"अक्षरांकन": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
6 बाइट्स हटाए गए ,  5 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
No edit summary
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
कैलीग्राफी अथवा अक्षरांकन लिखने की एक दृश्यात्मक शैली है. यह चौड़े नोक वाले लेख उपकरणों जैसे कि ब्रश आदि के द्वारा अक्षरों को एक पटल पर उंभारने की कला है। समकालीन कैलीग्राफी को कुछ इस तरह परिभाषित किया जा सकता है - "संकेतों को एक अर्थपूर्ण, सुव्यवस्थित और कौशलपूर्ण तरीके से आकार प्रदान करने की कला."
 
आधुनिक कैलीग्राफी के विविध परिक्षेत्र मे क्रियात्मक अभिलेखों और डिज़ाइन से लेकर ललित कला के वे नमूने भी शामिल है जिनकी लिखावट स्पष्ट नही होती है.
 
परंपरागत कैलीग्राफी मुद्रण कला और गैर-परंपरागत हस्त लेखन से बिल्कुल अलग होती है हालाँकि कैलीग्राफी मे इन दोनों का समावेश हो सकता है। <ref>{{cite book|author=पोट्ट, जी.|year=२००६|title=कैलीग्राफी: इंटेंसिव ट्रेनिंग|trans_title=कैलीग्राफी: इंटेंसिव ट्रेनिंग|publisher=वेरलग हेर्मन्न सचमिड्ट|isbn=९७८३८७४३९७००१|language=de}}</ref>
 
१५ वीं सदी मे मुद्रण कला के व्यापक प्रसार के साथ ही सुसज्जित पांडुलिपियों के प्रचलन मे काफ़ी कमी आ गई. <ref>{{cite book|editor-last=लांब|editor-first=C.M.|origyear=१९५६|title=कैलीग्राफर'स हैंडबुक|publisher=पेंतालिक|year=१९७६}}</ref> फिर भी मुद्रण कला के विस्तार का अर्थ कैलीग्राफी का ख़त्म होना नही था।
१९वीं सदी के अंत मे विलियम मॉरिस और द आर्ट्स आंड क्रॅफ्ट्स मूवमेंट के दर्शन और एस्थेटिक्स संबंधी प्रभाव के कारण आधुनिक कैलीग्राफी के पुनरुत्थान का आरंभ हुआ। एड्वर्ड जॉनस्टन को आधुनिक कैलीग्राफी का जनक भी कहा जाता है। वास्तुविद् विलियम हॅरिसन कोवलीशव की प्रकाशित पुस्तक के [[पांडुलिपि]] के अध्ययन के बाद उनकी मुलाकात १८९८ मे द सेंट्रल स्कूल ऑफ आर्ट्स आंड क्रॅफ्ट्स के प्रिन्सिपल विलियम लेताबी से हुई जिन्होने उन्हे ब्रिटिश म्यूज़ीयम मे रखी पांडुलिपियों का भी अध्ययन करने को कहा. <ref>{{cite web|title=फॉण्ट डिज़ाइनर — एडवर्ड जोहनस्टोन|publisher=लिओटीपी GmbH|url=http://www.linotype.com/733/edwardjohnston.html|accessdate=५ नवम्बर २००७}}</ref>
 
इस सब के कारण जॉनस्टन के मन मे चौड़े कोने वाले पेन से की जाने वाली के प्रति कैलीग्राफी रूचि उत्पन्न हुई. उन्होने सितंबर १८९९ से सेंट्रल स्कूल इन साउथॅंप्टन रो, लंडन मे पढ़ाने का काम शुरू किया और वहीं एरिक गिल भी उनके प्रभाव मे आ गये. उसी साल फ्रॅंक पिक ने उन्हे लंडन अंडरग्राउंड के लिए एक नये प्रकार का टाइपफेस डिज़ाइन करने के लिए अनुबंधित किया जो आज भी थोड़े बहुत सुधार के साथ प्रयोग की जाती है. <ref>सच अस डी रामसे पसलटेर, BL, हार्ले MS २९०४</ref>
 
==सन्दर्भ==

नेविगेशन मेन्यू