वार्ता:खाटूश्यामजी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

यह पृष्ठ खाटूश्यामजी लेख के सुधार पर चर्चा करने के लिए वार्ता पन्ना है। यदि आप अपने संदेश पर जल्दी सबका ध्यान चाहते हैं, तो यहाँ संदेश लिखने के बाद चौपाल पर भी सूचना छोड़ दें।

लेखन संबंधी नीतियाँ

मेरे बाबा को झूठ से नफ़रत है आज कहीं झूठा ना हो जाए मेरे बाबा हर वचन करते हैं पूरा कही वचन अधूरा ना रह जाए। जग से हारा हूं बाबा तन से भी हार गया हूं हारे सारे नाते रिश्ते मन से भी हार गया हूं हारे सब देव देवियां ओर भगवन अब कहीं हारे के सहारे तू ना हार जाए। अब बाबा जीने की चाहत खत्म होने लगी है अब रिश्ते नाते तन मन धन सबसे नफ़रत होने लगी है अब तक अटूट श्रद्धा प्रेम है तुझसे लाज रख सांवरे कही नास्तिक ना हो जाए।