें सम्पर्क किया गया और उन्हें भारत के लिए पाकिस्तान में खुफिया एजेंट की नौकरी का प्रस्ताव रखा गया। 23 वर्ष की आयु में,[2] उन्हें मिशन पर पाकिस्तान भेज दिया गया।[6][7]

पाकिस्तान में[संपादित करें]

रविन्द्र कौशिक रॉ द्वारा भर्ती किया गया था और दो साल के लिए दिल्ली में गहन प्रशिक्षण दिया गया था। उन्हें इसलाम की धार्मिक शिक्षा दी गयी और पाकिस्तान के बारे में, स्थलाकृति और अन्य विवरण के साथ परिचित कराया गया। उर्दू पढ़ायी गयी। श्री Ganganager से होने के नाते, वह अच्छी तरह से पाकिस्तान के बड़े हिस्से में बोली जाने वाली पंजाबी भाषा में निपुण थे।

उनको 1975 में पाकिस्तान में भेजा गया और नाम नबी अहमद शाकिर दिया गया था।वे कराची विश्वविद्यालय में दाखिला प्राप्त करने में सफल रहे और वहां एलएलबी पूरा किया। आगे जाकर वे पाकिस्तानी सेना में शामिल हो गए और एक कमीशन अधिकारी बन गए और बाद में एक मेजर के पद पर पदोन्नत किये गए। उनहोंने एक स्थानीय लड़की अमानत से शादी कर ली थी, और एक बेटे के पिता बन गए।

1979 से 1983 तक उनहोंने जो रॉ के लिए बहुमूल्य जानकारी पर पारित की वे भारतीय रक्षा बलों के लिए बहुत मददगार थी। उन्हें भारत के तत्कालीन गृह मंत्री एसबी चव्हाण द्वारा 'ब्लैक टाइगर' का खिताब दिया गया था। कुछ जानकार के अनुसार तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा उपाधि प्रदत्त किया गया था।

वह बहुत प्रतिकूल परिस्थितियों में दूर पाकिस्तान में अपने घर और परिवार से अपने जीवन के 26 साल बिताए।

युद्ध के दौरान[संपादित करें]

रविन्द्र कौशिक द्वारा प्रदान की गुप्त जानकारी का उपयोग कर, भारत पाकिस्तान से हमेशा एक कदम आगे रहा और कई अवसरों पर पाकिस्तान ने भारत की सीमाओं के पार युद्ध छेड़ना चाहा , लेकिन रविन्द्र कौशिक द्वारा दिए गए समय पर अग्रिम शीर्ष गुप्त जानकारी का उपयोग इसे नाकाम कर दिया गया।

मौत और उसके बाद[संपादित करें]

सितम्बर 1983 में, भारतीय खुफिया एजेंसियों को ब्लैक टाइगर के साथ संपर्क में पाने के लिए एक एजेंट, Inyat Masiha, भेजा था। लेकिन उस एजेंट को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों ने पकड़ लिया और रविंदर कौशिक की असली पहचान का पता चला गया।

कौशिक पर सियालकोट के एक पूछताछ केंद्र में दो साल तक अत्याचार किया गया। वर्ष 1985 उसे सजा ए मौत की सजा सुनाई गई थी। बाद में पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट द्वारा आजीवन कारावास में रूपान्तरित किया गया। उन्हें 16 साल तक सियालकोट, कोट लखपत और मियांवाली जेल सहित विभिन्न जेलों में रखा गया था। वहीं कौशिक को दमा और टीबी हो गया। चुपके से वे भारत में अपने परिवार के लिए पत्र भेजने में कामयाब रहे। उसमें उनहोंने अपने खराब स्वास्थ्य की स्थिति और पाकिस्तान की जेलों में अपने ऊपर होने वाले यातनाओं के बारे में लिखा। लेकिन भारत सरकार या RAW ने उनकी खोज नहीं की।

उन्होंने अपने एक पत्र में पुछा था ,

"क्या भारत जैसे बड़े देश केलिए कुर्बानी देने का यही ईनाम मिलता है ?"

नवंबर 2001 को, वह सेंट्रल जेल मुल्तान में फेफड़े , तपेदिक और दिल की बीमारी से दम तोड़ दिया। उन्हें जेल के पीछे दफनाया गया था।

रवींद्र के परिवार ने बताया की वर्ष 2012 में प्रदर्शित मशहूर बॉलीवुड फिल्म "एक था टाइगर" की शीर्षक लाइन रवींद्र के जीवन पर आधारित थी।

ये भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. दैनिक भास्कर
  2. "India's forgotten spy - Agent's family fights an impossible battle". मूल से 6 जनवरी 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 अगस्त 2012.
  3. "Ek Tha Tiger: Not Salman Khan, meet the real Indian Tiger!". अभिगमन तिथि 17 अगस्त 2012.
  4. "Ek Tha Black Tiger: Real life tale of a true patriot". मूल से 18 अगस्त 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 अगस्त 2012.
  5. "Late spy's kin fight for reel life credit". मूल से 24 अगस्त 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 अगस्त 2012.
  6. "Salman Khan's new movie in controversyagain". अभिगमन तिथि 17 Aug 2012.
  7. "Dead RAW agent's nephew takes Salman's Ek Tha Tiger producers to court". मूल से 19 सितंबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 Aug 2012.