सामग्री पर जाएँ

वानिंगोंग मंदिर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
वानिंगोंग मंदिर
八寶公主廟
धर्म संबंधी जानकारी
सम्बद्धताताओ धर्म
देवतावानिंगोंग, राजकुमारी बाबाओ, तुड़ीगोंग
अवस्थिति जानकारी
अवस्थितिहेंगचुन , पिंगतुन काउंटी
देशताइवान
अभिमुखपश्चिम

वानिंगोंग मंदिर (चीनी: 萬應公祠), जिसे आमतौर पर राजकुमारी बाबाओ का मंदिर (चीनी: 八寶公主廟) के रूप में जाना जाता है, ताइवान के हेंगचुन टाउनशिप, पिंगतुंग काउंटी में एक यिन मियाओ (मृत लोगों के लिए मंदिर) है। यह मंदिर एक कथित डच राजकुमारी "राजकुमारी बाबाओ" की पूजा के लिए जाता है।

राजकुमारी बाबाओ[संपादित करें]

किंवदंती के अनुसार, एक डच जहाज हेंगचुन के तट से टकरा कर बर्बाद हो गया था, और सभी पुरुषों को पास के गुइज़िजाओ (龜仔角) में रहने वाले ताइवानी आदिवासियों की एक जनजाति द्वारा मार डाला गया। आदिवासी लोग आम तौर पर महिलाओं को नहीं मारते थे, लेकिन बाद में, मार्गरेट नाम की एक महिला को एक अकेले आदिवासी ने मार दिया, जो या तो उसने जानबूझकर किया था या उसने उसे पुरुष समझ लिया था । आदिवासियों ने मार्गरेट से आठ आइटम उतारे: एक जोड़ी मोजरी, एक रेशमी दुपट्टा, एक मोती का हार, एक रत्नजड़ित अंगूठी, चमड़े का सूटकेस, झुमके, एक कलम और कागज; इन आठ वस्तुओं को बाद में बाबाओ (शाब्दिक अर्थ- "आठ खजाने") के नाम से जाना जाता था।[1][2]

इतिहासकारों द्वारा राजकुमारी बाबाओ और मर्सी जी हंट में समानताएं पाई गई है, जो यूएसएस रोवर जहाज के कप्तान जोसेफ हंट की पत्नी थीं। रोवर जहाज 1867 में ताइवान के तट से टकराया था और मर्सी हंट सहित उसके चालक दल को आदिवासी लोगों ने मार डाला था।[1]

इतिहास[संपादित करें]

1931 में एक स्थानीय निवासी को समुद्र तट पर कुछ मानव अवशेष मिले, जिन्हें उसने एक कलश में रख कर स्थानीय यिन मियाओ में स्थापित कर दिया। अगले तीन वर्षों में वह क्षेत्र दुर्भाग्य से ग्रस्त रहा, तो निवासियों ने एक तोंगजी (ओझा) को काम पर रखा, जिसने कहा कि वे अवशेष एक श्वेत महिला के हैं, जिसकी आत्मा चारों ओर भटक रही है, और मंदिर की एक तिहाई जगह उसके बसने के लिए अलग की जानी चाहिए।[2][1]

1961 में मंदिर का पुनर्निर्माण किया गया और उस श्वेत महिला की आत्मा के लिए एक छोटा मंदिर अलग बनाया गया था। जब मंदिर पूरा हो गया, तब गुइज़िजाओ (अब शेडिंग) से एक और ओझा ने दावा किया कि श्वेत महिला राजकुमारी बाबाओ थी, और तब से अब तक अवशेषों की पूजा की जाने लगी। 1981 में मंदिर का फिर से पुनर्निर्माण हुआ, और इस बार राजकुमारी बाबूओ को मंदिर के भीतर की तरफ की वेदियों में से एक दे दिया गया था। जहाज़ से एक लकड़ी के टुकड़े को भी मंदिर के बगल में स्थापित किया गया था।[1][2]

जुलाई 2008 में शेडिंग से एक बुजुर्ग महिला लापता हो गई। जब वह मजली तो उसने बताया कि उसका अपहरण एक महिला की आत्मा ने किया था। एक ओझा ने कहा कि आत्मा राजकुमारी बाबाओ थी, जो दस जिंदगियां लेने का इरादा रखती है। सितंबर में समुदाय ने राजकुमारी बाबाओ को खुश करने की कोशिश करने के लिए एक सात दिन की रस्म आयोजित की।[3][4]

28 मार्च 2016 को जहाज की लकड़ी में आग लग गई। पुलिस ने अनुमान लगाया कि आग पूजा के दौरान लकड़ी की दरारों में फंसी धूप बत्ती के कारण लगी थी। मंदिर ने अपने मूल स्थान पर जाली हुई लकड़ी को प्रदर्शित करना जारी रखने का फैसला किया।[5]

वास्तुकला[संपादित करें]

राजकुमारी बाबाओ का मंदिर केंटिंग नेशनल पार्क में एक समुद्र तट के बगल में स्थित है। छोटे मंदिर को तीन हॉल में विभाजित किया गया है: वानिंगोंग (अनाम मृत आत्माएँ) की बीच में एक वेदी है, जबकि राजकुमारी बाबाओ और तुड़ीगोंग की प्रत्येक पक्ष पर एक वेदी है। एक सफेद औरत का एक चित्र राजकुमारी बाबाओ वेदी के ऊपर लटका हुआ है, और उपासक आम तौर पर राजकुमारी बाबाओ को कॉफी और रेड वाइन चढ़ाते हैं।[2]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. 石文誠. 荷蘭公主上了岸?一段傳說、歷史與記憶的交錯歷程 (चीनी में). अभिगमन तिथि November 12, 2021.
  2. 蔡宗憲 (February 19, 2015). "《墾丁八寶公主廟》荷蘭公主 故事永流傳". Liberty Times (चीनी में). अभिगमन तिथि November 12, 2021.
  3. 凌安屏; 賴雅芬; 崔文沛 (August 31, 2008). "八寶公主百年怨念 化身魔神索10命". Now News (चीनी में). मूल से 18 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 नवंबर 2021.
  4. 蔡宗憲 (September 30, 2008). "社頂法會落幕 八寶公主顯靈?". Liberty Times (चीनी में). अभिगमन तिथि November 12, 2021.
  5. 林憲源 (March 29, 2016). "墾丁「八寶公主廟」失火 燒毀木船遺跡". Yahoo News (चीनी में). Broadcasting Corporation of China. अभिगमन तिथि November 12, 2021.